लॉकडाउन: राम माधव के अनुसार 90 फ़ीसदी प्रवासी मज़दूर अपने काम की जगह पर टिके हैं

लॉकडाउन: राम माधव के अनुसार 90 फ़ीसदी प्रवासी मज़दूर अपने काम की जगह पर टिके हैं

01-06-2020 18:52:00

लॉकडाउन: राम माधव के अनुसार 90 फ़ीसदी प्रवासी मज़दूर अपने काम की जगह पर टिके हैं

भारतीय जनता पार्टी के महासचिव राम माधव ने प्रवासी मज़दूर से लेकर भारत और चीन सीमा विवाद तक क्या-क्या कहा, पढ़िए.

आपके सवालकोरोना वायरस क्या है?लीड्स के कैटलिन सेसबसे ज्यादा पूछे जाने वालेबीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमकोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है जिसका पता दिसंबर 2019 में चीन में चला. इसका संक्षिप्त नाम कोविड-19 हैसैकड़ों तरह के कोरोना वायरस होते हैं. इनमें से ज्यादातर सुअरों, ऊंटों, चमगादड़ों और बिल्लियों समेत अन्य जानवरों में पाए जाते हैं. लेकिन कोविड-19 जैसे कम ही वायरस हैं जो मनुष्यों को प्रभावित करते हैं

कोरोनाः सिंगापुर जैसे अमीर मुल्क को वायरस ने मंदी में धकेला - BBC Hindi सचिन पायलट: अब तक का सियासी सफ़र कैसा रहा है 'पायलट के लिए BJP के दरवाजे खुले', ओम माथुर ने और क्या कहा, देखें VIDEO

कुछ कोरोना वायरस मामूली से हल्की बीमारियां पैदा करते हैं. इनमें सामान्य जुकाम शामिल है. कोविड-19 उन वायरसों में शामिल है जिनकी वजह से निमोनिया जैसी ज्यादा गंभीर बीमारियां पैदा होती हैं.ज्यादातर संक्रमित लोगों में बुखार, हाथों-पैरों में दर्द और कफ़ जैसे हल्के लक्षण दिखाई देते हैं. ये लोग बिना किसी खास इलाज के ठीक हो जाते हैं.

लेकिन, कुछ उम्रदराज़ लोगों और पहले से ह्दय रोग, डायबिटीज़ या कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ रहे लोगों में इससे गंभीर रूप से बीमार होने का ख़तरा रहता है.एक बार आप कोरोना से उबर गए तो क्या आपको फिर से यह नहीं हो सकता?बाइसेस्टर से डेनिस मिशेलसबसे ज्यादा पूछे गए सवाल

बाीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमजब लोग एक संक्रमण से उबर जाते हैं तो उनके शरीर में इस बात की समझ पैदा हो जाती है कि अगर उन्हें यह दोबारा हुआ तो इससे कैसे लड़ाई लड़नी है.यह इम्युनिटी हमेशा नहीं रहती है या पूरी तरह से प्रभावी नहीं होती है. बाद में इसमें कमी आ सकती है.

ऐसा माना जा रहा है कि अगर आप एक बार कोरोना वायरस से रिकवर हो चुके हैं तो आपकी इम्युनिटी बढ़ जाएगी. हालांकि, यह नहीं पता कि यह इम्युनिटी कब तक चलेगी.कोरोना वायरस का इनक्यूबेशन पीरियड क्या है?जिलियन गिब्समिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरवैज्ञानिकों का कहना है कि औसतन पांच दिनों में लक्षण दिखाई देने लगते हैं. लेकिन, कुछ लोगों में इससे पहले भी लक्षण दिख सकते हैं.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि इसका इनक्यूबेशन पीरियड 14 दिन तक का हो सकता है. लेकिन कुछ शोधार्थियों का कहना है कि यह 24 दिन तक जा सकता है.इनक्यूबेशन पीरियड को जानना और समझना बेहद जरूरी है. इससे डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों को वायरस को फैलने से रोकने के लिए कारगर तरीके लाने में मदद मिलती है.

क्या कोरोना वायरस फ़्लू से ज्यादा संक्रमणकारी है?सिडनी से मेरी फिट्ज़पैट्रिकमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरदोनों वायरस बेहद संक्रामक हैं.ऐसा माना जाता है कि कोरोना वायरस से पीड़ित एक शख्स औसतन दो या तीन और लोगों को संक्रमित करता है. जबकि फ़्लू वाला व्यक्ति एक और शख्स को इससे संक्रमित करता है.

न पार्टी के मुखिया रहे, न सरकार के डिप्टी, बगावत से सचिन पायलट ने क्या-क्या खोया? बिहार: गैंगरेप सर्वाइवर को ही भेजा जेल, रिहाई की माँग उठी कोरोना संकट पर राहुल गांधी का ट्वीट- इस हफ्ते दस लाख पार कर जाएगा आंकड़ा

फ़्लू और कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए कुछ आसान कदम उठाए जा सकते हैं.बार-बार अपने हाथ साबुन और पानी से धोएंजब तक आपके हाथ साफ न हों अपने चेहरे को छूने से बचेंखांसते और छींकते समय टिश्यू का इस्तेमाल करें और उसे तुरंत सीधे डस्टबिन में डाल दें.आप कितने दिनों से बीमार हैं?

