Rivers, Waterquality, Cpcb, Environment, नदियां, पानीकीगुणवत्ता, सीपीसीबी, पर्यावरण

Rivers, Waterquality

लॉकडाउन के दौरान गंगा समेत पांच प्रमुख नदियों के जल की गुणवत्ता में गिरावट: रिपोर्ट

लॉकडाउन के दौरान गंगा समेत पांच प्रमुख नदियों के जल की गुणवत्ता में गिरावट: रिपोर्ट #Rivers #WaterQuality #CPCB #Environment #नदियां #पानीकीगुणवत्ता #सीपीसीबी #पर्यावरण

25-09-2020 23:30:00

लॉकडाउन के दौरान गंगा समेत पांच प्रमुख नदियों के जल की गुणवत्ता में गिरावट: रिपोर्ट Rivers WaterQuality CPCB Environment नदियां पानीकीगुणवत्ता सीपीसीबी पर्यावरण

प्रमुख नदियों में पानी की गुणवत्ता पर लॉकडाउन के प्रभाव पर केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि नदियों के पानी की गुणवत्ता में सुधार न होने की वजह अशोधित अवजल को नदियों में छोड़ा जाना और पहाड़ों से ताज़ा पानी न आना है.

नई दिल्ली:देश में गंगा समेत पांच प्रमुख नदियों के जल की गुणवत्ता लॉकडाउन के दौरान खराब हुई है. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने कहा है कि ऐसा नदियों में अवजल छोड़े जाने और पहाड़ों से ताजा पानी नहीं आने जैसे कारणों से हुआ है.बुधवार को प्रदूषण निगरानीकर्ता ने 46वें स्थापना दिवस के मौके पर जारी एक रिपोर्ट में कहा कि गंगा, व्यास, चंबल, सतलुज और स्वर्णरेखा नदियां स्नान करने की गुणवत्ता के खरी नहीं उतरती हैं.

'आप' MLA सोमनाथ भारती बोले, 'योगीजी आप मुझे 200 दिन भी जेल में रखेंगे तो भी मैं उत्‍तर प्रदेश...' दिल्‍ली में पहली बार पेट्रोल की कीमतें 85 रुपये के पार, डीजल भी रिकॉर्ड ऊंचाई के करीब संसद का बजट सत्र 29 जनवरी से, प्रश्‍नकाल की होगी 'वापसी'

प्रमुख नदियों में पानी की गुणवत्ता पर लॉकडाउन के प्रभाव पर रिपोर्ट के मुताबिक राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्डों (एसपीसीबी) की निगरानी वाली 19 नदियों में से सात में पानी की गुणवत्ता में सुधार हुआ.सीपीसीबी ने कहा कि उसने एसपीसीबी से गंगा, यमुना, गोदावरी, कृष्णा, नर्मदा, व्यास, ब्रह्मपुत्र, वैतरणी, ब्राह्मणी, कावेरी, चंबल, घग्गर, महानदी, माही, पेन्नार, साबरमती, सतलज, स्वर्णरेखा और तापी नदियों के पानी का आकलन करने को कहा था.

इस आकलन में 20 राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्डों ने हिस्सा लिया.रिपोर्ट में कहा गया कि 19 नदियों से पानी के नमूने लिए गए और पीएच, घुलनशील ऑक्सीजन, जैव रसायन ऑक्सीजन मांग समेत विभिन्न मानकों पर परखा गया. इसके बाद बाहर स्नान करने के लिए प्राथमिक पानी की गुणवत्ता के 1986 पर्यावरण (संरक्षण) नियमों के अधिसूचित मानकों से इनकी तुलना की गई. headtopics.com

रिपोर्ट में कहा गया, ‘लॉकडाउन की अवधि के दौरान पांच नदियों- व्यास, चंबल, गंगा, सतलुज और स्वर्णरेखा के पानी की गुणवत्ता में सुधार नहीं हुआ.’रिपोर्ट में कहा गया कि नदियों के पानी की गुणवत्ता में सुधार नहीं होने की वजह अशोधित अवजल को नदियों में छोड़ा जाना, सूखे मौसम के कारण उच्च प्रदूषकों का सांद्रण और ऊंचाई से ताजा पानी नहीं आना आदि शामिल हैं.

रिपोर्टके मुताबिक, लॉकडाउन के पहले 387 निगरानी स्थानों से नदियों के पानी के नमूने एकत्र किए गए थे और उनमें से प्राथमिक जल गुणवत्ता मानदंडों में 77.26 प्रतिशत बाहरी स्नान के योग्य नहीं थे.वहीं, लॉकडाउन के दौरान 365 स्थानों से नमूने एकत्र किए गए थे, उनमें से 75.89 प्रतिशत प्राथमिक मापदंड के अनुरूप नहीं थे. इसका मतलब यह हुआ कि लॉकडाउन अवधि के दौरान देश में निगरानी की जाने वाली प्रमुख नदियों के पानी की गुणवत्ता में कोई उल्लेखनीय सुधार नहीं हुआ.

लॉकडाउन से पहले और बाद में चार नदियों- बैतरनी, महानदी, नर्मदा और पेन्नर स्नान के योग्य प्राथमिक जल गुणवत्ता मानदंडों में 100 प्रतिशत सुधार हुआ.वहीं, साबरमती और माही नदियों की जल गुणवत्ता क्रमशः 55.6 प्रतिशत और 92.9 प्रतिशत पर अपरिवर्तित रहा. ब्राह्मणी, ब्रह्मपुत्र, कावेरी, गोदावरी, कृष्णा, तापी और यमुना के जल की गुणवत्ता में सुधार देखा गया.

