Uttarpradesh, Lucknow, Lucknow-City-Common-Man-İssues, Lucknow Development Authority, Community Centers İn Lucknow, Lda News, एलडीए के सामुदायिक केंद्र, लख‍नऊ व‍िकास प्राध‍िकरण, Up Commonmanissues, Lucknow, Uttar Pradesh News

Uttarpradesh, Lucknow

लख‍नऊ व‍िकास प्राध‍िकरण के सामुदायिक केंद्रों में बड़ा खेल, किसानों के नाम पर दूसरे लाेग कर रहे बुकिंग

लख‍नऊ व‍िकास प्राध‍िकरण के सामुदायिक केंद्रों में बड़ा खेल, किसानों के नाम पर दूसरे लाेग कर रहे बुकिंग #UttarPradesh #Lucknow

26-10-2021 09:30:00

लख‍नऊ व‍िकास प्राध‍िकरण के सामुदायिक केंद्रों में बड़ा खेल, किसानों के नाम पर दूसरे लाेग कर रहे बुकिंग UttarPradesh Lucknow

किसानों ने बताया कि 26 नवंबर 2021 को बेहड़ा गांव की लड़की की शादी है। बुकिंग राम दयाल रावत ने कराई है। नियमानुसार ऐसा नहीं किया जा सकता। इसी तरह राम मिलन यादव जो सिकंदरपुर के रहने वाले हैं उन्होंने अपनी खतौनी लगाकर दूसरे की शादी करवा रहे हैं।

लखनऊ विकास प्राधिकरण (लविप्रा) ने 12 गांवों के किसानों की सुविधा के लिए जानकीपुरम योजना सेक्टर एच में किसान सामुदायिक केंद्र बनवा रखा है। उद्देश्य है कि जिन गांवों के किसानों की जमीनें लविप्रा ने ले खरीदी थी, उन्हें रियायती दर पर सामुदायिक केंद्र बुकिंग कराने पर मिलता रहे। यहां उसका फायदा किसानों के नाम पर दूसरे लोग सुविधा शुल्क लेकर उठा रहे हैं। 12 गांवों के किसान मिलीभगत करके बीच से पच्चीस हजार रुपये बुकिंग का लेते हैं और प्राधिकरण के बाबुओं की मिलीभगत से 10,315 रुपये खतौनी के साथ जमा करके फायदा उठा रहे हैं। इस पूरे खेल में बाबू सुविधा शुल्क लेकर शादी का गार्ड तक नहीं लगा रहा है।

बार-बार मांगने पर भी नीतीश सरकार 80,000 करोड़ रुपये का हिसाब नहीं दे रही : CAG रिपोर्ट में 'गबन' की आशंका पुतिन के कुछ घंटों का भारत दौरा इतना अहम क्यों है? - BBC News हिंदी 69,000 शिक्षकों की भर्ती का मामला: धांधली के खिलाफ मार्च निकाल रहे अभ्यर्थियों पर पुलिस ने बरसाईं लाठियां

यह भी पढ़ेंस्थानीय लोगो ने दैनिक जागरण को पूरे खेल के बारे में बताया। किसानों ने बताया कि 26 नवंबर 2021 को बेहड़ा गांव की लड़की की शादी है। बुकिंग राम दयाल रावत ने कराई है। नियमानुसार ऐसा नहीं किया जा सकता। क्योंकि बेहड़ा गांव उन 12 गांवों में आता ही नहीं। इसी तरह 11 नवंबर को राम मिलन यादव जो सिकंदरपुर के रहने वाले हैं, उन्होंने अपनी खतौनी लगाकर दूसरे की शादी करवा रहे हैं। यह मामले बानगी है। लविप्रा के महिला और पुरुष बाबू की मिलीभगत से यह खेल लंबे समय से चल रहा है। सूत्रों के मुताबिक लविप्रा ने यहां अगल बगल दो सामुदायिक केंद्र बनवा रखे हैं। एक सामुदायिक केंद्र में बुकिंग व टेंट का खर्च लाखों में आता है और दूसरे में पचास हजार में सबकुछ हो जाता है। यह खेल सालों से चल रहा है।

यह भी पढ़ेंइन गांवों के किसान कर सकते हैं शादीसिकंदरपुर इनायत, छुइया पुरवा, पहाड़पुर, छोटा पहाड़पुर, नवदा, रानी खेड़ा, सबौली, अखिलापुर, पुरनिया सहित 12 गांव हैं। इन गांवों के किसानों को खतौनी लगाकर बुकिंग करा सकते हैं। कई हजार वर्ग फीट में बना है सामुदायिक केंद्र, कमरे भी हैं। headtopics.com

यह फीस किसानों को करनी होती है जमाकिसान सामुदायिक केंद्र का किराया एक दिन का : 4500 रुपयेजीएसटी नौ फीसद एसजीएसटी : 405नौ फीसद सीजीएसटी : 405किसान सामुदायिक केंद्र के लिए निर्धारित फार्म : पांच रुपयेजमानत धनराशि : 5000 रुपये और पढो: Dainik jagran »