मेडस्टोन से नीताबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमहर पांच में से चार लोगों में कोविड-19 फ़्लू की तरह की एक मामूली बीमारी होती है.इसके लक्षणों में बुख़ार और सूखी खांसी शामिल है. आप कुछ दिनों से बीमार होते हैं, लेकिन लक्षण दिखने के हफ्ते भर में आप ठीक हो सकते हैं.अगर वायरस फ़ेफ़ड़ों में ठीक से बैठ गया तो यह सांस लेने में दिक्कत और निमोनिया पैदा कर सकता है. हर सात में से एक शख्स को अस्पताल में इलाज की जरूरत पड़ सकती है.

End of कोरोना वायरस के बारे में सब कुछमेरी स्वास्थ्य स्थितियांआपके सवालअस्थमा वाले मरीजों के लिए कोरोना वायरस कितना ख़तरनाक है?फ़ल्किर्क से लेस्ले-एनमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरअस्थमा यूके की सलाह है कि आप अपना रोज़ाना का इनहेलर लेते रहें. इससे कोरोना वायरस समेत किसी भी रेस्पिरेटरी वायरस के चलते होने वाले अस्थमा अटैक से आपको बचने में मदद मिलेगी.

अगर आपको अपने अस्थमा के बढ़ने का डर है तो अपने साथ रिलीवर इनहेलर रखें. अगर आपका अस्थमा बिगड़ता है तो आपको कोरोना वायरस होने का ख़तरा है.क्या ऐसे विकलांग लोग जिन्हें दूसरी कोई बीमारी नहीं है, उन्हें कोरोना वायरस होने का डर है?स्टॉकपोर्ट से अबीगेल आयरलैंड

बीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमह्दय और फ़ेफ़ड़ों की बीमारी या डायबिटीज जैसी पहले से मौजूद बीमारियों से जूझ रहे लोग और उम्रदराज़ लोगों में कोरोना वायरस ज्यादा गंभीर हो सकता है.ऐसे विकलांग लोग जो कि किसी दूसरी बीमारी से पीड़ित नहीं हैं और जिनको कोई रेस्पिरेटरी दिक्कत नहीं है, उनके कोरोना वायरस से कोई अतिरिक्त ख़तरा हो, इसके कोई प्रमाण नहीं मिले हैं.

जिन्हें निमोनिया रह चुका है क्या उनमें कोरोना वायरस के हल्के लक्षण दिखाई देते हैं?कनाडा के मोंट्रियल से मार्जेबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमकम संख्या में कोविड-19 निमोनिया बन सकता है. ऐसा उन लोगों के साथ ज्यादा होता है जिन्हें पहले से फ़ेफ़ड़ों की बीमारी हो.लेकिन, चूंकि यह एक नया वायरस है, किसी में भी इसकी इम्युनिटी नहीं है. चाहे उन्हें पहले निमोनिया हो या सार्स जैसा दूसरा कोरोना वायरस रह चुका हो.

जानें- कौन हैं गोविंद सिंह जो राजस्थान कांग्रेस में लेंगे सचिन पायलट की जगह राजस्थान के सत्ता संघर्ष पर हार्दिक पटेल बोले- घर का झगड़ा घर में ही सुलझ जाएगा शाम तक आलाकमान के पास पहुंचेगी रिपोर्ट, पायलट पर आगे होगी ये कार्रवाई

End of मेरी स्वास्थ्य स्थितियांअपने आप को और दूसरों को बचानाआपके सवालकोरोना वायरस से लड़ने के लिए सरकारें इतने कड़े कदम क्यों उठा रही हैं जबकि फ़्लू इससे कहीं ज्यादा घातक जान पड़ता है?हार्लो से लोरैन स्मिथजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताशहरों को क्वारंटीन करना और लोगों को घरों पर ही रहने के लिए बोलना सख्त कदम लग सकते हैं, लेकिन अगर ऐसा नहीं किया जाएगा तो वायरस पूरी रफ्तार से फैल जाएगा.

फ़्लू की तरह इस नए वायरस की कोई वैक्सीन नहीं है. इस वजह से उम्रदराज़ लोगों और पहले से बीमारियों के शिकार लोगों के लिए यह ज्यादा बड़ा ख़तरा हो सकता है.क्या खुद को और दूसरों को वायरस से बचाने के लिए मुझे मास्क पहनना चाहिए?मैनचेस्टर से एन हार्डमैनबीबीसी न्यूज़

हेल्थ टीमपूरी दुनिया में सरकारें मास्क पहनने की सलाह में लगातार संशोधन कर रही हैं. लेकिन, डब्ल्यूएचओ ऐसे लोगों को मास्क पहनने की सलाह दे रहा है जिन्हें कोरोना वायरस के लक्षण (लगातार तेज तापमान, कफ़ या छींकें आना) दिख रहे हैं या जो कोविड-19 के कनफ़र्म या संदिग्ध लोगों की देखभाल कर रहे हैं.

