सचिन पायलट ने बीजेपी में जाने से किया इनकार लेकिन स्पीकर ने थमाया नोटिस

सचिन पायलट बोले- मैं बीजेपी में शामिल होने नहीं जा रहा

15-07-2020 07:44:00

सचिन पायलट बोले- मैं बीजेपी में शामिल होने नहीं जा रहा

सचिन पायलट ने कहा कि राजस्थान में कुछ नेता उनके बीजेपी में शामिल होने की अफ़वाह उड़ा रहे हैं लेकिन वो ऐसा नहीं करने जा रहे.

शेयर पैनल को बंद करेंइमेज कॉपीरइटGetty Imagesकांग्रेस के बाग़ी नेता सचिन पायलट ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा है कि वो बीजेपी में नहीं जाएंगे.सचिन ने कहा कि 'उन्होंने कांग्रेस को सत्ता में लाने के लिए कड़ी मेहनत की थी.'कांग्रेस के इस युवा बाग़ी नेता ने कहा कि 'राजस्थान में कुछ नेता उनके बीजेपी में शामिल होने की अफ़वाह उड़ा रहे हैं लेकिन वो ऐसा नहीं करने जा रहे.'

अयोध्या में अस्पताल बने, मस्जिद के लिए मेरे पिता दे देंगे जमीन: सुमैया राना दिल्ली: वेंटिलेटर सपोर्ट पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, कुछ ही देर पहले हुई सफल ब्रेन सर्जरी गहलोत विवाद पर पहली बार बोले पायलट- पद का लालच नहीं, मान-सम्मान की लड़ाई

दूसरी तरफ़ राजस्थान विधानसभा के स्पीकर ने सचिन पायलट समेत 19 विधायकों को नोटिस भेजा है और 17 जुलाई तक जवाब मांगा है.सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायक सीएलपी की बैठक में नहीं आए थे और इसे लेकर राजस्थान सरकार के व्हिप चीफ़ महेश जोशी ने स्पीकर के समक्ष शिकायत दर्ज कराई थी.

सचिन पायलट ने पूरे राजनीतिक घटनाक्रम परइंडिया टुडेको दिए इंटरव्यू में कहा है कि वो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से नाराज़ नहीं हैं.सचिन ने इस इंटरव्यू में कहा, ''मैं उनसे नाराज़ नहीं हूं. मैं कोई विषेशाधिकार भी नहीं मांग रहा. हम सभी चाहते हैं कि कांग्रेस ने राजस्थान के चुनाव में जो वादा किया था उसे पूरा करे. हमने वसुंधरा राजे सरकार के ख़िलाफ़ अवैध खनन का मुद्दा उठाया था. सत्ता में आने के बाद गहलोत जी ने इस मामले में कुछ नहीं किया. बल्कि वो वसुंधरा के रास्ते पर ही बढ़ रहे हैं.''

सचिन पायलट ने इस इंटरव्यू में कहा है, ''पिछले साल राजस्थान हाई कोर्ट ने 2017 के वसुंधरा सरकार के उस संशोधन को ख़ारिज कर दिया था जिसमें उन्हें जयपुर में सरकारी बंगला हमेशा के लिए मिल गया था. गहलोत सरकार को बंगला उनसे ख़ाली करवाना चाहिए था लेकिन उन्होंने हाई कोर्ट के फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी.''

इमेज कॉपीरइटGetty Imagesसचिन ने कहा, ''गहलोत बीजेपी की राह पर ही चल रहे हैं और उन्हें मदद कर रहे हैं. वो मुझे और मेरे समर्थकों को राजस्थान के विकास के लिए काम नहीं करने दे रहे हैं. नौकरशाहों से कह दिया गया है वो मेरे निर्देशों का पालन नहीं करें. फाइलें मेरे पास नहीं आती हैं. महीनों से कैबिनेट और सीएलपी की बैठक नहीं हुई है. उस पद का क्या मतलब है जिस पर रहकर मैं लोगों से किए वादों को ही पूरा नहीं कर सकता?''

