शाहीन बाग: प्रदर्शनकारी जिद छोड़ने को तैयार नहीं, तीसरे दिन वार्ताकार पहुंचे लेकिन नतीजा सिफर

Shaheenbagh, शाहीन बाग, Shaheen Bagh, Supreme Court, Sanjay Hegde, Sadhna Ramchandran

शाहीन बाग: प्रदर्शनकारी जिद छोड़ने को तैयार नहीं, तीसरे दिन वार्ताकार पहुंचे लेकिन नतीजा सिफर #ShaheenBagh

Shaheenbagh, शाहीन बाग

2/21/2020

शाहीन बाग : प्रदर्शनकारी जिद छोड़ने को तैयार नहीं, तीसरे दिन वार्ताकार पहुंचे लेकिन नतीजा सिफर ShaheenBagh

शाहीन बाग से बड़ी खबर ये भी है कि बातचीत करने या करने को लेकर शाहीन बांग में 'बंटवारा' हो गया है. यानी प्रदर्शनकारियों में बातचीत को लेकर मतभेद हैं.

कुछ प्रदर्शनकारी वार्ताकारों से अलग बात करने के पक्ष में हैं तो कुछ वार्ताकारों से सबके सामने बातचीत करने पर अड़े हैं. शाहीन बाग में आज फरीदाबाद और जैतपुर जाने वाला रास्ता खोला गया. कालिंदी कुंज से थोड़ी देर के लिए रास्ता खोला गया लेकिन फिर रास्ते को थोड़ी देर बाद बंद कर दिया गया. लगातार तीसरे दिन संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन शाहीन बाग पहुंचे और शहीन बाग में प्रदर्शनकारी महिलाओं से बात की. वार्ताकारों ने अपनी बात बताई और प्रदर्शनकारियों की भी बात सुनी. प्रदर्शनाकरियो ने कहा,"अगर हम दूसरा रास्ता खोल देंगे और कल के लिए प्रदर्शन में कुछ हुआ तो कौन जिम्मेदार होगा." प्रदर्शनकारियों ने कहा कि दूसरा रास्ता पुलिस ने बंद किया है. वार्ताकारों ने पुलिस को भी बुलाया. वार्ताकारों ने फिर दोहराया कि हम अपने हक के लिए, दूसरे के हक का अतिक्रमण नहीं कर सकते. वार्ताकारों ने पुलिस से पूछा कि क्या आप दूसरा रस्ता खुलवा सकते हैं और सुरक्षा दे सकते हैं? पुलिस ने जवाब में कहा कि दूसरी तरफ का रोड खोलने पर पूरी सुरक्षा देने के लिए तैयार हैं. प्रदर्शनकारियों ने कहा कि अगर पुलिस की सुरक्षा पर कैसे भरोसा करें क्योंकि पुलिस की सुरक्षा के बावजूद बेरिगेट्स फांदकर यहां गोली चलाई गई है. Tags: और पढो: Zee News Hindi

कोरोना वायरस: निज़ामुद्दीन मरकज़ के मरीज़ों की बाढ़ से कैसे निपटेगी दिल्ली



तबलीगी जमात का मौलाना अरशद मदनी ने किया बचाव, कहा- मरकज ने कोई गलती नहीं की

अहमदनगर के बाद अब ठाणे की दो मस्जिदों से मिले 21 विदेशी नागरिक, क्वारनटीन में भेजा गया



PPF जैसी स्कीमों पर ब्याज़ दरें घटीं तो क्या करना चाहिए?

कोरोना वायरसः ममता बनर्जी ने PM मोदी को लिखा पत्र, मांगा 25000 करोड़ का पैकेज



सरकारी अस्पताल में चुपके से बांझ बना दी गई महिला का दर्द

डीएम के बाद नोएडा के CMO अनुराग भार्गव पर भी गिरी गाज, हुआ तबादला



क्याँ मनाने की जरूत है Why giving so much imp to all these rascals who are against Hindus? Why always saying this is freedom of protest under constitution? It shows how we are cheating with our constitution for some pocket of people. अब इन सूवरो का टाइम आगया है कटने का In jihadio ka piswada lal karo अरे भाई मुफ़्त की बिरयानी बंद हो जाएगी लोगो का रोजगार बंद हो जाएगा मत खत्म करो शाहीन बाग का आंदोलन बापू के हथियार को लोगो से मत छीनो

जब तक पिछवाड़े पर पड़ेगी नहीं साहिन भाग उठेगी नही। जब दिमाग से पैदल हैं तो क्यों समझेंगे ऊपर से पैसा मिल रहा है । इतना फालतू कोई नही अब एक मौका हमें भी मिलना चाहिए । अब तो केवल एक ही रास्ता है कि सुप्रीम कोर्ट में सीएए पर दाखिल याचिकाओं पर तुरंत सुनवाई करते हुए दुध का दुध और पानी का पानी कर दिया जाएं। Kya prayash kr rahe Ho. Force ko order Karo. Av bhag khade honge. Sale desh drohi.

Sad

क्या तीस्ता सीतलवाड़ शाहीन बाग़ में महिलाओं को 'सिखा-पढ़ा' रही थीं?बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय और कुछ मीडिया चैनलों ने तीस्ता पर लगाया आरोप. Nyc

Sarso ka tel lekar supreme kotha or uske dalle shahin bagh walo ki malish karte rahe. Kabi to wo inke muh me mootenge hi nirash hone ki jarurat nahi hai En ko police jab tak lathi nhi chalaygi tb tak drama chalega WHAT A PATHETIC SITUATION, AND APPEASEMENT, EVEN INDIAN SUPREME COURT IS BUSY IN APPEASEMENT, COULD NEVR IMAGINE SUPREME COURT IS SO HELPLESS WHILE DELAING WITH MUSLIMS , NOW SUPREME COURT WILL ASK THESE TRAITORSS WE WILL DO WHAT EVER YOU WANT, DONT WORRY KEEP BLOCKING ROADS

इनसे बार्ता नहीं इनके ऊपर कानूनी कार्यवाही होनी चाहिये । Shaheen baag me adhikansh mahilayen hai or wo mahilayen jinhe NRC kya hai ye panahi samajhna chahte nahi.bat sidhi si hai, job free ka kavab khane ko, free me midia me ane ko Mile to kyu pichhe rahe. भैंस के आगे बीन बजाओ बैठल भैंस पगुराय Ye Sirf nautaki ho rahi hai Shaheen Bag me jab saf saf bata diya gaya hai protest tabhi band hoga jab CAA wapas hoga Toh sidhe sidhe police karwahi Kyu nahi karti.. Ye protest nahi blackmailing hai.. Jageh jageh Shaheen Bag banne se pehele Esko hatana hoga..

