संसद में क्या सरकार बहस से भाग रही है और विपक्ष काम नहीं करने दे रहा? - BBC News हिंदी

संसद में 'बहस से भागती सरकार' और 'बाधा डालते विपक्षी सांसद'

02-08-2021 13:48:00

संसद में 'बहस से भागती सरकार' और 'बाधा डालते विपक्षी सांसद'

पेगासस और कृषि कानूनों पर संसद के दोनों सदनों में जारी हंगामे के बीच किसी तरह की चर्चा, बहस या विचार-विमर्श के कई विधेयक मिनटों में पारित कर दिए गए

समाप्तसंस्था का कहना है कि सत्र के पहले दिन यानी 19 जुलाई को विपक्ष के सदस्यों के हंगामे की वजह से दोनों सदनों में न तो 'शून्य काल' और न ही 'प्रश्न काल' संपन्न हो सका. इसका मतलब है कि ग़ैर-सूचीबद्ध मामलों की चर्चा नहीं हो सकी और न ही सांसद सवाल पूछ सके.

यूएन में बोले मोदी, अफ़ग़ानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद फैलाने के लिए न हो - BBC News हिंदी 16 साल बाद बर्फ में दबा मिला जवान का शव: गाजियाबाद के फौजी अमरीश ने 2005 में उत्तराखंड की सतोपंथ चोटी पर फहराया था तिरंगा, लौटते समय खाई में गिर गए थे भारत ने विकसित की पहली DNA वैक्सीन, 12 साल से ऊपर वालों को दी जा सकती है : PM मोदी

फिर 22 जुलाई को जब दोनों सदनों की कार्यवाही शुरू हुई तो 'शून्य काल' तो नहीं हो पाया, अलबत्ता लोकसभा में 'शून्य काल' के दौरान सिर्फ़ एक प्रश्न ही लिया जा सका.इमेज स्रोत,ANIपीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च के अनुसार अगले दिन तो राज्यसभा की कार्यवाही चली ही नहीं जबकि लोकसभा में लगभग 200 के आसपास प्राइवेट मेंबर्स बिल सूचीबद्ध थे जिन्हें हंगामे की वजह से पेश नहीं किया जा सका.

पीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च के अनुसार 19 जुलाई से लेकर 26 जुलाई तक लोकसभा में सिर्फ़ 10 प्रतिशत और राज्यसभा में सिर्फ 26 प्रतिशत कामकाज ही पूरा हो पाया.सप्ताह के आखिरी दिन यानी 30 जुलाई को लोकसभा की कार्यवाही को हंगामे की वजह से सोमवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया. इस दौरान लोकसभा और राज्य सभा में विधायी कार्य नहीं के बराबर हो पाए. हालांकि सरकार ने इस हंगामे के बीच भी लोकसभा में दो और राज्यसभा में एक बिल पटल पर रखा लेकिन इन बिलों को पारित नहीं कराया जा सका. headtopics.com

इमेज स्रोत,LOKSABHATV/TWITTERकुल मिलकर दोनों सदनों में सात ऐसे बिल थे जो बिना चर्चा के पास हो गए.मानसून सत्र में 'नौवहन सहायता विधेयक 2021', 'आवश्यक रक्षा सेवा विधेयक, 2021', 'अंतर्देशीय पोत विधेयक 2021','फैक्टरिंग विनियमन संशोधन विधेयक 2021', 'राष्ट्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी उद्यमिता और प्रबंध संस्थान विधेयक 2021' और 'दिवाला एवं शोधन अक्षमता संहिता (संशोधन) अध्यादेश 2021' ऐसे सात विधेयक हैं जो बिना बहस के पारित हो गए.

पीआरएस की मृदुला रंगराजन के अनुसार सबसे कम समय 'दिवाला एवं शोधन अक्षमता संहिता संशोधन अध्यादेश, 2021' बिल के पारित होने में लगा जो लोकसभा में पेश होने के 5 मिनटों में ही पारित हो गया. इसी तरह 'अंतर्देशीय पोत विधेयक 2021' भी सिर्फ़ 6 मिनटों में पारित हो गया.