सचिन ने इंडिया टुडे को दिए इंटरव्यू में कहा है, ''मैंने पूरे मामले को कई बार उठाया. मैंने राजस्थान में कांग्रेस के प्रभारी अविनाश पांडे जी से कहा. सीनियर नेताओं से भी कहा. मैंने गहलोत जी से भी बात की. लेकिन इसका कोई फ़ायदा नहीं हुआ क्योंकि मंत्रियों और विधायकों की शायद ही कोई बैठक होती थी. मेरे आत्मसम्मान को चोट पहुंची है. प्रदेश की पुलिस ने सेडिशन के एक मामले में मुझे नोटिस भेजा है.''

''आप याद कीजिए कि कांग्रेस ने 2019 के लोकसभा चुनाव में अपने घोषणापत्र में सेडिशन का क़ानून हटाने का वादा किया था और यहां कांग्रेस की सरकार अपने ही मंत्री के ख़िलाफ़ इस क़ानून का इस्तेमाल कर रही है. मेरा यह क़दम अन्याय के ख़िलाफ़ है. पार्टी का व्हिप तब वैध होता है जब विधानसभा चल रही होती है. मुख्यमंत्री ने विधायक दल की बैठक अपने घर पर बुलाई. कम से कम यह बैठक पार्टी मुख्यालय में ही बुला लेते.''

सुशांत केस में हरकत में आई सीबीआई, ईडी की जांच ने भी पकड़ी रफ्तार अच्छा मुसलमान राम मंद‍िर की बधाई नहीं दे सकता? देखें दंगल में जोरदार बहस बंगाल इमाम एसोसिएशन ने भूमि पूजन को बताया ‘इस्लाम विरोधी’ और पढो: BBC News Hindi »

राजस्थान के रण में ना गहलोत की जीत, ना पायलट की हार!

कांग्रेस नेतृत्व ने राजस्थान में उप मुख्यमंत्री पद से हटाए गए बागी नेता सचिन पायलट की नाराजगी दूर कर ली. वो अभी अभी राहुल गांधी से मिलने अपने समर्थक विधायकों के साथ पहुंचे हैं. पायलट खेमे के एक विधायक भंवरलाल शर्मा ने जाकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात भी कर ली है. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी गहलोत और पायलट के बीच संतुलन साधने के लिए एक तीन सदस्यीय कमेटी बना रही हैं. साथ ही बड़ी खबर ये है कि राजस्थान में कांग्रसे के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे हटाए जा सकते हैं. मौजूदा फॉर्मूला से साफ है कि ना तो ये गहलोत की जीत है, ना पायलट की हार. बल्कि पिछले एक महीने से हिल रही गहलोत सरकार को एक जीवनदान मिला है. देखें वीडियो.

जिस आशिक़ की शह पर शहबाज़ बनने चले , वह ही दगा दे गया! स्वाभिमान की रक्षा व विजय के लिए ताकतवर का साथ लेना चाहिए सूत्रों के हवाले से पता चला है कि यह बयान सुनकर सूत्रों को लकवा मार गया है।😂😂😂 Kirtishbhat SachinPilot ई लड़कवा बउरा गवा है शायद। फिर से गलत decision.🤣🤣🤣🤣🤣 मै भाजपा मे नहीं भाजपा मे मै ,

Ab position yah ho Gai ki Dhobi ka kutta na Ghar Ka Na Ghat Ka ! जाइए ना रोका किसने है ! ANyINC786 Then why this drama to topple government now DS cong पता नही कुछ लोगों को क्यों लगता है कि कोई व्यक्ति पार्टी के लिए महत्वपूर्ण नही है जबकि सच्चाई यह है कि पार्टी व्यक्ति से बनता है SachinPilot जैसे हर नदी गंगा में नहीं मिलती, देश के लिए जो कि अच्छा भी है, वैसे ही, ज़रूरी नहीं कि हर प्रभावशाली राजनेता बीजेपी में ही जा के समाए, लोकतंत्र के लिए संभवत: ये अच्छा भी हो।

चुनावी समर में छोकरा दिखाया छोकरे नेमेहनत भी बहुत किया फिर जीतने के पश्चात चाटुकार चापलूस डोकरा को बैठा दिखा यह तो खानदानी परंपरा सरदार पटेल भी 14 वोट और नेहरु को दो वोट फिर भी गांधी ने pm नेहरु को बनाया मेहनत करो ना करो पर चापलूसी में महारत हासिल होना चाहिये तभी सत्ता मिलेगी

