Russia, S400missile, S-400 Missile Defense, S 400 Defence Missile System, İndia, Russia, Russian Deputy Chief Of Mission, Long Range Surface To Air Defence Missile, Russian Deputy Chief Of Mission Roman Babushkin, एस 400 मिसाइल, एस 400 मिसाइल सिस्टम

Russia, S400missile

सबसे खतरनाक मिसाइल रोधी हथियार S-400 से लैस होगा भारत, आंख नहीं उठा पाएगा दुश्मन, ये हैं खासियत

रूस ने एस-400 मिसाइल प्रणाली का उत्पादन शुरू कर दिया है। #russia #S400Missile @DrSJaishankar @rajnathsingh

17.1.2020

रूस ने एस-400 मिसाइल प्रणाली का उत्पादन शुरू कर दिया है। russia S400Missile DrSJaishankar rajnathsingh

रूस ने एस-400 लंबी दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली रक्षा मिसाइल प्रणाली का उत्पादन शुरू कर दिया है। यह जानकारी रूस

पीटीआई, नई दिल्ली Updated Fri, 17 Jan 2020 06:52 PM IST S-400 missiles - फोटो : Twitter Indian Defence ‏ ख़बर सुनें ख़बर सुनें रूस ने एस-400 मिसाइल प्रणाली का उत्पादन शुरू कर दिया है। भारत को सभी एस-400 रक्षा मिसाइल प्रणालियों की अपूर्ति 2025 तक कर दी जाएगी। यह जानकारी रूस के डिप्टी चीफ ऑफ मिशन रोमन बबुश्किन ने शुक्रवार को दिल्ली में दी। उन्होंने यह भी बताया कि विदेश मंत्री एस जयशंकर रूस में 22-23 मार्च को होने वाली रूस-भारत-चीन त्रिपक्षीय बैठक में हिस्सा लेंगे। एस-300 का उन्नत संस्करण एस-400 पहले रूस के रक्षा बलों को ही उपलब्ध थी। यह मिसाइल 2007 से रूस के बेड़े में शामिल है। अब रूस भारत के लिए इसका निर्माण कर रहा है। इसका निर्माण अल्माज-एंते करता है। बबुश्किन ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में चीन-रूस-ईरान के संयुक्त नौसैनिक युद्धाभ्यास में भारत को शामिल नहीं किए जाने पर कहा कि रूस देखेगा कि ऐसा क्यों हुआ। उन्होंने इस युद्धाभ्यास को जमीनी स्थिति को समझने की दिशा में उठाया गया कदम बताया। बबुश्किन ने कहा कि न्योता नहीं देने से भारत और रूस के संबंध खराब नहीं होंगे। हमारे हिस्से में रूस और भारतीय नौ सेना में अच्छा संपर्क है। जहां तक प्रतिबंध (ईरान पर) का सवाल है तो ऐसे प्रतिबंधों से भारत-रूस के संबंधों में दूरी नहीं आने वाली है। हवा में ही मार गिराएंगे दुश्मन की मिसाइल हवा में ही मिसाइलों को मार गिराने वाली एस-400 वायु रक्षा प्रणाली दुनिया की आधुनिकतम प्रणाली है। एस-400 मिसाइल सिस्टम से भारत को रक्षा कवच मिल सकेगा। यह मिसाइल रोधी प्रणाली है। इसमें एक साथ मिसाइल लॉन्चर, शक्तिशाली रडार और कमांड सेंटर लगा होता है। इसमें तीन दिशाओं से मिसाइल दागने की क्षमता है। यह एस-300 का उन्नत संस्करण है। रूस इस उन्नत संस्करण एस-400 प्रयोग खुद के लिए ही कर रहा था। बाद में इस प्रणाली को चीन ने भी खरीदा। एस-400 का पहला उपयोग वर्ष 2007 में हुआ था। खासियत: मिसाइल हमले के खिलाफ रक्षा कवच 400 किमी दायरे में परमाणु मिसाइल, क्रूज मिसाइल, ड्रोन, लड़ाकू विमान और बैलिस्टिक मिसाइल नष्ट करने में सक्षम। 