Electioncommission, Vvpatverification, Evm, Loksabhaelections 2019, चुनावआयोग, वीवीपैटसत्यापन, ईवीएम, लोकसभाचुनाव2019

Electioncommission, Vvpatverification

वीवीपैट सत्यापन की संख्या बढ़ने से चुनावी प्रक्रिया में भरोसा बढ़ेगा

चुनाव आयोग को पारदर्शिता के हक़ में कदम में उठाते हुए मौजूदा व्यवस्था की तुलना में बूथों के ज्यादा बड़े सैंपल के वीवीपैट सत्यापन की मांग को स्वीकारना चाहिए.

31-03-2019 07:53:00

वीवीपैट सत्यापन की संख्या बढ़ने से चुनावी प्रक्रिया में भरोसा बढ़ेगा ElectionCommission VVPATVerification EVM LoksabhaElections2019 चुनावआयोग वीवीपैटसत्यापन ईवीएम लोकसभाचुनाव2019

चुनाव आयोग को पारदर्शिता के हक़ में कदम में उठाते हुए मौजूदा व्यवस्था की तुलना में बूथों के ज्यादा बड़े सैंपल के वीवीपैट सत्यापन की मांग को स्वीकारना चाहिए.

चुनाव आयोग विभिन्न मतदान केंद्रों पर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) द्वारा गिने जानेवाले मतों के वीवीपैट (वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल) सत्यापन को बढ़ाने के लिए रजामंदी देकर लोगों की नजरों में अपनी विश्वसनीयता को ही बढ़ाएगा.फिर चुनाव आयोग द्वारा ज्यादा संख्या में वीवीपैट सत्यापन के विचार का विरोध करने की वजह क्या है, जिसकी मांग 21 विपक्षी दलों ने सुप्रीम कोर्ट में अपनी याचिका में की है? फिलहाल चुनाव आयोग प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के एक बूथ पर वीवीपैट द्वारा भौतिक सत्यापन के लिए राजी हुआ है.

सचिन पायलट के साथ माने जा रहे तीन विधायकों का U-टर्न, कहा- 'हम कांग्रेस के सच्चे सिपाही' गहलोत को सीएम पद से हटाने से कम पर तैयार नहीं सचिन पायलट, कहा - अब आर या पार की लड़ाई : सूत्र सचिन पायलट BJP के संपर्क में, 30 MLA भी छोड़ सकते हैं कांग्रेस का दामन

इसका मतलब है कि कुल इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों के 1 प्रतिशत से भी कम का वीवीपैट सत्यापन किया जाएगा. सोमवार को भारत के मुख्य न्यायाधीश ने कोर्ट में मौजूद चुनाव उपायुक्त से दृढ़ता के साथ यह अनुरोध किया कि चुनाव आयोग को लोकतांत्रिक कवायद की पवित्रता और विश्वसनीयता को बढ़ाने के लिए वीवीपैट सत्यापन की संख्या को बढ़ाने पर विचार करना चाहिए.

एक बिंदु पर तो मुख्य न्यायाधीश चुनाव उपायुक्त से नाराज हो गए जो इलेक्ट्रॉनिक तरीके से डाले गए मतों के वीवीपैट सत्यापनों की संख्या को बढ़ाने की जरूरत न होने की दलील दे रहे थे.मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने चुनाव आयोग को यह याद दिलाया कि 2013 में सुप्रीम कोर्ट के आग्रह के बाद ही वीवीपैट कागजी सत्यापन की व्यवस्था की गई. मुख्य न्यायाधीश ने चुनाव आयोग के अधिकारियों को याद दिलाते हुए कहा कि उस समय चुनाव आयोग वीवीपैट की शुरुआत करने का भी विरोध कर रहा था.

वास्तव में चुनाव आयोग द्वारा 2014 में समग्र रूप से 60 प्रतिशत से ज्यादा वोट पानेवाले राजनीतिक दलों के वीवीपैट सत्यापन की संख्या को वर्तमान स्तर से बढ़ाने के वैध आग्रहों का विरोध करना समझ से परे है.सत्ताधारी दल द्वारा मतदान और मतगणना की प्रक्रिया को ज्यादा पारदर्शी बनाने के इस प्रस्ताव का समर्थन न करना भी समान रूप से हैरत में डालनेवाला है. विपक्ष की याचिका ने कम से कम 50 फीसदी मतदान केंद्रों में वीवीपैट सत्यापन की मांग की है.

