Labor Laws, Strict Law, Small Enterprises, Organized Sector, Study, Icrıer, Ası, Contract System

Labor Laws, Strict Law

श्रम कानूनों में सुधार: क्या सभी बुराइयों के लिए सिर्फ कड़े कानून जिम्मेदार हैं?

पढ़िए श्रम कानूनों पर ये ख़ास विश्लेषण

22.7.2019

पढ़िए श्रम कानूनों पर ये ख़ास विश्लेषण

भारत में कड़े, जटिल और अलग-अलग उद्यमों पर लागू अलग-अलग श्रम कानूनों को तमाम समस्याओं का जिम्मेदार ठहराया जाता है. किसी यूनिट में कितने कर्मचारी हैं, इस आधार पर विभिन्न कानून लागू होते हैं. नए अध्ययन में सामने आया है कि कड़े और जटिल कानूनों की मौजूदगी में भी संगठित क्षेत्र और लघु उद्यमों में कॉन्ट्रैक्ट सिस्टम में बढ़ोत्तरी हुई है.

नए अध्ययन में सामने आया है कि कड़े और जटिल कानूनों की मौजूदगी में भी संगठित क्षेत्र और लघु उद्यमों में कॉन्ट्रैक्ट सिस्टम में बढ़ोत्तरी हुई है. भारत में कड़े, जटिल और अलग-अलग उद्यमों पर लागू अलग-अलग श्रम कानूनों को तमाम समस्याओं का जिम्मेदार ठहराया जाता है. किसी यूनिट में कितने कर्मचारी हैं, इस आधार पर विभिन्न कानून लागू होते हैं. बड़े पैमाने पर कॉन्ट्रैक्ट आधारित नौकरियां देना हो, कम वेतन हो, सामाजिक असुरक्षा हो, या फिर दूसरी समस्याओं की बात हो, इन सब के लिए कानूनों की जटिलता को दोष दिया जाता है. भारत में छोटे उद्यमों की अधिकता है, लेकिन छोटे उद्योग विकसित होकर मझौले उद्योगों में नहीं तब्दील हो पाते. जबकि ऐसा हो तो इससे रोजगार ज्यादा पैदा होगा. ऐसा न होने के लिए भी जटिल कानून का ही हवाला दिया जाता है. नये अध्ययनों में सामने आया है कि यह सच नहीं है यानी इन समस्याओं के लिए मौजूद जटिल कानूनों को दोष देना ठीक नहीं है. कॉन्ट्रैक्ट सिस्टम और श्रम कानून इंडियन काउंसिल फॉर रिसर्च ऑन इंटरनेशनल इकोनॉमिक रिलेशन (ICRIER) की प्रो. राधिका कपूर अपने हालिया अध्ययन में कहती हैं कि श्रम कानूनों की जटिलता की वजह से कॉन्ट्रैक्ट सिस्टम (ठेका प्रथा) बढ़ रहा है, ऐसा नहीं है. प्रो. कपूर ने एनुअल सर्वे ऑफ इंडस्ट्री (ASI) का 2000-01 से लेकर 2013-14 तक का आंकड़ा इस्तेमाल किया है. उनका कहना है कि श्रम कानून अब उतने जटिल नहीं रहे, तब भी कॉन्ट्रैक्ट वर्कर की संख्या तेजी से बढ़ी. इसके पक्ष में वे तर्क पेश करती हैं कि गुजरात, राजस्थान, हरियाणा और महाराष्ट्र ने हाल के वर्षों में अपने श्रम कानूनों में मालिकों की सहूलियत के लिहाज से सुधार किया है. इसके बाद इन राज्यों में कॉन्ट्रैक्ट वर्करों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ गई. दूसरा, श्रम प्रधान उद्योगों के बजाय पूंजी प्रधान उद्योगों में कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स की संख्या बढ़ी, जबकि जटिल कानूनों की वजह से ऐसा नहीं होना चाहिए था. तीसरा, पिछले दशक में कॉन्ट्रैक्ट पर नौकरियां देने के मामले काफी उछाल आया है, क्योंकि इस दौरान स्थायी नौकरियों में वेतन कॉन्ट्रैक्ट नौकरियों की तुलना में डेढ़ गुना ज्यादा रहा. वे कहती हैं कि मालिक ठेके पर नौकरियां इसलिए देता है, क्योंकि ठेका सिस्टम के जरिए स्थायी कामगारों पर दबाव बनाया जा सकता है. वे मोलभाव करने की हालत में नहीं रहते और उनकी तनख्वाहें कम रखी जाती हैं. संगठित क्षेत्र में मध्यम उद्योगों की कमी कहा जाता है कि संगठित क्षेत्र में मध्यम आकार के उद्योगों की कमी है. इसके लिए कठोर और जटिल कानून जिम्मेदार हैं. अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी के प्रो. आर नागराज का 2018 का अध्ययन इसकी असलियत का खुलासा करते हुए कहता है कि आधिकारिक रजिस्ट्रेशन में व्यापक गड़बड़ी और आंकड़ों में हेरफेर, अंडर-रिपोर्टिंग या गलत व्याख्या के कारण ऐसा है. प्रो. नागराज कहते हैं कि यह गलत पैमाइश का मामला है. वे कंपनियां जिनमें 10 या इससे ज्यादा कर्मी होते हैं या बिजली का इस्तेमाल करती हैं, वे फैक्ट्रीज एक्ट 1948 के तहत रजिस्टर होती हैं. आर्थिक सर्वे और एएसआई के आंकड़ों की तुलना करें तो 1981 में 10 या इससे ज्यादा कर्मचारियों वाली 52% फैक्ट्रियां रजिस्टर नहीं थीं. 