Bharat, Supremecourt, India, Bharat, English Name Of Bharat, Bharat Plea, Constitution Name Change, Supreme Court, Hearing, Hearing On Bharat Name, Modi Government, देश का अंग्रेजी नाम, इंडिया, भारत, सुप्रीम कोर्ट

Bharat, Supremecourt

संविधान से इंडिया शब्द हटाकर भारत करने की मांग, सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

संविधान से इंडिया शब्द हटाकर भारत करने की मांग, सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज #Bharat #SupremeCourt

02-06-2020 07:23:00

संविधान से इंडिया शब्द हटाकर भारत करने की मांग, सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज Bharat SupremeCourt

सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को संविधान से इंडिया शब्द की जगह भारत शब्द का प्रयोग करने को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई होगी।

अमर उजाला प्लस के सदस्य बनेंख़बर सुनेंख़बर सुनेंसुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को संविधान से इंडिया की जगह भारत शब्द का प्रयोग करने को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई होगी। याचिका में कहा गया है कि संविधान के पहले अनुच्छेद में लिखा है कि इंडिया यानी भारत। ऐसे में यह प्रश्न उठता है कि जब देश एक है तो उसके दो नाम क्यों है? एक ही नाम का प्रयोग क्यों नहीं किया जाता है?

तेजस्वी यादव ने बिहार में आरजेडी के 15 साल के शासन के लिए मांगी माफी मुंबई: मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का कार्डियक अरेस्ट के चलते निधन उइगर मुस्लिमों पर हो रहा जुल्म, फिर भी चीन संग गलबहियां कर रहा पाकिस्तान

देश की शीर्ष अदालत इस संबंध में आज सुनवाई करेगी। याचिकाकर्ता का कहना है कि इंडिया शब्द से गुलामी झलकती है और यह भारत की गुलामी का निशान है। इसलिए इस शब्द की जगह भारत या हिंदुस्तान का इस्तेमाल होना चाहिए।याचिका में दावा किया गया है कि ‘भारत’ या ‘हिंदुस्तान’ शब्द हमारी राष्ट्रीयता के प्रति गौरव का भाव पैदा करते हैं। याचिका में सरकार को संविधान के अनुच्छेद 1 में संशोधन के लिए उचित कदम उठाते हुए ‘इंडिया’ शब्द को हटाकर, देश को ‘भारत’ या ‘हिंदुस्तान’ कहने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है। यह अनुच्छेद इस गणराज्य के नाम से संबंधित है।

यह याचिका दिल्ली के एक निवासी ने दायर की है और दावा किया है कि यह संशोधन इस देश के नागरिकों की औपनिवेशिक अतीत से मुक्ति सुनिश्चित करेगा। याचिका में 1948 में संविधान सभा में संविधान के तत्कालीन मसौदे के अनुच्छेद 1 पर हुई चर्चा का हवाला दिया गया है और कहा गया है कि उस समय देश का नाम ‘भारत’ या ‘हिंदुस्तान’ रखने की पुरजोर हिमायत की गई थी।

याचिका के अनुसार, यद्यपि यह अंग्रेजी नाम बदलना सांकेतिक लगता हो लेकिन इसे भारत शब्द से बदलना हमारे पूर्वजों के स्वतंत्रता संग्राम को न्यायोचित ठहराएगा। याचिका में कहा गया है कि यह उचित समय है कि देश को उसके मूल और प्रमाणिक नाम ‘भारत’ से जाना जाए।सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को संविधान से इंडिया की जगह भारत शब्द का प्रयोग करने को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई होगी। याचिका में कहा गया है कि संविधान के पहले अनुच्छेद में लिखा है कि इंडिया यानी भारत। ऐसे में यह प्रश्न उठता है कि जब देश एक है तो उसके दो नाम क्यों है? एक ही नाम का प्रयोग क्यों नहीं किया जाता है?