रिपोर्ट में इस जल गुणवत्ता में सुधार का कारण लॉकडाउन के दौरान लगभग सभी उद्योगों को बंद करने की वजह से औद्योगिक प्रवाह के नदियों में बहने से बंद होने को बताया है. इसके अलावा इस दौरान पूजा सामग्री और कचरे के निपटान से संबंधित कोई मानवीय गतिविधियां नहीं थी. headtopics.com

कुछ हेल्थकेयर वर्कर्स का वैक्सीन लेने से इनकार परेशान करने वाला : सरकार जेपी नड्डा के सवालों पर बोले राहुल गांधी- वो हैं कौन, जो मैं उनको जवाब देता फिरूं IND vs ENG: इंग्लैंड के खिलाफ पहले 2 टेस्ट लिए भारतीय टीम का ऐलान, इन खिलाड़ियों को मिली जगह

रिपोर्ट में कहा गया है कि बाहरी स्नान, कपड़े धोने, वाहन धोने और मवेशियों की धुलाई, तीर्थयात्रा जैसी गतिविधियां और बहुत कम मवेशियों की आवाजाही जैसी मानव गतिविधियों ने भी जल प्रदूषण को कम करने में कोई भूमिका नहीं निभाई.(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

और पढो: द वायर हिंदी »

Tandav Controversy: तांडव वेब सीरीज पर बढ़ता जा रहा विवाद, सूचना प्रसारण मंत्रालय भी अलर्ट

ऐमजॉन प्राइम (Amazon Prime Video) के नई वेब सीरीज तांडव (Tandav Web Series) को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। कई बीजेपी नेताओं का आरोप है कि वेब सीरीज में हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंचाई गई है। तांडव पर जारी विवाद को लेकर हर अपडेट के लिए बने रहिए हमारे साथ....

Sarkar nadiyo ki safai mai kuch kar nhi payi abhi tak lakho paise barbad kiye sarkar ne iske uppar नमामी गंगे।

IPL 2020 Match Preview : SRH के खिलाफ KKR के मैच में कार्तिक की कप्तानी की 'अग्निपरीक्षा'अबु धाबी इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) के शुरुआती मुकाबले में कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) के कप्तान दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) की योजनाओं की आलोचना हुई, जो शनिवार को यहां डेविड वॉर्नर (David Warner) की कप्तानी वाली सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) के खिलाफ मैच में टीम के जीत का खाता खोलना चाहेंगे। इस मैच में कार्तिक की कप्तानी की 'अग्निपरीक्षा' होगी।

मूडीज ने पहली बार डाउनग्रेड की कुवैत की रेटिंग, देश में कैश की किल्लतमूडीज ने पहली बार डाउनग्रेड की कुवैत की रेटिंग, देश में कैश की किल्लत Kuwait economy coronavirus crude Liquidity भारतीय पैसा तो इतना गिर चुका है जितनी पीएम की कुर्सी Watch this 👉

ग्रेटर नोएडाः पुलिस ने गैंगस्टर सुंदर भाटी के साथी की 2 करोड़ की जमीन कुर्क कीपुलिस ने सत्यबीर बंसल की 40 बीघा जमीन को कुर्क किया जिसकी सरकारी कीमत करीब 1 करोड़ 90 लाख रुपये है जबकि बाजार में उसकी कीमत 4 करोड़ से ज्यादा है. सत्यबीर बंसल की यह जमीन गाजियाबाद में उसके गांव जाफराबाद गलौनी में स्थित है. TanseemHaider Lage raho yogiji

हवाई यात्रियों के लिए काम की खबर, घरेलू उड़ानों में हटी चेक इन बैगेज की सीमाहवाई यात्रियों के लिए काम की खबर, घरेलू उड़ानों में हटी चेक इन बैगेज की सीमा airlines airport aviationsector flight civilaviation

बातचीत के बीच चीन की साजिश, डोकलाम के पास तैनात की मिलाइलेंलद्दाख में चीनी सेना की हार से बौखलाया चीन भारत के खिलाफ बड़ी साजिश रच रहा है. एक तरफ वो बातचीत कर रहा है तो दूसरी तरफ युद्ध की बड़ी तैयारी. वो भी अकेले नहीं. बल्कि पाकिस्तान के साथ मिलकर वो दो दो फ्रंट पर भारत को चुनौती देने की तैयारी कर रहा है. भारत के साथ बातचीत के बीच वो एलएसी पर युद्ध का हर वो साजोसामान पहुंचा रहा है. जो युद्ध जैसी तैयारी का इशारा कर रहे हैं. आज चीन की इसी साजिश का पूरा सच आपको दिखाएंगे. बताएंगे कैसे कैसे चीन दिन में बात कर रहा है और पीठ पीछे पाकिस्तान के साथ मिलकर बड़े आघात की तैयारी कर रहा है. देखें चीन से बात करने से मिला क्या धोका चीन का नाम ही एक धोका है Missile.... ¿ कब हुआ भारत चीन युद्ध? कब डर गया चीन भारतीय सेना से? यूँ कहो ना कि भाजपा की चाटुकार सेना ने प्रोपगेंडा चलाया है झूठ का। सेना को क्यों घसीट रहे हो। स्टूडियो में बैठे बैठे ही युद्ध की रणनीति बना लेते हो युद्ध भी कर लेते हो और हार जीत भी। वाह रे गुलामी।

गावस्कर के अनुष्का पर कमेंट से भड़के कोहली के फैंस, की कमेंट्री से हटाने की मांगविराट कोहली जब आउट होकर डग आउट की ओर बढ़ रहे थे, तभी सुनील गावस्कर ने एक विवादित टिप्पणी कर दी। उन्होंने कहा, ‘इन्होंने लॉकडाउन में तो बस अनुष्का की गेंदों की प्रैक्टिस की है।’