Tokyo 2020, Tokyoolympics, Vandanakatariya, Vandanakatariya Became The First Indian Women's Hockey Player To Score A Hat-Trick At The Olympics |

Tokyo 2020, Tokyoolympics

वंदना कटारिया ने इतिहास रचा: ओलिंपिक महिला हॉकी में हैट्रिक मारने वाली पहली भारतीय; दिवंगत पिता के लिए मेडल जीतने का लक्ष्य

वंदना कटारिया ने इतिहास रचा: ओलिंपिक महिला हॉकी में हैट्रिक मारने वाली पहली भारतीय; दिवंगत पिता के लिए मेडल जीतने का लक्ष्य #Tokyo2020 #TokyoOlympics #VandanaKatariya

31-07-2021 11:53:00

वंदना कटारिया ने इतिहास रचा: ओलिंपिक महिला हॉकी में हैट्रिक मारने वाली पहली भारतीय; दिवंगत पिता के लिए मेडल जीतने का लक्ष्य Tokyo2020 TokyoOlympics VandanaKatariya

भारतीय महिला हॉकी टीम ने ग्रुप-A के अपने आखिरी मैच में साउथ अफ्रीका को 4-3 से हरा दिया। उत्तराखंड के हरिद्वार के छोटे से गांव रोशनाबाद की रहने वाली वंदना कटारिया ने मैच में 3 गोल दागकर इतिहास रच दिया। वे ओलिंपिक मैच में गोल की हैट्रिक लगाने वाली भारत की पहली महिला हॉकी खिलाड़ी बन गईं। उनके गोल की बदौलत भारत के क्वार्टर फाइनल में पहुंचने की उम्मीद बरकरार है। 29 साल की वंदना पहले खो-खो प्लेयर बनना च... | Vandana Katariya became the first Indian women's hockey player to score a hat-trick at the Olympics | India beat South Africa 4-3

वंदना कटारिया ने इतिहास रचा:ओलिंपिक महिला हॉकी में हैट्रिक मारने वाली पहली भारतीय; दिवंगत पिता के लिए मेडल जीतने का लक्ष्यटोक्योएक घंटा पहलेकॉपी लिंकभारतीय महिला हॉकी टीम ने ग्रुप-A के अपने आखिरी मैच में साउथ अफ्रीका को 4-3 से हरा दिया। उत्तराखंड के हरिद्वार के छोटे से गांव रोशनाबाद की रहने वाली वंदना कटारिया ने मैच में 3 गोल दागकर इतिहास रच दिया। वे ओलिंपिक मैच में गोल की हैट्रिक लगाने वाली भारत की पहली महिला हॉकी खिलाड़ी बन गईं। उनके गोल की बदौलत भारत के क्वार्टर फाइनल में पहुंचने की उम्मीद बरकरार है। 29 साल की वंदना पहले खो-खो प्लेयर बनना चाहती थीं, लेकिन रनिंग स्पीड अच्छी होने की वजह से हॉकी खेलना शुरू किया।

राज्य प्रायोजित आतंकवाद अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ भेदभाव बढ़ाता है: यूएन में भारत - BBC Hindi हवाई सफर के दौरान भारतीय प्रधानमंत्रियों की चार बार ली गई थी तस्‍वीर', देखें PHOTOS असम: 'अवैध अतिक्रमण' हटाने के दौरान हुई झड़प के बाद पुलिस की फायरिंग, दो लोगों की मौत - BBC News हिंदी

2005 में उनके पास हॉकी की ट्रेनिंग के लिए पैसे नहीं थे। इसे बाद वंदना के पिता नाहर सिंह कटारिया ने किसी तरह उधार लेकर पैसों का इतंजाम किया और अपनी बेटी के सपनों को पूरी करने में मदद की। टोक्यो ओलिंपिक से 3 महीने पहले अप्रैल में नाहर सिंह का निधन हो गया था। इसके बाद वंदना ने उनकी याद को ही अपनी प्रेरणा बना लिया। पिता के लिए ओलिंपिक मेडल जीतने को ही एकमात्र लक्ष्य बना लिया।

घर वाले नहीं चाहते थे मैं खिलाड़ी बनूंवंदना हॉकी से पहले खो-खो खेलती थीं। 2002 में खो-खो की राष्ट्रीय प्रतियोगिता में वंदना ने शानदार रिकॉर्ड बनाने के बाद कोच कृष्ण कुमार ने 11 साल की वंदना की ऊर्जा देखकर हॉकी में उतारा था। वंदना बताती हैं कि उनकी रनिंग स्पीड अच्छी थी। इसी वजह से हॉकी खेलना शुरू किया। headtopics.com

