Modiswearingın, Modisarkar2, Pmmodioathceremony, Newmodicabinet, Modionecagain, Bihar Top, Bihar Politics, Modisarkar2, Ram Vilas Paswan, Narendra Modi, Nda, Upa, Ljp, Sonia Gandhi, Nitish Kumar, Politics Of Alliance, Stalwart Of Alliance Politics, Paswan Always Becomes Minister, बिहार समाचार, राम विलास पासवान, नरेंद्र मोदी

Modiswearingın, Modisarkar2

रामविलास पासवान: गठबंधन की सियासत के महारथी, सरकार किसी भी हो हमेशा रहे मंत्री

केंद्र में सरकार किसी की भी रही हो रामविलास पासवान मंत्री जरूर रहे। गठबंधन की सियासत के इस महारथी को हवा का रूख भांपने में महारथ हासिल है। उनकी सियासत बारे में जानिए ये खास बातें।

30.5.2019

तीन दशक में जिन कुछ क्षेत्रीय दलों के महारथियों ने सत्ता के सबसे निपुण दांव चले, उनमें LJP 4India सुप्रीमो irvpaswan शामिल रहे हैं... ModiSwearingIn ModiSarkar2 PMModiOathCeremony NewModiCabinet ModiOnecAgain

केंद्र में सरकार किसी की भी रही हो रामविलास पासवान मंत्री जरूर रहे। गठबंधन की सियासत के इस महारथी को हवा का रूख भांपने में महारथ हासिल है। उनकी सियासत बारे में जानिए ये खास बातें।

लोकसभा चुनाव में रामविलास पासवान की पार्टी (एलजेपी) ने छह सीटों पर चुनाव लड़ा था। उसने सभी सीटों पर जीत दर्ज की थी। इसके बाद एलजेपी अध्‍यक्ष राम विलास पासवान ने कहा था कि उनकी पार्टी चिराग पासवान को मंत्री बनाना चाहती है। लेकिन अंतिम रूप से रामविलास पासवान के नाम पर ही मुहर लगी।

जो भी हो, राजनीति की करवट की दशा-दिशा का अनुमान लगाने में पासवान की सानी नहीं है। विरोधी इसके लिए उनपर 'सियासी मौसम वैज्ञानिक' होने तंज भी कसते रहे हैं। दरअसल,यही उनकी काबिलियत भी है। सियासी हवा किस आेर चल रही है, इसे भांपकर फैसले लेने के कारण ही उनकी पार्टी (एलजेपी) साल 2000 में गठन के बाद के करीब दो दशक के दौरान अधिकांश समय केंद्र की सत्ता में रही है। सरकार चाहे एनडीए की रही हो या संयुक्‍त प्रगतिशील गठबंधन (UPA) की, पासवान हमेशा सत्ता में रहे हैं।

रामविलास पासवान ने साल 2000 में जनता दल यूनाइटेड (JDU) से अलग होकर एलजेपी बनाई। उनका सियासी आधार बना सामाजिक न्याय। रामविलास ने जब लोजपा बनाई तो इसका सियासी सफर भी सत्ता के साथ ही शुरू हुआ। यह पासवान का राजनीतिक कौशल ही था कि उन्‍होंने जेडीयू से अलग होकर पार्टी बनाई और जेडीयू के साथ एनडीए में भी शामिल रहे तथा मंत्री भी बने।

लेकिन पासवान ने 2002 के गुजरात दंगों के मसले पर एनडीए से नाता तोड़ लिया। सही वक्त पर सही दांव का परिणाम उनके पक्ष में गय। 2004 के लोकसभा चुनाव के पहले उन्‍होंने तत्‍कालीन कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी की पहल पर एनडीए विरोध का मोर्चा संभाल लिया। आगे रामविलास पासवान 2004 में यूपीए में शामिल होकर केंद्र की मनमोहन सिंह सरकार में मंत्री बने।

आगे 2009 में पासवान को कांग्रेस से किनारा करना महंगा पड़ा। यह उनके सियासी कॅरियर का मुश्किल दौर था। इस दौर में एलजेपी का तो सफाया हुआ ही, रामविलास पासवान भी अपने सियासी गढ़ हाजीपुर में चुनाव हार गए। लेकिन यह दौर लंबा नहीं चला। एक साल के अंदर ही 2010 में पासवान राज्‍यसभा पहुंच गए। लालू प्रसाद यादव ने 2010 में उन्‍हें राज्यसभा में पहुंचाया।

और पढो: Dainik jagran
ताज़ा खबर
अभी नवीनतम समाचार

चरण सिंह: अंग्रेजी शासन में भी किसानों की कर्जमाफी कराई, आज संकट में परिवार की सियासतवो नेता जो अंग्रेजों की गुलामी में भी भारत के किसानों का कर्ज माफ कराने का दम रखता था, उनके खेतों की नीलामी रुकवाता था और जमीन उपयोग का बिल तैयार करवाता था जिसे आज भी किसानों का मसीहा कहा जाता है, उनका नाम है चौधरी चरण सिंह. javedakhtar90 तमाम उपलभदियों के बावजूद पद की चाह से मोहित उन्होंने जनता पार्टी की सरकार तोड़ दी एकमेव ऐसे प्रधानमंत्री रहे जिन्होंने कभी लोकसभा का सामना नहीं किया और उनके जो गुण थे वह पुत्र और पौत्र में ना होने की वजह से आज दोनो ही संसद में नहीं javedakhtar90 He was a villian in destroying Janata in order to become PM with the support of Congress .