शाहीन बाग वालों का दिमाग खराब न करें।इससे अराजक मानसिकता के लोग और अराजक हो जायेंगे।इन्हें बलपूर्वक खदेड़ना चाहिए।इनके कारण देश में देखा देखी में क ई शाहीन बाग बन गये हैं।ये सारे षडयंत्रकारी हैं।कोई भी भटका हुआ नहीं है ये भटकाने वाले हैं। निर्भया कांड में जी न्यूज को सतत् नमन् और जय हिन्द भाई सुधीर चौधरी जी को बहुत बहुत धन्यवाद ..सुधीर चौधरी को सलामेहिन्द् जय हिन्द जय भारत ।।

bhay bin hoie na preeti

शाहीन बाग: हंगामे पर भड़कीं वार्ताकार साधना रामचंद्रन, प्रदर्शनकारियों को दी सख्त चेतावनी शाहीन बाग में दूसरे दिन गुरुवार को वार्ताकार सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकार वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन प्रदर्शकारियों से बातचीत करने पहुंचे लेकिन कोई हल नहीं निकला. वैसे भी भैस के आगे चाहे जितनी बीन बजाओ 😂 उनको तो केवल पगुरना है सही Lath maro

ये लोकतंत्र का मजाक है... बिना लठ के ये मानने वाले नही है, लातो के भूत बातो से नही मानेंगे जब तक इन्हें पैसा मिलता रहेगा तब तक ये यही रहेंगे हमे लगता है इन्हें इसी हाल पर छोड़ दिया जाय होनी निश्चित होती है समझ पहले ही नष्ट हो जाती।जानि के जो नर संघर्ष करहिं।कह उमा वे कस नहीं मरही।। पहले तो न्युज चेनल वालो को मारना चाहिए जो गलत हे उसे बढ चढ कर क्यो दिखा रहे हे यदि मिडिया कवरेज नही दे दो सब के सब घरो मे चले जायेगे ,भीड का नेता सामने लाओ ,

😣😠 लाठीचार्ज S.c. की ... रही है सीधे सीधे शब्दों में 🤐 इन लोगों पे लाठी चार्ज करने में गाँड फटती है क्या क़ानून की। ये लोग क़ानून और संबिधान से बढ़कर है क्या।

दंगल: शाहीन बाग पर बीच का रास्ता क्या है?दिल्ली के शाहीन बाग में आज दूसरे दिन सुप्रीम कोर्ट के नियुक्त वार्ताकार संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन पहुंचे. आज भी बातचीत में मीडिया की मौजूदगी नहीं है लेकिन संवाद शुरू करने से पहले मीडिया के कैमरों के सामने दोनों वार्ताकारों ने कल की बात फिर दोहरायी कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि आपका हक धरना देने का है तो दूसरे का हक रास्ते के इस्तेमाल का भी है. विरोध के अधिकार का मतलब लंबे समय तक सड़क छेकने का अधिकार नहीं है, इस सीधी सी बात पर शाहीन बाग का पूरा मामला टिका हुआ है, इसीलिए सरकार के मंत्री भी कह रहे हैं कि दोष शाहीन बाग का नहीं, वहां बैठे लोगों को भड़काने वालों का है. आज दंगल में पूछेंगे शाहीन बाग के लिए क्या है बीच का रास्ता? sardanarohit यह दाढ़ी वाला एक नंबर का चुतिय है , कसम से 😅😝 sardanarohit sardanarohit मारो सालों को ...

ये बातो के भूत नही है शाहीन बाग के गद्दारो को कोर्ट-कचहरी से नही बल्कि पुलिस प्रशासन से निपटने की जरूरत है क्योंकि कुत्तो को घी और सूअरो को इज्जत हजम कहा होती है धन्यवाद KUTTE KI PUNCHH KO 12 SAL PIPE ME DAL KAR RAKHO FIRR BHI TEDHA HI RAHEGA Muft m sab mil raha hai fir kyon hatenge .neeyat saaf nahi hai .

इस देश में जबतक हिन्दू समाप्त नहीं हो जायेगा तबतक इनकी माँग ना रुकेगी और ना माँग पूरी हो पायेगी और ना ही इनको कोई सन्तुष्ट कर पायेगा इस्लाम के मुसलमानो की यही सच्चाई है ये जिहाद आतंकवाद देश द्रोह गद्दारी बलात्कारी डकैती से देश वासियों को खत्म कर देते है मुस्लिम राष्ट्र बन जाता है सी ए ए केवल विदेशी नागरिकों को भारत की नागरिकता लेने के लिए दस्तावेज बताना है जो 31 दिसम्बर14 के पहले भारत में आये है ,भारत के नागरिकों के लिए नही है । भारत के नागरिकों को भारत के संविधान में मौलिक अधिकार दिए विदेशी को नही इसलिए भारत के नागरिक को सी ए ए से गलत धरना को निकलना है

Dalal media sharam kro sharam nhi doob maro किसी ने सच कहा जव बालों में जुएं पढ़ तो मारने को‌ दवा‌ डालते हैं बाल नहीं काटते यही इलाज शाहीन बाग बालों का‌ करना चाहिए।‌ लातों के भूत बातों से नहीं मानते । If already case is in court than why they are fooling people that they are sitting on streets to save constitution. This people do not believe in court or doing drama that they wants to save constitution.

