श्री गुरु रामदास का 487वां प्रकाश पर्व: 115 तरह के 222 क्विंटल फूलों से सजा दरबार साहिब, 13 तस्वीरों में देखें खूबसूरती

श्री गुरु रामदास का 487वां प्रकाश पर्व: 115 तरह के 222 क्विंटल फूलों से सजा दरबार साहिब, 13 तस्वीरों में देखें खूबसूरती #GuruRamDas #Punjab

Gururamdas, Punjab

22-10-2021 09:31:00

श्री गुरु रामदास का 487वां प्रकाश पर्व: 115 तरह के 222 क्विंटल फूलों से सजा दरबार साहिब, 13 तस्वीरों में देखें खूबसूरती GuruRamDas Punjab

अमृतसर साहिब को बसाने वाले और सिखों के चौथे गुरु श्री गुरु रामदास जी का आज 487वां प्रकाश पर्व है। इस मौके पर दरबार साहिब को 115 तरह के 222 क्विंटल फूलों से सजाया गया है। देशभर से आए श्रद्धालुओं ने फूलों के साथ-साथ इसे खूबसूरत रोशनी से भी सजाया है। सजावट इतनी मनमोहक है कि आप एक टक देखते ही रह जाएंगे। पिछले साल कोविड के चलते भी यहां 1.50 लाख के करीब श्रद्धालु पहुंच गए थे, लेकिन इस साल 2 लाख से अधिक ... | अमृतसर साहिब को बसाने वाले और सिखों के चौथे गुरु श्री गुरु रामदास जी का आज 487वां प्रकाश पर्व है। इस मौके पर दरबार साहिब को 115 तरह के 222 टन फूलों से सजाया गया है। देशभर से आए श्रद्धालुओं ने फूलों के साथ-साथ इसे खूबसूरत लाइटों से भी सजाया है।

अमृतसर साहिब को बसाने वाले और सिखों के चौथे गुरु श्री गुरु रामदास जी का आज 487वां प्रकाश पर्व है। इस मौके पर दरबार साहिब को 115 तरह के 222 क्विंटल फूलों से सजाया गया है। देशभर से आए श्रद्धालुओं ने फूलों के साथ-साथ इसे खूबसूरत रोशनी से भी सजाया है। सजावट इतनी मनमोहक है कि आप एक टक देखते ही रह जाएंगे। पिछले साल कोविड के चलते भी यहां 1.50 लाख के करीब श्रद्धालु पहुंच गए थे, लेकिन इस साल 2 लाख से अधिक श्रद्धालुओं के दरबार साहिब में माथा टेकने का अनुमान है।

दरबार साहिब की खूबसूरती देख आप अपनी आंखें झपका भी नहीं पाएंगे।मिली जानकारी के अनुसार, थाईलैंड, इंडोनेशिया के अलावा कलकत्ता, दिल्ली, पूणे और बेंगलुरु से फूलों के 5 ट्रक भरकर आए थे। गुलदाउदी, गुलाब, मैरीगोल्ड, जरबेरा, सोन चंपा, ऑर्किड, लिलियम, कार्नेशन, टाइगर फ्लॉवर, सिंगापुरी ड्रफ्ट, स्टार फ्लॉवर, एलकोनिया, कमल गेंदा, हाइलेंडर, कमल और मोतिया के फूलों का उपयोग सजावट के लिए किया गया है। मुंबई से 100 से अधिक श्रद्धालु सिर्फ फूलों की सेवा के लिए इकबाल सिंह के निर्देशन में अमृतसर पहुंचे हैं। शुक्रवार को दरबार साहिब में सुंदर जलौ सजाए जाएंगे। वहीं रात के समय विशेष कवि सम्मेलन भी होगा। शाम को दरबार साहिब में आतिशबाजी होगी। लंगर में स्वादिष्ट पकवानों के साथ मिठाइयां भी बांटी जाएंगी।