मास्क से आप खुद को और दूसरों को संक्रमण से बचाते हैं, लेकिन ऐसा तभी होगा जब इन्हें सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए और इन्हें अपने हाथ बार-बार धोने और घर के बाहर कम से कम निकलने जैसे अन्य उपायों के साथ इस्तेमाल किया जाए.फ़ेस मास्क पहनने की सलाह को लेकर अलग-अलग चिंताएं हैं. कुछ देश यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उनके यहां स्वास्थकर्मियों के लिए इनकी कमी न पड़ जाए, जबकि दूसरे देशों की चिंता यह है कि मास्क पहने से लोगों में अपने सुरक्षित होने की झूठी तसल्ली न पैदा हो जाए. अगर आप मास्क पहन रहे हैं तो आपके अपने चेहरे को छूने के आसार भी बढ़ जाते हैं.

यह सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने इलाके में अनिवार्य नियमों से वाकिफ़ हों. जैसे कि कुछ जगहों पर अगर आप घर से बाहर जाे रहे हैं तो आपको मास्क पहनना जरूरी है. भारत, अर्जेंटीना, चीन, इटली और मोरक्को जैसे देशों के कई हिस्सों में यह अनिवार्य है.अगर मैं ऐसे शख्स के साथ रह रहा हूं जो सेल्फ-आइसोलेशन में है तो मुझे क्या करना चाहिए?

लंदन से ग्राहम राइटबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमअगर आप किसी ऐसे शख्स के साथ रह रहे हैं जो कि सेल्फ-आइसोलेशन में है तो आपको उससे न्यूनतम संपर्क रखना चाहिए और अगर मुमकिन हो तो एक कमरे में साथ न रहें.सेल्फ-आइसोलेशन में रह रहे शख्स को एक हवादार कमरे में रहना चाहिए जिसमें एक खिड़की हो जिसे खोला जा सके. ऐसे शख्स को घर के दूसरे लोगों से दूर रहना चाहिए.

End of अपने आप को और दूसरों को बचानामैं और मेरा परिवारआपके सवालमैं पांच महीने की गर्भवती महिला हूं. अगर मैं संक्रमित हो जाती हूं तो मेरे बच्चे पर इसका क्या असर होगा?बीबीसी वेबसाइट के एक पाठक का सवालजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददातागर्भवती महिलाओं पर कोविड-19 के असर को समझने के लिए वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं, लेकिन अभी बारे में बेहद सीमित जानकारी मौजूद है.

यह नहीं पता कि वायरस से संक्रमित कोई गर्भवती महिला प्रेग्नेंसी या डिलीवरी के दौरान इसे अपने भ्रूण या बच्चे को पास कर सकती है. लेकिन अभी तक यह वायरस एमनियोटिक फ्लूइड या ब्रेस्टमिल्क में नहीं पाया गया है.गर्भवती महिलाओंं के बारे में अभी ऐसा कोई सुबूत नहीं है कि वे आम लोगों के मुकाबले गंभीर रूप से बीमार होने के ज्यादा जोखिम में हैं. हालांकि, अपने शरीर और इम्यून सिस्टम में बदलाव होने के चलते गर्भवती महिलाएं कुछ रेस्पिरेटरी इंफेक्शंस से बुरी तरह से प्रभावित हो सकती हैं.

मैं अपने पांच महीने के बच्चे को ब्रेस्टफीड कराती हूं. अगर मैं कोरोना से संक्रमित हो जाती हूं तो मुझे क्या करना चाहिए?मीव मैकगोल्डरिकजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताअपने ब्रेस्ट मिल्क के जरिए माएं अपने बच्चों को संक्रमण से बचाव मुहैया करा सकती हैं.अगर आपका शरीर संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबॉडीज़ पैदा कर रहा है तो इन्हें ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पास किया जा सकता है.

ब्रेस्टफीड कराने वाली माओं को भी जोखिम से बचने के लिए दूसरों की तरह से ही सलाह का पालन करना चाहिए. अपने चेहरे को छींकते या खांसते वक्त ढक लें. इस्तेमाल किए गए टिश्यू को फेंक दें और हाथों को बार-बार धोएं. अपनी आंखों, नाक या चेहरे को बिना धोए हाथों से न छुएं.

बच्चों के लिए क्या जोखिम है?लंदन से लुइसबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमचीन और दूसरे देशों के आंकड़ों के मुताबिक, आमतौर पर बच्चे कोरोना वायरस से अपेक्षाकृत अप्रभावित दिखे हैं.ऐसा शायद इस वजह है क्योंकि वे संक्रमण से लड़ने की ताकत रखते हैं या उनमें कोई लक्षण नहीं दिखते हैं या उनमें सर्दी जैसे मामूली लक्षण दिखते हैं.