शाहीन बाग: प्रदर्शनकारियों से बातचीत कर रहे हैं वार्ताकार, सड़क खुलवाने की कोशिश जारीनागरिकता कानून के खिलाफ 15 दिसंबर से सड़क जाम कर चल रहे प्रदर्शन का हल निकालने के लिए सुप्रीम कोर्ट की ओर से गठित मध्यस्थता पढ़े लिखे ग्वार को समझना किसी के बस की बात नही लठ्ठ दो सालों को एक मिनिट नही लग्गेगा शाहीनबाग खाली कराने में । KAL KOE BHI ROAD JAM KARKY BATH JAYGA SUPREEM COURT KAB TAK DALYGASISON BAJTA RAHYGA अब जो न माने तो रामचरित मानस का यह कथन नए रूप में, विनय न मानत शाहीन के प्रदर्शनकारी गए तीन महीने बीत। बोले सुप्रीम कोर्ट के जज पुलिस को लेके लाठी पीट।

लातोंके भूत बातों से नही मानते। ऐसा कौन सी हवा है जिसे शाहीन बाग में बैठे लोगों को मिल रही है आम जनता काम करके भी भर पेट नहीं खा पता और शाहीन बाग में बैठे लोगों के घर के चूल्हे कैसे जल रहे हैं। किसी ने सोचा है ।बैठ के घर चलाने के लिए सहिन्वाग ऐक प्रायोजित कार्यक्रम है ।इसके हैंडलर पर्दे के पीछे है ।इसमे सम्लित महिलायें तो मोहरा है ।जब भी इनसे कोई बात करना चाहता है तुरंत 10 पुरुस उस आदमी के आस पास चलने लगते हैं तथा महिलाओं को खुद किसी सबाल का जबाब नहीं देने देते।

असल में ये वार्ताकार है ही नहीं इनके हाव भाव बात करने के तरीके जो मीडिया में दिखाए जा रहे है उनको देख कर तो ये लगता है कि ये वहां सिर्फ लफाजी करने गए है , TejpalRawat14 It is humble request all brothers and sisters please leave the street and play the intelligence ,be Abdul kalamji not daewood Ibrahim ,let,s all 125 crores citizens come together and make new India not old India

ये तथाकथित धर्मनिरपेक्ष न्याय व्यवस्था के मुंह पर करारा तमाचा है अब सोचना न्यायाधीशों को है कि हिन्दू समाज के परंपराओं पर न्याय देना और मनवाना कितना आसान है लेकिन यही जब दूसरे पक्ष से करवाना हो तो They are not try..I think I fell they are supporter of Shahin bag जो आजतक ये मानने को तैयार नही की पृथ्वी गोल है चपटी नही ,ये सुप्रीम कोर्ट के लंगूर इन्हें समझायेंगे।

Vao jitna degi utna hi uchalega so direct jcb lagao aur phek do मुस्लिम कोम सुप्रीम कोर्ट पर थूकने का काम के रही हे

विरोध जताने शाहीन बाग पहुंचा था गोरखपुर का शख्स, दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया शाहीन बाग में जारी प्रदर्शन के खिलाफ एक शख्स गुरुवार को विरोध जताने पहुंचा. नारेबाजी करने पर दिल्ली पुलिस ने शख्स को हिरासत में ले लिया है. AajGothi Difference of women empowerment Women of HunarHaat vs Women of ShaheenBagh LittiChokha biryani AajGothi Sab saaley bangladeshi afgani pakistani hai AajGothi bilkul sahi kiya police ne ...shaheen baag jaane ke liye visa lagta hai!

पुलिस वालो की लाठी खा के ही उठेंगे । लातो के भुत बातों से नहीं मानते हैं । अगर कोई सकारात्मक परिणाम चाहिए तो वार्ताकार का निष्पक्ष होना अनिवार्य है। ये लोग तो वहाँ पे उनके हिमायती बन के गए हैं लातों के भूत बातों से नहीं सुधरेंगे घुसपैठिए पेपर बना लो धरने पर बैठने से बचोगे नहीं या तो चुप चाप से बोरिया बिस्तर बाँध कर निकल लो ये देश भक्त लोगों की सरकार है बचोगे नहीं

SC एक ऑर्डर निकाल दे, 24 घंटे का समय देकर, उसके बाद दिल्ली पुलिस और RAF सब देख लेंगे! इनके पुरखे भी रोड छोड़ेंगे! वो काग़ज़ दिखाकर! मार भगाओ सुवरो को इसके ठीक सामने हनुमान चालीसा का टेंट लगाओ ओर पाठ शुरू कर दिया जाए, इनके रास्ते जे चारो ओर खुद व खुद अक्ल ठिकाने आ जायेगी।। अब वहां कालोनी बसेगी। एक कहावत है लातों के भूत बातों से नहीं मानते !! ये बात सरकार को समझ में क्यूँ नहीं आती !

ये वार्ताकार की नही सुप्रीम कोर्ट की हार है जो इन मज़हबी उन्मादियों से बात करने पर तुला हुआ है

शाहीन बाग फिर पहुंचे मध्यस्थ, कहा- तकलीफें दूर करने के लिए मिलकर रास्ता निकालेंदिल्ली के शाहीन बाग में बंद रास्ता खुलवाने के लिए आज फिर मध्यस्थ साधना रामचंद्रन और संजय हेगड़े पहुंचे. उन्होंने आंदोलनकारियों से बातचीत की. साधना रामचंद्रन ने कहा कि आपने बुलाया इसलिए हम वापस आए कल दादियों का हमें आशीर्वाद मिला. हम सब हिंदुस्तान के नागरिक हैं. हमें समझकर चलना होगा. आपको समझना होगा कि सीएए का मुद्दा सुप्रीम कोर्ट के सामने आएगा. उन्होंने बंद सड़क के मुद्दे पर बातचीत शुरू की. संजय हेगड़े ने कहा कि किसी को तकलीफ़ हो रही है तो सब मिल जुलकर रास्ता निकालें. कुछ ही देर बाद साधाना रामचंद्रन ने मीडिया की मौजूदगी पर आपत्ति जताई. इसके बाद मीडिया के प्रतिनिधि धरनास्थल से बाहर चले गए. मेरी बात मानो तो 10 मिनट में पूरा शाहीन बाग पूरी तरह से ख़ाली हो जाएगा सरकार और दिल्ली पुलिस को सुनना चाहिए मेरी बात शिरफ एक केरोना संक्रमित को उन सब के बीच बेठा दो फिर देखो कमाल देश की जनसख्या कूछ नियंत्रण में भी आ जयगा 🤩🤩🤩🤩🤩🤪🤪🤪😝😝😎😎😎😎👍👍 इलाज़ बीमारी की होती है शक और शौक़ की नहीं। हाल नहीं निकालेंगा अधा से ज्यादा जाहिल किस्म के लोग हैं वाहा पर

