Madhyapradesh, Congress, Indore, Pankajsanghvi, Loksabhaelections 2019, मध्यप्रदेश, कांग्रेस, इंदौर, पंकजसंघवी, लोकसभाचुनाव2019

Madhyapradesh, Congress

व्यापमं पर भाजपा को घेरने वाली कांग्रेस ने घोटाले के एक संदिग्ध को उम्मीदवार क्यों बनाया?

व्यापमं पर भाजपा को घेरने वाली कांग्रेस ने घोटाले के एक संदिग्ध को उम्मीदवार क्यों बनाया? #MadhyaPradesh #Congress #Indore #PankajSanghvi #LoksabhaElections2019 #मध्यप्रदेश #कांग्रेस #इंदौर #पंकजसंघवी #लोकसभाचुनाव2019

18-05-2019 13:05:00

व्यापमं पर भाजपा को घेरने वाली कांग्रेस ने घोटाले के एक संदिग्ध को उम्मीदवार क्यों बनाया? MadhyaPradesh Congress Indore PankajSanghvi LoksabhaElections2019 मध्यप्रदेश कांग्रेस इंदौर पंकजसंघवी लोकसभाचुनाव2019

एक ओर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी चुनावी रैली में व्यापमं घोटाले की जांच कराने की बात करते हैं, तो दूसरी ओर पार्टी ने इंदौर लोकसभा सीट से उन पंकज संघवी को प्रत्याशी बनाया है जिन पर घोटाले में शामिल होने के आरोप लगते रहे हैं.

व्यापमं घोटाले की नए सिरे से जांच होगी, जिसमें भाजपा नेताओं ने लाखों बेरोजगारों की जेब से पैसा निकाला है.’ 1 मई 2019 को मध्य प्रदेश की होशंगाबाद-नरसिंहपुर लोकसभा सीट पर एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने यह बात कही थी.यह पहला मौका नहीं था जब प्रदेश की राजनीति में कांग्रेस ने व्यापमं घोटाले को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर हमला करने का हथियार बनाया हो. 2013 से लगातार वह भाजपा पर व्यापमं घोटाले में शामिल होने के आरोप लगाती रही है.

चीन को जवाब देने की तैयारी, तीनों सेनाओं ने पीएम मोदी को सौंपा ब्लूप्रिंट युद्ध की तैयारी में चीन! राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सेना को तैयार रहने के दिए आदेश पिता के साथ बेचते थे सब्जी, यह हैं बिहार दसवीं के टॉपर हिमांशु राज

2018 के विधानसभा चुनावों से पहले भी कांग्रेस ने एक वचन-पत्रन जारी किया था. जिसमें एक बिंदु यह भी था कि सत्ता में आने के बाद पार्टी भाजपा के शासनकाल में हुए व्यापमं घोटाले की जांच जन आयोग बनाकर नए सिरे से कराएगी और दोषियों के खिलाफ न्यायालय में केस दर्ज कराकर दंडात्मक कार्रवाई सुनिश्चित करेगी.

हालांकि, सरकार बनने के पांच माह बाद भी इस संदर्भ में उसकी ओर से कोई कदम तो नहीं उठाया गया, उल्टा व्यापमं घोटाले को लेकर पार्टी की कथनी और करनी में अंतर सामने आने लगे हैं.एक ओर तो पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ जनता के सामने व्यापमं घोटाले में जांच और कार्रवाई की बात करते हैं, तो दूसरी ओर पार्टी व्यापमं घोटाले में जांच के दायरे में आए अपनी ही पार्टी के नेताओं को उपकृत किए जा रही है.

इंदौर लोकसभा क्षेत्र से पार्टी ने उन पंकज संघवी को अपना उम्मीदवार बनाया है जिनके ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन ऑफ गुजराती समाज ट्रस्ट के तहत चलने वाले पांच स्कूल-कॉलेजों में व्यापमं घोटाले के तहत सामूहिक नकल के मामले पकड़ में आए थे.व्यापमं घोटाले के व्हिसल ब्लोअर डॉ. आनंद राय के मुताबिक, 2015 में सीबीआई ने उनके स्कूल-कॉलेजों में हुए इस गड़बड़झाले को जांच के दायरे में लिया था. करीब डेढ़-दो साल पहले पंकज संघवी और उनके स्कूल-कॉलेजों के प्रधानाध्यापकों को सीबीआई ने पूछताछ के लिए दो दिन हिरासत में भी रखा था. उनके इन पांच स्कूल-कॉलेजों के 37 पर्यवेक्षक घोटाले में आरोपी बनाए गए और जमानत पर बाहर हैं.

उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, व्यापमं द्वारा आयोजित पीएमटी वर्ष 2013 की परीक्षाओं में हुई अनियमितताओं की जांच के दौरान सामने आया था कि धांधली उससे पहले की परीक्षाओं में भी हुई थी. इंजन-बोगी की तर्ज पर परीक्षार्थी और सॉल्वरों को रोल नंबर आवंटन होता था.इसमें संघवी के गुजराती समाज ट्रस्ट के तहत चलने वाले श्री केबी पटेल गुजराती कन्या हायर सेकेंडरी स्कूल, पीएमबी गुजराती साइंस कॉलेज और आरआरएमबी गुजराती उच्चतर माध्यमिक विद्यालय समेत उनके पांच स्कूल-कॉलेज जांच के दायरे में आए थे जहां कि परीक्षा केंद्र बनाए गए थे.

आनंद राय के अनुसार, ‘सीबीआई को दिए बयान में संघवी ने स्वयं स्वीकारा है कि वे घोटाले के मुख्य सरगना डॉ. जगदीश सागर से मिले थे. हालांकि उनका कहना है कि परीक्षाओं में धांधली करने को लेकर उनकी डॉ. सागर से कोई सेटिंग नहीं हुई थी. अब अगर कोई सेटिंग नहीं हुई थी तो सवाल उठता है कि इस दौरान गलत तरीके से जो उम्मीदवार प्रदेश भर में चुने गए उनमें से तीन चौथाई संघवी के स्कूल-कॉलेजों के कैसे रहे? क्यों उनके स्कूल-कॉलेजों के 37 शिक्षक जो कि पर्यवेक्षक बनाए गए थे, व्यापमं घोटाले की जांच के दायरे में हैं और जमानत पर बाहर हैं?’

वे आगे कहते हैं, ‘सत्यता तो यह है कि अपने रसूख के चलते संघवी बच गए और पर्यवेक्षकों पर गुनाह मढ़ दिया गया. वरना बताइए कि उन 37 पर्यवेक्षकों के ऊपर कोई तो चेहरा होगा जो उन्हे लीड कर रहा होगा. किसी एक आदमी के इशारे पर तो काम कर रहे होंगे न वे सब? वो चेहरा और वो आदमी संघवी ही थे. इन पर्यवेक्षकों की जमानत कराने वे स्वयं भोपाल गए थे. इनके साथ अदालतों में खड़े देखे गए थे.’

‘कोरोना आपदा को बदला लेने का अवसर मान रही मोदी सरकार’: छात्र नेताओं ने लगाया आरोप स्पेशल रिपोर्ट: कोरोना को लेकर राहुल गांधी का मोदी सरकार पर करारा वार मुंबई से गोरखपुर जा रही ट्रेन पहुंची ओडिशा, अखिलेश ने ली चुटकी

चुनाव प्रचार के दौरान पंकज संघवी (फोटो साभार: फेसबुक/Pankaj Sanghvi)बहरहाल, जिस व्यापमं घोटाले की जांच कराने का वादा करके कांग्रेस पार्टी प्रदेश की सत्ता में आई हो, जिस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष घोटाले की जांच नए सिरे से कराने की बात करते हों, जब वही पार्टी एक ऐसे शख्स को जिसकी भूमिका मामले में संदिग्ध हो और उसकी संलिप्तता को लेकर जांच की मांग की जाती रही हो, अपने टिकट पर संसद का चुनाव लड़ाती है तो उसकी कथनी और करनी के अंतर में स्पष्टता साफ देखी जा सकती है.

साथ ही सवाल उठता है कि घोटाले की फिर से जांच किसके लिए कराई जाएगी जबकि जिनके खिलाफ जांच कराए जाने की मांग उठ रही हो, उन्हें तो पार्टी गले लगा रही है. वहीं, पंकज संघवी ऐसे इकलौते नहीं जिन पर व्यापमं घोटाले में शामिल होने के आरोप लगे हों और कांग्रेस ने उन्हें गले लगाया हो.

एक अन्य नामसंजीव सक्सेनाका भी है. बीते विधानसभा चुनावों के दौरान पार्टी व्यापमं घोटाले में जेल काट कर आए संजीव को भोपाल दक्षिण-पश्चिम सीट से चुनाव लड़ाने के फिराक में थी. लेकिन उनके नाम के कयास लगते ही व्यापमं के व्हिसल ब्लोअर्स सक्रिय हो गए थे.पार्टी का जनता के बीच व्यापमं को लेकर स्टैंड कमजोर न पड़े इसलिए संजीव को समझा-बुझाकर बैठा दिया गया था. लेकिन चुनाव समाप्ति के कुछ ही दिन बाद उन्हें पार्टी के प्रदेश संगठन में महासचिव पद पर नियुक्ति दे दी गई.