600 किलोमीटर दूर से अपने लक्ष्य को देख सकता है प्रणाली में लगा रडार। हर तरह की मिसाइल, लड़ाकू विमान को मार गिराने की सबसे अचूक क्षमता चीन-पाकिस्तान की परमाणु सक्षम बैलेस्टिक मिसाइलों के खिलाफ कवच। आधुनिकतम जेट लड़ाकू विमान को भी मार गिराने में सक्षम है। पाकिस्तान की सीमा में उड़ रहे विमानों को भी ट्रैक कर सकेगा। अमेरिका कर चुका है विरोध 2017 में रूस के साथ हुए पांच अरब डॉलर के एस-400 मिसाइल सिस्टम के सौदे का अमेरिका विरोध कर चुका है। तुर्की ने भी रूस से एस-400 सौदा किया, लेकिन अमेरिका ने उस पर पाबंदी लगा दी। हालांकि, भारत के मामले में अमेरिका पर वहां के सांसदों का दबाव है कि भारत को इस प्रतिबंध से दूर रखा जाना चाहिए, इसलिए अमेरिका ने इस पर नरम रुख अपनाया है। लखनऊ में अगले माह रक्षा प्रदर्शनी अगले माह लखनऊ में होने वाली रक्षा प्रदर्शनी में रूस के वाणिज्य मंत्री की अगुआई में 50 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल हिस्सा लेगा। बबुश्किन ने बताया कि प्रदर्शनी में हिस्सेदारी करने वाला रूस सबसे बड़ा देश होगा। दूसरों के वजूद को नकारना चाहता है अमेरिका भारत में रूस के राजदूत निकोले कुदाशेव ने अमेरिका पर निशाना साधते हुए कहा कि अमेरिका सहित कई पश्चिमी देश दूसरे देशों के अस्तित्व को नकारना चाहते हैं। इनका संशोधनवादी एजेंडा है। अमेरिका दुनिया में ऐसा वैकल्पिक नजरिया बढ़ाना चाहता है जो प्रतिस्पर्धी होने के साथ-साथ विभाजनकारी है। रूसी राजदूत ने कहा कि पश्चिमी देशों के विचार चिंता पैदा करने वाले हैं। अमेरिका चीन को मिटाना चाहता है। सार रूस ने एस-400 मिसाइल प्रणाली का उत्पादन किया शुरू भारत को सभी एस-400 रक्षा मिसाइल प्रणालियों की अपूर्ति 2025 तक कर दी जाएगी 22-23 मार्च को रूस-भारत-चीन के बीच होने वाली बैठक में हिस्सा लेने जाएंगे एस जयशंकर विस्तार रूस ने एस-400 मिसाइल प्रणाली का उत्पादन शुरू कर दिया है। भारत को सभी एस-400 रक्षा मिसाइल प्रणालियों की अपूर्ति 2025 तक कर दी जाएगी। यह जानकारी रूस के डिप्टी चीफ ऑफ मिशन रोमन बबुश्किन ने शुक्रवार को दिल्ली में दी। विज्ञापन उन्होंने यह भी बताया कि विदेश मंत्री एस जयशंकर रूस में 22-23 मार्च को होने वाली रूस-भारत-चीन त्रिपक्षीय बैठक में हिस्सा लेंगे। एस-300 का उन्नत संस्करण एस-400 पहले रूस के रक्षा बलों को ही उपलब्ध थी। यह मिसाइल 2007 से रूस के बेड़े में शामिल है। अब रूस भारत के लिए इसका निर्माण कर रहा है। इसका निर्माण अल्माज-एंते करता है। बबुश्किन ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में चीन-रूस-ईरान के संयुक्त नौसैनिक युद्धाभ्यास में भारत को शामिल नहीं किए