यह बहुत बड़ी संख्या हो सकती है, लेकिन निश्चित तौर पर एक संतोषजनक फॉर्मूला निकाला जा सकता है, जिसके तहत 20-30 प्रतिशत मतदान केंद्रों को क्रमरहित सत्यापन (रैंडम वेरिफिकेशन) के लिए खोला जा सकता है.अगर इस प्रक्रिया के कारण परिणाम आने में कोई 48 घंटे का वक्त ज्यादा लग भी जाए, तो इसमें कोई नुकसान नहीं है. इस संदर्भ में पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाय कुरैशी का विचार गौर करने लायक है.

द वायरलिखते हुएउन्होंने सुझाव दिया था कि किसी क्षेत्र में दूसरे नंबर पर रहनेवाले उम्मीदवार को अपनी मर्जी से क्रमरहित वीवीपैट सत्यापन के लिए मतदान केंद्रों का चुनाव करने की इजाजत मिलनी चाहिए. क्रिकेट की तरह जहां किसी फैसले को स्लो मोशन रीप्ले सुविधा से लैस तीसरे अंपायर के पास भेजा जाता है, उसी तर्ज पर विभिन्न राज्यों में चुनाव लड़ रही हर पार्टी को एक निश्चित संख्या में वीवीपैट सत्यापन का मौका देना चाहिए.

अगर चुनाव आयोग सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के तहत नहीं बल्कि खुद अपनी तरफ से समाधान लेकर आता, तो इससे उसकी साख सचमुच में बढ़ती. जहां सवाल लोकतांत्रिक प्रक्रिया की पारदर्शिता और विश्वसनीयता को बढ़ाने का हो, वहां संवैधानिक संस्थाओं के बीच किसी तरह का अहं का टकराव नहीं होना चाहिए.

LIVE: खतरे में गहलोत सरकार, पायलट खेमे के विधायक आज देर रात दे सकते हैं इस्तीफा राजस्थान के सियासी उठापटक के बीच आखिर क्यों सचिन पायलट से नहीं मिला गांधी परिवार? सचिन पायलट थाम सकते हैं BJP का हाथ, 30 विधायकों के भी कांग्रेस छोड़ने के कयास

चुनाव आयोग को न्यायपालिका को उसके अधिकारक्षेत्र में हस्तक्षेप करनेवाले के तौर पर नहीं देखना चाहिए. इसके अलावा, अगर चुनाव आयोग को सांख्यिकी विशेषज्ञ यह राय देते हैं कि वीपीपैट प्रक्रिया को विश्वसनीय बनाने के लिए छोटे से छोटा सैंपल भी पर्याप्त होगा, तो यह किसी उद्देश्य को पूरा नहीं करेगा.

यहां सवाल पारदर्शिता और सत्यापन को लेकर लोगों के मन में बैठी चिंताओं का है. क्या ईवीएम में कोई कमी नहीं है या क्या इनके साथ बिल्कुल भी छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है- इस बात को लेकर अंतहीन बहस रही है. इसके पक्ष और विपक्ष में विचार प्रकट किए जाते रहे हैं.आंकड़ों के द्वारा यह स्थापित किया जा चुका है कि 5 प्रतिशत के करीब ईवीएम में स्वाभाविक तरीके से गड़बड़ी आने की शिकायत आती है, लेकिन व्यापक नतीजों पर इसका कोई असर नहीं पड़ता. कुछ शंकालु लोगों द्वारा विदेश में निजी कंपनियों के द्वारा ईवीएम चिप्स के लिए सॉफ्टवेयर डिजाइन करने के तरीके को लेकर भी संदेह जताया गया है.

चुनाव आयोग ने ईवीएम के तकनीकी मानकों की जांच करने और सभी संदेहों का निवारण करने के लिए अपनी तरफ से भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) जैसे संस्थानों के शीर्ष विशेषज्ञों का पैनल बनाया है. लेकिन दुर्भाग्य से पिछले कुछ वर्षों की ऐसी तीखी बहस भी इलेक्ट्रॉनिक मतदान प्रक्रिया को लेकर सभी शंकाओं का समाधान करने में मददगार साबित नहीं हुई है.

कई विशेषज्ञों ने इस ओर ध्यान दिलाया है कि जर्मनी, नीदरलैंड, आयरलैंड और अमेरिका जैसे कई विकसित लोकतांत्रिक राष्ट्र या तो कागज के मतदान पत्रों की तरफ लौट गए हैं, या उसकी फिर से शुरुआत करने की प्रक्रिया में हैं. जबकि उनके पास सर्वोत्तम तकनीक उपलब्ध है.एक जर्मन अदालत ने कागज के मतदान पत्रों (बैलट पेपर) के पक्ष में एक विस्तृत निर्णय दिया है, जिसका आधार बस पारदर्शिता और सत्यापन योग्यता है. यह संभवतः इसलिए हुआ क्योंकि लोकतांत्रिक प्रक्रिया को इतना पवित्र माना जाता है कि मतपत्रों की हाथ से गिनती को तकनीक के ऊपर तवज्जो दी गयी, ताकि संदेह की सुई बराबर भी गुंजाइश न रहे.