1991 में यह आंकड़ा 57% और 2013-14 में 66% हो गया. लेकिन ये कंपनियां कुल उत्पादन में मात्र 1 प्रतिशत का योगदान देती हैं. ऐसा लेबर रेग्युलेशन और उनके लागू करने में भ्रष्टाचार के कारण है. नियमों के घटिया क्रियान्वयन का एक और उदाहरण देते हुए वे कहते हैं कि जिन फैक्ट्रियों में 100 या इससे ज्यादा कर्मी हैं, इंडस्ट्रियल डिस्प्यूट एक्ट1947 के तहत छंटनी या कंपनी बंद करने के लिए सरकार की पूर्व अनुमति चाहिए होती है. 1997-2003 में संगठित क्षेत्र के हर 6 में से 1 वर्कर ने अपनी नौकरी गवां दी और यह नियम सिर्फ कागजों पर बना रहा. इसके बाद 2008-09 में आई मंदी के दौरान भी संगठित क्षेत्र में भारी संख्या में लोगों ने नौ​करियां गंवाई. वे कहते हैं कि अगर श्रम कानून वास्तव में बड़े जटिल हैं तो संगठित निर्माण क्षेत्र में उत्पादन बढ़ने के साथ लोगों की वास्तविक आय में बढ़ोत्तरी होनी चाहिए थी. लेकिन 1970 के बाद से ही आंकड़ें तो कुछ और कहानी कहते हैं. जब निर्माण क्षेत्र में श्रम उत्पादकता करीब 6% की दर से बढ़ी, वास्तविक आय में 1.2% की कमी आ गई. उनके मुताबिक, औपचारिक नियम कानून और श्रमिकों की वास्तविक समस्याओं का आपस में कोई संबंध नहीं है, क्योंकि कानूनों में तमाम खामियां रखी गई हैं जिससे फैक्ट्री मालिकों की राह आसान हो सके. इसे इस उदाहरण से समझा जा सकता है कि अलग-अलग कानूनों में वर्कर की परिभाषा ही अलग-अलग है. आईआईटी दिल्ली के प्रो. जयन जोश थॉमस भी अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी के 2019 के अध्ययन में ऐसे ही सवाल उठाते हैं. वे लिखते हैं कि मालिकों के पास श्रम कानूनों को ठेंगा दिखाने के कई रास्ते हैं, जबकि सरकारें उनका क्रियान्वयन कराने की इच्छुक नहीं दिखती. वे बेंगलुरु में गारमेंट फैक्ट्र्रीज में काम करने वाली महिलाओं पर 2018 में हुए अध्ययन का हवाला देते हुए कहते हैं कि मालिक ग्रेच्यूटी न देने के लिए तमाम तरह के बहाने खोज लेते हैं. मालिक श्रमिकों को अपना पुराना कॉन्ट्रैक्ट रद्द करके नए कॉन्ट्रैक्ट पर ज्वॉइन करने को मजबूर करते हैं ताकि कानूनन उनकी कोई जवाबदेही न बने. कानूनी सुरक्षा में ढील इन्हीं कारणों के चलते ट्रेड यूनियन और अर्थशास्त्री सरकार की मंशा पर गंभीर चिंता जता रहे हैं. सरकार नए कोड में इंडस्ट्रियल डिसप्यूट एक्ट 1947, फैक्ट्रीज एक्ट 1948 और कॉन्ट्रैक्ट लेबर (रेग्यूलेशन एंड एबो​लशन) एक्ट 1970 के लागू होने की सीमाओं में ढील दे रही है. उनकी चिंता है कि इसके चलते पहले से ज्यादा कामगार असुरक्षा का सामना करेंगे. इससे उनके हितों पर हमला करना मालिकों के लिए आसान हो जाएगा. ट्रेड यूनियन CITU के नेता तपन सेन कहते हैं कि फैक्ट्रीज एक्ट में ढील देने से संगठित क्षेत्र के 70% से ज्यादा कामगार कानूनी सुरक्षा के दायरे से बाहर चले जाएंगे. जमशेदपुर स्थित XLRI के जेवियर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट के प्रो. केआर श्याम सुंदर कहते हैं कि कॉन्ट्रैक्ट लेबर एक्ट 1970 में बदलाव के चलते भारी संख्या में कामगार कानूनी सुरक्षा के दायरे से बाहर हो जाएंगे. कामगारों का वेतन, सुरक्षा, स्थायित्व आदि खतरे में पड़ेगा, ठेका प्रथा को और बढ़ावा मिलेगा. अब देखना यह है कि तमाम श्रम कानूनों की जगह चार लेबर कोड लाने जा रही सरकार इन सब चुनौतियों से कैसे निपटेगी? और पढो: आज तक