कई श्रद्धालु अमृतसर सिर्फ फूलों की सेवा के लिए पहुंचे हैं। सुंदर फूल सभी को आकर्षित कर रहे हैं।इको फ्रेंडली आतिशबाजी होगीप्रकाश पर्व पर आकर्षण का केंद्र आतिशबाजी है। यह प्रदूषण फ्री और वातावरण फ्रेंडली आतिशबाजी होगी, जिसके लिए 15 सदस्यों की टीम तैयार है। आज शाम सुंदर जलौ भी सजाएं जाएंगे। शाम को दीपमाला भी होगी और पूरे दरबार साहिब में परिक्रमा में दीप जलाए जाएंगे। headtopics.com

UP Chunav News: नगीना से ललिता कुमारी...देवबंद से मौलाना उमर मदनी को टिकट, ओवैसी की पार्टी AIMIM ने जारी की 6 उम्मीदवारों की नई लिस्ट

गुरु घर के बाहर फूलों से बनाया गया मोर।लाहौर में जन्मे थे श्री गुरु रामदासगुरु रामदास का जन्म 9 अक्टूबर, 1534 को चूना मंडी में हुआ था, जो अब लाहौल में है। वे सिखों के चौथे गुरु थे। इन्होंने अमृतसर साहिब शहर की स्थापना की थी। इन्हीं के जन्मदिवस पर आज प्रकाश पर्व मनाया जा रहा है। अमृतसर पहले रामदासपुर के नाम से जाना जाता था।

गुरु घर का दृश्य। इस साल 2 लाख से अधिक श्रद्धालुओं के दरबार साहिब में माथा टेकने का अनुमान है।जब जेठा जी को गुरु रामदास नाम मिलागुरु रामदास जी के बचपन का नाम जेठा था। इनके पिता हरिदास और माता अनूप देवी जी थी। गुरु रामदास जी का विवाह गुरु अमरदास जी की पुत्री बीबी बानो से हुआ था। जेठा जी की भक्ति भाव को देखकर गुरु अमरदास ने 1 सितंबर 1574 को गुरु की उपाधि दी और उनका नाम बदलकर गुरु रामदास रखा। रामदास जी ने 1 सितंबर, 1574 ई. में गुरु पद प्राप्त किया था। इस पद पर वे 1 सितंबर, 1581 ई. तक बने रहे थे। उन्होंने 1577 ई. में 'अमृत सरोवर' नामक एक नगर की स्थापना की थी, जो आगे चलकर अमृतसर के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

गुरु घर को जाने वाला रास्ता भी फूलों से सजा हुआ है।गुरु रामदासमहानकार्य:1. गुरु रामदास ने सिखों के पवित्र सरोवर 'सतोषर' का निर्माण करवाया।2. गुरु रामदास लोगों के प्रति सहिष्णुता में विश्वास रखते थे।3. गुरु रामदास ने कई कविताओं और लावन की भी रचना की। आज भी सिख धर्म की शादियों में लावन गीत शगुन के तौर पर गाए जाते हैं। इन्हें 30 रागों का ज्ञान था। इन्होंने करीब 638 भजनों की रचना की।

राष्ट्रीय मतदाता दिवस की पूर्व संध्या पर मुख्य चुनाव आयुक्त, सुशील चन्द्रा का संदेश।

4. गुरु रामदास जी के लिखे गए 31 अष्टपदी और 8 वारां को सिखों के पवित्र ग्रंथ 'गुरु ग्रंथ साहिब' में संकलित किया गया।दुख भंजनी बेरी के पास बने इसी स्थल पर बैठकर श्री गुरु रामदास जी दरबार साहिब का काम देखते थे और जाप भी करते थे।सुंदर लाइटों से सजा रामगढ़िया बूंगा। शाम को दरबार साहिब में इको फ्रेंडली आतिशबाजी होगी। headtopics.com

