Digitalprimetime, Kadak, Gyankibaat, Gumnami Baba, Shaulmari Ashram, Swami Shardanand, Swami Jyotir Dev, Who Is Gumnami Baba, Is Gumnami Baba Was Netaji Subhash Chandra Bose, Netaji, Netaji Subhash Chandra Bose Birthday

Digitalprimetime, Kadak

वो तीन 'बाबा', जिन्हें नेताजी सुभाष चंद्र बोस समझा गया

क्या थी इन बाबाओं की असलियत और जांच के बाद इनके बारे में क्या पता लगा. #DigitalPrimeTime #Kadak #GyanKiBaat

22-01-2020 18:40:00

क्या थी इन बाबाओं की असलियत और जांच के बाद इनके बारे में क्या पता लगा. DigitalPrimeTime Kadak GyanKiBaat

three monks whom believe as netaji subhash chandra bose including gumnami baba । news18hindi। वो तीन बाबा, जिन्हें नेताजी सुभाष चंद्र बोस समझा गया। 50 के दशक से लेकर 80 के दशक तक तीन बाबाओं के बारे में जोर शोर से कहा गया कि वो नेताजी सुभाष चंद्र बोस ही थे. बहुत से लोग अब भी यही मानते हैं कि वो नेताजी ही थे. लेकिन क्या थी इन बाबाओं की असलियत और जांच के बाद इनके बारे में क्या पता लगा. | knowledge News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी

Share this:Arun Tiwariएक दिन बाद नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) का जन्मदिन है. 18 अगस्त 1945 को तायहोकु में विमान हादसे में निधन की खबर के बाद उन्हें ना जाने कितनी ही जगहों पर देखे जाने के दावे किए गए. 50 से दशक से 80 के दशक के बीच तीन बाबाओं को लोग शर्त लगाकर सुभाष चंद्र बोस बताया करते थे. बड़े पैमाने पर ये चर्चाएं देशभर में फैली हुईं थीं कि ये बाबा दरअसल नेताजी है, जो अपनी पहचान छिपाए हुए हैं.

भोपाल में फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन में क्या क्या हुआ - BBC News हिंदी मुंबई: फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ प्रदर्शन, BJP ने शिवसेना को घेरा नो रिस्‍क का बेस्‍ट ऑप्‍शन बना गोल्‍ड ETF, इस साल न‍िवेशकों ने लगाए 6 हजार करोड़

सबसे पहले ये चर्चाएं 50 के दशक के आखिर में शुरू हुईं. ये कहा जाता था कि कूच बिहार के चीन से सटी सीमा के पास शॉलमारी आश्रम में रहने वाले स्वामी शारदानंद कोई और नहीं बल्कि सुभाष ही हैं. नेताजी के कई करीबियों ने भी इसकी पुष्टि की. इसके बाद 70 के दशक में ग्वालियर के पास नागदा गांव में एक आश्रम बनाकर चुपचाप रहने वाले स्वामी ज्योतिर्देव को भी उनके अनुयायी सुभाष ही मानते थे. इससे पहले 60 के दशक के आखिर में फैजाबाद के गुमनामी बाबा का नाम सबसे ज्यादा पुख्ता तरीके से सुभाष के तौर पर लिया गया.

हालांकि जांच के बाद तीनों ही बाबाओं के बारे में ये कहा गया कि वो सुभाष नहीं थे. खासतौर पर 1999 में अटलबिहारी वाजपेयी सरकार द्वारा गठित किए गए जस्टिस मनोज मुखर्जी आयोग ने अपनी रिपोर्ट में तीनों बाबाओं का विस्तार से जिक्र किया और ये बताया कि वो क्यों सुभाष नहीं थे.

वो बाबा फर्राटे से अंग्रेजी और बांग्ला बोलता थासंजय श्रीवास्तव की नई किताब"सुभाष बोस की अज्ञात यात्रा" में मुखर्जी आयोग की रिपोर्ट और तीनों बाबाओं के बारे में विस्तार से लिखा गया है. 1959 में अचानक बंगाल का शॉलमारी आश्रम सुर्खियों में आ गया. शुरू में तो लोगों का ध्यान उस पर नहीं गया लेकिन जब आश्रम का दायरा 100 एकड़ तक जा पहुंचा तो लोगों के कान खड़े हुए.

