Study, Education, Pointless Things, Live İn Present

Study, Education

वर्तमान में जिएं और खुश रहें

वर्तमान में जिएं और खुश रहें in a new tab)

22-09-2021 22:32:00

वर्तमान में जिएं और खुश रहें in a new tab)

विभिन्न अध्ययनों के अनुसार अधिकतर लोगों का 70 से 90 फीसद तक समय भूतकाल, भविष्यकाल और अन्य व्यर्थ की बातें सोचने में चला जाता है।

इसका अर्थ यह है कि वर्तमान में हमें कोई समस्या नहीं है और हमारी परेशानी या तनाव का कारण या तो भूतकाल की कोई घटना है या भविष्यकाल का डर है। अगर समस्या का कारण भूतकाल है तो अब उसका तो कुछ किया नहीं जा सकता इसलिए व्यर्थ में तनाव लेकर हम अपने ही दिमाग को परेशान कर रहे हैं। यदि अगर तनाव का कारण भविष्यकाल का कोई डर है तो उसका भविष्य तो वर्तमान ही तय करेगा।

आर्यन ख़ान मामला: नवाब मलिक के आरोपों पर समीर वानखेड़े ने दी सफ़ाई, दुबई जाने से किया इनकार - BBC Hindi भारत को टी-20 वर्ल्ड कप में कौन मान रहे हैं ख़िताब का प्रबल दावेदार - BBC News हिंदी क्रूज ड्रग्स केस : दो घंटे की पूछताछ के बाद अनन्या पांडे NCB दफ्तर से निकलीं

इसलिए अगर हम वर्तमान में जिएंगे तो भविष्य अच्छा ही होगा और अगर हम बार बार भविष्य के डर से डरते रहेंगे जो अभी तक पैदा ही नहीं हुआ तो फिर हम अपना वर्तमान खराब कर देंगे और हमारा यही वर्तमान हमारा भविष्य खराब कर देगा। इसलिए हमें वर्तमान में ही जीना चाहिए और इसे बेहतर बनाना चाहिए क्योंकि न तो भूतकाल और न ही भविष्यकाल पर हमारा नियंत्रण है।

और पढो: Jansatta »

दैनिक भास्कर से बोलीं कश्मीर की बेटी श्रद्धा बिंद्रू: मैं दुनिया को बताना चाहती हूं कि कश्मीर हमारा है, कोई डरा-धमकाकर हमारे हौसले को पस्त नहीं कर सकता

‘तुम सिर्फ शरीर को मार सकते हो, मेरे पिता की आत्मा को नहीं। अगर हिम्मत है तो सामने आओ, तुम लोग केवल पत्थर फेंक सकते हो या पीछे से गोली चला सकते हो। मैंने हिंदू होते हुए भी कुरान पढ़ी है। कुरान कहती है कि शरीर का जो चोला है, यह तो बदल जाएगा, लेकिन इंसान का जो जज्बा है, वह कहीं नहीं जाएगा। माखनलाल बिंद्रू इसी जज्बे में हमेशा जिंदा रहेंगे।’ यह कहना है आतंकियों को सरेआम ललकारने वालीं श्रीनगर में कश्मीर... | वुमन भास्कर ने श्रद्धा बिंद्रू से बात की। उन्होंने कश्मीर और कश्मीरियत का हवाला देते हुए कहा-हम इसी मिट्‌टी में पैदा हुए हैं, हमें इससे प्यार है। हमारे पिता ने भी इसी के लिए जान दी।

भारत में पिछले 24 घंटे में नए COVID-19 केसों में 3.25 प्रतिशत बढ़ोतरीCoronavirus: पिछले 24 घंटे में कोरोना से 34,167 लोग ठीक हुए, जिससे के बाद ठीक होने वाले मरीजों की कुल संख्या की बात करें तो ये 3,27,83,741 हो गई है. Should one believe official figures? Covid death figures were allegedly all wrong. May be third wave be declared during election time to manipulate elections.

कोविड महामारी के दौरान देश में हत्या के मामले बढ़े, यूपी में सर्वाधिक केस, लक्षद्वीप, लद्दाख में एक भी नहीं; NCRB रिपोर्ट में अन्य अपराधों में भी तेजीसबसे खास बात यह है कि आबादी के लिहाज से भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में 2020 में हत्या के सबसे अधिक 3,779 मामले दर्ज किए गए। दूसरी तरफ इस दौरान लक्षद्वीप और लद्दाख जैसे राज्यों में कोई मर्डर नहीं हुआ।

जम्मू में लंबे समय बाद 10वीं और 12वीं के लिए खुले स्कूल, यहां पढ़ें पूरी जानकारीइस साल की शुरुआत में यानी कि मार्च के अंत में कोरोना केसेज की संख्या बढ़ने लगी थी। इसके बाद कोविड- 19 के प्रसार को रोकने के लिए विश्वविद्यालय एवं कॉलेजों समेत सभी शिक्षण संस्थानों को इस साल 18 अप्रैल को बंद कर दिया गया था।

अफगानिस्तान में मुल्‍ला बरादर को बंधक बनाने और हैबतुल्लाह अखुनजादा की मौत की खबर: रिपोर्टAfghanistan Crisis इस महीने की शुरुआत में गठित सरकार के प्रमुख मुल्ला हसन अखुंद वास्तविक शक्ति नहीं रखता है। हक्कानी नेटवर्क पर लगाम लगाने वाला कोई नहीं है जो अपने सार्वजनिक बयानों में बहुत अधिक संदेश देता है। start_MP_teachers_transfer_portal narendramodi ChouhanShivraj JM_Scindia Indersinghsjp माननीय सिर्फ चहीतों और मंत्रियों को खुश करनेवालों को ट्रांसफर मिले सुना था मामाजी के लिये सभी भानजे समान हैं?ये कैसा अन्याय? विनती है कि सबके लिये पारदर्शिता सेपोर्टल पुनः चालू कीजिये

दर्दनाक: मुरैना और बैतूल में भारी बारिश, बिजली गिरने से पांच की मौत, एक महिला घायलदर्दनाक: मुरैना और बैतूल में भारी बारिश, बिजली गिरने से पांच की मौत, एक महिला घायल Muraina Baitul MadhyaPradesh Lightning

अकूत संपत्ति, महंत की मौत और शिकंजे में शिष्य!अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष तथा श्री पंचायती निरंजनी अखाड़ा के सचिव महंत नरेंद्र गिरि संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के सूत्र तीर्थ नगरी हरिद्वार से जुड़े हैं।