Roadsafety, Roadaccident, Motorvehicleact, Newtrafficrules, Newmotorvehicleact, Challan, Road Accident, Road Accident İn İndia, Motor Vehicle Act 2019, Motor Vehicle Act 2019 İn Hindi, Psychologist, Penalty For Road Traffic Offence, Break Traffic Rules, Traffic Rules Fine, Fine For Traffic Violations, Traffic New Rules, सड़क दुर्घटना, मनोवैज्ञानिक कारण, मोटर व्हीकल एक्ट, ट्रैफिक पुलिस चालान, ट्रैफिक चालान

Roadsafety, Roadaccident

सड़क दुर्घटनाः मौत से ज्यादा जुर्माने से क्यों डरते हैं लोग? मनोवैज्ञानिक ने बताए कारण

सड़क दुर्घटनाओं में हर मिनट चार लोगों की मौत हो जाती है। इस तरह हर साल लगभग डेढ़ लाख ऐसे लोग अपनी जान गंवा देते हैं जिन्हें

8.9.2019

सड़क दुर्घटना ः मौत से ज्यादा जुर्माने से क्यों डरते हैं लोग? मनोवैज्ञानिक ने बताए कारण RoadSafety RoadAccident MotorVehicleAct NewTrafficRules new motorvehicleact Challan

सड़क दुर्घटना ओं में हर मिनट चार लोगों की मौत हो जाती है। इस तरह हर साल लगभग डेढ़ लाख ऐसे लोग अपनी जान गंवा देते हैं जिन्हें