पता चला कि ये आश्रम किसी साधू शारदानंद का है. फिर बंगाल की बड़ी बड़ी हस्तियों और अफसरों से उनसे मिलने की खबरें आने लगीं. साधू शारदानंद फर्राटे से बंगाली और अंग्रेजी बोलते थे. महंगी सिगरेट और शराब पीते थे. यहां तक कि सुभाष के कई करीबियों ने इस बाबा से मिलने के बाद ये दावा किया कि वो कोई और नहीं बल्कि सुभाष ही हैं.

कौन था असल में शॉलमारी आश्रम का बाबाये बाबा हमेशा अपना चेहरा ढंककर रहते थे. अपनी फोटो नहीं खींचने देते थे. अंगुलियों की छाप से बचने के लिए रुमाल का इस्तेमाल करते थे. न तो एक्स-रे कराते थे और न ही ब्लड टेस्ट. 1961 में राज्य सरकार और केंद्र सरकार ने शॉलमारी आश्रम के बाबा की जांच करनी शुरू की. बाद में आश्रम ने खुद स्पष्टीकरण दे दिया कि न तो उसके साधू और संस्थापक स्वामी शारदानंद सुभाष हैं और ना ही उनका उनसे कोई लेना-देना है. बाद में इस साधू के बारे में पता लगा कि वह जतिन चक्रवर्ती थे. रिवोल्यूशन पार्टी के सदस्य थे. वो एक अंग्रेज जिलाधिकारी की हत्या करके फरार हो गए थे.

बाद में स्वामी शारदानंद ने शॉलमारी आश्रम छोड़ दिया. वो कई स्थानों पर घूमते हुए देहरादून पहुंचे. वहां कई साल तक रहे. वहीं 1977 में उनका निधन हो गया. हालांकि अब भी कई लोग मानते थे कि वो ही सुभाष थे.नागदा के रहस्यमय स्वामी ज्योतिर्देवमध्य प्रदेश में ग्वालियर के करीब एक छोटा सा रेलवे स्टेशन है श्योपुर कलां. इसके पास ही एक गांव है नागदा. 70 के दशक में एक साधू यहां आकर आश्रम बनाकर रहने लगा. वो भी हमेशा पहरे में रहता था. लोगों से मिलता-जुलता नहीं है. गांववालों का मानना था कि निकटवर्ती गांव में एक विमान दुर्घटना में वो साधू बच गए थे. फिर वो वहीं रहने लगे.

Samastipur: तेजस्वी की सुरक्षा में सेंध, चुनावी सभा के दौरान हेलिकॉप्टर तक पहुंच गई भीड़! तुर्की और अमरीका के बीच क्यों बढ़ रहा है तनाव - BBC News हिंदी मुंगेर फायरिंग को संजय राउत ने बताया 'हिंदुत्व पर हमला', बोले- यही महाराष्ट्र या बंगाल में होता तो BJP...

ये हैं बाबा ज्योतिर्देव, जिनके बारे में कहा गया कि वो सुभाष चंद्र बोस हैं. वो ग्वालियर के करीब एक गांव नागदा में अचानक प्रगट हुए और आश्रम बनाकर रहने लगेदस्तावेजों से पता लगा वो नेताजी नहीं थेइन साधू को उनके अनुयायी स्वामी ज्योतिर्देव कहते थे. गांववाले कहते थे कि वो लगातार सीनियर अधिकारियों से पत्र-व्यवहार करते थे. वो गांव के बाहर भी जाते थे. उनका निधन भी मई, 1977 में हो गया. उनके निधन के बाद मध्य प्रदेश सरकार ने उनके सारे रिकॉर्ड अपनी सुपुर्दगी में ले लिये. हालांकि पुलिस ने जब इन दस्तावेजों की जांच की तो उससे साबित नहीं हुआ कि वो सुभाष थे.

सबसे ज्यादा चर्चा हुई गुमनामी बाबा कीजिस बाबा की सबसे ज्यादा चर्चा सुभाष के रूप में हुई, वो फैजाबाद के गुमनामी बाबा थे. मुखर्जी आयोग के सामने कई लोगों ने दावा किया कि गुमनामी बाबा ही नेताजी थे. जो स्तालिन के निधन के बाद सोवियत संघ से बच निकले. फिर भारत आ गए. यहां वो कई स्थानों पर रहे. फिर फैजाबाद में स्थायी वास किया.