इमेज स्रोत,Getty Imagesक्या कहता है सत्ता पक्ष और विपक्ष?दोनों सदनों में चल रहे गतिरोध के बीच 27 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने दल के सभी सांसदों की बैठक बुलाई और सुझाव दिया कि भाजपा सांसद विपक्ष के सांसदों से "अच्छे संबंध रखें." उन्होंने भाजपा के सांसदों से ये भी कहा कि वो विपक्ष के सदस्यों के आरोपों का तार्किक जवाब दें.

संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी का कहना था कि सरकार भी नहीं चाहती है कि कोई भी बिल बिना चर्चा पारित हो. संसद में बोलते हुए उनका कहना था, "आम लोगों से जुड़े कितने सारे मुद्दे हैं जिन पर चर्चा होनी ही चाहिए. हम चर्चा के लिए तैयार हैं लेकिन विपक्ष इसे होने नहीं दे रहा है." headtopics.com

अफ़ग़ानिस्तान: तालिबान ने हेरात शहर के चौराहों पर चार लोगों की लाशें लटकाईं - BBC Hindi 'आईए, भारत में कोरोना वैक्सीन बनाइए' : UN में पीएम मोदी के संबोधन की 10 बड़ी बातें अफगानिस्तान में तालिबानी सजा का दौर शुरू: हेरात शहर में किडनैपिंग के 4 आरोपियों को दिनदहाड़े गोलियां मारी, बीच चौराहे घंटों क्रेन से टांगे रखी डेड बॉडी

गुरुवार यानी 29 जुलाई को संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद पटेल और राज्यसभा में सदन के नेता पीयूष गोयल ने विपक्ष के नेता मलिकार्जुन खड़गे से मुलाक़ात भी की और दोनों सदनों में चल रहे गतिरोध को ख़त्म करने के लिए कहा लेकिन खड़गे का कहना है की दोनों मंत्रियों की ये मुलाक़ात "सिर्फ़ औपचारिक" थी.

सप्ताह के आखिरी दिन जहाँ सत्ता पक्ष के मंत्री, विपक्ष के नेताओं को मनाने की कोशिश में लगे रहे, वहीँ विपक्ष के सभी दलों के सदस्यों ने कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के कमरे में बैठक की और तय किया कि जब तक सरकार पेगासस मामले पर चर्चा नहीं करेगी तब तक दूसरी कोई विधायी कार्यवाही नहीं होगी.

लोकसभा में कांग्रेस विधायक दल के नेता अधीर रंजन चौधरी का कहना था कि सदन में जो कुछ हो रहा है 'वो सरकार की ज़िद' की वजह से ही हो रहा है.लेकिन सूचना-प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने सदन के गतिरोध के लिए कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों को ज़िम्मेदार ठहराया. उनका कहना था कि विरोध करने की भी अपनी सीमा होती है जिसे विपक्ष के सदस्यों ने लांघा है. उनका कहना था कि वो विपक्ष के सदस्य ही हैं जो सदन में चर्चा करने से भाग रहे हैं.

कांग्रेस के प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी कहते हैं कि सत्ता पक्ष पेगासस पर चर्चा कराने से भाग रहा है और सदन में पैदा हो रहे गतिरोध का इल्ज़ाम विपक्ष पर डाल रहा है. वो कहते हैं कि अगर सरकार पेगासस मामले पर चर्चा सदन में करने के लिए तैयार हो जाती है तो फिर विपक्ष भी अन्य सभी विधायी कार्यों को सुचारू ढंग से चलाने में सहयोग करेगा. headtopics.com

इमेज स्रोत,ANIराष्ट्रीय जनता दल के राज्यसभा सांसद मनोज झा ने बीबीसी से बात करते हुए कहा, "स्वस्थ चर्चा संसदीय लोकतंत्र का एक महत्वपूर्ण स्तंभ है. अफ़सोस की बात है कि कई ऐसी संसदीय परंपराएँ हैं जो अब ख़त्म होने या बेमानी होने के कगार पर पहुँच रहीं हैं."

