सत्या नडेला से बातचीत के बाद टिक टॉक के विरोध से पीछे हटे ट्रंप

टिक टॉकः सत्या नडेला से बातचीत के बाद बदले ट्रंप, माइक्रोसॉफ़्ट का रास्ता साफ़

04-08-2020 05:41:00

टिक टॉकः सत्या नडेला से बातचीत के बाद बदले ट्रंप, माइक्रोसॉफ़्ट का रास्ता साफ़

माइक्रोसॉफ्ट अमरीका में टिक-टॉक का कारोबार ख़रीदना चाहता है. राष्ट्रपति ट्रंप इसके पक्ष में नहीं थे पर सत्या नडेला के साथ बात के बाद उन्होंने अपना मन बदल लिया.

शेयर पैनल को बंद करेंअमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने टेक कंपनी माइक्रोसॉफ़्ट के चीनी ऐप टिक टॉक को ख़रीदने को लेकर अपना विरोध वापस ले लिया है.मगर उन्होंने कहा है कि अमरीका सरकार को इस सौदे का एक अच्छा-ख़ासा हिस्सा दिया जाना चाहिए. हालाँकि अभी ये स्पष्ट नहीं है कि ये सौदा कितने में तय होगा.

डोनाल्ड ट्रंप बनाम जो बाइडन: ट्रंप ने कहा, भारत कोरोना से हुई मौतें छिपा रहा है - BBC News हिंदी बाबरी मस्जिद विध्वंस पर आज दोपहर 11 बजे सुनाया जाएगा फ़ैसला - BBC News हिंदी एक दिन में 87 रेप केस, एक साल में 7% बढ़ा महिलाओं के खिलाफ अपराध: NCRB

इससे पहले अमरीकी राष्ट्रपति ने पिछले सप्ताह चीनी ऐप टिक-टॉक पर प्रतिबंध लगाने की चेतावनी दी थी.लेकिन इसके बाद भी माइक्रोसॉफ्ट ने कहा था कि वो टिक-टॉक के सौदे को लेकर बातचीत जारी रखे हुए है.कंपनी ने कहा है कि माइक्रोसॉफ्ट के चीफ़ एक्जीक्यूटिव अधिकारी सत्या नडेला की राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से रविवार को बात हुई है. कंपनी ने इस बात पर ज़ोर दिया है कि वो राष्ट्रपति ट्रंप की सुरक्षा संबंधी चिंताओं को 'महत्व देने की पूरी तरह से सराहना' करता है.

कंपनी ने आगे कहा है कि वो ऐप की सुरक्षा को लेकर पूरी समीक्षा करेंगे. माइक्रोसॉफ्ट ने अपने एकब्लॉगमें कहा है कि वो अमरीकी सरकार को इस सौदे से देश को होने वाले 'आर्थिक लाभ' के बारे में भी विस्तार से बताएगी.माइक्रोसॉफ्ट को उम्मीद है कि टिक-टॉक के स्वामित्व वाली कंपनी बाइट डांस के साथ 15 सितंबर तक सौदे की बातचीत पूरी हो जाएगी.

माइक्रोसॉफ्ट ने बताया है कि वो अमरीका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बाजार में टिक-टॉक का अधिकार खरीदना चाहती है.कंपनी का यह भी कहना है कि वो दूसरे अमरीकी निवेशकों को भी इसमें निवेश करने के लिए आमंत्रित कर सकती है.माइक्रोसॉफ्ट ने इस बात पर ज़ोर दिया है कि 'सभी अमरीकी टिक-टॉक यूजर्स का निजी डेटा' स्थानांतरित कर दिया गया है और वो अमरीका में ही रहेगा.

कंपनी इस बात को लेकर आश्वस्त करती है कि कोई भी डेटा जो देश के बाहर स्टोर किया हुआ है वो अमरीकी डेटा सेंटर में स्थानांतरित होने के बाद वहाँ के सर्वर से हटा दिया जाएगा.कंपनी ने"देश को मज़बूत सुरक्षा प्रदान करने को लेकर राष्ट्रपति ट्रंप की निजी पहल की सराहना की है." लेकिन कंपनी ने यह भी कहा है कि टिक-टॉक के साथ अभी बातचीत 'शुरुआती दौर' में है और यह 'निश्चित नहीं' है कि यह सौदा हो ही जाए.