थोड़ी सी सावधानी बरतकर बचाया जा सकता है। लेकिन यह स्थिति कुछ अजीब है कि लोग सड़क दुर्घटना होने पर तो कड़े कानून न होने का हवाला देते थे, लेकिन अब जब कड़े कानून लागू हो चुके हैं, कई जगहों पर इसका विरोध भी किया जा रहा है। क्या लोगों को सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौत से डर नहीं लगता? जुर्माना तो केवल उन्हें ही देना है जो नियम तोड़ेंगे। ऐसे में क्या लोग सड़क नियमों की अवहेलना करने की छूट पाना चाहते हैं? लोगों का ऐसा व्यवहार क्यों है? इस सवाल पर दिल्ली के बीएलके अस्पताल के मनोचिकित्सक डॉ. मनीष जैन अमर उजाला से कहते हैं कि स्वाभाविक रूप से हम किसी बदलाव के लिए तैयार नहीं होते। कोई भी नियम लंबे समय में हमारी आदत में शुमार हो जाता है जिससे कई बार हम चाहकर भी बदल नहीं पाते। लोग चाहते हैं कि उन्हें उनकी उसी व्यवस्था में चलते रहने दिया जाए। ऐसे में एक अच्छी आदत बनाने के लिए भी कुछ समय लगेगा, लेकिन कुछ समय बाद लोग इसे भी आज की तरह ही स्वीकार करने लगेंगे। सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौत लोगों को सही नियमों से चलने के लिए प्रेरित क्यों नहीं करती? डॉ. जैन ने कहा कि हम केवल उन्हीं बातों से सीधे प्रभावित होते हैं जो सीधे हमारे अनुभव से होकर गुजरती हैं। ऐसे में इस तरह के अनुभव से दूसरे लोग अपेक्षाकृत कम प्रभावित होते हैं। क्या भारी जुर्माना लगाकर लोगों के स्वभाव को परिवर्तित करने का यह तरीका सही कहा जा सकता है? इस सवाल पर डॉ. मनीष जैन ने कहा कि व्यवहारगत समस्याओं को दुरुस्त करने के लिए यह आवश्यक है कि सजा इतनी हो कि व्यक्ति उसे सजा के तौर पर महसूस करे। जब तक जुर्माना 100 रुपये होता था, यह पूरी तरह असरहीन था। लेकिन जैसे ही जुर्माने की रकम बढ़ा दी गई, सड़कों पर यातायात में सुधार देखा जाने लगा है। जल्दी ही इसका बड़ा और अच्छा असर दिखाई पड़ेगा। मौत-घायलों की संख्या बहुत ज्यादा सेव लाइफ फाउंडेशन के मुताबिक़ पिछले दस वर्षों में सड़क दुर्घटनाओं में कम से कम 13,81,314 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। इसके आलावा इसी बीच 50,30,707 लोग गंभीर रूप से घायल भी हो हुए हैं। इन दुर्घटनाओं को रोकने के लिए विशेषज्ञ कठोर यातायात नियमों की वकालत करते हैं। नेशनल क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो (NCRB) की 2016 की रिपोर्ट के मुताबिक़ वर्ष 2015 में देश में कुल 4,96,762 दुर्घटनाएं हुईं। इनमें 1,48,707 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी। देश में प्रति मिनट चार लोग सड़क दुर्घटनाओं में अपनी जान खो देते हैं। वर्ष 2015 में सड़क दुर्घटनाओं में जान गंवाने वाले लोगों में से एक तिहाई केवल उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और तमिलनाडु तीन राज्यों से थे। गाड़ियों कीसंख्या के लिहाज से देखें तो प्रति एक लाख वाहनों में 90 वाहन सड़क दुर्घटनाओं का शिकार हुए। इसके कारण भारी आर्थिक नुकसान भी हुआ। थोड़ी सी सावधानी बरतकर बचाया जा सकता है। लेकिन यह स्थिति कुछ अजीब है कि लोग सड़क दुर्घटना होने पर तो कड़े कानून न होने का हवाला देते थे, लेकिन अब जब कड़े कानून लागू हो चुके हैं, कई जगहों पर इसका विरोध भी किया जा रहा है। क्या लोगों को सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौत से डर नहीं लगता? जुर्माना तो केवल उन्हें ही देना है जो नियम तोड़ेंगे। ऐसे में क्या लोग सड़क नियमों की अवहेलना करने की छूट पाना चाहते हैं? विज्ञापन लोगों का ऐसा व्यवहार क्यों है? इस सवाल पर दिल्ली के बीएलके अस्पताल के मनोचिकित्सक डॉ. मनीष जैन अमर उजाला से कहते हैं कि स्वाभाविक रूप से हम किसी बदलाव के लिए तैयार नहीं होते। कोई भी नियम लंबे समय में हमारी आदत में शुमार हो जाता है जिससे कई बार हम चाहकर भी बदल नहीं पाते। लोग चाहते हैं कि उन्हें उनकी उसी व्यवस्था में चलते रहने दिया जाए। ऐसे में एक अच्छी आदत बनाने के लिए भी कुछ समय लगेगा, लेकिन कुछ समय बाद लोग इसे भी आज की तरह ही स्वीकार करने लगेंगे। सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौत लोगों को सही नियमों से चलने के लिए प्रेरित क्यों नहीं करती? डॉ. जैन ने कहा कि हम केवल उन्हीं बातों से सीधे प्रभावित होते हैं जो सीधे हमारे अनुभव से होकर गुजरती हैं। ऐसे में इस तरह के अनुभव से दूसरे लोग अपेक्षाकृत कम प्रभावित होते हैं। क्या भारी जुर्माना लगाकर लोगों के स्वभाव को परिवर्तित करने का यह तरीका सही कहा जा सकता है? इस सवाल पर डॉ. मनीष जैन ने कहा कि व्यवहारगत समस्याओं को दुरुस्त करने के लिए यह आवश्यक है कि सजा इतनी हो कि व्यक्ति उसे सजा के तौर पर महसूस करे। जब तक जुर्माना 100 रुपये होता था, यह पूरी तरह असरहीन था। लेकिन जैसे ही जुर्माने की रकम बढ़ा दी गई, सड़कों पर यातायात में सुधार देखा जाने लगा है। जल्दी ही इसका बड़ा और अच्छा असर दिखाई पड़ेगा। मौत-घायलों की संख्या बहुत ज्यादा सेव लाइफ फाउंडेशन के मुताबिक़ पिछले दस वर्षों में सड़क दुर्घटनाओं में कम से कम 13,81,314 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। इसके आलावा इसी बीच 50,30,707 लोग गंभीर रूप से घायल भी हो हुए हैं। इन दुर्घटनाओं को रोकने के लिए विशेषज्ञ कठोर यातायात नियमों की वकालत करते हैं। नेशनल क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो (NCRB) की 2016 की रिपोर्ट के मुताबिक़ वर्ष 2015 में देश में कुल 4,96,762 दुर्घटनाएं हुईं। इनमें 1,48,707 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी। देश में प्रति मिनट चार लोग सड़क दुर्घटनाओं में अपनी जान खो देते हैं। वर्ष 2015 में सड़क दुर्घटनाओं में जान गंवाने वाले लोगों में से एक तिहाई केवल उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और तमिलनाडु तीन राज्यों से थे। गाड़ियों कीसंख्या के लिहाज से देखें तो प्रति एक लाख वाहनों में 90 वाहन सड़क दुर्घटनाओं का शिकार हुए। इसके कारण भारी आर्थिक नुकसान भी हुआ। विज्ञापन और पढो: Amar Ujala