हालांकि, पहले से अस्थमा जैसी फ़ेफ़ड़ों की बीमारी से जूझ रहे बच्चों को ज्यादा सतर्क रहना चाहिए. और पढो: BBC News Hindi »

Inse puchoge to ye hoga inke hisa b se to corona Bharat aya hi nahi asa asa argument karege ki ap divar se sar phorege BBC Lol... Jb time pr Khana Mita hai To SB achha Nazar aata hai छूट बोलने वालों की कमी नहीं है 90 पर्सेंट लेबर गाव मे है Bevkuf aadami Abhi jagay hai neend say Please recount. जानकारी कम होना गुनाह नहीं है।

माधव जी,अब विश्वासी नहीं रहे। खैर, राजनीतिज्ञ बन गये अब ।। AAP kahan hain. How stupid ! Udyog patiyon ke Khandan ko Jod kar bol rahe Honge Ye lo ek or jahil ko jhelo 90 present log apni jagah pr tike he lagta he esi ko company me kaam kr rahe he ई कऊन आईटम है? तबी तो सड़को पर भूके प्यासे मर रहे है।वाह नेताओं वक़्त बदलेगा तुम्हे अपनी औकात दिखा दी जाएगी।

अपने ही देश में मजदूरों को प्रवासी बनाते रहो नेताओं के लिए प्रवासी शब्द का प्रयोग क्यों नहीं किया जाता नेता भी तो प्रवासी हो सकते हैं He is out of touch with facts. ਮੁਰਦਾ ਬੋਲੂ ਕਫਨ ਪਾੜੂ । संघ का रिवाज हैंकि जब तक जूंठबोला जा सके ,सच मत बोलो। राम माधव अपनी संस्थाकी पोलीसीके बडेसखत अनुयायी हैं। नमूना Ye sabse bada chutiya hai

Ye kya bakwaas hai फिर भी इतने निकम्मे हो कि 10 फिसदी श्रमिकों को ठीक तरीके से अपने घर पर भी पहुंचा ना सके Jhoot bol raha hai ISI WAJAH SE INKI PARTY AUR PM NE ITNE LOGON KO SADAK PAR MARNE DIYA MARNEWAALE INKE HISAB SE PARWASHI MAZDOOR NAHI HONGE अज़ीब अंधभक्ति है,सारा देश ने जो देखा है वो गलत, और यहाँ लोग जो बोलेंगे वहाँ सच। 🤔

घर में बैठे रहोगे तब कहां पता चलेगा Jo bhag rahe he wo sab congressi he Mia mithu सही बात है 90 की आत्मा और विश्वास govt se उठ गया Kal lo baat 🙄😂 Shayad Nashe me bol raha hai 🙄 बहुत फेकू हैं बीजेपी में जो आम जनता में सिर्फ भ्रम फैलाते हैं । सच्चाई कुछ और होती है। Where he got these figures from ? msisodia RoflGandhi_

ये एक और आ गया झूठे का सरदार Does that Help with Data produced and quoted elsewhere? Courts included. Ik aur joker Ha jo 18 18 hour kaam krte wohi tike hai संघी अभी तक गुफा में है अब तक इस लम्पट लंगूर को देश का कुछ पता नही Please tell this idiot to see television or their sponsored news. All are fleeing. All are heavily flying towards their native home.

Or ye data only bjp ka h na narendramodi छाप भांग का असर rammadhavbjp को हो गया है क्या PiyushGoyal जो ट्रेन चला रहे हैं उसमें BJP4India के कार्यकर्ता सफर कर रहें हैं। Bsd ke tere ma ki यदि 10%ने पलायन किया है तो फिर बाकी बचे यदि पलायन कर लेते तो देश का क्या हाल हुआ होता कल्पना से परे है,लोगों ने झुठ फैला कर मजदूरों को घर जाने के लिए उकसाया अब कहते हैं वापस आ जाओ

Lgta hai city se gav unke bhoot aa rahe hai साहेब को याद नहीं जब bjp विधायक मीटिंग कररहे थे की मुसलमानो से सब्जी नहीं लानेका ओह मुद्दा जमायेति के बाद हुआ था अरे इसदेश का आबादी 80% खेती और मजदूरी पर टिका है इससे पता चलता है कितने % मजदूर है देश मे और कहते है 90%अपने जगह पर टिका है 😛😛😛😛😛 majdoorvirodhibjp

इसका मतलब सिर्फ 10% ही सड़कों पर आए सोचो अगर 90% आ जाते तो तुम बोलने के लिए होते क्या ? झूठ बोलने की भी हद होती है। 🙏🇮🇳 ModiSupportsHateSpeech ModiMustGo सचमुच गाजा का ही नशा है क्या Correct, but gave the status of majdoor of bluff manufacturing factory only. नाम नैन सुख , आंखों से सूरदास , सिर पे बिठाया था मोदी जी को. सोचा था कि देश को अब कोई मिला है जो मुखर है और ईमानदार भी. लेकिन आप तो बड़बोले, हठी, क्रूर और ऐसे अहंकारी निकले, जो चलते पहियों को तोड़ देता है. Constructive की उम्मीद थी. आप ने destruction को अपना हथियार बनाया. आप से नहीं होगा, इसलिये StepDownModi

Violence of any form shall be condemned. But race factor can't be ignored. To maintain peace Time for TheJusticeDept to from a human right commission like India with judicial powers to investigate all complaints of human right abuses against cops or officers independently. जबरदस्त क्वालिटी जा गांजा पेले हो

पागल हो गया संधी Jo majdoor paidal truck bus train se gaye hain vo kaun hain आप पहले अपना इलाज कराएं दिमाग काम नहीं कर रहा है Arey chutiy 🤣🤣🤣 सावन का अंधा है, इसे हरा-हरा दिखाई देता है। Sasta Nasha Ye toh Feku Ka baap mills ,, ye RSS Ka think tank hai ... 👹👹👹💃💃💃👹💃💃💃 इसका मतलब सिर्फ 10% ही सड़कों पर आए सोचो अगर 90% आ जाते तो तुम बोलने के लिए होते क्या?