विज्ञापनदेश की शीर्ष अदालत इस संबंध में आज सुनवाई करेगी। याचिकाकर्ता का कहना है कि इंडिया शब्द से गुलामी झलकती है और यह भारत की गुलामी का निशान है। इसलिए इस शब्द की जगह भारत या हिंदुस्तान का इस्तेमाल होना चाहिए।याचिका में दावा किया गया है कि ‘भारत’ या ‘हिंदुस्तान’ शब्द हमारी राष्ट्रीयता के प्रति गौरव का भाव पैदा करते हैं। याचिका में सरकार को संविधान के अनुच्छेद 1 में संशोधन के लिए उचित कदम उठाते हुए ‘इंडिया’ शब्द को हटाकर, देश को ‘भारत’ या ‘हिंदुस्तान’ कहने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है। यह अनुच्छेद इस गणराज्य के नाम से संबंधित है।

यह याचिका दिल्ली के एक निवासी ने दायर की है और दावा किया है कि यह संशोधन इस देश के नागरिकों की औपनिवेशिक अतीत से मुक्ति सुनिश्चित करेगा। याचिका में 1948 में संविधान सभा में संविधान के तत्कालीन मसौदे के अनुच्छेद 1 पर हुई चर्चा का हवाला दिया गया है और कहा गया है कि उस समय देश का नाम ‘भारत’ या ‘हिंदुस्तान’ रखने की पुरजोर हिमायत की गई थी।

और पढो: Amar Ujala »

I am so excited Court will say now Bharat our country name मां भारती के भारत को अंग्रेजियत का जामा पहनाकर तथा अंग्रेजों की ' फूट डालो राज करो ' की नीति अपनाकर तथैव 60 वर्षों तक भ्रष्टाचारियों को संरक्षित कर देश को खण्डित व खोखला कर देने वाली कांग्रेस द्वारा रचित इंडिया नामकरण गुलामी की याद दिलाने वाली है, माननीय न्यायालय इसे स्मरण रखे ।

Yaar Kiya hoga hahahahahaha शरीर और राष्ट्र को स्वस्थ रखने के लिए एक ही उपाय ,,,,,,,,,,,,,,चीनी बंद,,,,,,,,,,,, शरीर के लिए देशी गुड़ और राष्ट्र के लिए देशी goods ,, जय हिन्द दोस्तों

न्यायपालिका को आरोपित करने की बढ़ रही प्रवृत्ति, संस्थाओं को हो रहा नुकसान : जस्टिस कौल सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश संजय किशन कौल ने कहा है कि न्यायपालिका को आरोपित करने की प्रवृत्ति समाज में बढ़ती जा रही है। सभी तरह के संस्थान इसका निशाना बन रहे हैं। To remain in the News Jb judge ek khaas chsma phn k faisla sunane lg jaye to log kyun nhi use v aaropit tharay🙃 ⚡⚡⚡🌵🌵🌵🌵🤛🤛🤛👊👊

मधेसियों के पक्ष में संविधान संशोधन के लिए अलग से प्रस्ताव लाएगी नेपाली कांग्रेसमधेसियों के पक्ष में संविधान संशोधन के लिए अलग से प्रस्ताव लाएगी नेपाली कांग्रेस kpsharmaoli NepalNews NepalConstitution NepalCongress

झटका: आज से महंगा हुआ रसोई गैस सिलिंडर, चुकानी होगी इतनी ज्यादा कीमत भारत में आज से अनलॉक 1.0 का आगाज हो गया है और इसके पहले ही दिन आम आदमी को झटका लगा है। देश की ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने Bhaiyo desh me koi neta nhi, kyunki neta to Jan sevak hote hai. Ye ek business karte hai Salary, funds, Vip facilities with security. All paid by public taxes. They have pentions plans + funds & facilities till they die. We follow them but in real they are paid Labour. RT plz Kya yahin hain achchhe din? अच्छे दिन ऐसे ही तो आते है