वो कहते हैं, "सत्ता पक्ष के नेता ये कहते हैं कि पहले की सरकारें भी ऐसा ही करतीं थी लेकिन ये बताना ज़रूरी है कि कोई ग़लत करता है तो वही ग़लती परंपरा नहीं बननी चाहिए. नए संसद का भवन बने मगर पुरानी संसदीय परम्पराओं को संग्रहालय में रखने के प्रयास नहीं होना चाहिए."

दीदी की फॉरेन ट्रिप को मंजूरी नहीं: ममता बनर्जी को केंद्र ने नहीं दी इटली जाने की इजाजत, वेटिकन में पीस कॉन्फ्रेंस में शामिल होने जाना चाहती थीं बंगाल की CM UPSC में थर्ड रैंक लाने वाली अंकिता का इंटरव्यू: आगरा की टॉपर ने कहा- इस बार मैंने ठान लिया था कि टॉप-100 में जगह बनाकर रहूंगी IPL 2021- राजस्थान पर जीत के साथ दिल्ली फिर टॉप पर - BBC Hindi

वरिष्ठ पत्रकार जयशंकर गुप्त कहते हैं कि सरकार के पास बहुमत है और वो जानती है कि अपने विधेयक वो पारित करवा ही लेगी.गुप्त कहते हैं, "बहुमत है तो चर्चा नहीं हो, ये नहीं होना चाहिए. कोई भी विधेयक हो, चर्चा से उसे और बेहतर तरीके से तराशा जा सकता है. लेकिन इस नए विधायी तरीक़े की खोज गुजरात में ही हुई थी जब वहां की विधानसभा में अगर सरकार को कोई महत्वपूर्ण या विवादित बिल पास करवाना होता था तो वो विपक्ष के तेज़-तर्रार और मुखर नेताओं को पहले निलंबित करवा देती थी. अब वही परंपरा वहां के नेता संसद में भी ले आए हैं."

पेगासस से जुड़े हर सवाल का जवाब, कैसे काम करता है सॉफ्टवेयर, कितना महंगा पड़ता है?जयशंकर गुप्त कहते हैं कि इससे भी ज़्यादा गंभीर विषय है संसद की समितियों की बेमानी हो जाना. मसलन, 'इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी' पर कांग्रेस के शशि थरूर की अध्यक्षता वाली आईटी समिति का ज़िक्र करते हुए कहते हैं, "सत्ता पक्ष के सांसद नहीं आए तो समझ में आता है. लेकिन सरकारी अधिकारी भी समिति के सामने नहीं पहुँचें, ये गंभीर बात है."

और पढो: BBC News Hindi »

गुजरात में सियासी भूचाल, कौन होगा अगला मुख्यमंत्री? देखें दंगल में बड़ी बहस

गुजरात में शनिवार को बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है. विजय रुपाणी (Vijay Rupani) ने मुख्यमंत्री (Chief Minister) के पद से इस्तीफा (Resign) दे दिया. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी आलाकमान को आभार प्रकट किया. कुछ देर पहले ही रुपाणी ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात करते हुए उन्हें इस्तीफा सौंप दिया. गुजरात के मुख्यमंत्री पद से विजय रुपाणी के इस्तीफा देने के बाद अब यह सवाल उठने लगा है कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा? देखें दंगल में बड़ी बहस.

यह सरकार सिर्फ संख्या बल पर जीवित है दम पर नहीं बीबीसी जेहादी झूट फैलाना बंद कर सरकार कब भागी है बे.. बिके हुये चैनल

तालिबान और अफ़ग़ान बलों में तेज़ हुई जंग, तीन शहरों में गहराया संकट - BBC News हिंदीचरमपंथियों ने आम परिवारों के घरों में पनाह ली है, जिससे उन्हें हटाना मुश्किल हो जाएगा. आगे और लंबी ख़ूनी लड़ाई होती दिख रही है. रविवार को तालिबान ने कंधार हवाई अड्डे पर रॉकेट दागा. e taliban nahi pakistani ladaku lagte hai,aur e saf hai ki pakistan afghanistan pe kabja krna chahta hai यह कैसा युद्ध है, दुश्मन कहीं पर नहीं दिखाई देता मगर मशीन गन से गोलियां दाग़ रहें हैं धड़ाधड़,कितनी गोलियां और मिसाइलों की फिजुल खर्ची। TALIBAN WITH PAKISTAN FIGHT AGINST AFGANISTAN