2003 में हॉकी के कोच प्रदीप चिन्योटी वंदना को अपने साथ मेरठ ले आए। 2006 में वंदना को केडी सिंह बाबू स्टेडियम लखनऊ में एडमिशन लिया और वहीं ट्रेनिंग शुरू की।वंदना बताती हैं,"मेरे घर वाले नहीं चाहते थे कि लड़की होकर मैं खिलाड़ी बनूं और बाहर जाऊं, लेकिन पापा मुझे सपोर्ट करते थे। उन्होंने मेरी पूरी मदद की, इसलिए लोगों ने उन्‍हें भी ताना देना शुरू कर दिया था।"

2010 में वंदना का नेशनल महिला हॉकी टीम में सिलेक्शन हुआ था।7 भाई बहनों में सबसे छोटी हैं वंदनावंदना अपने 7 भाई बहनों में सबसे छोटी हैं। वंदना के 5 भाई बहन खेल से ही जुड़े हैं। बड़ी बहन रीना कटारिया भोपाल एक्सीलेंसी में हॉकी कोच और छोटी बहन अंजलि कटारिया हॉकी खिलाड़ी हैं। भाई पंकज कराटे और सौरभ फुटबॉल खिलाड़ी एवं कोच हैं।

2010 में नेशनल टीम में सिलेक्शन हुआवंदना के पिता BHEL में काम करते थे। वंदना बताती हैं,"कई बार हालात ऐसे हो जाते थे कि बाहर ट्रेनिंग करने के लिए मेरे पास पैसे नहीं होते थे। पापा उधार लेकर मुझे ट्रेनिंग के लिए भेजते थे। 2005 में मैंने उतर प्रदेश टीम से खेलना शुरू किया। मेरी किस्मत अच्छी थी कि 2011 में स्पोर्टस कोटे से रेलवे में जूनियर TC पद पर जॉब लग गई। 2010 में मेरा नेशनल महिला हॉकी टीम में सिलेक्शन हो गया।"

2013 महिला हॉकी जूनियर वर्ल्ड कप में उन्होंने सबसे ज्यादा गोल दागे।2013 में सबसे ज्यादा गोल दागेइसके बाद से वंदना ने कभी पीछ मुड़कर नहीं देखा। 2013 महिला हॉकी जूनियर वर्ल्ड कप में उन्होंने सबसे ज्यादा गोल दागे और टीम को ब्रॉन्ज मेडल जीतने में मदद की। वंदना ने एक इंटरव्यू में बताया था कि जूनियर वर्ल्ड कप के बाद मीडिया वालों ने उनके पिता का इंटरव्यू लिया। उस वक्त उनकी आंखों में आंसू थे। पिता को गर्व कराना उनके हॉकी के सफर में सबसे अच्छे पलों में से एक है। headtopics.com

चीन ने ताइवान को ताक़त का ज़ोर दिखाने के लिए भेजे 19 लड़ाकू विमान - BBC News हिंदी नरेंद्र गिरि की मौत के मामले में ताज़ा वीडियो से उठे सवाल, आत्महत्या पर संदेह गहराया - BBC News हिंदी कर्नाटक: दलित बच्चे के मंदिर जाने और पिता पर जुर्माना लगाने का क्या है पूरा मामला - BBC News हिंदी

ऐसा रहा है वंदना का सफर-वंदना 2013 में जापान में हुई तीसरी एशियन चैंपियनशिप में टीम इंडिया में शामिल थीं। टीम ने सिल्वर मेडल जीता।2014 में कोरिया में हुए 17वें एशियन गेम्स में भी वे टीम में थीं। टीम इंडिया ने ब्रॉन्ज मेडल जीता।2016 में सिंगापुर में हुई चौथी एशियन चैंपियनशिप में वंदना ने टीम इंडिया को गोल्ड मेडल जीतने में मदद की।

वंदना 2018 में जकार्ता में हुए एशियन गेम्स में सिल्वर मेडल जीतने वाली टीम इंडिया का हिस्सा थीं।2016 में हुए रियो ओलिंपिक में भी वे इंडियन स्क्वॉड का हिस्सा रहीं। हालांकि टीम को क्वार्टर फाइनल में हार का सामना करना पड़ा।2018 में गोल्ड कोस्ट में हुए 11वें कॉमनवेल्थ गेम्स में वंदना ने टीम इंडिया का प्रतिनिधित्व किया। टीम चौथे स्थान पर रही थी।

2021 में अर्जुन अवॉर्ड के लिए नामित हुईंवंदना 2014 एशियन गेम्स में ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाली टीम इंडिया का हिस्सा रहीं। रियो ओलिंपिक में भी उन्होंने टीम इंडिया का प्रतिनिधित्व किया था। कटारिया भारत के लिए अब तक 218 मैच खेल चुकी हैं और 58 गोल किए हैं।वंदना नेशनल टीम में सिलेक्‍शन का पूरा श्रेय अपने लखनऊ के कोच विष्णु प्रकाश शर्मा और पूनम लता को देती हैं। अर्जेंटीना की लुसियाना आयमार उनकी पसंदीदा खिलाड़ी हैं। 2021 में उन्हें अर्जुन अवॉर्ड के लिए भी नामित किया गया था।

