Vote, Election Commission, Political Party, Candidate, Distribute, Money, For Vote

Vote, Election Commission

वोट की कीमत

वोट की कीमत in a new tab)

17-09-2021 02:49:00

वोट की कीमत in a new tab)

किसी भी देश में लोकतंत्र अपने नतीजे में भ्रामक हो सकता है, अगर वहां चुनाव में वोट लेने के लिए राजनीतिक दल मतदाताओं को पैसे या तोहफों का प्रलोभन दें।

विडंबना यह है कि न तो चुनाव आयोग अपनी ओर से ऐसे मामलों में कोई पहल करता है और न शिकायतों पर ही गंभीरता दिखाई जाती है। इसलिए दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को चुनाव आयोग से बिल्कुल वाजिब सवाल किया है कि उसने उन राजनीतिक दलों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की, जिन्होंने भ्रष्ट आचरण पर दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया और अपने घोषणापत्र तक में मतदाताओं को धन देने का प्रस्ताव दिया।

चीन के नए सीमा क़ानून पर भारत ने कहा- ये हमारे लिए चिंता की बात है - BBC Hindi म्यांमार में कई बम धमाके, सैन्य सत्ता के खिलाफ़ बढ़ता जा रहा है विरोध - BBC Hindi आगरा: पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने के आरोप में तीन कश्मीरी छात्र गिरफ़्तार - BBC Hindi

इस मसले पर चुनाव आयोग को नोटिस जारी करने के अलावा दिल्ली हाई कोर्ट ने उस याचिका पर केंद्र सरकार से भी जवाब मांगा है, जिसमें दावा किया गया था कि वोट के बदले नोट का वादा जन प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 123 का उल्लंघन करता है। जाहिर है, अगर लोकसभा या विधानसभा चुनावों के दौरान किसी उम्मीदवार या पार्टी की ओर से मतदाताओं को यह कहा जाता है कि अगर वे उन्हें वोट दें तो इसके बदले नकदी या तोहफा दिया जाएगा, तो यह कानूनन अपराध है।

लेकिन अमूमन हर चुनाव में ऐसे मामले संज्ञान में आते हैं, जिनमें लोगों का वोट लेने के लिए इस तरह का प्रलोभन परोसा गया। यह वैसी प्रवृत्तियों के अलावा है, जिसमें मतदान के दिन या उससे ठीक पहले मतदाताओं के बीच चोरी-छिपे नकदी या शराब बांट कर उनका वोट हासिल करने की कोशिश की जाती है। यानी पर्दे के पीछे चलने वाली गतिविधियां जहां आम लोगों की दृष्टि में अवैध और गलत होती हैं, वहीं पार्टियों की ओर से सभाओं या घोषणापत्रों में जब इस तरह की पेशकश की जाती है तो उसके प्रति नजरिया बदल जाता है। यह इस अवैध हरकतों की ज्यादा बड़ी जटिलता है। headtopics.com

सवाल है कि अगर चुनाव आयोग की नजर में वोट के बदले नकदी देना या देने की पेशकश करना अवैध है तो शिकायतें आने के बाद वह महज नोटिस जारी करने के बजाय ठोस कार्रवाई करके इस मामले में कोई सख्त संदेश क्यों जारी नहीं करता! यह छिपी बात नहीं है कि चुनावों के दौरान आए दिन सभाओं और भाषणों में वोट हासिल करने के लिए किसी राजनीतिक पार्टी या उनके बड़े नेताओं की ओर से कोई सामान देने या फिर लोगों के खातों में नकदी हस्तांतरण की बातें कही जाती हैं।

ऐसे में मतदाता अपनी समस्याओं या अभाव के व्यापक स्वरूपों और मूल कारणों की अनदेखी करके ऐसी बातों के प्रभाव में आ जा सकता है। यानी एक तरह से यह प्रवृत्ति मतदाताओं के विवेक को बाधित कर उन्हें बरगला कर वोट लेने की कोशिश है। यह ध्यान रखने की जरूरत है कि अगर लोगों को उनके अधिकारों को लेकर जागरूक करने के बजाय प्रलोभन या संजाल परोस कर वोट लेने के चलन पर रोक नहीं लगी, तो इससे न केवल मतदाताओं के बीच भ्रम और अपरिपक्वता का प्रसार होगा, बल्कि इसका विपरीत असर लोकतंत्र और आम लोगों के अधिकारों पर पड़ेगा।

और पढो: Jansatta »