शंखनाद: Sakshi Maharaj के बिगड़े बोल, कैसे भरोसा जताएं किसान?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने का ऐलान कर दिया, मगर किसानों में अविश्वास की भावना इस कदर भरी हुई है कि वो मानने के लिए तैयार नहीं हैं. अब किसानों के इस अविश्वास पर मुहर लगा दी है बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने, साक्षी महाराज ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है, साक्षी महाराज ने कहा है कि कानून तो बनते बिगड़ते रहते हैं, उनके इस बयान के बाद अब सियासत गरमाई हुई है. साक्षी महाराज का बयान पीएम मोदी के बयान का विरोधाभास बताता है, क्योंकि बीजेपी बताती है कि पीएम को किसानों की चिंता है इसलिए उन्होंने किसान बिल वापस ले लिया, मगर साक्षी महाराज का मानना है कि ये खालिस्तानी और पाकिस्तानी गठजोड़ को खत्म करने के लिए मारा गया हथौड़ा है. देखिए शंखनाद का ये एपिसोड.

मध्य प्रदेश: भिंड-मुरैना के किसानों के लिए डीएपी खाद पाना चुनौती क्यों बन गया हैमध्य प्रदेश में सर्वाधिक सरसों उत्पादन भिंड और मुरैना ज़िलों में होता है. अक्टूबर में रबी सीज़न आते ही सरसों की बुवाई शुरू हो चुकी है, जिसके लिए किसानों को बड़े पैमाने पर डीएपी खाद की ज़रूरत है. लेकिन सरकारी मंडियों से लेकर, सहकारी समितियों और निजी विक्रेताओं के यहां बार-बार चक्कर काटने के बावजूद भी किसानों को खाद नहीं मिल रही है.

Maharashtra: फिल्म जगत के लोगों को टारगेट कर रहे हैं समीर वानखेड़ेः नवाब मलिकMaharashtra महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक के मुताबिक समीर वानखेड़े जब से एनसीबी में आए हैं वे पहले ही दिन से फिल्म जगत के लोगों को टारगेट कर रहे हैं। उनका महाराष्ट्र की सरकार को बदनाम करने का उद्देश्य था। ये मंत्री है या दलाल Film jagat ke log hi...atankwad fela rahe hai यह सब मामला न्यायालय में पेश होने के उपरांत क्यों हो रहा है अगर आपको जानकारी थी कि समीर वानखेड़े सही आदमी नहीं थी तो उसपर पूर्व में कार्यवाही की जा सकती थी।

विराट कोहली और धोनी के कायल हुए पाकिस्तानी, जमकर कर रहे हैं तारीफ़ - BBC News हिंदीकभी अपने आक्रामक रवैये के लिए सुर्ख़ियों में रहने वाले विराट कोहली रविवार को दुबई में मैच हारने के बाद पाकिस्तान के खिलाड़ियों से मुस्कुराकर हाथ मिलाते और उन्हें गले लगाते दिखाई पड़े. india me ae chal raha he Par is desh me toh narangi khatmal abuse kar rahe hain.

सुप्रीम कोर्ट ने हत्या के एक मामले में 'गैरजरूरी' अपील के लिए उत्तराखंड सरकार को फटकाराशीर्ष अदालत ने उत्तराखंड सरकार द्वारा दाखिल याचिका को खारिज करते हुए चेतावनी दी कि गैरजरूरी याचिका दायर करने की कोशिश पर जिम्मेदार अधिकारी के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई। सर्वोच्च न्यायालय उत्तराखंड द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई कर रहा था।

यूपी में आज भी बारिश के संकेत, दिल्ली में पारा गिरने से ठंड बढ़ने के आसारDelhi Cold Weather : यूपी के पहासू, डिबाई, नरौरा, गभाना, अतरौली, अलीगढ़ में भी अगले कुछ घंटों में बारिश का अनुमान मौसम विभाग ने जताया था.  वहीं दिल्ली में बरसात के कारण सर्दी ने दस्तक दे दी है. अभी तो यूपी में मौसम बिल्कुल साफ दिखाई दे रहा है बारीस का कोई आसार नहीं दिख रहा है कड़वा चौथ वाले दिन ऐसा 70 साल में पहली बार हुआ है हर दुकानदार छोटे मोटे व्यापारी का नुकसान Acha humko toh pata he nahi tha

भारत के साथ विवाद के बीच चीन ने सीमा सुरक्षा को लेकर बनाया क़ानून - BBC Hindiभारत के साथ चल रहे सीमा विवाद के बीच चीन ने अपनी सरहदों की सुरक्षा को और मजबूत बनाने के लिए शनिवार को एक नया क़ानून पारित किया है. चीन अपना तरीका अपनायेगा। हमें मुक़ाबला करना होगा। ये तो हमेशा हि होता है।डर क्यों ? China doesn't need any law. Law means to be followed. And China becomes headache for whole world. Chinamission2un XHNews चीन चाहे जितना क़ानून बना ले, BBC चाहे चीन का जितना भी साथ दे दे, लेकिन भारत इस बार चीन का भूत उतार देगा ।