मुलाकात के बाद बोले उद्धव ठाकरे, PM ने पूरे देश में NRC लागू नहीं करने का दिया आश्वासन



PM मोदी से मिलने के बाद बोले उद्धव, CAA-NPR से डरने की जरूरत नहीं, NRC से किसी को खतरा नहीं

धार्मिक स्वतंत्रता पर नज़र रखने वाली अमेरिकी एजेंसी ने कहा, भारत के लिए सीएए चिंताजनक



पुणे में पुरानी बसों को बनाया महिला टॉयलेट, फीडिंग रूम की भी है सुविधा

मुस्लिम संगठन का ऐलान- वारिस पठान का सिर कलम करने पर 11 लाख का इनाम



ओमान में फंसे 30 भारतीय, पीएम से लगाई वापस लाने की गुहार, छह महीने से नहीं मिली तनख्वाह

FATF ने पाकिस्तान को ‘ग्रे सूची’ में ही रखा, 'लश्कर' और 'जैश' को वित्तीय मदद नहीं रोकने पर कार्रवाई की चेतावनी



थोड़ा मुश्किल है पर क्या करे आदत डालनी ही पड़ेगी Jurmana bharane hibrasta hai.ku nhi agency walo ko bolte bina helmet ke bikebn bikegi,petrolpump per petro n milega? Kyunki bina helmet chalan pakka hai maut nahi 72साल से congres का राज मे रहने और लापरवाही का आदत पडा हुआ था।100 रुपिया घूस दे निकल जाने की आदत तुरत नही जायेगी।समय लगेगा मोदी हंटर जब लगेगा चुतड़ पर तब सुधरेगा।चिदंबरम को देख समझ जाये जनता।

nitin_gadkari बोलते हैं कि फाइन से लोगों की मौत कम होगी। पर अब यह लगता है कही फाइन से बचने के लिए कही लोग जल्द बाजी मे मोती के मुह मे ना चले जाए। RoadSafety RoadAccident MotorVehicleAct NewTrafficRules newmotorvehicleact Challan क्योंकि जान से ज्यादा पैसा प्यारा है । भाई जुर्माना से डर नहीं है,जुर्माना के नाम पर पुलिस वाले लोगों को बिना वजह रिश्वत के लिए परेशान करते हैं, बिना वजह पैसा खाने के लिए बिना मतलब का केस लगा देते हैं, दिक्कत सिर्फ पुलिस वालों के हरामीगिरि से है ।

बढ़ गए हैं सड़क पर चालान, इन राशियों के लोग रहें ज्यादा सावधान - dharma AajTakकेंद्र सरकार का नया यातायात चालान प्लान पूर्व की दरों से कहीं ज्यादा है. वाहन चालकों के लिए चालान कार्रवाई शुल्क को अप्रत्याशित आज तक का स्तर दिनो दिन गिरता जा रहा है कोई न्यूज नही है तो ये राशियों के आधार पर चालान से बचने के उपाय बता रहे है। ऐसी खबर के बाद भी ये अपने आप को न.1 बताने से नही चूकता है। oldschoolmonk wah bsdk wah क्या आज तक वालों थोरा शर्म कर लो, अपने न्यूज़ लिंक पर बस क्लिक करवाने के लिए कुछ भी डाल देते हो।