वारदात: अब जेल में ही कटेगी Ram Rahim की सारी जिंदगी, तीसरी बार उम्र कैद

25 अगस्त 2017, दो साध्वियों से यौन शोषण में राम रहीम को पहली उम्र क़ैद. 17 जनवरी 2019, पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के क़त्ल में राम रहीम को दूसरी उम्र क़ैद. और अब 18 अक्टूबर 2021, मैनेजर रंजीत सिंह के मर्डर में राम रहीम को तीसरी उम्र क़ैद. बीस साल वाली पहली उम्र क़ैद को छोड़ दें, तो बाक़ी उम्र क़ैद उम्र भर की है. 60 से ऊपर के हो चुके गुरमीत राम रहीम की बची कुची उम्र क़ायदे से अब जेल की चारदिवारी के अंदर ही गुज़रेगी. राम रहीम की सज़ाओं की फेहरिसत में नई फेहरिस्त सोमवार को जुड़ी, पंचकूला सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा के पूर्व मैनेजर रंजीत सिंह के क़त्ल के इल्ज़ाम में राम रहीम को उम्र कैद की सज़ा दी है. देखिए वारदात का ये एपिसोड.

भारत में पिछले 24 घंटे में नए COVID-19 केसों में लगभग 12.5 प्रतिशत की बढ़ोतरीभारत में पिछले 24 घंटे में नए COVID-19 केसों में लगभग 12.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी CoronavirusUpdates TheSatyaShow : Beta Gaana Laga De.

UP में जनता की जान की चिंता छोड़ अब्बाजान, चचाजान की राजनीति, देखें 10 तकआज हमें जनता की जान की चिंता छोड़कर अब्बा जान, चचा जान, अम्मी जान की होती राजनीति पर दस्तक देनी है. इसीलिए हमने आज की पहली दस्तक का नाम दिया है- जब तक है जान. यहां तीन तरह की जान है. पहली आम आदमी की जान यानी जिंदगी, जो उत्तर प्रदेश में डेंगू समेत दूसरे संक्रामक बीमारियों की चपेट में आ रही है. लेकिन उसकी जान बचाने की जगह यूपी में अब्बा जान, चचा जान, अम्मी जान की चर्चा हो रही है. अब सवाल है कि क्या पेड़ के नीचे इलाज कराती जनता की पीड़ा भी क्या अब्बाजान-चाचाजान की राजनीति में दब जा रही है? देखिए 10 तक का ये एपिसोड. Vaccination के बाद ये आजतक वालों की इतनी फटने क्यों लगी है.. 😆🤣 देखिए 10Tak, Sayeed Ansari के साथ.. अफ़गान स्टेट टीवी के इंटरव्यू में देखा गया मुल्ला बरादर! 😆

Gold Silver Price: कीमती धातुओं की कीमत में गिरावट, जानिए कितना हुआ दामएमसीएक्स पर सोना वायदा 0.10 फीसदी यानी 47 रुपये गिरकर 47213 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया। चांदी में 0.29 फीसदी यानी 186 रुपये

गाजियाबाद में पिता और पुत्र की धारदार हथियार से हत्या, पुलिस जुटी तफ्तीश में | ghaziabadगाजियाबाद। गाजियाबाद में पिता और पुत्र की धारदार हथियार से हत्या कर दी गई। इस डबल मर्डर से क्षेत्र में हड़कंप मचा हुआ है। इन दोनों का शव सुबह घर के अंदर बिस्तर पर पड़ा हुआ मिला। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए हैं और मौके से साक्ष्य जुटाकर जांच कर रही है।

सचिन वाजे की मुंबई के अस्पताल में हुई सर्जरी, एंटीलिया केस में है आरोपीएंटीलिया बम मामले के आरोपी मुंबई पुलिस के पूर्व असिस्टेंट पुलिस इंस्टपेक्टर (एपीआई) सचिन वाजे की मंगलवार को मुंबई में बायपास सर्जरी की गई. डॉक्टरों की एक टीम ने वाझे की वॉकहार्ट अस्पताल में सर्जरी की.

अफगानिस्तान: काबुल में बंदूक की नोक पर भारतीय नागरिक का अपहरण, दिल्ली में रहता है परिवारअफगानिस्तान: काबुल में बंदूक की नोक पर भारतीय नागरिक का अपहरण, दिल्ली में रहता है परिवार Afganistan Taliban PMOIndia MEAIndia PMOIndia MEAIndia Freind ab telbun Ko money ke jurath key key apni old thinks ke survath ker de bus chinia Mey yey loge es peker ke herkth n in deshio key negrike Ko pereysion nhi kerthey ok PMOIndia MEAIndia दुनिया ने आतंकवादियों के सामने आत्मसमर्पण किया है। तालिबान, चीन और पाकिस्तान का अमानवीय हथियार है जिसे शांतिप्रिय देशों के खिलाफ क्रूर कम्युनिस्ट और इस्लामिक कट्टरपंथी द्वारा अशांत करने का प्रयास है। फिर भी दुनिया खामोश है। ऐसे देशों का बहिष्कार क्यों नहीं