लिट्टी-चोखा के बारे में वो बातें जो आपको जाननी चाहिए

लिट्टी-चोखा के बारे में वो बातें जो आपको जाननी चाहिए

20.2.2020

लिट्टी-चोखा के बारे में वो बातें जो आपको जाननी चाहिए

मोदी के लिट्टी खाने को बिहार में होने वाले चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है लेकिन इसके बारे में जानने वाली और भी बातें हैं.

ये एक्सटर्नल लिंक हैं जो एक नए विंडो में खुलेंगे शेयर पैनल को बंद करें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हाल ही में दिल्ली में हुए 'हुनर हाट' कार्यक्रम में लिट्टी चोखा खाते नज़र आए. इसके बाद सोशल मीडिया पर सोशल मीडिया पर लिट्टी चोखा को लेकर चर्चा होने लगी और ये क़यास भी लगाए जाने लगे कि कहीं इसका संबंध बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव से तो नहीं है. लिट्टी-चोखा को बिहार की सिग्नेचर डिश का दर्जा हासिल है, हालांकि डिश या व्यंजन आम तौर पर काफ़ी पेचीदा होते हैं, उन्हें बनाने में काफ़ी कारीगरी लगती है और ढेर सारी सामग्री भी. इस हिसाब से लिट्टी को व्यंजन नहीं कहा जा सकता. लिट्टी गूंथे हुए आटे की लोई का गोला है जिसे जलते अलाव में, कोयले या गोबर के उपले की आँच पर भून लिया जाता है. लोई की कुप्पी बनाकर उसके भीतर चने का भुरभुरा सत्तू भी भरा जाता है, लेकिन डोसे की ही तरह सादा लिट्टी और भरवां लिट्टी दोनों बनाए और खाए जाते हैं. चोखा आग पर पके हुए आलू, बैंगन और टमाटर जैसी सब्जियों का भुर्ता है. आग पर पकी सब्ज़ियों को सीधे मसलकर उनमें नमक-तेल डाल दिया जाता है. इमेज कॉपीरइट Image caption हुनर हाट में लिट्टी चोखा खाते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुल मिलाकर, यह दुनिया के सबसे आसानी से तैयार होने वाले खानों में है, इसे बनाने के लिए न तो ढेर सारे बर्तन चाहिए, न ही बहुत सारे मसाले और तेल, यहां तक कि पानी भी बहुत कम लगता है. इसकी एक खासियत यह भी है कि यह कई दिनों तक खराब नहीं होता, लेकिन लोग इसे ताज़ा और गर्मागर्म खाना ही पसंद करते हैं. आम तौर पर सर्दी के दिनों में लोग अलाव सेंकते हुए घर के बाहर ही रात के खाने का इंतज़ाम भी कर लेते हैं. भारतीय व्यंजन असल में कितने भारतीय हैं? ज़मीन से जुड़े होने की अपील मोटे तौर पर लिट्टी बिहारी महिलाओं की रसोई का हिस्सा कम, और पुरुषों और यात्रियों का साथी अधिक रहा है. लिट्टी-चोखा ऐसी चीज़ है जिसे आप सुविधा और उपलब्ध सामग्री के हिसाब से जैसे चाहे वैसे बना सकते हैं. अगर घी है तो अच्छी बात है, अगर अचार और चटनी है तो और भी अच्छा है, अगर नहीं भी हैं, तो कोई बात नहीं. लिट्टी चोखा विशुद्ध रूप से आम आदमी या ये भी कह सकते हैं कि गरीब आदमी का भोजन है. पिछले कुछ सालों में बिहारी कामगारों के देश भर में फैलने के बाद धीरे-धीरे इसके ठेले बिहार से बाहर भी दिखाई देने लगे हैं. 1980 के दशक तक दिल्ली में लिट्टी-चोखा सड़क किनारे मिलना मुश्किल था लेकिन अब यह दिखने लगा है. अगर सेहत के हिसाब से देखें तो यह तले हुए समोसे से तो बेहतर ज़रूर है, हालांकि घी में चुपड़ी लिट्टी की बात कुछ और है. सड़क किनारे सस्ते में मिलने वाला लिट्टी-चोखा अब गैर-बिहारी लोगों में भी धीरे-धीरे लोकप्रिय हो रहा है. कुछ लोगों को इसमें लिपटी राख से सोंधी खुशबू आती है, इसकी देहाती और ज़मीन से जुड़े होने की अपनी एक अपील भी है. हालांकि कहीं-कहीं लिट्टी के नाम पर सत्तू भरा तला हुआ डो-बॉल (लोई का गोला) भी चलन में आ गया है, लेकिन वह नई ईजाद है, बिल्कुल फ्राइड मोमो की तरह. असली मोमो तो भाप में ही पकाया जाता है. अब लिट्टी को मटन और चिकन के साथ भी खाया जाने लगा है जो नया चलन है. दुनिया के सबसे पुराने खाने का नुस्खा मिल गया खेतिहरों और सैनिकों का खाना बिहार एक बड़ा राज्य है लेकिन लिट्टी का चलन मिथिला में कम, मगध और भोजपुर क्षेत्र में अधिक दिखता है. माना जाता है कि लिट्टी चोखा का गढ़ मगध (गया, पटना और जहानाबाद वाला इलाका) है. चंद्रगुप्त मौर्य मगध के राजा थे जिनकी राजधानी पाटलिपुत्र थी लेकिन उनका साम्राज्य अफ़ग़ानिस्तान तक फैला था, कुछ जानकारों का कहना है कि चंद्रगुप्त के सैनिक युद्ध के दौरान लंबे रास्तों में आसानी से लिट्टी जैसी चीज़ खाकर आगे बढ़ते जाते थे हालांकि इसके ठोस ऐतिहासिक साक्ष्य नहीं मिलते. 18वीं सदी की कई किताबों में लंबी तीर्थयात्रा पर निकले लोगों का मुख्य भोजन लिट्टी-चोखा और खिचड़ी बताया गया है. हालांकि पक्के तौर पर ऐतिहासिक प्रमाणों के साथ नहीं कहा जा सकता कि लिट्टी की शुरूआत बिहार में ही हुई थी, आटे को आग पर सेंकने की कई विधियां देश भर में चलन में रही हैं जैसे मेवाड़ और मालवा की बाटी जिसे दाल के साथ खाया जाता है. ऐसे उल्लेख भी मिलते हैं कि तात्या टोपे और झाँसी की रानी के सैनिक बाटी या लिट्टी को पसंद करते थे क्योंकि उन्हें पकाना बहुत आसान था और बहुत सामानों की ज़रूरत नहीं पड़ती थी. 1857 के विद्रोहियों के लिट्टी खाकर लड़ने के किस्से भी मिलते हैं. सदियों से बिहार के किसान खेत की पहरेदारी करते हुए वहीं लिट्टी बनाकर खा लिया करते थे, बहुत बाद में इसकी लोकप्रियता शहरों तक पहुँची. वैसे यह पक्के तौर पर कहा जा सकता है कि चोखा के साथ उसकी जोड़ी बिहार में ही बनी. ( और पढो: BBC News Hindi