कुछ ऐसा हीडॉ. गुलाब सिंह किरारके मामले में भी हुआ था. घोटाले में आरोपी किरार एक समय भाजपा से जुड़े हुए थे और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के करीबियों में शुमार होते थे व उनकी सरकार में राज्यमंत्री का दर्जा रखते थे.उन्हें स्वयं राहुल गांधी ने 2018 के विधानसभा चुनावों के दौरान कांग्रेस पार्टी की सदस्यता दिलाई थी. चर्चा तब यह भी थी कि पार्टी उन्हें पोहरी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ाने वाली थी. लेकिन जब हर ओर इसका विरोध हुआ तो पार्टी अपनी घोषणा से पलट गयी और डॉ. किरार के पार्टी में शामिल होने को झूठी खबर बताया.

बहरहाल, पिछले दिनों उन्हीं डॉ. किरार को पार्टी ने लोकसभा चुनावों के लिए अपने स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल किया थाआनंद राय कहते हैं, ‘व्यापमं के गुनाहगारों के साथ गलबहियां करने वाली कांग्रेस पार्टी इस घोटाले को मुद्दा बनाने या इस पर बोलने का नैतिक अधिकार ही नहीं रखती.’

बात सही भी जान पड़ती है. जब पार्टी व्यापमं घोटाले की जन आयोग बनाकर जांच कराने की बात करती है तो उसका स्पष्ट मतलब निकलता है कि कहीं न कहीं घोटाले की अब तक की एसटीएफ और सीबीआई द्वारा की गई जांच से वह संतुष्ट नहीं है. पार्टी का कहना भी है कि जांच में रसूखदार लोगों को बचाया गया है.

कर्नाटक सरकार का फैसला, राज्य में 1 जून से खुल जाएंगे 34,500 मंदिर केंद्र का निर्देश- राज्य क्वारनटीन सेंटर में तब्दील होटलों के लिए बनाएं गाइडलाइंस झूठ बोल रही उद्धव सरकार, नहीं मांगीं 80 ट्रेनें, महाराष्ट्र सरकार पर पीयूष गोयल का आरोप

लेकिन जांच में जिन रसूखदारों को बचाने के आरोप लगते हैं, उन्हें खुद कांग्रेस बढ़ावा दे रही हो तो जांच आखिर किसके खिलाफ की जाएगी? या फिर वह जांच मात्र अपनी राजनीतिक प्रतिद्वंदी भाजपा को निशाने पर रख कर की जाएगी?मध्य प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता रवि सक्सेना पार्टी के बचाव में तर्क देते हैं, ‘चुनाव के समय बहुत सारी चीजें बहुत अलग-अलग एंगल से देखी जाती हैं. चाहे संजीव सक्सेना का मामला या पंकज संघवी या और दीगर नेता का मामला हो, क्योंकि उन्हें अदालत से जमानत मिली हुई है, उनके ऊपर जो आरोप लगे थे, वो आरोप साबित नहीं हुए हैं. इसलिए उनको पद दिए गए हैं.’

वे आगे डॉ. आनंद राय पर ही सवाल उठाते हुए कहते हैं, ‘डॉ. आनंद राय स्वयं इंदौर सीट से विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते थे. पार्टी ने टिकट नहीं दिया. उनका दुख हम समझते हैं.’बहरहाल, इंदौर सीट पर 19 मई को मतदान होना है, जहां पंकज संघवी के सामने भाजपा के उम्मीदवार शंकर ललवानी हैं.

(लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं.) और पढो: द वायर हिंदी »

भ्रष्टाचार का संदिग्ध है साहब, आतंकवाद के आरोपी से कहीं ज़्यादा बेहतर है congress को ऐसे गलत व्यक्ति को चुनाव का उम्मीदवार नहीं बनान चाहिये | इससे भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलता है | we condemn this decision. Good Question! Now BJP4India understand is not Congress sponsor media 😊😁 यही तो इन काँग्रेसी यो की असलियत है