बाबा दीप सिंह का शहीदी स्थल, जहां उन्होंने अपना शीश गुरुओं को समर्पित करके अपने प्राण दिए थे।फूलों की सेवा में व्यस्त संगत। यहां फूलों के 5 ट्रक भरकर आए थे।दुख भंजनी बेरी के समीप नतमस्तक होता श्रद्धालु।बाबा बुढ़ा बेर को भी फूलों से सजाया गया है।फूलों से सजा श्री अकाल तख्त साहिब। यहां कई तरह के फूलों का उपयोग सजावट के लिए किया गया है।

गुरु घर का मुख्य द्वार और अंदर जाने के लिए लंबी कतारें लगी हैं। यहां देश-विदेश से श्रद्धालु पहुंचे हैं।

और पढो: Dainik Bhaskar »
IRCTC की वेबसाइट कई घंटे रही ठप, यूजर्स ने Twitter पर जाहिर की नाराजगी Photo: दिशा पाटनी ने समुद्र किनारे से शेयर की अपनी तस्वीर, सूरज की रोशनी में लगीं बला की खूबसूरत बड़ी कार्रवाई: चीन ने ताइवान रक्षा क्षेत्र में 39 जंगी विमान भेज बढ़ाया तनाव, ताइवान ने भी जेट भेजकर किया प्रतिकार PM Modi News : विधानसभा चुनावों के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज भाजपा कार्यकर्ताओं से करेंगे संवाद मुंबईः इंद्राणी मुखर्जी ने कोर्ट में किया बेटी शीना के जिंदा होने का दावा, CBI को सौंपा गया जिम्मा, 4 फरवरी से पहले देनी होगी रिपोर्ट Bigg Boss 15: शो में आए आरजे ने करण कुंद्रा-तेजस्वी प्रकाश के साथ खेला रोमांटिक गेम, हर सही जवाब पर एक्टर मिली ‘किस’

इंडिया गेट से 'जय हिंद'... देखें बोस की मूर्ति पर सियासत का जोर!

आज बात होगी देश के पराक्रम की, उस महान क्रांतिकारी नेता की, जिनसे अंग्रेज सबसे ज्यादा डरते थे. आज उसी योद्धा की 125 वीं जयंती है. नेताजी सुभाष चंद्र की जन्म जंयती पर देश श्रद्धांजलि दे रहा है. इस मौके पर थोड़ी देर में इंडिया गेट पर पीएम मोदी नेताजी के होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण करने जा रहे हैं. इसी होलोग्राम प्रतिमा की जगह बाद में ग्रेनाइट से बनी भव्य प्रतिमा स्थापित की जाएगी. बता दें कि पहले 24 जनवरी से गणतंत्र दिवस समारोह की शुरुआत होती थी. लेकिन नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्मदिन को गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल करने के लिए पीएम मोदी ने ये फैसला लिया. हालांकि ऐसे मौके पर भी देश की सियासी पार्टियों की सियासत कम नहीं हुई है. आज बात सियासत पर तो होगी ही लेकिन उससे एक कदम आगे हम इतिहास के उन पन्नों को भी पलटेंगे और जानेंगे कि आखिर सुभाषचंद्र बोस के इतिहास में क्या मायने हैं. और पढो >>

उत्तराखंड के बाद बंगाल से सिक्किम तक बारिश से तबाही, दार्जिलिंग में लैंडस्लाइडबंगाल के जलपाईगुड़ी और दार्जिलिंग के पड़ाही इलाकों पर पिछले 45 घंटे से लगातार हो रही बारिश के चलते कई जगहों पर लैंडस्लाइड की घटनाएं सामने आई हैं. महानदी में एनएच 55 पर भूस्खलन हुआ है. सुकना तक सड़क जाम हो गई है. कुरस्योंग में लैंडस्लाइड के चलते एक घर को भी नुकसान पहुंचा है. बताया जा रहा है कि घटना के वक्त घर पर कोई मौजूद नहीं था.