PM मोदी की अपील पर कांग्रेस का हमला, कोरोना से जंग पर उठाए कई सवाल



कोरोना वायरस: ऑस्ट्रेलियाई पीएम का चीन के मांस बाज़ार पर हमला

Coronavirus Latest Update: देशभर में कोरोना मामले बढ़कर हुए 2547, अब तक 62 की मौत, 24 घंटे में आए 478 नए मामले



कोरोनावायरस: दिल्ली में कुल संक्रमितों की संख्या 384, इनमें से मरकज के 259 मरीज

मौलाना साद का आलीशान फार्म हाउस: स्वीमिंग पूल और गाड़ियों का काफिला - trending clicks AajTak



कोरोना वायरस: किम जोंग-उन ने ऐसा क्या किया कि संक्रमण नहीं फैला

Super Pink Moon 2020: 8 अप्रैल को दिखेगा सुपरमून, भारत में यहां देख सकते हैं लाइव



Connection bihar se hai bhayi wo insaan koi sadharan insaan nahi हलाला और मूताह के बारे में भी बता भोसड़ी के बीबीसी... 😂😂😂😂 नहीं जाननी, कभी खाऊंगा भी नहीं। Tum itne serious kyun ho jate ho be...b'bc Have you also been sold to political party ? We thought that you may be trustworthy. PM's this Nautanki is Election Stunt. And you prepare article for Litti-Chokha!!! (To promote his exercise!!!) Shameful. One more news channel is listed in GodiMedia. ndtv