लगता है भारत की 90 फ़ीसदी आबादी ही प्रवासी मज़दूर है। True Boss rammadhavbjp even 10% will be more than 20 lakh, so the transport must open. Pata nahi bc kahan ka Maal phunkta h Konsa bhang pia hai ye Wrong Yeh kia bhaang khata hai B j p wale ab China ka ganja pi rahe ha अच्छे सवाल अच्छे जवाब। आपने बोला इंदिरा गांधी। महात्मा गांधी ने समर्थन किया हे तारीफ़ भी की। फिर हर सभा में क्यों गांधी गांधी के बिना प्रचार नहीं होता क्यों गाँधी जी नेहरु जी को गाली। औरयहीसवालहमअगरआपके साहेबसेकरेतोउनकोआगेआकरमाफ़ीमाँगनीचाहिएसुरू कियाउन्होंने ख़त्म वोही करे।

100%majadoor kaam ki jagah hi hai Pagal ho aap तो जो प्रवासी मज़दूर गए हैं वो उनके damad हैं क्या ? Arrey Sirji aap ho India me? Kitne dino baad aap dikhe. ये हैं मोदी सरकार के डॉ० गोयबेल्स.. Islamophobic India exposed Lage raho sir Sarkar ko daaru ki dukan nahi kholni thi....aise hi bewde bahar ayenge kuch v bol denge aur gaaliya kha kar jayenge

Why This colaveari ... Feko mat कहाँ से लाते है आप लोग ऐसा अंक,बोलने में शर्म भी नही आता! सस्ते नशे बीजेपी में सबके सब झूठ की दुकान है। अगर मजदूर टिके हुए है तो यदुयुरप्पा ने मजदूरो को घर जाने से क्यो रोका था? राम माधव जैसे सुलझे हुए नेता ने ऐसा बयान क्यों दे दिया पता नहीं आंकड़ा कहां से मिला है? HarshVardhanTri

Sab ek se bdh k ek h is party m इसको नरक मिले Esko pata nahi hae...aaj Yogi ji ki govt khud boli hae ki 24 lacs workers returned to their homes. Eh sab jumla ki sarkaar hae... तो जो प्रवासी मज़दूर गए हैं वो उनके भूत हैं क्या ? महोदय रिफरेन्स पेश करो कुछ अता ना पता !!! मै ही सर्वोच्च ज्ञाता !!!! Achha ...? Sachhi...? 😂😂😂

Galat baat ..100% jhuth Abi tak kaha thay 😂😅😂😅 गज्जब करते हो माधव जी हम तो बांगला और पाक से भी आगे जबकि हमारी तुलना में वो ज्यादा गरीब और कम संसाधनों वाले देश है सरकार फेल हो गई कोरोना में हा हम नमस्ते ट्रपं में पैसा फूँकने और खरीद फरोख्त कर सरकार बनाने में ही उस्ताद है। Tike hain ki zabardasti jane nahi diya drama dekha hai bus train sab ka bas rahne dein jhuthey yahan trump se bhi zyada jhoth bola jata hai

Bilkul sahi kaha madhe ne majdur jaha jaha gaya hea waha waha fectry laga di hea bjp walo ne क्यों इतनी फेंक रहे हो? Chashme Ka number basal Gaya hai Kya. Had kar di is Insaan ney एक से बढ़कर एक नमूने Kya mast Fekte hai BJP wale मुमकिन नहीं, बहुत बेइज्जत किया है हम लोगों ने। अब सबको खुद ही सब काम करने पड़ेंगे।

This is his expectation only, not as per scientific data !! बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव हैं इनको पदोन्नती जरूर होगा। criteria पूरा हो रहा है? और आप 10 फिसदी को भी नहीं संभाल पाए. Inse koi puchhe sirf 10% log gye hai to Sarkar itni haytauba kyo macha rhi....aur industrialists kyo duhayi de rhe 😷😷 the news must be from another planet. 🙏😷

क्या बात करते हैं ये लोग, जो मुह में आया बक दिए बस और इसे हवा देने के लिए इनके पिल्लै हैं ITCELL घर से बाहर निकल करे Mr. Ram Madhav or Mr. Yogi AdityaNath who is telling truth? Kis sansar m han Lies? ... इसी सोच के कारण पलायन त्रासदी का जन्म हुआ। हम सीरियस थे ही नही कभी कोरोना के लिये बस यही उम्मीद थी कब ओपन करें। अब बेकाबू में भी इकोनामी कनेक्शन क्या रंग लायेगा आप स्वयं देखेंगे।

तो फिर उद्योगपतियों के द्वारा मजदूरों का रोना क्यों‌ रोया था रहा है। Q jhooth bol RHA h sirf 20% hai wo AAA nhi payee हमारे देश के अंडभक्तो को ध्यान रखते हुए 😂😂😂 'बायकॉट चाइना ' लिखी टी शर्ट बना रहा है चीन CAN you exactly tell how many migrants workers work in different states. Ye agar mitrata hain to muze shatruta ki paribhasha samzaiye kulguru!