Ground Report : Unlock ‘इंडिया’ में ‘भारत’ में रहने वाला प्रवासी मजदूर झेल रहा लॉकडाउन की विभीषिकाकोरोना संकट काल में चार चरणों के लॉकडाउन के बाद आज से देश में अनलॉक -1 की शुरुआत हो गई है। कोरोना के चलते बर्बाद हुई अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए आज से कंटेनमेंट इलाके ही केवल लॉक रहेंगे और सब कुछ अनलॉक।

जासूसी मामले में बड़ा खुलासा, सैनिकों के आवागमन की जानकारी लेने की कोशिश में था पाकपाकिस्तानी जासूस आबिद हुसैन ट्रेन से सेना की टुकड़ी के आवागमन के बारे में जानकारी हासिल करने की कोशिश में था। पाकिस्‍तानी जासूसों के बारे में बड़ा खुलासा... MC हैं , जिहादी हैं । बंद करो इनलोंगो का आना जाना ।। कोई राजदूत की जरूरत नही ।। अलग करो ।। तभी अंदर के जिहादियों को एक एक कर सेटल कर पाएंगे ।। राष्ट्रीय स्तर पर खेल करना होगा तभी ये जिहादी हटेंगे ।। पता करके क्या उखाड़ लेता जब तक घर का भेदी लंका न ढाये 😐

सिंधु से हिंदू-इंडस से इंडिया, ऐसा है भारत के नामकरण का रोचक इतिहासजब अंग्रेज भारत में आए उस समय हमारे देश को हिन्दुस्तान कहा जाता था. हालांकि, ये शब्द बोलने में उन्हें परेशानी होती थी. जब अंग्रेजों को पता चला कि भारत की सभ्यता सिंधु घाटी है जिसे इंडस वैली भी कहा जाता है, इस शब्द को लैटिन भाषा में इंडिया कहा जाता है तो उन्होंने भारत को इंडिया कहना शुरू कर दिया. Yes भारत इकलौता देश है जहां कोरोना महामारी के दौरान मूल निवासी शहरों से गाँव को पलायन कर रहे हैं लेकिन अवैध रूप से रहने वाले 5 करोड़ बांग्लादेशी रोहिंग्या घुसपैठीये आराम से रह रहे हैं याद रखिये 90% पारसी आवादी वाला पर्शिया मात्र 100 साल मे ईरान बन गया था Aajtak should change it's name to FakeTak.

टिकटॉक के ये सितारे अब कहां दिखाएंगे अपना टैलेंट टिकटॉक बैन पर बोलीं नुसरत जहां- ये नोटबंदी की तरह, बेरोजगारों का क्या होगा? ग्लोबल टाइम्स ने लिखा- भारत और चीन जवानों को बैच में हटाने पर राजी हुए, कमांडर लेवल की तीसरी बैठक में फैसला हुआ CM कैप्टन अमरिंदर की गुजारिश- प्रियंका के फैसले पर फिर से विचार करे केंद्र Fraud By Teachers: फर्जी शिक्षकों से 900 करोड़ रुपया वसूलेगी योगी आदित्यनाथ सरकार, सभी होंगे बर्खास्त राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री बोले- कोरोनिल को लेकर माफी मांगे रामदेव कार्ति चिदंबरम का ट्वीट- UP से निकलेगा कांग्रेस की वापसी का रास्ता, प्रियंका बनें CM कैंडिडेट चीन में सबसे बड़ा घोटाला, देश का 83 टन सोना निकला फर्जी! - trending clicks AajTak रेलवे के निजीकरण पर बोले राहुल- गरीबों का आखिरी सहारा भी छीन रही सरकार, जनता जवाब देगी अरुणाचल प्रदेश के आसपास चीन ने कैसे गुपचुप खड़ा किया अहम इंफ्रास्ट्रक्चर चीनी ऐप्स बैन के फैसले पर भारत के साथ आया अमेरिका, कहा- सुरक्षा के लिए जरूरी