मेरा तो बिहार से बचपन का नाता हे😊😊😊

दिल्ली के राजपथ पर 'हुनर हाट' में ‘लिट्टी चोखा’ खाते दिखे पीएम मोदीबुधवार को पीएम मोदी, दिल्ली के राजपथ पर अचानक से 'हुनर हाट' पहुंचे। जहां उन्होंने न सिर्फ कई कलाकारों के साथ मुलाकात narendramodi कभी रोजगार का मुद्दा भी उठा लो की बस कैमरा ले के साहब के पिछवाड़े लगे रहते हो narendramodi Badi bat hai kiya? Fir GDP 10% se upar hojayega aur 2 cr nokri bhi agoya ,kisaan Ka income double ! Are Bhai dalali Ka had hogoi abpnewshindi BBCHindi ndtv narendramodi दलाल अमर उजाला ये भी लिख दो बिहार में चुनाव आनेवाला है 👟👟👟

हुनर हाट में छा गए पीएम मोदी, लिट्टी-चोखा खाया, कुल्हड़ में पी चायनई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की ओर से आयोजित 'हुनर हाट' में बुधवार को अचानक पहुंचे। नरेंद्र मोदी ने वहां लिट्टी-चोखा खाया एवं कुल्हड़ में चाय पी एवं इनका भुगतान उन्होंने स्वयं किया।

गुजरात: पीएम मोदी के गृह राज्य में सेना के जवान के घोड़ी चढ़ने पर बवालआरोप है कि अन्य समुदाय के एक समूह ने दूल्हे के घोड़े पर सवार होने पर इतनी नाराजगी जाहिर की पूरी बारात को ही टारगेट किया गया।

...तो क्या PM मोदी के 'लिट्टी-चोखे' ने कर दिया बिहार विधानसभा चुनाव का आगाज़!पटना. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने बुधवार को दिल्ली के हुनर हाट में लिट्टी चोखा (Litti Chokha) क्या खाया जाती हुई ठंड के बीच बिहार राजनीति अचानक गर्म हो गई. पूर्व सीएम जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) ने तो पीएम मोदी (PM Modi) को धन्यवाद भी दिया और सवाल भी पूछ दिया कि क्या लिट्टी- चोखा खाने को क्या बिहार चुनाव की घोषणा मानी जाए? | bihar News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी Political moves 🙄 सभी Political Parties सामान्य वर्ग व सवर्णों के पीछे क्यों पड़ी है यह ऐसा काम विनोद में कर देते हैं कि विपक्षियों को खुजली मच जाती है, फिर मोदी जी दूर से बैठ आनंद ले रहे होते हैं। लिट्टी चोखा खाने पर जानवरों का चारा खाने वाला ब्रिगेड आहत हो जाता है।

जानिए प्लाज्मा थेरेपी के बारे में, जो चीन में कोरोनावायरस के इलाज में साबित हो रही मददगारचीन में फैले कोरोना वायरस के इलाज को लेकर एक नई तकनीक अपनाई जा रही है। जिसके तहत बीमार लोगों के इलाज के लिए प्लाज्मा

दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में सुंदरकांड का पाठ करवाएगी AAP, ट्वीट में ऐलानआम आदमी पार्टी अब दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में सुंदरकांड का पाठ करवाएगी. AAP विधायक सौरभ भारद्वाज ने मंगलवार को ट्विटर पर इसका ऐलान किया. जैसी चाह वैसी भेष Ye toh BC एकदम से कट्टर हिन्दू सच में बन रहा है। 🤣🤣😂😂 साहिन बाग वाले छाती पिट रहे होंगे की किसको वोट कर दिया। 😂😂 Win- win case है हमारे लिए खैर। 😂😂 Good



कोरोना वायरस: क्या इस वीडियो में दिख रहे लोग तबलीग़ी के थे?- फ़ैक्ट चेक

प्रधानमंत्री के वीडियो मैसेज पर शशि थरूर बोले- अभी प्रधान Showman को सुना, ये बस PM का 'फील गुड' मूमेंट था

मोदी के दीया जलाने की अपील पर तेज प्रताप का ट्वीट- लालटेन भी जला सकते हैं!