संकट: महाराष्ट्र में मिला जीका वायरस का पहला मामला, केरल में भी मिले दो और मरीजसंकट: महाराष्ट्र में मिला जीका वायरस का पहला मामला, केरल में भी मिले दो और मरीज Maharashtra Kerala ZikaVirus OfficeofUT OfficeofUT Amar Ujala सोशल मीडिया के मेरे फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पेज को लाइक और फॉलो करे फेसबुक - इंस्टाग्राम - ट्विटर - व्हाट्सएप्प - समीर श्रीवास्तव OfficeofUT Follow the twitter handles of 'All India Trinamool Congress' from all over India 👇👇👇 AITC4Assam AITC4Delhi AITC4Bihar AITC4Jharkhand AITC4Tripura AITC4UP

रूस: अंतरिक्ष स्टेशन सेवा मॉड्यूल में दबाव में गिरावट, अंतरिक्ष में लगानी पड़ी इमरजेंसीरूस: हवाई रिसाव के कारण अंतरिक्ष स्टेशन सेवा मॉड्यूल के दबाव में गिरावट, नियंत्रण से बाहर किया गया Russia InternationSpaceStation Amar Ujala सोशल मीडिया के मेरे फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पेज को लाइक और फॉलो करे फेसबुक - इंस्टाग्राम - ट्विटर - व्हाट्सएप्प - समीर श्रीवास्तव

भारत-पाकिस्तान में भड़क सकता है तनाव, यूरोपीय संसद ने चेताया - BBC News हिंदीयूरोपीय संसद ने कहा है कि कश्मीर के कारण दक्षिण एशिया में शांति, स्थिरता और सुरक्षा को गंभीर ख़तरा है. इस कारण दो परमाणु शक्तियों (भारत-पाकिस्तान) के बीच आग भड़कने की आशंका है pakistan is nothing if indian government banned pakistan ip address. What the European parliament has no do with the Kashmir. It has no right to interfere in other countries internal affairs. नौ अगस्त 1947 को बिलोचिस्तान ब्रिटिश साम्राज्य से अलग स्वतंत्र राष्ट्र बना था। 14 अगस्त को आजाद होते ही पाकिस्तान उसपर चढ़ बैठा। जिन्ना ने बिलोचिस्तान के नवाब से इतना अधिक घूस लिया जो गैरब्रिटिश भारत में आज भी अद्वितीय हैं। ताज्जुब है कि कमीनेपन की औलादें पाकिस्तानी और अंग्रेज

संसद में अलग ही दिखता है महुआ मोइत्रा का स्टेटमेंट स्टाइल, साड़ी-सनग्लास और सुंदर जूलरी में आती हैं नजरMahua Moitra, TMC MP Mahua Moitra, Mahua Moitra News, About Mahua Moitra, Mahua Moitra Profile, Mahua Moitra Style, Mahua Moitra Biography, टीएमसी, महुआ मोइत्रा

नए नियम: आज से टैक्स और बैंकिंग के नियमों में होंगे ये बदलाव, बैंक सेवाएं महंगीनए नियम: आज से टैक्स और बैंकिंग के नियमों में होंगे ये बदलाव, बैंक सेवाएं महंगी NewRules Taxandbankingrules 1stAugust ATMcharges RBI RBI RBI Modi time me bank and tex ke rule daily change ho rahe hai.esko khud hi nhi pta hai ki tex thik se lag rahe hai ya nhi . RBI Ye har baar tex ko increase hi karte hai.ya phir pehle janta ko dikhne ke liye tex ko increase krti hai phir vote lene ke lalch me tex ko kam kar deti hai.jisse ki janta ko lge ki BJP unka diyan rakh rahi hai.