गुमनामी बाबा के 1985 में निधन के बाद जब सामान देखा गया तो उसमें जो सामान थे, उसमें सुभाष के पारिवारिक चित्र, किताबें, सुभाष द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले गोल ऐनक, महंगी सिगरेट, लाइटर, सिगार, रोलैक्स घड़ियां और ना जाने कितने ही सामान थे.किताब सुभाष बोस की अज्ञात यात्रा, जिसमें सुभाष के रहस्य से जुड़े तमाम अनछुए तथ्यों पर रोशनी डाली गई है

गुमनामी बाबा की सहायिका के बेटे की गवाहीमुखर्जी आयोग के सामने कई लोगों ने गवाही दी, इसमें एक गवाह थे राजकुमार शुक्ला, जो गुमनामी बाबा की सहायिका सरस्वती देवी के पुत्र थे. वो आयोग के सामने इसलिए नहीं आ सकीं, क्योंकि उनकी मृत्यु हो चुकी थी. राजकुमार शुक्ला ने बताया कि उनकी मां 1955-56 में श्रृंगार नगर, लखनऊ में गुमनामी बाबा उर्फ भगवान जी के संपर्क में आईं. फिर 16 सितंबर 1985 तक उनके साथ काम करती रहीं.

राजकुमार शुक्ला का कहना था कि उनकी मां उन्हें बताती थीं कि बाबा के पास कोलकाता से कई लोग लगातार मिलने आया करते थे, जिसमें आजाद हिंद फौज से ताल्लुक रखने वाले लोग भी थे.मुखर्जी आयोग ने गुमनामी बाबा के बारे में क्या कहाशुक्ला ने आगे कहा कि उनकी मां ने भी बाबा का चेहरा कभी नहीं देखा लेकिन वो कहती थीं कि गुमनामी बाबा ही सुभाष हैं. हालांकि शुक्ला ने आयोग के सामने जो सबूत दिए वो नाकाफी थे. आयोग के सामने पेश हुए कोई भी शख्स इस बारे में कोई सबूत नहीं दे सका. आयोग गुमनामी बाबा के पास से मिले बहुत से सामानों को अपने साथ कोलकाता लेकर गया. जहां उसकी जांच हुई. बाद में मुखर्जी आयोग ने ये निष्कर्ष निकाला कि गुमनामी बाबा किसी भी हालत में सुभाष नहीं हो सकते.

आयोग का निष्कर्ष था कि ना तो गुमनामी बाबा की हैंड राइटिंग सुभाष से मेल खाती है और ना ही उनके दांतों का डीएनए सुभाष के परिवार से मिलान करने पर मिल पाया. हालांकि आयोग ने माना कि वो निश्चित रूप से सुभाष के करीबी रहे होंगे. बाद में उत्तर प्रदेश सरकार ने गुमनामी बाबा की जांच के लिए विष्णु सहाय आयोग की नियुक्ति की. इस आयोग ने भी वही बात कही, जो मुखर्जी आयोग ने कही थी.

Khagaria: नीतीश के मंत्री बोले- पहले पिता ने बिहार लूटा, अब बेटा देख रहा मुंगेरीलाल के हसीन सपने चुनाव आयोग ने कमलनाथ का स्टार प्रचारक का दर्जा छीना, अब प्रचार किया तो पूरा खर्च कैंडिडेट उठाएगा कश्मीर में ऑपरेशन ऑलआउट से बौखलाए आतंकी, बीजेपी नेताओं की नृशंस हत्या और पढो: News18 India »

10 तक: बिहार में पीएम मोदी की छवि के बूते एनडीए की जंग

आज दस्तक उस राजनीति पर जिससे बिहार का चुनाव आज सबसे ज्यादा प्रभावित है. बिहार में एक चरण का चुनाव हो गया लेकिन दो चरण का चुनाव अभी बाकी है. उसके लिए सियासी और जुबानी जंग दोनों ही तेज हैं. जहां इस चुनाव में एनडीए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नाम पर जीत की उम्मीद कर रही है. वही महागठबंधन के लिए तेजस्वी का वो वादा तुरुप का इक्का है कि जीते तो दस लाख सरकारी नौकरियां देंगे.