इनको न मानने के लिये पैसे दिये जा रहे हैं ,फ़्री में खाना भी मिल रहा है ,उन सरदारों को बन्द करो जो इन ग़द्दारों को खिला रहे हैं Itna kyu value diya ja raha hai,in jiddio ko? Unse baatcheet bekar hai Action lena hee padega Bheedtantra ko kanoon samajh nahee aata hai Laato ke Bhutt 👹 Baato se nahi samajte inko thok 🔫 ne ki jarurat ye sari Zinna ki bhatakti huvi Aattma 👻 he jo Desh ke liye Ghatak jai hind 🇮🇳🙏

Congress ne baba ramdev ke sath aadhi raat me jo kiya Vo hi in Pakistani paradto ke sath karna cahiye Waste of time Ye laaato k bhoot h...batoon se thodi manenge. Goli maaro suwariyo ko, suwar paida honey band ho jayenge. लातों के देवता बातों से नहीं माना करते यह हमारे पढ़े लिखे समाज को नहीं समझ में आता है मदरसा छाप जाहिलो से बात करने गए हैं जिन्हें दुनिया चपटी पढ़ाई जाती है

ये जानबूझकर कर रहे हैं

इनका आखिर उपाय है जम कर लाडी तोड़ो देखेंगे कैसे खाली हो जाता है रास्ता Kash log ese aarakshan k virodh me ek hon to desh ka bhala ho. In logo ki ekta dekho desh k bahar k muslmano ko kese support kar rahe hain. सुप्रीम कोर्ट भी नौटंकी कर रहा, सीधे सीधे खाली करने के आदेश क्यूँ नहीं देता? रोड ब्लॉक करना तो वैसे भी कानून का उल्लंघन है,हाँथ जोड़ के मध्यस्थता की बात कर रहा, जो गलत कर रहे हैं उनके सांथ!! आखिर संविधान को मानने वाले लोग हैं भाई आदेश देकर तो देखो!! हद है सुप्रीम कोर्ट🙏

ए जो चल रहा है शाहिन बाग में इससे काफी लोगों को रोजगार मिल रहा है और 3 वक्त की बिर्यानी भी और क्या चाहिए इन लोगों को इनके पास काम धंधा होता तो यूँ सडक पर नहीं बैठे होते जब बैठकर सबकुछ मिल रहा हो तो कंही और किंयु जाए इनके चक्कर में फालतू सरकार पड़ी है। लातो के भूत बातो से नहीं मानेगे. ये लठ की भासा समज ते है

बार बार क्यों भेजा जा रहा है बात के लिए क्या कश्मीर वाला विशेष अधिकार शाहीन बाग़ को मिल गया है क्या वहा भी बार बार भेजा जाता था नतीजा कुछ नहीं निकलता था ।सरकार कड़ी कार्रवाई करे शाहीन बाग़ को खाली कराए बात चीत से कुछ नहीं होगा नतीजा वहीं ढाक के तीन पात ही निकलेगा।। Ye logg pyaar se nhi maanne wale pta ni supreme court walo ko kya chull mchi hai

प्रदर्शनकारियों को सुप्रीम कोर्ट द्वारा सम्मान के साथ बच निकलने का एक रास्ता मिल रहा है,अगर यह स्वीकार नहीं करते तो निश्चय ही एक समय बाप-बाप करते हुए जगह छोड़कर भागना होगा। क्योंकि मोदी सरकार की नीति बनी है ऐसे अराजक तत्वोंको थका कर बेशुद्ध कर देना।देखते हैं कब तक टिक पाते हैं?

Ye caa nrc ka virodh nahi ho raha hai sir ji kashmir me dhara370 kyo hataya gya Modiji yogiji amitshah ji kahi hindu rastr na banaa de kahi koi aur modi yogi paida na ho jaaye isliye virodh Chal raha hai क्या ऐसे हिन्दुओं के साथ भी होगा? अब लट्ठ बजाने का वक़्त है नतीजा कुछ नहीं निकलेगा...... सिफर नहीं शून्य लिखो , आप भी भाषा का सही प्रयोग करें ।

Dil to ziddi hai janab insabka. Koshish karne se bhagwan bhi mil jate. Dil hi toh hai piglega sahi Zid unki hai toh hadd apni hai इनको अब डंडा परेड ही चाहिए! Sir ye news bataye aap ager sahi anker hay to Jheadi kovi Santti ki Bhasa nahi sunegi

Lato ke bhoot baaton se nahi maante SupremeCourtFan ab to order de do lath bajane Ko ye aise nhi manega sab Bina danda khaye अब ये और भाव खाएंगे वार्ता करने जो पहुंच गए। Yeh Mera sc hai na... Unkalea a siriya niyam chalta hai sambhidan nai so plz don't talk to them, bas maro uunko People who are effected by Shaheen Bagh need to encircled the area start their protest and stop in and out of everything from shaheen Bagh. In this way they will feel there own dose(inconvenience).

TejpalRawat14 The history can be bounce ,back to them ,if they not listen ! Media coverage dena band karo wo apne aap baag jayenge वार्ताकार तो इनको support कर रहे है।। ये रास्ता तो बन्द है लेकिन दुसरा तो ह वहा से जा सकते है ये बात supreme कोर्ट मे जल्द रखने की बात कही है उन्हें डंडा चाहिए सुप्रीम कोर्ट जितनी जल्दी समझ ले उतना ही ठीक होगा. नहीं तो आम पब्लिक को जो दिक्कतें हो रही हैं लाखों लोग परेशान हो रहे हैं उनके लिए सुप्रीम कोर्ट की अनदेखी भी जिम्मेदार होगी.