rammadhavbjp ये लो एक और बड़ा बेवड़ा पी कर आया है लेक्चर देने parliament bhi khol do itna sab khol hi diya h तो ये जो सडक़ों पर चल रहे हैं वो सिर्फ दस प्रतिशत ही हैं? कर दी न दुग्गल साहब वाली बात, सिर्फ सूरत से कितने श्रमिक अपने गांव गए है वो जांच कीजिये. 2_जून_2020 की शाम को 2_मोमबत्ती उन दिवंगत प्रवासी श्रमिको की श्रद्धांजलि के लिए जलाएंगे, जो 2_जून_की_रोटी की तलाश में अपने घरों से दूर अन्य प्रांतों में तो गए लेकिन जिंदा वापस ना आ सके। उनका जीवन भी हम सब के लिए मायने रखता हैं

He is talking about Marsh. 😂😂😂😂 बड़े मजाकिया है हमारे नेता।। Bhai ye log pata nahin kahan se numbers laate hain. Ya fir ye bhi apne aap ko PM samajhne lage hain. He is high on weed मतलब 10 फीसदी लोगों को भी घर पहुँचा पाने में सरकार असफल साबित हुई !! Kon sa white liye ho कोई थप्पड़ मारो इनके, जो ये होश में आएं. अगर प्रवासी अपनी जगह पर ही टीके होते तो मतलब उन्हें खाने की चिंता नही थी, ओर अगर खाने पीने की जरूरतें पूरी हो रही थी, तो फिर ये जो लाखों की तादाद में शहर छोड़ रहे हैं, झूटे हैं.

पागल की बात Can anyone talk truth 😁😁😁😁😁😷. रेलवे क्लेम करती है लगभग 50 लाख प्रवासी मजदूर श्रमिक एक्सप्रेस का इस्तेमाल कर घर पहुंचे। रोड/पैदल/सोनू सूद/22 मार्च के पहले निकलने वाले ज्यादा नही तो 5-6 लाख गिन लो। 55 लाख हो गए ये। ये कहा था आज तक पर भाजपा आज बताऐ भारत माता की कसम लाॅकडाउन से सनातन हत्या सदा को गरीब करने! आर्थिक हानि अलावा क्या पाया? -भारत विश्व में कोरोना में हारने वालो में बड़ा पद पाता दिख रहा पाक बंगलादेश से भी - बद्दतर! अर्थ नरेंद्र मोदी मन की मनोवैज्ञानिकी से देश को नेपोलियन नादिर सा छल रहे!

😂😂😂😂 This joker should be in Zoo. Whole world seen migrants flow and still this joker in his own world. Aur as per rahulkanwal he is BJPs International affairs expert. Aur vote do inko In logo ko gali bhi do to kon si do, behaya ho gay hai ekdam Itna gyaan kahaan se laate hain? ashwaniattrish कुछ भी हकीकत पता नही है।। 2 महीने में पता चल जायेगा

राम माधव जी जरा सोचिए यदि पचास प्रतिशत लोग अपना कार्यस्थल छोड़ घर की ओर चल देते। आंकड़ों को तोड़ मरोड़ना या केवल बोलने के लिए बोलना। जनता सब जानती है। rammadhavbjp जी झूठ की भी कोई सीमा होती है।अगर ऐसा है तो फिर जो बसें और ट्रेनें चलाई गई उनमें कौन अपने घर को गया?जो हजार बसें उप बॉर्डर से बापिस की गई थे उनमे कौन लोग थे ?जिन लोगों को सोनू सूद घर भेज रहे हैं वो कौन है? DyolSingh

. अर्थव्यवस्था भी वहीं टीका है। Itna data sarkar ke pass hota to planing kuch aur hi hota Wrong सारे नेता मंत्री नशा करने के बाद ही बयान देते हैं,, कोई 20 लाख करोड़ रुपए देने बोलता है पीएम केयार फंड के पैसों का नाम कोई नहीं लेता भाजपाई नेता मंत्री ना प्रधानमंत्री Ye bahar nikla hai Kya kabhi ye ac room se sandesh deraha hai

गांजा कुछ ज्यादा सेवन की है ReleaseSafooraZargar ReleaseSafooraZargar ReleaseSafooraZargar ReleaseAzamsFamily ReleaseAzamsFamily ReleaseAzamsFamily ReleaseAzamsFamily वह तो जब फैक्ट्रियां खुलेंगी तब पता चलेगा आखिरी बार क़ब धरती पर कदम रखे थे? Wah aap bole to corona aa gaya Aap bole to corona chalagaya Ab aap bolrahe ho to 90% majdoor apne jaga par hain to honge... Koi sak ?