और पढो: Dainik Bhaskar »

पंजाब के CM चन्नी का भांगड़ा: PTU में स्टेज पर युवाओं के साथ किया धमाल, भीम राव अंबेडकर म्यूजियम की रखी नींव; इस बार सिद्धू नहीं रहे साथ

पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी (PTU) कपूरथला में मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी का एक नया रूप देखने को मिला। यहां उनके स्वागत में रंगारंग कार्यक्रम किया गया। जैसे ही भांगड़ा करने के लिए युवा स्टेज पर आए तो चन्नी खुद को नहीं रोक पाए और स्टेज पर स्टूडेंट्स के साथ पंजाब का लोक नृत्य भांगड़ा करते हुए लुड्डी और धमाल करते नजर आए। इसके बाद चरणजीत सिंह ने सभी युवाओं को गले लगाया। उन्होंने स्टूडेंट्स के साथ फोटो ... | पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी (पीटीयू) कपूरथला में प्रदेश के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी का एक नया रूप देखने को मिला। यहां उनके स्वागत में रंगारंग कार्यक्रम किया गया। जैसे ही भांगड़ा डालने के लिए युवा स्टेज पर आए तो चरणजीत सिंह चन्नी खुद को नहीं रोक पाए।

Great going 👍 GovindDotasra ashokgehlot51 RajCMO RahulGandhi SachinPilot 1stIndiaNews BSBhatiInc DrSatishPoonia कंप्यूटर भर्ती की विभक्ति और सलेबस और मिनिमम क्वालिफिकेशन जल्दी निकाल कर हमें कृतज्ञ करे Very good bandana beti THANKS बहुत शानदार. ..👍👍 We all proud of you sister

एस्ट्राजेनेका: अमेरिका में अपने कोविड टीके की अनुमति के लिए साल के अंत में करेगी आवेदनएस्ट्राजेनेका: अमेरिका में अपने कोविड टीके की अनुमति के लिए साल के अंत में करेगी आवेदन LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI

सफलता: गुजरात एटीएस की गिरफ्त में 2500 करोड़ की ड्रग्स के मामलों में वांछित आरोपीसफलता: गुजरात एटीएस की गिरफ्त में 2500 करोड़ की ड्रग्स के मामलों में वांछित आरोपी Gujarat ATS =CrimeNews Drugs

अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के इलाक़े में फ़्लैश फ़्लड, बड़ी संख्या में लोगों की मौत - BBC Hindiअफ़ग़ानिस्तान के पूर्वोत्तर में स्थित नूरिस्तान प्रांत में बुधवार रात भारी बारिश के बाद अचानक आई बाढ़ से बड़ी संख्या में लोग मारे गए हैं. Reham Farma Allah RealEstateSA_PK

अमेरिका: पढ़ाई के बाद विदेशी छात्रों के देश में रुकने के खिलाफ संसद में विधेयक पेशअमेरिका: पढ़ाई के बाद विदेशी छात्रों के देश में रुकने के खिलाफ संसद में विधेयक पेश America Parliament Student Visa ForeignStudent Study Follow back चाहिए तो तुरन्त फॉलो करें 👉gsbsingham10💯 follow 🔙

कपिल का शो छोड़ सलमान खान के शो में आने की तैयारी में सुनील ग्रोवर?सलमान खान का सुपरहिट शो बिग बॉस का सीजन 15 का दर्शक बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। आए दिन इस शो के नए सीजन को लेकर अटकलें लगती हैं कि इस बार कौन कौन से सेलेब्स बिग बॉस में नजर आ सकते हैं। KHAMOSH........................................Kerala aur Maharashtra ka COVID Sequler hai KHABARDAAR kisi ne us par sawal uthaya nahi to IMRAAN aur XI-PIN uska HUKKA-PAANI band kar denge

झारखंड के धनबाद में एक जज की मौत के मामले ने तूल पकड़ा - BBC News हिंदीधनबाद के ज़िला और सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की मौत का मामला सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद उलझ गया है. जज लोया के बारे में कभी सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान क्यो नही लिया 🤔🤔🏹 आप कितने न्यायप्रिय हैं - - - हत्या को मौत लिख रहे हैं और जहां मौत हुई वहां हत्या लिख रहे थे... शर्माजी पर एक जज स्पेश्यल कन्टम्ट लगाऐ!HC मे शायद 57 दिन का ऐक दूसरा सवा पाँच साल का बच्चा! सब छिना होते 3 दिन HC मे रजिस्ट्रार घुमाऐ! पर शर्माजी मे बदले की भावना मैने कभी नही पाई! सभी धर्म जाति उनसे नराज ऐक जैन बिना बताऐ उनकी स्थति समझ नोमिनी बना गऐ उनने न लिया! संयम मे सुख!