यह सुप्रीम कोर्ट की नौटंकी चल रही है बस और कुछ नहीं

शाहीनबाग आतंकवादियों का सुरक्षित जगह बन गया है और औरतों को ढ़ाल की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं। मदरसों और मस्जिदों से अवैध हथियारों का निकलना मतलब साफ है। सरकार को कश्मीर ही नहीं, शाहीनबाग में भी एक ऑपरेशन करनी चाहिए। अब टाइम आ गया है इनके ऊपर आंसू गैस के गोले छोड़ो और पानी की बौछार छोड़ो फिर भी नहीं माने तो रबड़ के कार्टून छोड़ो उसके बाद भी नहीं माने तो आग के गोले फेको उसके बाद भी नहीं माने तो पिछवाड़े में पेट्रोल डालो यही है इनकी असलियत

Aisa lagta hai Jaise kuch saal purani kashmir ki khabr ho...... Sab vaisa hi hai ....... लात के भूत बातों से नहीं मानते वार्ताकार वहां जाकर सलीम जावेद के लिखे डायलाग ज्यादा बोल रहे हैं और काम की बातें कम।दोनो वार्ताकार वापस जाकर सुप्रीम कोर्ट में सारा ठीकरा पुलिस के ऊपर फोड़ेंगे और शाहीन बाग़ में ₹500-500लेकर बैठी मोहतरमाओं पर नही,इसकी उम्मीद ज़्यादा है।

'भैंस के आगे बीन बजाई, भैंस खड़ी पगुराई ।' बातचीत उन लोगों से की जाती है जो बात समझने को तैयार हों, दिमागहीन व्यक्ति सिर्फ पेट भरना ही जानता है । मेने तीन दिन पहले ही बोल दिया था ये मद्यस्थ उनको हटाने नहीं बल्कि कानूनी सलाह देने गए थे इनको नियुक्त करने से ये लोग लाड़ में आ गए है To inko mar kr kyo nhi bhagate

मोदीजी ने सही कहा था कि ये एक प्रयोग है। ये लोग इस तरह की घटिया हरकत करके देख रहे हैं कि देश के हिन्दू कैसे रिएक्ट करते हैं। इसी के अनुसार ये आगे की रणनीति बनाएंगे इस देश के टुकड़े करने और दंगे करने के। शाहीन बाग का प्रदर्शन खुले आम देश का मजाक कर रहा है हमारी न्याय वयवस्था में कोई दम नहीं रोड को खाली करने का जो narendramodi देश को कभी जुकने नहीं देंगे वो सिर्फ १० मिनट में ये रोड खाली करवा सकते है शाहीन बाग में विरोधी सिर्फ DelhiPolice के डंडे से ही समझंगे

समझदारों को समझाया जाता है, जिद्दीयों को नही। इन्हें देश से कोई लेना-देना नही इन्हें कौम चाहिए आतंकी की सुरक्षा चाहिए। कुछ जयचंद (गद्दार)इनके साथ है, जो अपना मतलब साधने के लिए लगे है। इनका इलाज नही हुआ तो आने वाले समय मे ये देश के लिए लाइलाज बीमारी बन जाएगी। सालो चमचो 100 करोड़ में तुम भी गिन लिए गये हो बे। डरा नी रिया हूँ बता रिया हूँ।

इसका इलाज बोली से नहीं, गोली से किया जाना चाहिए था, ये आतंकी संगठनों के लोगों को देश मैं अराजकता फैलाना ही प्रमुखता है। ये सब लातौं के यार है,लात खाऐगा तुरंत भाग जाएगा। एक कहावत है किइसे प्यार समझना, गोबर मैं घी डालना के समान है। जय हिन्द वन्देमातरम इन गद्दारों का लाठी से पिछवाड़ा लाल करने की तीव्र आवश्यकता है।

बातो से नही मानेंगे ये लोग। कश्मीर की तरह बाते ही होती रहेगी क्या CAA विरोध का मतलब हिन्दू, सिखों को आने नहीं देंगे. NRC विरोध का मतलब रोहिंग्या और घुसपैठियों को जाने नहीं देंगे. Goli Mar do ne maan rahe hai to mere hisab se to 3 lakh logo ne ek hoke inko mar mar ke bhagana chahiye भारत के कानून का इतना गन्दा मजाक शायद पहले कभी ना उड़ाया गया

शाहीन बाग स्वतंत्र भारत के स्वतंत्र मिडिया की उपहार है हमसभी के लिए इसे जनता के उपर छोड़ देनी चाहिए। अज्ञानी होना गलत नहीं है अज्ञानी बना रहना गलत है। समझाया उनको जाता है जो ना समझ हो। वे रोहिंग्या और बांग्लादेशीयो के लिए अडे है। शर्म से डुब मरना चाहिए हमें क्योंकि हमारे ही देश के कश्मीरी पंडित शरणार्थी कैंपों में पडे है।

खाना और पानी बंद करदे अपने घर चले जाएंगे In gaddar aur deshdrohi suwwaro ko manana chhod do aur in kutto ke saath narmi se pash mat aao! Ye lato ke bahut hai bato se thode hee manenge!! 🇮🇳🇮🇳Indian army ko sonp do ye mamla fir dekho Kaise in gaddaro ko sidhe karte hai hamare janbaaz!🇮🇳🇮🇳Jay Hind Jay Bharat!🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

दिल्ली के है, मुफ्त की आदत लग चुकी है, और यहां तो कुदरती बिरयानी भी है, क्यू जाए भला अब लठ्ठ चलवाओ। लातों के भूत बातों से नही मानते। यदि शाहीन बाग दिल्ली में न होता, यदि इसमें प्रदर्शकारी मुस्लिम न होते क्या तो भी सरकार, विपक्ष, तथाकथित धर्मनिरपेक्षतवादी, उच्च न्यायालय व उच्चतम न्यायालय का यही लिबरल रुख होता? क्या संविधान के अनुच्छेद 14,15 के तहत यह वास्तव में देश के सभी नागरिकों के साथ समानता का व्यवहार है?