Agar 90 percent mazdoor Apne kaamo par tike Hain to wo kaun log the Jo road par Roz mar Hain, wo kaun the Jo paidal Apne Ghar highway par chalkar jaa rahe the, wo kaun the Jo cycle chalakar Ghar pahunche, Yaar limit me fekni chahiye.. कहा कहा से इन बकचोंधरों को लाये है यार khulaa zhut bolte hi naam ram mdhav chinta mat karo sagar bachyegaa pruthvi ko

घोर कलयुग है साहेब, मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम और कर्मयोगी भगवान श्रीकृष्ण 'दोनों के नाम' एक साथ रख लेने के बाद भी 'राम -माधव' नाम का इंसान झूठ बोलने से बाज नहीं आता..! CoronaWarriors StudentsWantKamlanathBack INCMP गांजे का नशा है ये Aakhir etni besharmi pusitani hai kya ? Sasta ganja ka dose सर, आपल्या % ने खूप प्रश्न उपस्थित होतात. जे चालत गेले ते 10% मानले तर ते किती? एका राज्यातून दुसऱ्या राज्यात जाणारांची संख्या किती? जे चालत गेले, मेले त्या90%हिंदूंवर उपासमारीची वेळ का आली? 15-20 वर्ष बीजेपी ची सत्ता असलेल्या राज्यांतूनही लोक दुसऱ्या राज्यात कामासाठी का जातात?

बाहर आये,बहुत दिनों के बाद दिखे Bhkk bak**d यह नाम माधव नहीं बलिक सस्ती गांजा की ओवरडोज होने के कारण एक कुत्ता भौंक रहा है Ye union lidar hai sorry union mantri hai Shar Deta in k pass hai kya bakchodi hai Shivratri has gone... from where is he getting BHAANG.. पेश है बेशर्म जमात से एक और बेशर्म!! Tohree baugi ke dalan me majdur bhae lo rukal hawe naaaaa

E भोस D के कौन है राम माधव । Aap Kaha Ho ❓ 90 Days Quarantine ❓ Pagal hone ke ye bilkul matlab nahi ki wo gunga bhi ho 🙏🙏 Ground situation is totally opposite. ये बात तो मानना पड़ेगा कि भाजपा में एक से बढ़कर एक ज्ञानी हैं। झूठ बोल रहा है कौन सा नशा किया था आज इसने.? नश्ल भेद रंग भेद का ईसाइयत श्रोत नही है जबकि हिन्दू धर्मशात्र वर्ण व्यवस्था जाति व्यवथा की जड़ है?

बहुत खूब 90%अगर वही है तो रोड पे कहा से आय है अफगानिस्तान से की पाकिस्तान से अच्छा जी! इस आंकड़े का स्रोत? Iske wale ruke hain,,,BJP IT CELL wale. यही सेकूलिरिज्म है कि इतना बड़ा नेता पूरे परिवार समेत जेल में है और कई तरह के दर्जनों केस से लदे अन्य नेता कुर्सियों पर हैं मंत्रालय लिए बैठे हैं ? ReleaseAzamsFamily

ये सब नसेडी कौन सी कम्पनी का गांजा पीते हैं कोई बतायेगा? और बाकी 10% अपने घर पर! केस खत्म 🤦‍♂️🤷‍♂️ प्रधान मंत्री जी मेरी हिम्मत जवाब दे रही है SpeakUpIndia तो फिर ये भी बता दें कि टोटल माइग्रेंट मजदुर कितने हैं देश में ? तो रास्तेपर कोन था 🚬🚬🚬 कम करो। Flash

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- सबके लिए रोटी की व्यवस्था और राम मंदिर का भी निर्माणकेंद्र की मोदी सरकार के एक वर्ष पूरा होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारत के लिए कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए हैं जो कि देश की एकता और 135 करोड़ जनता के हित में हैं। Ram Mandir sabse pahle our jo bhi majdur bahar se aa rahe hain sabse Bhajan karaya jai myogiadityanath Ji हैं तो आत्मा और परमात्मा दोनो का ध्यान रखेंगे जय जय श्री राम।

कोरोना, श्रम कानून, राम मंदिर से लेकर प्रियंका गांधी! सभी पर बोले योगीमोदी सरकार 2.0 के सत्ता पर काबिज हुए एक साल पूरे हो चुके हैं. इस मौके पर आजतक पर सजा ई-एजेंडा का मंच और इस पर श‍िरकत की यूपी के मुख्यमंत्री योगी आद‍ित्यनाथ ने. कार्यक्रम के सत्र डबल इंजन सरकार ... कितना असरदार में सीएम योगी ने कोरोना संकट, श्रम कानून में बदलाव, प्रवासी मजदूरों की मुश्क‍िलों से लेकर राम मंदिर निर्माण समेत लगभग सभी मुद्दों पर बात की. साथ ही प्रवासियों के लिए बस विवाद पर सीएम ने कहा कि देश ने एक बार फिर कांग्रेस का फर्जीवाड़ा देखा. और क्या रहा इस बातचीत में खास, जानने के ल‍िए देख‍िए पूरा सत्र. myogiadityanath sardanarohit myogiadityanath sardanarohit Ab 69000 teacher bharti inquiry myogiadityanath sardanarohit आगे भी अच्छा ही काम होगा जय श्री राम

Ground Report : Unlock ‘इंडिया’ में ‘भारत’ में रहने वाला प्रवासी मजदूर झेल रहा लॉकडाउन की विभीषिकाकोरोना संकट काल में चार चरणों के लॉकडाउन के बाद आज से देश में अनलॉक -1 की शुरुआत हो गई है। कोरोना के चलते बर्बाद हुई अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए आज से कंटेनमेंट इलाके ही केवल लॉक रहेंगे और सब कुछ अनलॉक।