मोदी कैबिनेट 2.0: देखें किसे-किसे मिला केंद्रीय मंत्री का दर्जा-Navbharat Timesलोकसभा चुनावों में प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में आए भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के नेता के तौर पर नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में एक भव्य समारोह में मोदी व उनके मंत्रिमंडल के सदस्यों को पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई। करीब दो घंटे चले शपथ ग्रहण समारोह में एनडीए की जीत के सूत्रधार रहे बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और पूर्व विदेश सचिव एस जयशंकर आकर्षण का केंद्र रहे। जानें मोदी सरकार 2.0 के 24 केंद्रीय मंत्रियों के बारे में...

कहानियों
दिन की शीर्ष समाचार कहानियां

केरल में आतंकी घुसपैठ की संभावना के चलते हाई अलर्ट, नाव के जरिए आने की संभावनाजानकारी मिली है कि 15 लोग जो आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट से संबंध रखते हैं वह श्रीलंका से एक सफेद रंग की नाव से निकले हैं। Kerala ISIS narendramodi nitin_gadkari rajnathsingh cricketaakash sardanarohit जल्दी जन्नत मिलेगी फिर।। निकल गए अगर।। बाकि भारत की सेना दुनिया से निकाल देगी ।। indianarmy As chuke honge.baad Ko pata chalta hai.

केरल में समुद्र के रास्ते ISIS के 15 आतंकियों के घुसने की आशंका– News18 हिंदीशनिवार देर रात केरल तट पर आईएस आतंकियों की हलचल की सूचना मिलने के बाद हाईअलर्ट जारी कर दिया गया है. वायनाड केरल में हैं है हो सकता है ISIS वाले अपने भाई RahulGandhi को वायनाड सीट जीतने की बधाइयाँ देने आए हो , राहुल गाँधी को मिलने जाना चाहिए उनसे ।।।। INCIndia बताने की जरूरत नहीं है मीडिया में इनको समुंदर में ही दफन कर दीजिए

कहानियों
दिन की शीर्ष समाचार कहानियां

UP: महिला ने कोल्ड ड्रिंक में जहर मिलाकर की बच्चों की हत्या , बाद में आत्महत्या कीउत्तर प्रदेश के शामली जिले के एक गांव में एक महिला ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली। यही नहीं महिला ने मरने से पहले अपने दोनों बच्चों को जहर खिलाया था जिसके चलते उनकी मौत हो गई।

स्मृति ईरानी के करीबी नेता के हत्या के मामले में 7 लोग हिरासत में छापेमारी जारी– News18 हिंदीपूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह की हत्या के मामले में डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि इस मामले में 7 संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. इस मामले में डीजीपी ऑफिस से सघन मॉनिटरिंग की जा रही है. बहुत_दुखद_घटना Justice_for_Payal डॉ. पायल सलमा तडवी की क्या अकादमिक हत्या नहीं की गई? उसका गुनाह क्या था , कि वह आदिवासी भील होकर भी एमडी की शिक्षा ले रही थी? लेकिन उसके सीनियर्स को एक आदिवासी भील लड़की का... दोषी को फांसी की सजा होने चाहिए Bhut dukhad ghtna h

कर्नाटक में बीजेपी को शाह के इशारे का इंतज़ार?लोकसभा चुनावों में अच्छे प्रदर्शन के बाद राज्य में सरकार बनाने की बीजेपी की कोशिशें तेज़. नहीं , सरकार अपनी गुटबाजी से गिरेगी Haa ker de, Nhi giregi sarkar