भारत से मैच से पहले अपनों के ही निशाने पर आई पाकिस्तानी टीम - BBC News हिंदीटी-20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के आग़ाज़ से वहाँ के प्रशंसक काफ़ी नाराज़ हैं. लोग जमकर अपनी ही टीम पर तंज़ कस रहे हैं. 2014 में जितना सामान 100 रुपये में मिलता था उतने ही सामान के 2021 में 200 रुपये ख़र्च करने पड़ते हैं. Pakistan मे सारे पोंके है 😁 westindies ke sath jeeta tha pakistan

ओवैसी के साथ नजर आने के बाद अब ओपी राजभर ने अखिलेश यादव से मिलाया हाथबुधवार को सपा प्रमुख अखिलेश यादव से सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के मुखिया ओपी राजभर ने मुलाकात की। जिसके बाद दोनों ने यूपी चुनाव को साथ में लड़ने की घोषणा कर दी है।

फ़र्रूख़ाबाद में बौद्ध तीर्थ क्षेत्र के मंदिर से झंडा उतारने पर विवाद, तोड़फोड़ के बाद तनावउत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले का मामला. बुधवार दोपहर धम्म यात्रा के दौरान बौद्ध अनुयायियों में शामिल कुछ अराजक तत्व संकिसा बौद्ध तीर्थ क्षेत्र में विवादित टीले पर स्थित बिसारी देवी मंदिर पर चढ़े और वहां लगा भगवा झंडा नीचे फेंककर उस पर पंचशील ध्वज लगा दिया. पीएम चादर चढ़ाता है इसके दंगाई भक्त दुसरे धर्मों के धार्मिक स्थल पर दंगा, तोड़ फोड़ करते फिरते हैं। इसका चादर चढ़ाना जरूरी नहीं है इसका अपनें अंड भक्तों को रोकना ज्यादा जरूरी है। 🏹🏹🏹 RedicalHindutva HateCrime hindutvafascism सब जानते हैं कि आज के विश्व के चौथे‌ सबसे बड़े बौद्ध धर्म को उसकी जन्म स्थली/कर्मस्थली से समाप्त करने वाले‌ धूर्त पोंगापाखंडी ही थे‌,जिन्होंने बौद्ध मठों पर कब्जा कर उनको मंदिरो‌ पर बदल‌ दिया? meghnad141120 RamdasAthawale Profdilipmandal. WamanCMeshram हमारी sencitivity high हो चुकी है।

अपनी पार्टी बनाएंगे, भाजपा के साथ सीटों के बंटवारे के लिए बातचीत को तैयार: अमरिंदर सिंहकांग्रेस नेता और पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने अमरिंदर सिंह के एक नई राजनीतिक पार्टी बनाने और भाजपा से साथ सीट बंटवारे को लेकर तैयार होने की बात पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि अगर कैप्टन भाजपा के साथ जाना चाहते हैं तो ऐसा कर सकते हैं. उन्हें ‘सर्वधर्म सम्भाव’ का प्रतीक माना जाता था. ऐसा लगता है कि उन्होंने अपने अंदर के ‘धर्मनिरपेक्ष अमरिंदर’ को मार दिया है. इनसे कहो G 23 के बूढों को भी अपने साथ ले लें। 80 साल की उम्र में भी संतोष नहीं। घटिया आदमी निकला ये राजा 70 साल तक कांग्रेस ने सब दिया। एक कुर्सी मांग ली तो राजा की तिवरी चढ़ गई अब समय अमरेन्द्र साहब सत नाम वाये गुरु जपने का है न की पार्टी बनाने का ।

IPL 2022 के ऑक्शन में शामिल होने के लिए मैनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक ने जताई दिलचस्पीबीसीसीआई को आईपीएल के अगले पांच साल के टेंडर में तकरीबन पांच अरब डॉलर की कमाई हो सकती है। वहीं आईपीएल 2022 के ऑक्शन में शामिल होने के लिए फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक ने भी दिलचस्पी जताई है।