जाने पर कहा कि रूस देखेगा कि ऐसा क्यों हुआ। उन्होंने इस युद्धाभ्यास को जमीनी स्थिति को समझने की दिशा में उठाया गया कदम बताया। बबुश्किन ने कहा कि न्योता नहीं देने से भारत और रूस के संबंध खराब नहीं होंगे। हमारे हिस्से में रूस और भारतीय नौ सेना में अच्छा संपर्क है। जहां तक प्रतिबंध (ईरान पर) का सवाल है तो ऐसे प्रतिबंधों से भारत-रूस के संबंधों में दूरी नहीं आने वाली है। हवा में ही मार गिराएंगे दुश्मन की मिसाइल हवा में ही मिसाइलों को मार गिराने वाली एस-400 वायु रक्षा प्रणाली दुनिया की आधुनिकतम प्रणाली है। एस-400 मिसाइल सिस्टम से भारत को रक्षा कवच मिल सकेगा। यह मिसाइल रोधी प्रणाली है। इसमें एक साथ मिसाइल लॉन्चर, शक्तिशाली रडार और कमांड सेंटर लगा होता है। इसमें तीन दिशाओं से मिसाइल दागने की क्षमता है। यह एस-300 का उन्नत संस्करण है। रूस इस उन्नत संस्करण एस-400 प्रयोग खुद के लिए ही कर रहा था। बाद में इस प्रणाली को चीन ने भी खरीदा। एस-400 का पहला उपयोग वर्ष 2007 में हुआ था। खासियत: मिसाइल हमले के खिलाफ रक्षा कवच 400 किमी दायरे में परमाणु मिसाइल, क्रूज मिसाइल, ड्रोन, लड़ाकू विमान और बैलिस्टिक मिसाइल नष्ट करने में सक्षम। 600 किलोमीटर दूर से अपने लक्ष्य को देख सकता है प्रणाली में लगा रडार। हर तरह की मिसाइल, लड़ाकू विमान को मार गिराने की सबसे अचूक क्षमता चीन-पाकिस्तान की परमाणु सक्षम बैलेस्टिक मिसाइलों के खिलाफ कवच। आधुनिकतम जेट लड़ाकू विमान को भी मार गिराने में सक्षम है। पाकिस्तान की सीमा में उड़ रहे विमानों को भी ट्रैक कर सकेगा। अमेरिका कर चुका है विरोध 2017 में रूस के साथ हुए पांच अरब डॉलर के एस-400 मिसाइल सिस्टम के सौदे का अमेरिका विरोध कर चुका है। तुर्की ने भी रूस से एस-400 सौदा किया, लेकिन अमेरिका ने उस पर पाबंदी लगा दी। हालांकि, भारत के मामले में अमेरिका पर वहां के सांसदों का दबाव है कि भारत को इस प्रतिबंध से दूर रखा जाना चाहिए, इसलिए अमेरिका ने इस पर नरम रुख अपनाया है। लखनऊ में अगले माह रक्षा प्रदर्शनी अगले माह लखनऊ में होने वाली रक्षा प्रदर्शनी में रूस के वाणिज्य मंत्री की अगुआई में 50 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल हिस्सा लेगा। बबुश्किन ने बताया कि प्रदर्शनी में हिस्सेदारी करने वाला रूस सबसे बड़ा देश होगा। दूसरों के वजूद को नकारना चाहता है अमेरिका भारत में रूस के राजदूत निकोले कुदाशेव ने अमेरिका पर निशाना साधते हुए कहा कि अमेरिका सहित कई पश्चिमी देश दूसरे देशों के अस्तित्व को नकारना चाहते हैं। इनका संशोधनवादी एजेंडा है। अमेरिका दुनिया में ऐसा वैकल्पिक नजरिया बढ़ाना चाहता है जो प्रतिस्पर्धी होने के साथ-साथ विभाजनकारी है। रूसी राजदूत ने कहा कि पश्चिमी देशों के विचार चिंता पैदा करने वाले हैं। अमेरिका चीन को मिटाना चाहता है। और पढो: Amar Ujala