राजस्थान में सियासी संकट के बीच सचिन पायलट का BJP में शामिल होने से इनकारRajasthan Government Crisis Today News Live Updates: सचिन पायलट के प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद कांग्रेस के पाली जिलाध्यक्ष चुन्नीलाल चडवास ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। वहीं, कांग्रेस की राजनीतिक सियासत के बीच प्रदेश पार्टी प्रवक्ता ने इच्छा मृत्यु की मांग की है।

स्पेशल रिपोर्ट: राजस्थान में अपने ही बनाए चक्रव्यूह में उलझ गए सचिन पायलट?राजस्थान सरकार का सियासी ड्रामा आज आखिरकार खत्म हो गया. कांग्रेस के शीर्ष नेताओं की दखल से अशोक गहलोत विजयी बनकर निकले. उन्होंने 109 विधायकों के समर्थन का दावा किया. गहलोत ने तो मीडिया के सामने विक्ट्री साइन बनाकर अपनी जीत का ऐलान कर दिया, लेकिन बीजेपी ने राजस्थान में फ्लोर टेस्ट की मांग उठा दी है. सियासत के पुराने खिलाड़ी अशोक गहलोत विधायकों का संख्याबल साबित करने में सफल रहे. तो क्या राजस्थान में अपने ही बनाए चक्रव्यूह में उलझ गए सचिन पायलट? देखिए स्पेशल रिपोर्ट. anjanaomkashyap Jaisa bo ge waisa paoge. Sad for the people who lost their lives anjanaomkashyap ये कैसे पत्रकार हैं जिसे अपना देश दिखता ही नहीं हैं, कभी पाकिस्तान कभी चाइना,अपना देश छोर कर बाकी सब देश के बारे में बताना है। anjanaomkashyap Anjana mujhe tera video dekhna hai murder muvie k imraan hasmi k sath

पहली बाजी अशोक गहलोत ने जीती, लेकिन पायलट खेमे ने अभी हार नहीं मानीराजस्थान में जारी सियासी उठापटक में पहली बाजी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जीत ली है. अब से थोड़ी देर बाद उन्होंने कैबिनेट की पहली बैठक बुलाई है. सचिन पायलट की डिप्टी सीएम पद और उनके दो समर्थक मंत्रियों की पद से छुट्टी कर दी गई है. लेकिन पायलट खेमे ने अभी हार नहीं मानी है. देखें आज तक का खास कार्यक्रम देश तक. sardanarohit RahulGandhiजी बड़े जज बने फिरते हो SachinPilotजी के नेतृत्व में राजस्थान चुनाव लड़े सरकार आयी तो ashokgehlot51जी को सीएम बनवा दिये एक नवजवान राजनेता को कुचल दिये JM_Scindia के साथ यही हुआ ये लोग नाराज हुये तो मनाने के बजाय पार्टी से बाहर कर दिया आप सिर्फ देखते रहे ट्वीट करोअब sardanarohit Kendra Sarkar koto Siddhant niche sardanarohit is a BJP news channel there will be no questions for BJP there will be questions for other parties 🤷🤷🤷 and I hate this reporter

हटाने के बाद कांग्रेस ने दोबारा लगाए सचिन पायलट के पोस्टर, क्या हैं मायने?राजस्थान में राजनीति लगातार करवट बदल रही है. सुबह जयपुर दफ्तर से सचिन पायलट के जिन पोस्टरों को हटाया गया था, अब दोपहर होते-होते उन्हें फिर लगा दिया गया है. ये कदम तब उठाया गया है जब अशोक गहलोत ने अपना शक्ति प्रदर्शन कर दिया है. और कांग्रेस ने सचिन पायलट को बात करने की अपील की है. Isika naam Congress hai.. सुलह हो गई Rip. Sachin🙅

राजस्थान: सचिन पायलट को कांग्रेस ने उपमुख्यमंत्री पद से हटायाराजस्थान में कांग्रेस के भीतर फूट अब खुलकर सामने आ गई है. एक खेमा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और दूसरा सचिन पायलट के साथ. 🥺🥺😟 यही तो कयामत है ! पार्टी से भी हटाया क्या

पद से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट ने अपना ट्विटर प्रोफाइल बदला, दिया बड़ा बयानसचिन पायलट ने राज्य में राजनीतिक घटनाक्रम पर पहली बार प्रतिक्रिया देते हुए मंगलवार को कहा कि सत्य को परेशान किया जा सकता है लेकिन पराजित नहीं। K looo. ....... 📺📽🖥⏰⏰