'नमो टीवी' पर चुनाव नियमों के उल्लंघन को लेकर बीजेपी को EC का नोटिसदिल्ली के सीईओ रणबीर सिंह ने शुक्रवार को कहा था कि चुनाव प्रचार खत्म हो जाने के बाद शहर में और सोशल मीडिया पर भी राजनीतिक प्रचार खत्म हो जाना चाहिए. दिल्ली में चुनाव प्रचार शुक्रवार शाम छह बजे थम गया था. notice ka jawab chunav khatam hone ke baad de diya jaayega.. rishikeshlaw Itni himmat? May b they know bjp not coming hence this guts ए बी पी अब तो चुनाव आयोग जी , चुनाव तो लगभग ख़त्म हो गए हैं , अब नोटिस की बत्ती बना लो , जब नाश मनुष्य पर छाता है पहले विवेक मर जाता है ,अब सरकार भी जाने वाली है और चुनाव आयोग भी जाने वाला है ।

अलवर रेपकांड: मोदी को मायावती का जवाब- कांग्रेस से समर्थन पर सही वक्त पर लूंगी फैसलामायावती ने कहा है कि नरेंद्र मोदी इस घृणित कांड की आड़ में घृणित राजनीति न करें. साथ ही मायावती ने यह भी कहा कि बीएसपी इस संबंध में उचित व सख्त कानूनी कार्रवाई न होने पर जरूर राजनीतिक फैसला लेगी. मायावती ने कहा कि बीजेपी शासित राज्यों में आए दिन हो रहे दलित अत्याचार व शोषण की नैतिक जिम्मेदारी लेकर अपने पद से इस्तीफा क्यों नहीं देते हैं? दाेगली औरत 😤 Hypocrisy At It's Best! ✌️ अरे ग़रीब को न्याय दो भाषण फिर कभी ठीक लगेगा

मल्लिकार्जुन खडगे का पीएम मोदी पर विवादित बयान, कहा- क्या खुद को फांसी पर लटका लेंगेमल्लिकार्जुन खडगे ने चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि पीएम मोदी हर रैली और जनसभाओं में लगातार कह रहे हैं कि कांग्रेस 40 सीटों पर भी नहीं जीत पाएगी. Sahi kaha Dalli media यह तो समय बताएगा खड़गे,की फांसी पर कौन लटकेगा।। Chinta mat kar agle paanch saal mien teri retirement ka plan bana diya he tere maalik ne

गोडसे को हिंदू आतंकी बताने पर फिल्म स्टार कमल हासन को हत्या की धमकी-Navbharat Timesलोकसभा चुनाव 2019 न्यूज़: मेरठ में अखिल भारतीय हिंदू महासभा के प्रदेश प्रवक्ता अभिषेक अग्रवाल ने कहा कि गोडसे का नाम लेकर कमल हासन गंदी राजनीति कर रहे हैं और अपना वध करवाने की कोशिश कर रहे हैं। Koi dhamki nahi Diya hoga Ye sb bs publicity stunt hai Filth should be put in his mouth गोडसे अभी जिन्दा है।भाजपा से ही दाना पानी मिल रहा है।

सैलरी मांगने पर युवती को जमीन पर पटककर डंडे और लात-घूसों से पीटा-Navbharat Timesनॉलेज पार्क के एक सैलून में काम करने वाली मेकअप आर्टिस्ट सैलरी मांगने गई तो उसके साथ हैवानियत की गई। सरेराह उसे गिराकर बाल खींचकर लात-घूंसे बरसाए और डंडों से पीटा। आरोप है कि इन लोगों ने पहले युवती से रेप की कोशिश की थी। पक्का कोई IT कंपनी होगी 😠 Bjp gundon mawali ka sarkar h Pathatic.. These people must be punished...

अय्यर के मोदी को नीच वाले बयान पर बोले राहुल- मुद्दे पर लड़ें नफरत न फैलाएंOh aaj tak .. kya khoji patrakarita.. 🙏🏻 🙏🏻 लोगो को मूर्ख समझना छोड़ दीजिए एक बार मणिशंकर को नीच वाले बयान पर सस्पेंड किया और कुछ दिनों के बाद वापस भी ले लिया।

PM मोदी ने मणिशंकर के बयान पर राहुल को घेरा, 84 दंगे पर भी बरसेअय्यर के विवादित बयान का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि गुजरात चुनाव के दौरान एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने मुझे गाली दी. कांग्रेस ने अपना चेहरा बचाने के लिए उन्हें (अय्यर) पार्टी से निकाल दिया. उसी नेता ने एक दिन पहले मेरे खिलाफ वैसी ही भाषा का इस्तेमाल किया. जो हुआ सो हुआ। काँग्रेस पार्टी की लाइन है। अय्यर को भी किसी स्टेट का सीएम बना कर कांग्रेस वाले कब सजा देंगे narendramodi BJP4India ये विपक्षी पार्टी मोदीजी के सारे अच्छे कामो को फ़ालतू की बातों मैं उलझना चाहते है सरकार ने VIP कल्चर खत्म किया दिया लोग लाल बत्ती से निचले नही उतरते थे। सरकार ने अग्रेज़ो के कानून खत्म किये।