क्या है अमरीका की चिंता?वाल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक टिक-टॉक की माइक्रोसॉफ्ट के साथ संभावित डील ट्रंप की घोषणा के बाद ऐसा लगा था कि रोक दी जाएगी.इस डील के होने पर लगा था कि अब संकट के बादल छा गए हैं.अमरीका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने फॉक्स न्यूज़ से कहा है कि आने वाले दिनों में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़े सॉफ्टवेयर की वजह से पैदा हुए 'राष्ट्रीय सुरक्षा जोखिमों' को लेकर सरकार कदम उठाएगी.

इसमें एक टिक-टॉक भी शामिल है. इस ऐप पर लोग पंद्रह सेकंड के छोटे-छोटे वीडियो शेयर करते हैं.बाइटडांस ने साल 2017 में टिक टॉक को लॉन्च किया था. उसके बाद उसने म्यूज़िकली नाम की एक वीडियो सेवा को ख़रीदा जो अमरीका और यूरोप में युवाओं में काफ़ी लोकप्रिय सेवा थी.

बाबरी मस्जिद विध्वंसः 28 साल पुराने मामले में फ़ैसले का दिन - BBC Hindi भारत-चीन सीमा विवाद: एकतरफ़ा एलएसी को भारत स्वीकार नहीं करता - BBC News हिंदी हाथरस गैंगरेप केस: रात 2.30 बजे पीड़िता का पुलिसवालों ने किया अंतिम संस्कार, परिजनों को कर दिया था घर में बंद

पूरी दुनिया में टिक-टॉक के 50 करोड़ और अमरीका में करीब आठ करोड़ यूजर्स हैं. टिक-टॉक यूजर्स का एक बड़ा हिस्सा 20 साल या उससे कम उम्र का है.अमरीका में अधिकारी और नेता इस बात को लेकर चिंता जता रहे हैं कि टिक- टॉक के ज़रिए बाइटडांस कंपनी जो डेटा इकट्ठा कर रही है वो चीनी सरकार के पास पहुंच सकता है.

इमेज कॉपीरइटEPAइससे पहले भारत सरकार ने भी इसी तरह की चिंता जताते हुए पिछले महीने चीन के दर्जनों ऐप्स पर पाबंदी लगा दी थी जिनमें टिक टॉक भी शामिल था.व्हाइट हाउस के प्रवक्ता ने अपने एक बयान में कहा है,"टिक-टॉक को लेकर प्रशासन को सुरक्षा संबंधी गंभीर चिंताएँ हैं. हम आगे की नीतियों का मूल्यांकन जारी रखेंगे."

वाल स्ट्रीट जर्नल का कहना है कि बाइटडांस ने व्हाइट हाउस के सामने महत्वपूर्ण रियायतें देने की पेशकश की है. इसमें तीन सालों में हजारों नौकरियाँ देने की पेशकश भी शामिल है.इस डील से सोशल मीडिया के क्षेत्र में माइक्रोसॉफ्ट की एक मज़बूत पकड़ बनेगी. सोशल मीडिया साइट लिंकेडइन माइक्रोसॉफ्ट का ही है. अमरीका में टिक-टॉक का व्यापार करीब 15 बिलियन डॉलर से लेकर 30 बिलियन डॉलर तक आंका गया है.

फाइनेंनशियल टाइम्स के अनुसार बाइटडांस कंपनी के कुछ अधिकारियों का मानना है कि ट्रंप की दखल से माइक्रोसॉफ्ट को एक डील में बेहतर स्थिति पाने में मदद मिल सकती है.टिक-टॉक ने माइक्रोसॉफ्ट के साथ होने वाले डील पर कोई भी टिप्पणी करने से मना कर दिया है लेकिन उनके एक प्रवक्ता ने कहा है कि,"हम अफवाह और अटकलों को लेकर कोई टिप्पणी नहीं करने जा रहे है, टिक-टॉक के लंबे वक्त तक कामयाबी होने का हमें भरोसा है."

टिक-टॉक ने यह भी दोहराया है कि वो यूजर्स की निजता और गोपनीयता को सुरक्षित रखने को लेकर प्रतिबद्ध है.टिक-टॉक क्या कहना है?इमेज कॉपीरइटGetty Imagesमौजूदा आरोप-प्रत्यारोप और गतिरोध पर टिक-टॉक का कहना है कि,"टिक-टॉक के अमरीकी यूजर्स का डेटा अमरीका में ही स्टोर होता है. इस पर सख्त नियंत्रण रखा जाता है. टिक-टॉक के सबसे बड़े निवेशक अमरीका से ही है."