प्रधानमंत्री मोदी सक्षम नेता लेकिन गलतियों को कौन सुधारेगा: शिवसेनाप्रधानमंत्री मोदी सक्षम नेता लेकिन गलतियों को कौन सुधारेगा: शिवसेना Lockdown Covid19 BJP4India shivsena rautsanjay61 BJP4India ShivSena rautsanjay61 अपने महाराष्ट्र को कहा पहुंचा दिये आप ... BJP4India ShivSena rautsanjay61 सिव सेना तो श्री नरेंद्र मोदो के सामने बच्चा हैं कूद उधव को सीखना चाहिए पप्पू के संग टयुसं लेना चाहिये 😀😀😀 BJP4India ShivSena rautsanjay61 ये शवसेना कह रही है।

कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित 10 देशों में से 7 ने टोटल लॉकडाउन किया था, उनमें से सिर्फ भारत में नए मामले बढ़ रहेलॉकडाउन के 2 महीने बाद इटली, फ्रांस और जर्मनी में रोजाना नए मामलों की संख्या लॉकडाउन से पहले की तुलना में कम हुईलॉकडाउन लगाने वाले सबसे ज्यादा प्रभावित 7 देशों में 2 महीने पूरे होने के बाद भारत में ही सबसे ज्यादा मौतें हो रहींअमेरिका और ब्राजील में नेशनल लेवल पर लॉकडाउन नहीं, राज्यों ने अपने-अपने स्तर पर लॉकडाउन लगाए; तुर्की में कभी 2 दिन तो कभी 4 दिन का कर्फ्यू रहा | india's lockdown fail in comparison with italy,france,germany,spain and uk लॉकडाउन के 2 महीने बाद इटली, फ्रांस और जर्मनी में रोजाना नए मामलों की संख्या लॉकडाउन से पहले की तुलना में कम हुई MoHFW_INDIA drharshvardhan HMOIndia AmitShah PMOIndia RahulGandhi WHO Modi ji h na india me isilye to.... MoHFW_INDIA drharshvardhan HMOIndia AmitShah PMOIndia RahulGandhi WHO Unlock karke bachcho ke hath me de diya...... MoHFW_INDIA drharshvardhan HMOIndia AmitShah PMOIndia RahulGandhi WHO लॉकडाउन का पालन सहीतरीके से नहीं किया गयाहर शहर की कुछ बस्तियों और इलाकों में, पुलिस लॉकडाउन न मानने वालों पर सख्ती कर रही थी तो उसे पंगु बना दिया दबाव डाल डाल कर।बड़े फायदे के लिये कुछ कड़े कदम उठाने पड़ते हैं यहभूल गए। गोपनीयता के चक्कर में पोसिटिव मरीजों के नामदेना बंदकर दिये।

बैठकर दिन गिन रहे प्रवासी मजदूर, न कोई काम, न धंधा; फिर शहर लौटने की चाहलॉकडाउन के चलते अपने घर लौटने के बाद भी प्रवासी मजदूरों की मुश्किलें खत्म नहीं हुई हैं क्योंकि बिना काम के अपने घर पर भी गुजारा करना मुश्किल है। यही वजह है कि लॉकडाउन के चलते अपने अपने घरों को लौटे कामगार अब वापस लौटने के दिन गिन रहे हैं। Bihar sarkar ke pas koi jaadui jinn nhi h ki agle 2 3 mahine me industry, ya kaam dhandha ki vyavastha prakat kr de, sarkar ding hakne pr vivash hai, padadhikari roti sekne pr vivash hai, aam janta sarkar ki vifalta pr vivash hai isiliye pravashi nhi chahte hue bhi wapas jayenge

कांग्रेस के सचिन अब क्या बीजेपी के लिए 'बल्लेबाज़ी' करेंगे? WHO ने कहा- कोरोना अभी बद से बदतर होगा, वैक्सीन और इम्युनिटी से भी निराशा नेपाल के पीएम ओली अयोध्या और राम पर अपने ही देश में घिरे राजस्थान: सचिन पायलट को कांग्रेस ने उपमुख्यमंत्री पद से हटाया योगी सरकार की 'ठोंको नीति' से इंसाफ़ मिलेगा या अपराध बढ़ेगा? कोरोना वायरस: रूस का दावा, उसने कोरोना की वैक्सीन का सफल परीक्षण किया - BBC Hindi कोरोना वायरस: महामारी रोकने के लिए दक्षिण अफ्रीका ने लगाई शराब पर पाबंदी - BBC Hindi कोरोना वायरस: अमरीका में एक दिन में 66,281 नए मामले, अकेले फ्लोरिडा में 15,300 पॉज़िटिव - BBC Hindi गूगल कंपनी भारत में करेगी 75 हज़ार करोड़ का निवेश ईरान ने भारत को दिया झटका, चार साल पहले मोदी ने किया था करार नेपाल के प्रधानमंत्री ओली का बेतुका बयान, बोले- भारत ने बनाई नकली अयोध्या