दिल्ली हिंसा में मारे गए फुरकान के भाई ने कहा- वो तो बच्चों के लिए खाना लेने गया था



बिहार विधानसभा में CAA-NPR-NRC को लेकर हंगामा, तेजस्वी यादव ने नागरिकता कानून को बताया 'काला कानून'

Delhi Violence: BJP सांसद गौतम गंभीर बोले- कपिल मिश्रा हो या कोई और, जो भड़काए वह नपे



दिल्ली हिंसा पर अब आया दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी का बयान, कहा- लोगों को भड़काने वालों की हो पहचान

आज दिल्ली लुभा नहीं रही, डरा रही है - जाफराबाद-मौजपुर की आंखों देखी कहानी, रिपोर्टर की ज़ुबानी



दिल्ली हिंसा: कपिल मिश्रा के विवादित बयान पर गौतम गंभीर ने की तीखी टिप्पणी, दिया ये बयान

दिल्ली हिंसा पर ओवैसी का ट्वीट- अमित शाह, आपकी पुलिस लोगों को बेवजह नीचा दिखा रही है



ठीकेदार और बड़े कर्मचारीयों का मिलीभगत भी जिम्मेदार है। कड़े कानून के साथ इन पर ईमानदार अधिकारियों के द्वारा निरंतर छापे की जरूरत है...