"हम अपने यूजर्स की निजता और गोपनीयता को सुरक्षित रखने को लेकर प्रतिबद्ध है और हम परिवारों में यूँ ही खुशियाँ और जो हमारे प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करियर बनाने में कर रहे हैं, उनके लिए अवसर मुहैया कराते रहेंगे.""हमने अपने अमरीकी टीम में इस साल करीब 1000 लोगों को रखा है और 10000 और लोगों को हम गर्व के साथ कहते है कि रोजगार देने जा रहे हैं."

जब डिबेट के बीच 'शट अप' पर उतर आए डोनाल्ड ट्रंप और जो बाइडन - BBC News हिंदी Prime Time of Ravish Kumar: Does it take 15 days to confirm rape? - रवीश कुमार का प्राइम टाइम: क्या बलात्कार की पुष्टि करने में 15 दिन लगते हैं? वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत पर लगाया आरोप- नहीं दिए कोरोनावायरस से हुई मौतों के सही आंकड़े

यह प्रतिबंध कैसे लगाया जासकता है?एप्पल और गूगल को अपने ऑनलाइन स्टोर से इस ऐप को हटाने को कहा जा सकता है.टिक-टॉक के स्वामित्व वाली कंपनी बाइटडांस को कॉमर्स डिपार्टमेंट के उस सूची में डाल सकते हैं जिनके साथ अमरीकी कंपनी काम नहीं कर सकते हैं. इसी तरह की रणनीति का इस्तेमाल ख्वावे को मुहैया होने वाले गूगल ऐप को रोकने के लिए किया गया था.

इससे कोई नया यूजर ऐप डाउनलोड नहीं कर पाएगा.जो मौजूदा यूजर्स होंगे, उन्हें ना नोटीफिकेशन मिलेगा और ना ही वो अपडेड कर पाएंगे भले उनके डिवाइस में ऐप डाउनलोड हो.इमेज कॉपीरइटReutersएप्पल और गूगल को 'किल स्विच' का इस्तेमाल करने को भी कहा जा सकता है. इसकी मदद से वो ब्लैकलिस्ट ऐप को दूर बैठे ही रोक सकते है या फिर उसे पूरी तरह से साफ कर सकते हैं.

ब्राजील के एक जज ने 2014 में दो कंपनियों को इस तरह की धमकी थी लेकिन आखिरकार फैसला नहीं लिया था.एप्पल और गूगल इस तरह से यूजर्स के स्मार्टफोन को नियंत्रण में लेने का विरोध भी कर सकते हैं.एक आसान तरीका यह भी होगा कि स्थानीय इंटरनेट सर्विस मुहैया कराने वाले को इस बात के लिए कहा जाए कि वो टिक-टॉक का सर्वर ऐक्सेस ब्लॉक कर दे.

इसका एक फायदा यह भी होगा कि वेबसाइट की मदद से भी कोई टिक-टॉक की वीडियोज नहीं देख सकेगा.भारत ने टिक-टॉक और दूसरे चीनी ऐप पर बैन लगाने के लिए यही रास्ता अपनाया है. यूजर्स ने वर्जुअल प्राइवेट नेटवर्क की मदद से भी इस ब्लॉक को नहीं तोड़ पाने की बात कही है.

लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि ट्रंप टिक-टॉक पर बैन लगाने के आदेश को कैसे लागू करेंगे. और पढो: BBC News Hindi »

हल्ला बोल: सिनेमा, सियासत और ड्रग्स के जहर पर जोरदार बहस

बॉलीवुड में ड्रग्स वाली थाली पर विवाद का छेद लगातार बढता जा रहा है. कंगना ने जिस जंग की शुरुआत की उसे संसद में उठाकर रविकिशन ने राष्ट्रीय मुद्दा बना दिया. फिर रविकिशन का संसद से ही विरोध करके जया बच्चन ने पूरे मामले को एक नया मोड़ दे दिया. बॉलीवुड के ड्रग्स कनेक्शन पर सिय़ासत में हंगामा है तो सितारों के बीच घमासान है, बॉलीवुड दो खेमे में बंट गया है. एक खेमे में विवादों के साथ कबड्डी करने वाली कंगना हैं तो दूसरे खेमे में अभिनेत्री से सांसद बनी जया बच्चन जैसी सरीखी और अनुभवी अदाकारा. देखें हल्ला बोल में जोरदार बहस.