सड़क से लेकर चांद तककार्टूनों में देखें कैसा रहा पिछला सप्ताह. Bbc ke editor ki ma ka bhosda. वैसे UK की कितनी जीडीपी बढ़ी जस्ट आस्किंग 😂😂😂 तू चांद है, नखरे तो दिखायेगा...🌙🚀🚀🚀 .🌙🚀 .🌙 .🌙🚀 भारत तेरा आशिक है, लौटकर फिर आयेगा.! 🌙🌙🚀🚀 🚀🌓 Salute To ISRO 🇮🇳🛰

आजम के समर्थन में फिर सड़क पर उतरेगी SP, 9 सितंबर को रामपुर में होगा बड़ा प्रदर्शनSamajwadi Party: 9 सिंतबर को आजम खान के समर्थन में अखिलेश यादव प्रदर्शन करेंगे. अखिलेश यादव रामपुर पहुंचेंगे और प्रदर्शन का नेतृत्व करेंगे. samajwadiparty yadavakhilesh Yahi umeed hai sapa se to samajwadiparty yadavakhilesh लोगों की मति मारी गई है samajwadiparty yadavakhilesh

VIDEO: ट्रैफिक नियम: बीच सड़क पर चीख रहा था युवक-मैं ना मानूं तो सजा और तुम ना मानो तो मजाबिहार के बक्सर जिले में एक युवक और पुलिसवाले के बीच तू-तू मैं-मैं का वीडियो सामने आया है। युवक से ट्रैफिक रूल तोड़ने पर पैसा वसूलने वाला पुलिसवाला खुद ही बिना हैल्मेट के दिखा। Yahi to Ess dekh ki Widambana hai.. सच है ये Uppolice uptrafficpolice dgpup ऐसे में पुलिस वालों पर सख्त करवाई करनी चाहिए जिसे लोगों में पुलिस के प्रति विश्वास बना रहे... myogiadityanath

कुछ लोग लेफ़्ट हैंड से क्यों लिखते हैं?बराक ओबामा से लेकर सचिन तेंदुलकर और अमिताभ बच्चन दुनिया के मशहूर लेफ़्ट हैंड से लिखने वाली हस्तियां हैं. क्योंकि वो लेफ्ट हैंडर्स हैं bsd... बचपन में पिट्ठो खेलने की जगह पढ़ाई की होती तो पता होता। BBC At its Hate ! मैं लेफ्ट हैंड से लिखता हूं बचपन में बहुत डांट पड़ती थी

बढ़ गए हैं सड़क पर चालान, इन राशियों के लोग रहें ज्यादा सावधान - dharma AajTakकेंद्र सरकार का नया यातायात चालान प्लान पूर्व की दरों से कहीं ज्यादा है. वाहन चालकों के लिए चालान कार्रवाई शुल्क को अप्रत्याशित आज तक का स्तर दिनो दिन गिरता जा रहा है कोई न्यूज नही है तो ये राशियों के आधार पर चालान से बचने के उपाय बता रहे है। ऐसी खबर के बाद भी ये अपने आप को न.1 बताने से नही चूकता है। oldschoolmonk wah bsdk wah क्या आज तक वालों थोरा शर्म कर लो, अपने न्यूज़ लिंक पर बस क्लिक करवाने के लिए कुछ भी डाल देते हो।



राष्ट्रपति मैक्रों ने विदेशी इमामों के फ्रांस आने पर लगाया बैन, कहा- ये कट्टरपंथ फैलाते हैं

News18 Hindi News: पढ़ें हिंदी न्यूज़, Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी - News18 इंडिया

अब डोनाल्ड ट्रंप बोले- PM मोदी ने मुझसे कहा था कि '1 करोड़' लोग करेंगे मेरा स्वागत

UP पहुंचे शरद पवार ने पूछा- मंदिर के लिए ट्रस्ट तो मस्जिद के लिए क्यों नहीं?

शरद पवार ने नया शिगूफा छोड़ा, कहा- राम मंदिर के लिए ट्रस्ट बन सकता है तो मस्जिद के लिए क्यों नहीं?