नरेंद्र मोदी सरकार के 5 सालः जानिए क्या हैं 5 प्लस और 5 माइनस प्वॉइंट?पांच साल के कार्यकाल के बाद मोदी सरकार अब 2019 के लोकसभा चुनाव मैदान में है. विपक्ष, जहां सरकार पर सभी मोर्चों पर असफल होने का आरोप लगा रहा है तो सरकार आंकड़ों के जरिए योजनाओं की सफलता गिनाने में जुटी है. लोकसभा चुनाव के बहाने जानते हैं मोदी सरकार किन 5 मुद्दों पर छाप छोड़ने में सफल रही और किन पांच मुद्दों पर अपेक्षित उपलब्धियां नहीं हासिल हुईं. तुम भी तांत्रिक बन गए हो क्या विभाजनकारी मोर्चे पर मोदी को सफलता जरूर मिली है मगर विकास के मुद्दे पर असफलता हात आइ है। 5PLUS without any doubt.

घाटी में हमले का हाई अलर्ट, अवंतीपोरा और श्रीनगर एयरबेस को निशाना बना सकते हैं आतंकीGood Kahi par nigahe kahi par nishana samajhne ki kosis karo

गोडसे को 'देशभक्त' बताने पर भड़के PM, 'साध्वी को नहीं कर पाऊंगा माफ'Loksaba Elections 2019: ऐसा नहीं कि गोडसे का महिमा मंडन करने में सिर्फ प्रज्ञा सिंह ठाकुर ही आगे रही हैं। उनके अलावा पार्टी के दूसरे नेता अनंत हेगड़े और अनिल सौमित्र ने भी विवादित बयान दिए। फिलहाल, अनिल सौमित्र को पार्टी से बर्खास्त कर दिया गया है। मांफ भी नहीं करूँगा और कुछ करूँगा भी नहीं, क्योंकि वो मुझसे भी बड़ी पार्टी पदाधिकारी हैं। मैं तो बस 'कार्ज़कर्ता' हूँ उनके सामने 😢 टिकट गोडसे दिए हैं का चौकीदार? 😀😀😀😀😀 बापू के अनुगामी प्रधानमंत्री की आहत भावना के साथ पुरा देश, बारंबार दल को संकट में डालने वाली प्रज्ञा को अविलंब निष्कासित करना हीं अब दल के लिए श्रेयस्कर ।

मोबाइल फोन टावर पर चढ़ गया शराबी और चिल्‍लाने लगा 'मोदी को बुलाओ-मोदी को बुलाओ'जौनपुर में हुई घटना. युवक पीएम नरेंद्र मोदी के वहां न आने पर बार-बार टावर से नीचे कूद जाने की धमकी दे रहा था. घटना की जानकारी होने पर मौके पर लोगों की भीड़ लग गई. कैसे कैसे नमूने है😀😂 Sad ji toh nhi the.. 😏 खुजलीवाल का जूठा बोतल पी लिया होगा

राहुल गांधी का वार- पीएम ने पहले फ्रंटफुट पर खेला, लेकिन अब बैकफुट पर हैं मजदूरों की मदद के नाम पर पब्लिस्टी स्टंट के आरोप, सोनू सूद ने द‍िया जवाब योगी आदित्यनाथ का वो बयान जिस पर मच रहा है सियासी घमासान अभिजीत बनर्जी की सलाह- प्रत्येक भारतीय को 1000 रुपये हर महीने दे सरकार ईद के दिन फिर दिल्ली की सड़कों पर निकले राहुल, टैक्सी ड्राइवर से जाना हाल 2 महीने बाद शुरु हुई घरेलू उड़ान, देखें कैसा था पहला दिन VIDEO: राहुल बोले- लॉकडाउन हुआ फेल, मोदी सरकार माने नाकामी सोनू सूद के बाद मजदूरों के मसीहा बने प्रकाश राज, घर पहुंचाने में कर रहे मदद कोरोना अपटडेटः भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या डेढ़ लाख के क़रीब, अकेले महाराष्ट्र में 52 हज़ार से ज़्यादा मामले - BBC Hindi नेपाल के साथ क्या हुआ, लद्दाख में कैसे हालात? देश के सामने सच्चाई बताए सरकार: राहुल गांधी गुरुग्राम से बिहार की साइकिल यात्रा, ज्योति के सम्मान में डाक टिकट जारी