बातचीत बहुत हो गई अब दूसरा रास्ता अपनाया जाये। आखिर ये प्रदर्शन क्यों कर रही हैं?जब इनकी नागरिकता को कोई खतरा नहीं है,तो ये क्यों परेशान हैं? साफ है, ये घुसपैठियों और पाक आतंकियों को भारत की नागरिकता दिलाना चाहती हैं।यह देश के खिलाफ षड़यंत्र है। इनसे वार्ता नहीं,बल्कि इन्हें पुलिस का डंडा चाहिए।

Yeh sirf natak hai. Yeh dono mediators specifically this Hegde he himself is biased. He had said 'Pradhanmantri se bhi galti ho sakti hai.' How can he get the problem solved if he himself is with the protesters. I think he should also sit with them😂😂😂 Ye lato k bhut bato se nhi manage narendramodi AmitShah जी चुनाव से पहले केजरीवाल टीम उनके साथ थी आज चुनाव बाद कोई नहीं पुछ रहा उनको। क्या दिल्ली सरकार की कोई नैतिक जिम्मेदारी नहीं उनके लिए जो 62 सीट उनको दिये। इन लोंगो को ऐसे ही बैठे रहने दिजिये और केजरीवाल जी को अपनी नैतिक जिम्मेदारी का एहसास कराईये।

इशे कहते हैं भाई चारा रोड को जाम करो धमकी दो 15करोर 100पे भारी है क्या ये सही बोल रहे हैं ऐ सब उधार की अकल वाले है जज सहाब वो सिर्फ मुल्ला की सुनते है ईसलिये आप ईनके पिछे माथापच्छी मत किजीये जो समझाने से न समझे, उसके लिए कौन उपाय...? Kahey baaelnantho kai peechey padey ho laato kai bhoot bato sai nahi matey

Lady police ke hath me control de do khali ho jayega आतंकी समझाने से समझ जाएंगे ऐसा सोचना बेवकूफी है! सड़क छाप से बात करने के लिए वार्ताकार ग़लत निर्णय☺️

लातों के भूत बातों से नहीं मानेंगे योगी आदित्यनाथ जी वाली लाठी का करिश्मा दोहराया जाए सब गायब हो जाएंगे 🕋🍆😀❓💔 जो समझकर भी नासमझ हो, उन्हें कैसे समझाओगे जिन्हें पता है समस्या कुछ नहीं उन्हें हल कैसे सुझाओगे जो जानकर भी हो अंजान उन्हें कैसे राह दिखाओगे करलो कोशिशें तमाम जानते है सब, वो नहीं मानेंगे तुम ही बताओ, कैसे मनाओगे रूठे-बिफरे को मनाओ, समझ आता है बेवजह की जिद उनकी, नतीजा-सिफर-शून्य.

Formula hi wrong hai to ans kaha se ayega? बैठे रहने दो बिजली पानी की सप्लाई बंद करो West of time😽🕵️ कुछ नही होगा वार्ता करने से। लातों के भूत बातों से नही मानते। बैठे रहो, कितने दिन तक बैठोगे। सब षडयंत्र है। सरकार को चाहिए कि जल्द से जल्द इनके प्रयोजितकर्ताओं का पर्दाफाश करे। क्या इनके नेताओं ने अपनी बीबी, बेटियों को भी बैठा रखा है?

Government ko wahan overbridge ka kaam shuru Kar Dena chahiye. Traffic unke sir ke upar see nikal jaayega, ye protest karte rahen aaram se Simple tarreka ye hai ke shaamiyana, tambu, chair, sub utha le jaayen. Protest karna hai Karen, magar in San ke alawa

लातों के भुत बातों से कब मानें हैं होईहे वहीं जो राम रची रख्खा मीलार्डस ने शाहीन बाग को भी कश्मीर मान लिया है। CAA का विरोध कर रहे लोगों से बात करने ऐसे वकील को भेजा जो खुद ही CAA के विरोध में लगा रहता है। वार्ता से तो नतीजा सिफर ही रहेगा। Their goal is Ummah nothing else जिनके दिमाग मे सुअर की टट्टी भरी हो...उनको समझना दीवार पर सर मारने के बराबर है...!

This is sheer indiscipline. narendramodi AmitShah जहाँ कमाई अच्छा हो रहा है तो उठेंगे किस मुह से ....... इस आंदोलन नुमा पडयंत्र के पीछे कुछ प्रयोग चल रहे है जिनका रिजल्ट आना शेष है ? इनको इस तरह से भृमित कर दिया गया है की ये सच-झूठ का फर्क करना भूल गए ,आंदोलनकारियों की CAA-NPR वापसी की मांग को मानना सरकार के लिए संभव नही है।अब सुप्रीम कोर्ट के वार्ताकारों की कोशिश भी देश देख रहा है।

bhadkaya jaarha hai inlogo ko inka rashan pani band kr do shaheen baag jane wala rashan doodh bread sab band kr do 2 din me akal thikane aajayegi

Inke pichwade lal karo Mc ke लातो के भूत बातों से नहीं मानते और मेरा मानना है देश की अदालतो को इस मामले में नहीं आना चाहिए यह मसला देश की सुरक्षा व बहु संख्यक समाज के बिरोध में है दिल्ली की मफलर वाली सरकार के बश में नहीं है . शाहीन बाग को योगी के पोलिस के हवाले कर दो सभी तोबा करने लगेगें. जय हिंद जय भारत

Army utar do...kutte ki tarah bhagege ये जेहादी सूअर लातो के भूत है क्या ऐसा ही मौका सुप्रीम कोर्ट हिंदुत्व को देगी समय आने पर।वार्ता से कोई फायदा अगला कदम सीधा इनकी संपति जब्त किया जाए क्योंकि देश का नुक़सान की भरपाई इन्हीं को करना होगा। अगर सुप्रीम कोर्ट निष्पक्ष फैसला देता है तो Des dorohi ko pass jana murkhata h Kashmir me pahele yahi kar rha ta sc