यूपी में आकाशीय बिजली का कहर, 24 लोगों की मौत, दो दर्जन से ज्यादा घायल– News18 हिंदीउत्तर प्रदेश में रविवार को आकाशीय बिजली का कहर देखने को मिला. अलग-अलग जिलों में आकाशीय बिजली गिरने से 24 लोगों की मौत हो गई. जबकि दो दर्जन से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. घायलों को निकट के जिला अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. आकाशीय बिजली से मवेशियों की भी मौत हुई है. Bahut dukhad khabar परन्तु कलुआ आशुतोष पगलेट बच गया, क्योंकि वो काला है । 😂😂😂 yogi ji ishtapha do itni zor se bizli girna aye sab bjp aur indradev me sath ganth he

RTI कानूनों में बदलाव करना चाहती है मोदी सरकार, पूर्व इन्फॉर्मेशन कमिश्नर ने खोला मोर्चालोकसभा में द राइट टु इन्फॉर्मेशन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पेश किया गया। यह बिल इन्फॉर्मेशन कमिश्नरों की सैलरी और कार्यकाल तय करने का अधिकार केंद्र सरकार को देता है। लूटने की छूट चाहिए All institutions should come under govt 😝😝😝😝 ModiWithTraders zee ThisDayThatYear Karnataka StepDownCM KarnatakaPoliticalCrisis RTI ये संघी सरकार तो बदलाव क्या इसे खत्म ही करना चाहती है

कमी पानी की नहीं, उसे सहेजने की तरकीब की है : नदियां अब साल भर नहीं बहतींदेश के अलग-अलग भौगोलिक क्षेत्र में औसत बारिश हर साल जितनी होनी चाहिए, उतनी ही हो रही है। लेकिन... Rain India Monsoon2019

शादी में खाना किया बर्बाद तो भरना पड़ सकता है बड़ा जुर्माना, कड़े नियम की तैयारी में सरकारनई दिल्ली। शादी, होटल और रेस्तरां खाने की बर्बादी को लेकर सरकार सख्त नियम बनाने की तैयारी कर रही है। खबरों के मुताबिक खाना बर्बाद करने वाले होटल, रेस्तरां और शादीघरों पर अब जल्द 5 लाख रुपए तक का जुर्माना लगेगा।

बंगाल: ममता की महारैली से पहले बढ़ी तनातनी, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष पर मुकदमासीएम ममता बनर्जी ने भाजपा पर शहीद दिवस रैली को असफल करने के प्रयास करने का आरोप लगाया है। पार्टी ने आशंका जताई है कि भाजपा टीएमसी कार्यकर्ताओं को रैली में जाने से रोक सकती है।\n

झारखंड में तंत्र-मंत्र के शक में दंपती समेत चार बुजुर्गों की पीट-पीटकर हत्याकरीब 12 हमलावर गमछे से चेहरा ढंककर शनिवार रात सिसई के पिसकारी गांव पहुंचे थे पुलिस को डायन प्रथा और तंत्र-मंत्र के कारण हत्या का शक, मृतकों की उम्र 60 से 62 साल के बीच चारों लोगों को गांव के बीचोंबीच चौराहे पर पीटा गया, किसी गांववाले ने विरोध नहीं किया | wearing, mask, culprit, Witch, accused, killing, four, people, Gumla, News जिन्हें नाज है हिन्द पर वो कहाँ हैं....?



डोनाल्ड ट्रंप के लिए आयोजित डिनर का कांग्रेस ने किया बायकॉट, मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे

सालभर पुरानी ड्रेस पहनकर भारत आईं इवांका, जानें कितनी है कीमत - lifestyle AajTak

ट्रंप भारत के लिए उड़ान भरने से पहले क्या बोले

ट्रंप के भारत दौरे के दौरान हिंसा फैलाने की रची गई थी साजिश, खुफिया सूत्रों ने किया बड़ा खुलासा

कपिल मिश्रा का अल्टीमेटम- 3 दिन में सड़कें खाली हों, वरना हम किसी की नहीं सुनेंगे

मोदी के रहते भारत-पाक में सिरीज़ नहींः आफ़रीदी

कपिल मिश्रा का पुलिस को अल्टीमेटम, तीन दिन में सड़क खाली कराएं वरना हम आपकी भी नहीं सुनेंगे