NRC का क्या होगा असर? जबेदा बेगम के बाद अब पढ़िए फखरुद्दीन की दर्दभरी दास्तां, नागरिकता साबित करने में जुटे 19 लाख

राजस्थान: चोरी के आरोप में दो दलित भाइयों को बुरी तरह पीटा, प्राइवेट पार्ट्स में डाला पेट्रोल, VIDEO आया सामने

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

09 सितम्बर 2019, सोमवार समाचार

पिछली खबर

ओडिशा: ट्रक में लेकर जा रहा था JCB, कट गया 86,500 रुपये का चालान

अगली खबर

गोपी सर से हुई मुलाकात ने बदल दी मानसी की जिंदगी, कड़े प्रशिक्षण के बाद बनीं पैरा विश्व चैंपियन
मुलाकात के बाद बोले उद्धव ठाकरे, PM ने पूरे देश में NRC लागू नहीं करने का दिया आश्वासन PM मोदी से मिलने के बाद बोले उद्धव, CAA-NPR से डरने की जरूरत नहीं, NRC से किसी को खतरा नहीं धार्मिक स्वतंत्रता पर नज़र रखने वाली अमेरिकी एजेंसी ने कहा, भारत के लिए सीएए चिंताजनक पुणे में पुरानी बसों को बनाया महिला टॉयलेट, फीडिंग रूम की भी है सुविधा मुस्लिम संगठन का ऐलान- वारिस पठान का सिर कलम करने पर 11 लाख का इनाम ओमान में फंसे 30 भारतीय, पीएम से लगाई वापस लाने की गुहार, छह महीने से नहीं मिली तनख्वाह FATF ने पाकिस्तान को ‘ग्रे सूची’ में ही रखा, 'लश्कर' और 'जैश' को वित्तीय मदद नहीं रोकने पर कार्रवाई की चेतावनी सोनभद्र की खान से मिल सकता है भारतीय स्वर्ण भंडार से पांच गुना ज्यादा सोना, क्या हैं इसके मायने सोनभद्र की पहाड़ियों में मिली सोने की खान, अधिकारियों ने बताया मिलेगा सैकड़ों टन सोना गाय को बचाने के चक्कर में स्कार्पियो चालक ने बाइक को मारी टक्कर, तीन भाइयों की मौत अमरजीत सिन्हा और भास्कर खुल्बे बने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सलाहकार 'इलाहाबाद जंक्शन' हुआ इतिहास, बदले गए शहर के चारों रेलवे स्टेशनों के नाम
राष्ट्रपति मैक्रों ने विदेशी इमामों के फ्रांस आने पर लगाया बैन, कहा- ये कट्टरपंथ फैलाते हैं News18 Hindi News: पढ़ें हिंदी न्यूज़, Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी - News18 इंडिया अब डोनाल्ड ट्रंप बोले- PM मोदी ने मुझसे कहा था कि '1 करोड़' लोग करेंगे मेरा स्वागत UP पहुंचे शरद पवार ने पूछा- मंदिर के लिए ट्रस्ट तो मस्जिद के लिए क्यों नहीं? शरद पवार ने नया शिगूफा छोड़ा, कहा- राम मंदिर के लिए ट्रस्ट बन सकता है तो मस्जिद के लिए क्यों नहीं? NRC का क्या होगा असर? जबेदा बेगम के बाद अब पढ़िए फखरुद्दीन की दर्दभरी दास्तां, नागरिकता साबित करने में जुटे 19 लाख राजस्थान: चोरी के आरोप में दो दलित भाइयों को बुरी तरह पीटा, प्राइवेट पार्ट्स में डाला पेट्रोल, VIDEO आया सामने CAA के खिलाफ जनसभा में 'पाकिस्तान जिंदाबाद' नारा बोलने वाली लड़की ने एक सप्ताह पहले लिखी थी FB पोस्ट 'सभी देश जिंदाबाद' RSS चीफ मोहन भागवत बोले- 'राष्ट्रवाद' का मतलब हिटलर और नाजीवाद होता है, इसका इस्तेमाल न करो 'नमस्ते ट्रंप': मोटेरा स्टेडियम के भव्य कार्यक्रम का ख़र्चा किसका? हम 15 करोड़ मुस्लिम 100 करोड़ के ऊपर भारी हैं: AIMIM नेता का भड़काऊ बयान BJP का विपक्ष पर बड़ा हमला, कहा- 'हाथ में संविधान, दिल में वारिस पठान'