भारत भी इसी तरह की एक तीखी बहस के बीच में है, लेकिन इसका कोई समाधान निकलता नजर नहीं आ रहा है. लेकिन फिलहाल चुनाव आयोग को निश्चित ही पारदर्शिता के हक में कदम में उठाना चाहिए और मौजूदा व्यवस्था की तुलना में बूथों के ज्यादा बड़े सैंपल के वीवीपैट सत्यापन की मांग को स्वीकार करना चाहिए.

जैसा कि मुख्य न्यायाधीश ने कहा, ‘कोई भी संस्था, चाहे वह कितनी ही ऊंची क्यों न हो, उसे अपने में सुधार के लिए तैयार रहना चाहिए.’ हम 2019 के लोकसभा चुनावों में इतने सारे संदेहों और अविश्वास के साथ जाना गवारा नहीं कर सकते. और पढो: द वायर हिंदी »

ElectionCommission ये नहीं मानेगा। बड़े साहब को ज़बाब भी तो देना पड़ता है।

BJP में बागियों की लंबी कतार, SP, BSP, कांग्रेस में भागने की फिराक में दर्जनभर MPLok Sabha Poll 2019: केंद्रीय मंत्री और शाहजहांपुर से सांसद कृष्णा राज, बाराबंकी सांसद प्रियंका रावत, मिसरिख सांसद अंजू बाला, संभल सांसद सत्यपाल सैनी और पार्टी के वरिष्ठ नेता और कानपुर से सांसद मुरली मनोहर जोशी का भी टिकट पार्टी ने काटा है। samajwadiparty BSPUttarPradesh INCIndia इसे भी पढ़ो

चुनाव आयोग ने SC से कहा- वीवीपैट की पर्चियों की गणना का वर्तमान तरीका सबसे उपयुक्तनिर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट से कहा कि वीवीपैट की पर्चियों की गणना का वर्तमान तरीका सबसे अधिक उपयुक्त है. आयोग ने प्रति विधानसभा क्षेत्र के एक मतदान केन्द्र से अकस्मात तरीके से वीवीपैट की पर्चियों की गणना की प्रणाली को न्यायोचित ठहराया. आयोग ने कहा कि वह किसी भी ऐसे सुझाव पर विचार के लिये तैयार है जिससे देश में स्वतंत्र और निष्पक्ष तरीके से चुनाव कराने में सुधार मदद मिलती हो. ये चुनाव आयोग को परेशानी क्या है, 50% VVPAT पर्चियों की गिनती से। क्या धांधली पकड़ा जाने का डर है हमारे पास क्या सबूत होगा कि हमने किसको वोट दिया है ? हमें भी पर्ची चाहिए कि हमने किसको वोट दिया है, ऐसी भी व्यवस्था होनी चाहिए ?

VVPAT पर हलफनामे के लिए चुनाव आयोग ने मांगा समय, SC ने दी इजाजतचुनाव आयोग की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने वीवीपैट की पर्चियों के सत्यापन मामले में हलफनामा दाखिल करने की समय सीमा शुक्रवार तक के लिए बढ़ा दी है. चुनाव आयोग के हलफनामे के बाद शीर्ष अदालत एक अप्रैल को मामले की सुनवाई करेगी. इस संबंध में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चन्द्रबाबू नायडू के नेतृत्व में 21 विपक्षी दलों के नेताओं ने याचिका दाखिल की है. पहले तो हारने के बाद यह काम होता था अब चुनावों के पहले ही महाठगबंधन यह काम कर रहा है अर्थात हार निश्चित है महाठगबंधन की .VIPAKCH CHUNAAV SE BURI TARAH SE DARA HUA H CHUNAAV TALANA CHAHTA H IS WRIT KA YAHI ARTH NIKAL RAHA H narendramodi लगता है इनके पास कुछ और काम धाम नही है विरोधियों के

इंदौर में ताई-भाई की साख की लड़ाई में फंसा बीजेपी का लोकसभा का टिकटभोपाल। इंदौर लोकसभा सीट पर बीजेपी में टिकट को लेकर बड़ा टकराव खड़ा होता दिखाई दे रहा है। टिकट को लेकर एक बार फिर ताई-भाई के बीच पेंच फंस गया है।