'जावेद अख्तर की बुद्धि पर पड़ा पर्दा, बुद्धिजीवी कहलाने लायक नहीं'



दिल्ली दंगे: पुलिस की भूमिका की जाँच कैसे होगी?

जेएनयू के पूर्व छात्र अध्यक्ष कन्हैया पर चलेगा देशद्रोह का केस, दिल्ली सरकार ने दी अनुमति



असदुद्दीन ओवैसी ने अमित शाह पर कसा तंज- पहले राष्ट्रव्यापी NPR/NRC करवाइए फिर CAA का उपयोग करिए, यही तो क्रोनोलॉजी है

दिल्ली हिंसाः मुस्तफाबाद में था अकेला हिंदू परिवार, मुस्लिमों ने हिफाजत कर पेश की मिसाल



सामने से फेंके जा रहे थे पेट्रोल बम, जान बचाने के लिए मां ने कलेजे के टुकड़े को छत से नीचे फेंका

दिल्ली हिंसाः अंकुर शर्मा बोले- मेरे भाई अंकित को मिले शहीद का दर्जा



S-400 डिफेंस सिस्टम से और ताकतवर होगी भारतीय वायु सेना, पाकिस्‍तान की चिंता बढ़ी, जानें-खूबियांइसमें लगी मिसाइलें 30 किमी ऊंचाई और 400 किमी की दूरी में किसी भी टारगेट को भेद सकती हैं। ज़मीनी ठिकानों को भी निशाना बनाया जा सकता है। आज कल भारतीय मेडिया को देश की चिंता कम, पाकिस्तान की चिंता ज़्यादा है। Ye bas Pakistan ki chinta karte rahenge BJP waale. Kabhi China ki bhi chinta kar liya karo. Apni aukaat k hisaab se dushman hota hai..

ईरान के मिसाइल हमले में 11 अमेरिकी सैनिक हुए थे घायल, केंद्रीय कमान ने की पुष्टिइराक में स्थित अमेरिकी सैन्य अड्डे पर ईरान द्वारा किए गए मिसाइल हमलों में अमेरिकी जवानों के घायल होने को लेकर राष्ट्रपति सुपर पावर होने में एक बुराई यह भी है कि किसी अन्य के द्वारा पहुंचाई गयी कितनी भी बड़ी क्षति को आप स्वीकार भी नहीं कर सकते और चुपचाप उससे इनकार करना मजबूरी होता है।यही हाल अमेरिका का है।

चव्हाण का तंज, बोले- भाई मंत्री नहीं बन पाए इसलिए नाराज हैं संजय राउतकांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा, 'वह हमेशा से स्पष्ट वक्ता रहे हैं। उनके पास (दावों का) ठोस सबूत नहीं होगा। उस वक्त कही सुनी-बातें होती थीं।'

Lava Z71 लॉन्च हुआ भारत में, दो रियर कैमरे से है लैसLava Z71 में 13 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा है। इसके साथ 2 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा दिया गया है। फोन में एफ/ 2.2 अपर्चर वाला 5 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा दिया गया है। Congratulations

'गंदी बात' से भी आगे निकलने की कोशिश में एकता कपूर, इस वेब सीरीज से करेंगी धमाका'गंदी बात' से भी आगे निकलने की कोशिश में एकता कपूर, इस वेब सीरीज से करेंगी धमाका Ektakapoor Ridhidogra monicadogra ektaravikapoor iRidhiDogra MonicaSDogra ektaravikapoor iRidhiDogra MonicaSDogra Awesome ektaravikapoor iRidhiDogra MonicaSDogra So sweet..

महात्मा गांधी को भारत रत्न न दिए जाने पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- वे राष्ट्रपिता उन्हें औपचारिक सम्मान की जरूरत नहींजनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) जस्टिस अरविंद बोबडे ने कहा कि लोग राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का बेहद सम्मान करते हैं ऐसे में उन्हें भारत रत्न जैसे सम्मान की जरूरत नहीं है. | nation News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी राष्ट्रपति - नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री - अमित शाह गृह मंत्री - योगी आदित्यनाथ सोंचकर बताना जब ये👆सीन होगा, तब क्या होगा ? 🤔😂😂 हम_मोदीजी_केसाथहैं बिकाऊऔरते_शहीनबागकी बिकाऊ_प्रदर्शनकारी 🔔 Kab ghosit kiya tha rastarpita



Delhi Violence: सोनिया गांधी,ओवैसी और स्वरा भास्कर के खिलाफ HC में याचिका, FIR दर्ज करने की मांग

दिल्ली हिंसा : राष्ट्रपति से मिले कांग्रेस के नेता, 'राजधर्म' बचाने की अपील, अमित शाह को हटाने की मांग

मनोज तिवारी का हमला- 'ताहिर हुसैन ने काफी पहले कर ली थी दिल्ली के दंगों के लिए तैयारी'