बेकार मे प्रयास कर रहे हो। अगर दिल्लीवालो को कोई परेशानी नही है तो क्यू बेकार मे वक्त खराब करने का। अगर दिल्लीवालो को तकलीफ होगी तो वो खुद निपटेंगे इस गैरकानूनी जमावडे को।CAA कानून गलत नही है। यह तो ताकत दिखा रहे घुसपेटीओ के लिए। तुम और सरकार भी इसपे ध्यान ना दे। बैठने दो। ये कह रहे है बिना ठुकाई के नहीं जाने वाले हम

Ye gunde hai gunde Jo sadak ko Kam kar ke baithe hai Ye andolan nhi hai ye gundai hai Ugravad hai Jo bhi sdak ko jabardusti Blok kar de unko gunda khate hai Unse baat karna murkhta hai. Unko padhaya gya hai ki keval prasn karna hai jabaab nahin Dena hai

लातों के भूत बातों से नेही मानने वाले,इन लोगों को दंडे की भासा समझ में आयेगा । so ...SupremeCourt should give permission for लाठीCharge SaheenbaaghProtest संविधान कि हैसियत इन बागबानों की नजर में क्या है? अब भी नहीं समझे तो ये भारत का दुर्भाग्य है। एक बात , लातों के भूत बातों से नहीं मानते। Inka so called protest UP m shift kr do

लातों के भूत हें बातों से नहीं मानने वाले। अरे यह न्यूज वाले दिखाना बन्द कर दे तो अपने आप घर चले जायेंगे।। कैसी वार्ता? किससे वार्ता?जिन्हें खुद प्रदर्शन की वजह नहीं पता उनसे वार्ता की कोशिश टाइम पास है या इच्छाशक्ति की कमी? Lawaris Pathan ne Kya galat kaha. Supreme Koth ki bhi fat gayee. Kese gidgida rahe hen.

आब शाहिनबाग में जितने भाड़ीए है पानी राशन सापलाई सब व्लक कर देना चाहिए hum to pahle hi kah rahe the laton ke yaar baton se kab maante hain in fokatiyon ko zyada bhaav na de supreme court..! ye nahi karte izzat kisi court vort ki.! khamkhawah men jaghansayee na karaye supreme court..vo phans jayegi.

जय सियारामशाहीन बाग यह प्रयाससुप्रीकोर्ट का वयर्थ है क्यों की मुस्लिम का अपना कानून पर्सनल लॉ बोर्ड है और उसे मानता है तथा जिहादि जाति एकता सर्वोपरि है कानून का पालन तो दिखावा है मकसद तो कुछ और ही है सख्त कानून की आवश्कता है जय श्री सीताराम देश में आजादी इसे देना ठीक नहीं बेदिमाग को कौन समझा सकता है इसलिए ही सायद ये कौम इसको बुर्के में ढक कर रखता है

Bat kya krna inlog se. Hme mauka de sarkar जब बात कर के थक जाओ तो कोर्ट मे जा कर वास्तविकता बता देना साहब। ये लोगो को अब जूते की भाषा में समझाना चाहिए। शाहीनबाग में :सर्वशक्तिमान SC के वार्ताकारों को गैर कानूनी तरीके से सड़क रोककर बैठे हुए लोगों से मीमियाते हुए 3 दिन से सारा देश देखा रहा है सबरीमाला मंदिर में महिला के प्रवेश पर SCके फैसले के खिलाफ केरल के हिंदू एकजुट होकर निवेदन कर रहे थे तब क्या सारे वार्ताकार छुट्टी पर गए थे?

असली अल्पसंख्यक जैन - सबसे धनी, शांत,100% साक्षरता पारसी - धनी, 100% साक्षरता सिख- 15% आर्मी में, 80% साक्षरता, बहुत ही मेहनती नकली अल्पसंख्यक - अन्धाधुँध आबादी बढ़ाने में संलग्न; 70% अनपढ़, 80% अपराधों में लिप्त, 90% गद्दार, टेक्स 1% भी नहीं ! कड़वा मगर सच !! सीधा सीधा तरीका है जो घर जाना चाहता है जाने दो किसी को वापस बाग में मत आने दो धीरे धीरे सब ठीक हो जाएगा

सर्वोच्च न्यायालय को संज्ञान लेते हुए कड़क फैसला सुनाना चाहिए! जबकि सरकार सौ बार बता चुकी है कि CAA से देश में किसी भी नागरिक का कोई नुकसान नहीं है, फिर यह बातों को क्यों नहीं समझ पा रहे हैं! आखिर कौन है, जो बुजुर्गों के दिमाग में जहर घोला हुआ है , कौन है ऐसे लोग!

शाहीन बाग का धरना प्रायोजित है वर्ना ये लोग भूख हड़ताल करते बिरियानी नहीं ठूसते। SupremeCourtIND के दोनो वार्ताकार जैसे चाहें वैसे शाहिन_बाग वालों से रास्ता खुलवाने के लिये बात कर लें रास्ता निकलना मुश्किल है प्रदर्शनकारी भी जानते हैं कि उन्हें CAA_NPR_NRC के लागू होने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा 'वो भी अपनों से न मानने का वादा किये बैठे हैं' narendramodi

जैसे 0 से multiply करने पर 0 ही आता है वैसे मुल्लो से बात करने पर अक्ल पर तरस आता है इनके The agitators of Shahinbaugnot not ready to meet or discussion with mediators which are appointed by the honourable Supreme Court then it is insult and contempt of court and necessary action should be taken against them.