बिहार में राजद ने की उम्मीदवारों की घोषणा, कांग्रेस में अब भी सस्पेंस बरकरार- Amarujalaबिहार में महागठबंधन की अगुआई कर रही पार्टी राष्ट्रीय जनता दल ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। वहीं, दूसरी ओर कांग्रेस में सस्पेंस बरकरार है। Mahagathbandhan Mahasangram yadavtejashwi INCIndia yadavtejashwi INCIndia यह है कांग्रेस की हालत और क्षेत्रीय दल अगुवाई कर रहे हो yadavtejashwi INCIndia FirEkBaarModiSarkar AbkiBaarPhirModiSarkar

स्कूल में हुए हमले में बची लड़की की मौत, पुलिस को आत्महत्या की आशंका2nd survivor of US school shooting has died | फरवरी 2018 में स्कूल में हुआ था हमला, 17 लोग मारे गए थे मृतका की मां ने कहा- हमले में बचने के बाद भी अवसाद में थी

ब्रिटेन की कोर्ट में नीरव मोदी की जमानत पर सुनवाई जारी, कुछ देर में आएगा फैसलापीएनबी घोटाले के आरोपी भगोड़ा हीरा कारोबारी के प्रत्यर्पण पर लंदन की अदालत में सुनवाई शुरू हो गई है. लंदन के समय के अनुसार शुक्रवार सुबह 11 बजे (भारतीय समयानुसार 4.30 बजे) वेस्टमिंस्टर की मजिस्ट्रेट अदालत में सुनवाई शुरू हुई. जेल में डालो की निकले नही कभी। नीरव मोदी को भारत तक जूते मारकर लाओ MC चमचे को savecutoff90_97 myogiadityanath narendramodi drdineshbjp बात करते है योग्यता की और योग्यता का तो कही नामोनिशान नही है 40/45 वाला योग्य है और 100/120 वाला अयोग्य . क्या यही है up की न्यायव्यवस्था .. जान कीमत क्या होती है अरे उस मां से पूछो जाकर जिसका बेटा आज नही रहा...

LIVE: बिहार में महागठबंधन की सीटों के ऐलान में देरी, तेजस्वी-मांझी की बैठक जारीकिस पार्टी के खाते में कौनसी सीट जा सकती है... IndiaElects LokSabhaElections2019 Kya kamal ka parivar hy 😂😂😂 bevakuf cogress ke sath hy mins Ghadhe इसबार चुनाव होंगे Interesting LokSabhaElections2019

दक्षिण के तीन राज्यों में मोदी की रैलियां आज, हरियाणा में राहुल की जनसभाpm modi live news update from koratput mehboobnagar karnool loksabha election 2019 campaign pm modi speech | प्रधानमंत्री कोरापुट, मेहबूबनगर और करनूल में जनसभा करेंगे राहुल गांधी की हरियाणा और अमित शाह की बिहार-बंगाल में रैली

LIVE: बिहार में महागठबंधन की PC से पहले ही कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्टउर्मिला मातोंडकर को मुंबई नॉर्थ से मिला कांग्रेस का टिकट IndiaElects LokSabhaElections2019 एक सीट और हार गई कांग्रेस अपने चुतियापे की वजह से. Liklo nahi jeetheyghe ,kyu ke she don't know ABCD of politics

PM CARES फंड की जांच नहीं करेगी लोक लेखा समिति, BJP ने रोका रास्ता सचिन पायलट के साथ दिल्ली गए राजस्थान के विधायकों ने कहा, 'हम कांग्रेस के साथ हैं, कोई विवाद नहीं है' Amitabh Bachchan Covid 19 Positive: अमिताभ बच्चन को कोरोना, मुंबई के नानावटी अस्पताल में किया गया एडमिट सेना में इंजीनियरिंग के 9000 से अधिक पद समाप्त, युवाओं में उत्साह अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन भी कोरोना पॉजिटिव, बोले- हल्के लक्षण हैं... फिंगर 4 से 5 की तरफ बढ़ी चीनी सेना, सैटेलाइट तस्वीरों से हुई तस्दीक: सूत्र राहुल गांधी का हमला, कहा- PM मोदी के रहते भारत की जमीन को चीन ने कैसे छीन लिया सुशील मोदी ने RJD को बताया कमजोर छात्र, तो तेजस्वी यादव बोले - राजद के डर से 24 साल से नीतीश कुमार के पिछलग्गू बने हुए हो... Coronavirus Vaccine News: कोरोना वैक्‍सीन पर रूस ने मारी बाजी, सेचेनोव विश्वविद्यालय का दावा सभी परीक्षण रहे सफल क्या सचिन पायलट भी सिंधिया के रास्ते पर जाने को तैयार हैं? जानिए उनके बारे में 5 बड़ी बातें Coronavirus पर WHO का बयान- कोरोना पर कर सकते हैं काबू, मुंबई के धारावी का दिया उदाहरण