कोरोना से जंग : निज़ामुद्दीन मरकज़ का मामला आने के बाद अमेरिका ने कहा- दुनियाभर की सरकारों को...

कोरोना से बचने के लिए दो मीटर की दूरी काफी नहीं, MIT शोधकर्ता की चेतावनी

5 मिनट के वीडियो में 5 संदेश, PM मोदी के मैसेज में छिपे हैं बड़े अर्थ

निज़ामुद्दीन मरकज़ मामला : दिल्ली पुलिस ने मौलाना साद को भेजा नोटिस, पूछे इन 26 सवालों के जवाब

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

20 फरवरी 2020, गुरुवार समाचार

पिछली खबर

ISWOTY Landing Page - BBC हिंदी

अगली खबर

शाहीन बाग़ में मीडिया के सामने मध्यस्थता पर विवाद क्यों?
PM मोदी की अपील पर कांग्रेस का हमला, कोरोना से जंग पर उठाए कई सवाल कोरोना वायरस: ऑस्ट्रेलियाई पीएम का चीन के मांस बाज़ार पर हमला Coronavirus Latest Update: देशभर में कोरोना मामले बढ़कर हुए 2547, अब तक 62 की मौत, 24 घंटे में आए 478 नए मामले कोरोनावायरस: दिल्ली में कुल संक्रमितों की संख्या 384, इनमें से मरकज के 259 मरीज मौलाना साद का आलीशान फार्म हाउस: स्वीमिंग पूल और गाड़ियों का काफिला - trending clicks AajTak कोरोना वायरस: किम जोंग-उन ने ऐसा क्या किया कि संक्रमण नहीं फैला Super Pink Moon 2020: 8 अप्रैल को दिखेगा सुपरमून, भारत में यहां देख सकते हैं लाइव 'रामायण' ने खड़ा कि‍या सवाल, क्या सास-बहू के नाटक देखना चाहते हैं इंडियन टेलीविजन दर्शक? दो दिन में दिल्ली के तबलीगी जमात से जुड़े कोरोना के करीब 650 पॉजिटिव मामले आए सामने Corona World LIVE: सिंगापुर में एक महीने के लॉकडाउन की घोषणा, स्पेन में लगातार दूसरे दिन 900 से अधिक मौतें कोरोना वायरस: पिछले दो दिनों में तबलीग़ी जमात से जुड़े 647 नए मामले- ICMR - BBC Hindi आदित्य बिड़ला समूह ने पीएम केयर्स फंड में दिए 400 करोड़, 100 करोड़ कोरोना से सीधे जूझने को और दिए
कोरोना वायरस: क्या इस वीडियो में दिख रहे लोग तबलीग़ी के थे?- फ़ैक्ट चेक प्रधानमंत्री के वीडियो मैसेज पर शशि थरूर बोले- अभी प्रधान Showman को सुना, ये बस PM का 'फील गुड' मूमेंट था मोदी के दीया जलाने की अपील पर तेज प्रताप का ट्वीट- लालटेन भी जला सकते हैं! कोरोना से जंग : निज़ामुद्दीन मरकज़ का मामला आने के बाद अमेरिका ने कहा- दुनियाभर की सरकारों को... कोरोना से बचने के लिए दो मीटर की दूरी काफी नहीं, MIT शोधकर्ता की चेतावनी 5 मिनट के वीडियो में 5 संदेश, PM मोदी के मैसेज में छिपे हैं बड़े अर्थ निज़ामुद्दीन मरकज़ मामला : दिल्ली पुलिस ने मौलाना साद को भेजा नोटिस, पूछे इन 26 सवालों के जवाब कोरोना के नाम पर अल्पसंख्यकों का नाम खराब करना दुर्भाग्यपूर्ण: अमेरिका Coronavirus: भारत में COVID-19 के मरीजों की संख्या 2300 पार, अब तक 56 लोगों ने गंवाई जान कोरोना पर देशवासियों से PM मोदी की अपील, 5 अप्रैल की रात 9 बजे आपके 9 मिनट चाहिए भारतीय इंजीनियरों का कायल हुआ अमेरिका, बनाया 60 गुना सस्ता वेंटिलेटर कोरोनावायरस को लेकर लोगों को गुमराह करने के लिए हो रहा है टिकटॉक, व्हॉट्सऐप का इस्तेमाल : पुलिस