केवल एक काम कर दे सरकार उस एरिया के सारे टावर बंद कर दिए जाए। सारे दूसरे दिन घर में ही नजर आयेगें बिना डंडा बिना इंटरनेट आदमी ठंडा मेरे हिसाब से🤔😎 'लातों के देव बातों से कब मानते हैं।' बाँकी मोटाभाई हैं अभी🤔😎 ये लोग कांग्रेस की भाषा समझेंगे उसी के बोलने से हटेंगें, कांग्रेस को बैठाने और उठाने मैं 70 साल का एक्सपेरिएंस है

क्या आप बता सकते हैं, सर्वोच्च न्यायालय अब कौन सा फैसला ले सकती है ? उनका भाव बड़ा रहे है पड़े रहने दो

जो सोया हुआ उसे जगाया जा सकता है । जो सोने की एक्टिंग कर रहा हो उसे पानी डाल कर उठना पड़ेगा ... IndiaSupportsCAA ॐ_नमः_शिवाय Mai to kahta hu, जामा मस्जिद मे CAA के सपोर्ट मे धरना दे दो, तब पता चलेगा कि आम पब्लिक को कैसे मुस्किल हो रही है.... Laato ke bhoot baato se nahi mante !!? 1 दिन योगी जी को भेज कर देख लो शायद नतीजा निकल आए

यह नहीं उठेंगे..... इन्होंने बता दिया है वो भी साफ़ साफ़ की इनको ईन तीन देशों के मुसलमानो को भी लाओ..... Inko हर हिन्दू के पीछे 50 मुसलमान चाहीये कयुं बेकार कोशीश करते है। कयुं उन लोगों को महत्व देकर प्रोत्साहित करते है। CAA क़ानून बन चुका है ओर देशभर में लागु हो गया है। उसे ना कोई रोक सकता है ना रोक पाएगा। बिनावजुद उन लोगों को टीवी पे दिखाना बंध करे वह अपने आप घर चले जाएँगे ।

प्रदर्शनकारियों का एजेंडा कुछ अलग ही है। अरे इन दोगलों को छोङ दो कब तक करेंगे नाटक Gpl do salo ko ek din mai uth jaybge waha ke log hinjade hai jo inn logo ko sahan kar rahe hao



भारत में कोरोना वायरस के 'हॉटस्पॉट' कैसे बने ये 10 इलाक़े

कोरोना संकट: मोदी सरकार नहीं बच सकती इन सवालों से

कोरोना वायरस: तबलीग़ी जमात, पुलिस, दिल्ली सरकार और केंद्र पर उठते सवाल

कोरोना वायरस: निज़ामुद्दीन में तबलीगी जमात के क़रीब 1700 लोग जुटे थे- सत्येंद्र जैन- LIVE - BBC Hindi

कोरोना वायरस: भारतीय मीडिया के निशाने पर चीन क्यों?

कोरोना वायरस से बचना है तो खान-पान में यूं रहें सतर्क

कोरोना वायरस: सिर्फ़ 50 हज़ार में वेंटिलेटर बना रहे हैं युवा इंजीनियर्स

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

21 फरवरी 2020, शुक्रवार समाचार

पिछली खबर

लालू के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति मामले में अपने फैसले पर विचार करेगा सुप्रीम कोर्ट

अगली खबर

PM मोदी ने उर्स के मौके पर अजमेर शरीफ के लिए भेंट की चादर, चादरपोशी के लिए जाएंगे नकवी
कोरोना वायरस: निज़ामुद्दीन मरकज़ के मरीज़ों की बाढ़ से कैसे निपटेगी दिल्ली तबलीगी जमात का मौलाना अरशद मदनी ने किया बचाव, कहा- मरकज ने कोई गलती नहीं की अहमदनगर के बाद अब ठाणे की दो मस्जिदों से मिले 21 विदेशी नागरिक, क्वारनटीन में भेजा गया PPF जैसी स्कीमों पर ब्याज़ दरें घटीं तो क्या करना चाहिए? कोरोना वायरसः ममता बनर्जी ने PM मोदी को लिखा पत्र, मांगा 25000 करोड़ का पैकेज सरकारी अस्पताल में चुपके से बांझ बना दी गई महिला का दर्द डीएम के बाद नोएडा के CMO अनुराग भार्गव पर भी गिरी गाज, हुआ तबादला मरकज से क्वारैंटाइन सेंटर लाए गए लोगों ने डॉक्टरों और स्टाफ पर थूका, गालियां दीं; एक ने खुदकुशी की कोशिश की दि‍ल्ली के मरकज में शामिल जमाती डर के मारे नहीं आ रहे सामने:नुसरत जहां क्या कोरोना वायरस से जुड़े पोस्ट लिखने पर सरकार सज़ा दे सकती है?-फ़ैक्ट चेक मुंबई: एशिया के सबसे बड़े स्लम धारावी में मिले Coronavirus संक्रमित मरीज की हुई मौत सोनिया का PM मोदी को खत, कहा- मनरेगा मजदूरों को मिले 21 दिन की एडवांस मजदूरी
भारत में कोरोना वायरस के 'हॉटस्पॉट' कैसे बने ये 10 इलाक़े कोरोना संकट: मोदी सरकार नहीं बच सकती इन सवालों से कोरोना वायरस: तबलीग़ी जमात, पुलिस, दिल्ली सरकार और केंद्र पर उठते सवाल कोरोना वायरस: निज़ामुद्दीन में तबलीगी जमात के क़रीब 1700 लोग जुटे थे- सत्येंद्र जैन- LIVE - BBC Hindi कोरोना वायरस: भारतीय मीडिया के निशाने पर चीन क्यों? कोरोना वायरस से बचना है तो खान-पान में यूं रहें सतर्क कोरोना वायरस: सिर्फ़ 50 हज़ार में वेंटिलेटर बना रहे हैं युवा इंजीनियर्स कोरोना वायरस: दुनियाभर में 42,000 से ज़्यादा मौतें, 8.5 लाख लोग संक्रमित - LIVE - BBC Hindi कोरोना वायरस से भारत में कैसे ठीक हो रहे हैं लोग? कोरोना वायरसः मध्य पूर्व के लिए एक टाइम बम कोरोना वायरस: अमरीका में मरने वालों की संख्या तीन हज़ार के पार - BBC Hindi #जीवनसंवाद : जिसके होने से फर्क पड़ता है!