Kiya tiktok sirf india ka hi personal data churati thi? Other countries me aisa kuch nhi hai kiya? RSS वालों ने कराया है दिल्ली में दंगा आप खुद इस प्रकार से जरूर सुने एक बार इनके साथ क्या हुआ Sir/Madam,Government of India means Public of India including Govt. employees. We all are responsible for the welfare of poor & nation. Around 50% of public funds are under misuse therefore dismiss the corruptors and establish corruption free India. Jai hind🙏🌼🙏

भूमि पूजन से पहले रामलला के एक और पुजारी को कोरोना, बढ़ते मामलों से बढ़ी हलचलभूमि पूजन से पहले रामलला के एक और पुजारी को कोरोना, बढ़ते मामलों से बढ़ी हलचल COVID19 coronavirus AyodhyaBhumiPujan RamMandir AyodhyaRamTemple CMOfficeUP ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA CMOfficeUP ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA Where's our tax money going?! CMOfficeUP ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA पुजारी क्या है, सरकार जनता की बलि कर चुकी है पहले ही.. सरकार को अपना मकसद पूरा करना है जिसके दम पर वो चुनाव में उतरे उसके लिए बाकी मुद्दे गौड़ है चाहे कोई भी हो, एक एक लाश एक एक दिन भारी है इस महामारी में CMOfficeUP ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA

बांधों से छूटा लाखों क्यूसेक पानी, उफनायी नदियों के पानी से घिरे सैकड़ों गांवउपजिलाधिकारी जय चंद्र पांडे ने बताया कि जिले की कैसरगंज, महसी तथा मिहींपुरवा तहसीलों के 61 गांवों की डेढ़ लाख से ज्यादा आबादी तथा 15500 हेक्टेयर क्षेत्रफल बाढ़ प्रभावित है। सात गांवों में हालात ज्यादा खराब हैं। बाढ़ तथा कटान से अभी तक 131 कच्चे पक्के मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं। Bhai 5 tarikh se pahle kuchh Nahin hoga pahle ram Mandir nirman jaruri hai क्युसेक का चलन अभी भी है क्या ? क्युमेक अब प्रयुक्त होता है। योगी जी यहाँ कहाँ जायेंगे एजेंडा २०२२ सेट करना है जहाँ वही जायेगे

राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़ेंगे आडवाणी, जोशी और कल्याणराम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़ेंगे आडवाणी, जोशी और कल्याण AyodhyaBhumiPujan RamMandir AyodhyaRamTemple CMOfficeUP PMOIndia BJP4India LKAdvani MurliManoharJoshi KalyanSingh CMOfficeUP PMOIndia BJP4India बीजेपी को चाहिए था कि आडवाणी को जरूर वहां लेकर जाना चाहिये।जो आदमी सबसे आगे रहा।आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये अयोध्या देखेगा।

प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आए कोरोना से ठीक होने वाले असम के 67 पुलिसकर्मीअसम में कोरोनावायरस (COVID 19) संक्रमण के कारण स्वास्थ्य विभाग को मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा की बेहद जरूरत है. ऐसे में असम पुलिस के 67 पुलिसकर्मियों ने मिसाल पेश की है. कोरोनावायरस संक्रमित होने के बाद ठीक होने वाले सभी 67 पुलिसकर्मी प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आए. J ha mupt. Me elaj hota ho vahi pr donet k re Nai to choro ki kami nai h Please raise the issue of exams during COVID THANK YOU!!AND THE NATION IS PROUD OF YOU! AND EACH ONE SHOULD COME FORWARD TO DONATE PLASMA!!

अयोध्या में जन्मभूमि शिलान्यास के मायने भविष्य के भारत के लिए- नज़रियाये समारोह 'एक नये भारत' का भी शिलान्यास है जिसमें नागरिकों की पहचान में उनके धर्म की अहम भूमिका होगी. BJP RSS should be banned. They are terrorists organisation 🤣🤣🤣🤣🤣 Pahli fursat me nikal......✌ Only a stupid can advise to not participate on historical Mandir's foundation or inauguration. Its right from born to Hindu person.

डीसीजीआई ने कोविड-19 के टीके के दूसरे-तीसरे चरण के मानव परीक्षण की इजाजत दीदेश के ड्रग कंट्रोलर ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ओर से बनाई जा रही कोविड-19 वैक्सीन के दूसरे और तीसरे चरण के परीक्षण It's good news