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

22 जुलाई 2019, सोमवार समाचार

पिछली खबर

एस्सार-आर्सेलर मित्तल केस में बैंकों को राहत, सुप्रीम कोर्ट ने यथास्थ‍िति बनाए रखने को कहा

अगली खबर

बीजेपी विधायक का नाहिद हसन को जवाब- हमने बहिष्कार किया तो भूखे मर जाओगे
दिल्ली हिंसा में मारे गए फुरकान के भाई ने कहा- वो तो बच्चों के लिए खाना लेने गया था बिहार विधानसभा में CAA-NPR-NRC को लेकर हंगामा, तेजस्वी यादव ने नागरिकता कानून को बताया 'काला कानून' Delhi Violence: BJP सांसद गौतम गंभीर बोले- कपिल मिश्रा हो या कोई और, जो भड़काए वह नपे दिल्ली हिंसा पर अब आया दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी का बयान, कहा- लोगों को भड़काने वालों की हो पहचान आज दिल्ली लुभा नहीं रही, डरा रही है - जाफराबाद-मौजपुर की आंखों देखी कहानी, रिपोर्टर की ज़ुबानी दिल्ली हिंसा: कपिल मिश्रा के विवादित बयान पर गौतम गंभीर ने की तीखी टिप्पणी, दिया ये बयान दिल्ली हिंसा पर ओवैसी का ट्वीट- अमित शाह, आपकी पुलिस लोगों को बेवजह नीचा दिखा रही है दिल्ली: 7 लोगों की हुई मौत, CAA पर हिंसा की सबसे DISTURBING फोटो - trending clicks AajTak दिल्ली हिंसा पर BJP सांसद गौतम गंभीर की दो टूक: 'कप‍िल म‍िश्रा हो या कोई और, भड़काऊ भाषण द‍िया तो हो कड़ी कार्रवाई' SC के 6 जज स्वाइन फ्लू की चपेट में, जस्टिस चंद्रचूड़ ने दी जानकारी दिल्ली हिंसा पर बोले CM केजरीवाल- दंगाइयों के खिलाफ एक्शन नहीं ले पाते पुलिसकर्मी, ऊपर से आदेश का करते रह जाते हैं इंतज़ार 'हैप्पीनेस क्लास' देखकर बोलीं मेलानिया ट्रंप- बच्चों को पढ़ाने का ये तरीका बेहतरीन
डोनाल्ड ट्रंप के लिए आयोजित डिनर का कांग्रेस ने किया बायकॉट, मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे सालभर पुरानी ड्रेस पहनकर भारत आईं इवांका, जानें कितनी है कीमत - lifestyle AajTak ट्रंप भारत के लिए उड़ान भरने से पहले क्या बोले ट्रंप के भारत दौरे के दौरान हिंसा फैलाने की रची गई थी साजिश, खुफिया सूत्रों ने किया बड़ा खुलासा कपिल मिश्रा का अल्टीमेटम- 3 दिन में सड़कें खाली हों, वरना हम किसी की नहीं सुनेंगे मोदी के रहते भारत-पाक में सिरीज़ नहींः आफ़रीदी कपिल मिश्रा का पुलिस को अल्टीमेटम, तीन दिन में सड़क खाली कराएं वरना हम आपकी भी नहीं सुनेंगे CAA हिंसा पर बोले मनीष सिसोदिया- तीन दशक से दिल्ली में हूं, इतना डर कभी नहीं लगा गुजरात के खंभात में सांप्रदायिक हिंसा, 13 लोग घायल, घर और दुकानें जलाई गईं मोदी सरकार के उलट नीतीश कुमार का बड़ा बयान- बिहार में लागू नहीं होगा NRC, CAA पर साधी चुप्पी- NPR को लेकर... CAA Protest Live Updates: Violence In Jafrabad, Maujpur, Seelampur, Chand Bagh & Shaheen Bagh - दिल्लीः नागरिकता कानून के खिलाफ आज हुई हिंसा में एक आम नागरिक के भी मारे जाने खबर। ट्रंप के भारत आने से पहले दिल्ली को 'बंधक' बनाने की साजिश, पत्थरबाजी संयोग या प्रयोग?