दंगल: चुनाव के बाद बंगाल में 'सियासी भगदड़' Dangal: 2 TMC MLAs, over 50 councillors join BJP - Dangal AajTakबंगाल में आज बीजेपी ने बड़ी सेंधमारी की है. टीएमसी (TMC) से निलंबित हुए विधायक और वरिष्ठ बीजेपी नेता मुकुल रॉय के बेटे सुभ्रांशु रॉय आज बीजेपी में शामिल हुए. साथ ही टीएमसी के एक और विधायक, बिष्णुपुर के विधायक तुषार भट्टाचार्जी और हेमताबाद से सीपीएम विधायक देबेंद्रनाथ रॉय ने भी बीजेपी का दामन थाम लिया है. इसके साथ ही 50 से अधिक पार्षदों ने बीजेपी को अपनी पार्टी बना लिया है.बंगाल में इस बार बीजेपी ने बड़ी जीत हासिल की है, और 42 में से 18 सीटों पर जीत दर्ज की है, जबकि 2014 में बीजेपी के पास सिर्फ 2 सीटें थीं. लेकिन अब इस जीत के बाद टीएमसी के विधायकों और पार्षदों को अपनी ओर मिलाकर बीजेपी ने ममता बनर्जी के सामने बंगाल चैलेंज पेश कर दिया है. गौरतलब है कि चुनाव प्रचार के दौरान ही PM नरेंद्र मोदी ने कहा था कि टीएमसी के 40 विधायक बीजेपी के संपर्क में है. क्या टीएमसी के नेताओं को अपनी ओर शामिल कर बीजेपी ने अभी से 2021 विधानसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है? sardanarohit अब बंगाल में भगवा आया है जय श्री राम वालो को भेजो जेल अब sardanarohit sardanarohit आज TMC के 2 विधायक और 50 पार्षद को भाजपा ने करोड़ो रूपये और पद का लालच देकर खरीद लिया कल तक ये सब ममता दीदी के गुंडे थे अब ये भाजपा मे आकर संत हो गये भक्त, दलाल पत्रकारो और भाजपाई इसे मास्टर स्ट्रोक कहेंगे लेकिन शास्त्रों में इसे दोगलापन और बेशर्मी की परकाष्ठा कहा गया है।

आखिर कहां हैं मोदी की जीत के शिल्पकार अरुण जेटलीनई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई में विपक्ष के चक्रव्यूह को तोड़ते हुए लोकसभा चुनाव में 303 सीटें हासिल कर इतिहास रच दिया। आज देश के पश्चिम तथा उत्तरी भाग में ही नहीं बल्कि पूर्वी हिस्से में भी भगवा लहरा रहा है। इस जीत के शिल्पकारों में एक नाम अरुण जेटली का भी है। भाजपा की जीत में बड़ी भूमिका निभाने वाले अरुण जेटली पार्टी के महाविजय के जश्न के बीच कहीं दिखाई नहीं दे रहे हैं। ऐसे में यह सवाल उठ रहा है कि जेटली आखिर हैं कहां...

आयकर की राडार में आया आदर्श ग्रुप, घोटाले में फंसे जयपुर निवशकों के 100 करोड़ रुपए– News18 हिंदीदेश की बड़ी कॉपरेटिव सोयायटी में से एक आदर्श कॉपरेटिव सोयायटी पर अब एसओजी ने शिकंजा कसा है. एसओजी से पहले देश की अन्य जांच एजेंसियों की नजर इस पर थी. आदर्श ग्रुप वित्तीय गड़बड़ियों के चलते साल 2009 में ही आयकर विभाग की नजरों में आ गया था. विभाग ने आदर्श ग्रुप के सिरोही व जयपुर स्थित ठिकानों पर रेड मारकर 10 करोड़ से ज्यादा के ठगी का दावा किया था. आयकर विभाग ने साल 2009 में छापे के दौरान बता दिया था कि आदर्श ग्रुप में ब्लैक मनी के लेनदेन को लेकर गलत तरीके से निवेश हो रहा है. इसी के चलते RBI ने ग्रुप को नोटिस देकर चेतावनी दी थी. बता दें कि करीब दो महीने से एसओजी के अफसरों की इन पर नजर थी और दो महीने की कार्रवाई के दौरान दर्जनों लोगों से पूछताछ करने के बाद बारह से ज्यादा लोगों को अरेस्ट कर लिया गया है. कांग्रेश ने घोटाले दबा कर रखे। मोदी हैं तो मुमकिन है।

ससुर के निधन के एक दिन बाद काजोल की मां की तबीयत बिगड़ी, देखने पहुंचीं अस्पतालबॉलीवुड डेस्क. सोमवार को अजय देवगन के पिता वीरू देवगन के पिता का निधन हो गया। इस के अगले ही दिन काजोल की मां वेटरन एक्ट्रेस तनुजा की तबियत बिगड़ी और उन्हें मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया। | actor Kajol was seen at the Lilavati hospital to meet her mother, actor Tanuja. The veteran actor is not well and is undergoing treatment at the hospital.

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

31 मई 2019, शुक्रवार समाचार

पिछली खबर

अजित सिंह को मात देने वाले संजीव बालियान को मिली मोदी मंत्रिमंडल में जगह

अगली खबर

मोदी मंत्रिमंडल में रमेश पोखरियाल निशंक को मिली जगह, कैबिनेट मंत्री के रूप में ली शपथ
अजित सिंह को मात देने वाले संजीव बालियान को मिली मोदी मंत्रिमंडल में जगह मोदी मंत्रिमंडल में रमेश पोखरियाल निशंक को मिली जगह, कैबिनेट मंत्री के रूप में ली शपथ