पांच हजार साल के इतिहास में किसी हिंदू राजा ने कभी कोई मस्जिद नहीं तोड़ी: गडकरी

मुस्लिमों की गरीबी और बेरोजगारी की समस्या को खत्म कर रहे हैं पीएम मोदी : उमा भारती

दिल्ली हिंसा: नरेंद्र मोदी पर क्या कह रहा है विदेशी मीडिया

जस्टिस एस मुरलीधर के तबादले की टाइमिंग पर घिरी मोदी सरकार, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दी सफाई

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

17 जनवरी 2020, शुक्रवार समाचार

पिछली खबर

शीला दीक्षित के बिना कांग्रेस को दिन में नजर आ रहे हैं तारे, आ गई ये नौबत

अगली खबर

एडम जांपा ने फिर किया विराट का शिकार, मैच में तीन विकेट लेकर भारत में बनाया खास रिकॉर्ड
'जावेद अख्तर की बुद्धि पर पड़ा पर्दा, बुद्धिजीवी कहलाने लायक नहीं' दिल्ली दंगे: पुलिस की भूमिका की जाँच कैसे होगी? जेएनयू के पूर्व छात्र अध्यक्ष कन्हैया पर चलेगा देशद्रोह का केस, दिल्ली सरकार ने दी अनुमति असदुद्दीन ओवैसी ने अमित शाह पर कसा तंज- पहले राष्ट्रव्यापी NPR/NRC करवाइए फिर CAA का उपयोग करिए, यही तो क्रोनोलॉजी है दिल्ली हिंसाः मुस्तफाबाद में था अकेला हिंदू परिवार, मुस्लिमों ने हिफाजत कर पेश की मिसाल सामने से फेंके जा रहे थे पेट्रोल बम, जान बचाने के लिए मां ने कलेजे के टुकड़े को छत से नीचे फेंका दिल्ली हिंसाः अंकुर शर्मा बोले- मेरे भाई अंकित को मिले शहीद का दर्जा दिल्ली दंगे: क्या सरकारें वाकई सबक लेंगी? जीडीपी विकास दर में गिरावट का सिलसिला जारी शिवसेना पर फडणवीस का हमला, कहा- संविधान में धर्म के आधार पर आरक्षण का प्रावधान नहीं छत्तीसगढ़: छापा मारने गए आयकर विभाग के 19 वाहनों को पुलिस ने किया जब्त दिल्ली हिंसा : वो 30 बेगुनाह जो 'भीड़ के पागलपन' की भेंट चढ़ गए, रुला देगी इनकी कहानी
Delhi Violence: सोनिया गांधी,ओवैसी और स्वरा भास्कर के खिलाफ HC में याचिका, FIR दर्ज करने की मांग दिल्ली हिंसा : राष्ट्रपति से मिले कांग्रेस के नेता, 'राजधर्म' बचाने की अपील, अमित शाह को हटाने की मांग मनोज तिवारी का हमला- 'ताहिर हुसैन ने काफी पहले कर ली थी दिल्ली के दंगों के लिए तैयारी' पांच हजार साल के इतिहास में किसी हिंदू राजा ने कभी कोई मस्जिद नहीं तोड़ी: गडकरी मुस्लिमों की गरीबी और बेरोजगारी की समस्या को खत्म कर रहे हैं पीएम मोदी : उमा भारती दिल्ली हिंसा: नरेंद्र मोदी पर क्या कह रहा है विदेशी मीडिया जस्टिस एस मुरलीधर के तबादले की टाइमिंग पर घिरी मोदी सरकार, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दी सफाई दिल्ली हिंसा: AAP पार्षद ताहिर पर हुआ एक्शन, तरफदारी में उतरे विधायक अमानतुल्लाह खान दिल्ली हिंसा पर सुनवाई करने वाले जस्टिस एस. मुरलीधर का तबादला रविशंकर प्रसाद की दो टूक- CAA पर हम पीछे नहीं हटेंगे, ये नरेंद्र मोदी की सरकार है राष्ट्रगान नहीं गा पाए कन्हैया कुमार, अंतिम दो लाइन में कर गए 'झोल' मेघालय के राज्यपाल का अजीबोगरीब सुझाव, कहा-भीड़ से निपटने को चीन जैसा क्रूर व्यवहार हो