धोनी की तारीफ में सहवाग ने पढ़े कसीदे, बोले- वो प्रतिभा के पारखी थेधोनी की तारीफ में सहवाग ने पढ़े कसीदे, बोले- वो प्रतिभा के पारखी थे virendersehwag msdhoni INDvNZ KLRahul Sehwag

पति ने WhatsApp पर बुलाई कॉलगर्ल, जब सामने आई 'वो' तो, उड़ गए होशशख्स ने कॉलगर्ल की पहचान अपनी पत्नी के रूप में की. जिसके बाद मामला थाने पहुंच गया. वहीं, अब पत्नी ने पति पर दहेज मांगने का आरोप लगाते हुए पुलिस में तहरीर दी है. जरूर वो उसकी पत्नी होगी पका उसकी बहन होगी🤮 ग़ज़ब अपनी वाली आ गई ।

आखिर कौन है वो 'महिला' व्योममित्र जिसे पहली बार स्पेस में भेजेगा ISRO - trending clicks AajTakभारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो (Indian Space Research Organization) ने अंतरिक्ष में एक और कदम आगे बढ़ते हुए एक रोबोट को अंतरिक्ष वो जो मेंगलुरु में पकड़ा गया है उसपे कब हल्ला बोला जायगा आज तक वालो Dalal media godi media

आजादी मिलने के बाद हिमालय क्यों जाना चाहते थे सुभाष चंद्र बोस netaji subhash chandra bose want to go himalaya after independence। news18hindi। आजादी के बाद क्यों हिमालय जाना चाहते थे नेताजी सुभाष बोस। सुभाष चंद्र बोस आजादी की लड़ाई के दौरान आजाद हिंद फौज के सहयोगियों से अक्सर ये बात कहते थे कि वो देश को आजादी दिलाने के बाद हिमालय जाना चाहते थे. नेताजी बार-बार अपना ये इरादा क्यों जाहिर करते थे. वो हिमालय जाकर क्या करना चाहते थे | knowledge News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी Who said this. Was he alive after independence? 😆😆😆 अरे भाई पहले से कहानी मे बहौत ट्वीस्ट है। अब ज्यादा लोचा मत करो। कोई रिसर्च करने हिमालय नही जाने वाला। घर बैठकर कहानी बनायेंगे। जैसी अभी आपने बनाया। MayurPa08903345 Best nata PM Modi ji hai

आजादी मिलने के बाद क्या करना चाहते थे सुभाष चंद्र बोस netaji subhash chandra bose want to go himalaya after independence। news18hindi। आजादी के बाद क्यों हिमालय जाना चाहते थे नेताजी सुभाष बोस। सुभाष चंद्र बोस आजादी की लड़ाई के दौरान आजाद हिंद फौज के सहयोगियों से अक्सर ये बात कहते थे कि वो देश को आजादी दिलाने के बाद हिमालय जाना चाहते थे. नेताजी बार-बार अपना ये इरादा क्यों जाहिर करते थे. वो हिमालय जाकर क्या करना चाहते थे | delhi-ncr News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी भारत व हिन्दुत्व के इतिहास को नकारने वाले पाकिस्तान के समर्थक व मुगल परस्त सैफ अली खान की सभी फिल्मों का विरोध करके राष्ट्र व हिन्दुत्व की ताकत दिखाई जाएगी । जय श्रीराम जय हिंद Boycott jawaani jaaneman. जय हिंद सुभाष चन्द्र को एसी जगह मारा है कि आजतक अस्थियाँ भी नही मिली है इस वीर सपूत की? अगर बौस नही होते तो भारत शायद कभी आज़ाद नही हो पाता? अंग्रेज़ गांधी से नही बौस के बुलन्द हौसले से पस्त और भयभीत होकर भारत छोड़ने पर मजबूर हुए थे।

सुभाष चंद्र बोस के पोते ने कहा- जिन्ना धर्मनिरपेक्ष नेता थे, कांग्रेस के सांप्रदायिक नेताओं के कारण बंटवारा हुआभाजपा उपाध्यक्ष चंद्र कुमार बोस ने कहा- मोहम्मद अली जिन्ना को लगा कि वे भारत में सत्ता साझा नहीं कर सकते थे उन्होंने कहा- जिन्ना का 1955 में निधन हो गया, उसके बाद पाकिस्तान एक इस्लामिक राष्ट्र बन गया | CK Bose said Jinnah was secular leader; India got divided because of communal leaders of Congress regime Chandrabosebjp INCIndia DilipGhoshBJP AITCofficial MamataOfficial नेता जी की सोच को उनके संबंधियों में खोजना सही नहीं है।। Chandrabosebjp INCIndia DilipGhoshBJP AITCofficial MamataOfficial JPNadda AmitShah ऐसे मुर्ख बिना बेस वाले लोगो को पार्टी में कब तक बर्दास्त किया जाएगा? Chandrabosebjp INCIndia DilipGhoshBJP AITCofficial MamataOfficial he will be joining TMC shortly