Ramdev, Allopathy, Doctorsasssociation, Protest, रामदेव, डॉक्टरसंघ, एलोपैथी, प्रदर्शन

Ramdev, Allopathy

रामदेव के एलोपैथी बयान के विरोध में डॉक्टर करेंगे देशव्यापी प्रदर्शन, बंगाल में भी शिकायत दर्ज

रामदेव के एलोपैथी बयान के विरोध में डॉक्टर करेंगे देशव्यापी प्रदर्शन, बंगाल में भी शिकायत दर्ज #Ramdev #Allopathy #DoctorsAsssociation #Protest #रामदेव #डॉक्टरसंघ #एलोपैथी #प्रदर्शन

30-05-2021 11:03:00

रामदेव के एलोपैथी बयान के विरोध में डॉक्टर करेंगे देशव्यापी प्रदर्शन , बंगाल में भी शिकायत दर्ज Ramdev Allopathy DoctorsAsssociation Protest रामदेव डॉक्टरसंघ एलोपैथी प्रदर्शन

एलोपैथी पर योग गुरु रामदेव की टिप्पणी से नाराज़ रेजिडेंट डॉक्टरों के एसोसिएशन के परिसंघ ने कहा है कि वे एक जून को देशभर में प्रदर्शन करेंगे. उन्होंने रामदेव से बिना शर्त के सार्वजनिक रूप से माफ़ी मांगने को भी कहा है. इसी बयान पर आईएमए की पश्चिम बंगाल इकाई ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है.

बता दें कि सोशल मीडिया पर व्यापक तौर पर शेयर किए गए एक वीडियो में रामदेव को कहते सुना गया था कि ‘एलोपैथी एक स्टुपिड और दिवालिया साइंस है’.उन्होंने यह भी कहा कि एलोपैथी की दवाएं लेने के बाद लाखों लोगों की मौत हो गई, जिसके बाद विवाद खड़ा हो गया.एलोपैथी को स्टुपिड और दिवालिया साइंस बताने पर रामदेव के खिलाफ महामारी रोग कानून के तहत कार्रवाई करने की डॉक्टरों की शीर्ष संस्था

Bihar: विधानसभा के मॉनसून सत्र का बॉयकाट करेगा समूचा विपक्ष, तेजस्‍वी यादव ने किया ऐलान.. कल से दिल्ली में उत्तर प्रदेश के बीजेपी सांसदों की बड़ी बैठक MP News: कोरोना जांच में घटिया टेस्ट किट का इस्तेमाल, कांग्रेस ने लगाया घोटाले का आरोप

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) व डॉक्टरों के अन्य संस्थाओं की मांगके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने रामदेव को एक पत्र लिखकर उनसे अनुरोध किया था कि वे अपने शब्द वापस ले लें, जिसके बाद रामदेव ने अपनाबयानवापस ले लिया था.इसके एक दिन बाद योग गुरु रामदेव ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक खुले पत्र में आईएमए से 25 प्रश्न पूछे थे, जिसमें पूछा गया था कि क्या एलोपैथी ने उच्च रक्तचाप और टाइप -1 और टाइप-2 मधुमेह जैसी बीमारियों के लिए स्थायी राहत प्रदान की है.

उन्होंने पार्किंसंस रोग जैसी आधुनिक समय की बीमारियों के बारे में भी पूछा और सवाल किया कि क्या एलोपैथी में इंफर्टिलिटी (बांझपन) का बिना दर्द का इलाज है.वहीं, आईएमए ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर मांग की है कि कोविड-19 के उपचार के लिए सरकार के प्रोटोकॉल को चुनौती देने तथा टीकाकरण पर कथित दुष्प्रचार वाला अभियान चलाने के लिए रामदेव पर तत्काल headtopics.com

राजद्रोहके आरोपों के तहत मामला दर्ज होना चाहिए.पश्चिम बंगाल में रामदेव के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्जभारतीय चिकित्सा संघ (आईएमए) की बंगाल इकाई ने एलोपैथी पर रामदेव के विवादित बयान के विरोध में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है.संगठन ने कोलकाता के सिंथी थाने में शिकायत दर्ज कराते हुए रामदेव पर महामारी के दौरान भ्रामक और झूठी जानकारी देने के साथ जनता के बीच भ्रम पैदा करने का आरोप लगाया गया है.

आईएमए की बंगाल शाखा ने शुक्रवार को दर्ज शिकायत में कहा, ‘रामदेव ने कहा है कि आधुनिक चिकित्सा पद्धति के कारण कोविड के मरीज अधिक पीड़ित हैं और मर रहे हैं, जो कोरोना वायरस का इलाज नहीं कर सकती. उन्होंने यह भी कहा है कि टीके की दोनों खुराक लेने के बाद भी 10,000 से ज्यादा डॉक्टरों की मौत हो चुकी है, जो बिल्कुल गलत है.’

शिकायत में कहा गया, ‘इस तरह की भ्रामक और गलत जानकारी साझा कर वह (रामदेव) महामारी के दौरान भ्रम पैदा कर रहे हैं, जो गंभीर अपराध है.’इससे पहले आईएमए ने एलोपैथी पर भ्रामक बयानबाजी करने के लिए रामदेव के खिलाफदिल्लीमें भी पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी.आईएमए ने आईपी एस्टेट पुलिस थाने में दी गई अपनी शिकायत में कहा था कि रामदेव ने कोविड-19 संक्रमित व्यक्तियों के लिए स्थापित और अनुमोदित तरीकों एवं दवाओं से इलाज के बारे में जानबूझकर एवं सोच समझकर झूठी, आधारहीन और दुर्भावनापूर्ण जानकारी फैलाई.

वहीं आईएमए की उत्तराखंड इकाई ने रामदेव कोका नोटिस भी भेजा था, जिस पर पतंजलि योगपीठ ने पुष्टि करते हुए कहा था कि वह कानूनी तरीके से इसका करारा जवाब देंगे.(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ) और पढो: द वायर हिंदी »

अब लेजर से मारेंगे कोरोना: 50 मिली सेकेंड में कोरोना वायरस खत्म, इटली के साइंटिस्ट ने बनाई लेजर मशीन; जानिए इसकी खूबियां

दुनिया भर में डेढ़ साल के भीतर तेजी से फैले कोरोना वायरस के एक तरफ जहां हर रोज नए वैरिएंट देखने को मिल रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ साइंटिस्ट इसे खत्म करने के नए तरीके खोजने में लगे हुए हैं। | दुनिया भर में डेढ़ साल के भीतर तेजी से फैले कोरोना वायरस के एक तरफ जहां हर रोज नए वैरिएंट देखने को मिल रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ साइंटिस्ट इसे खत्म करने के नए तरीके खोजने में लगे हुए हैं।इटली में अब एक ऐसी डिवाइस बनाई है जिसके बारे में कहा जा रहा है कि ये कोरोना वायरस को मार सकती है। यह लेजर डिवाइस चार दीवारी के भीतर मौजूद कोनोवायरस कणों को मार सकती है।

Up में तो ESMA है! DrNeera04005800 500 रुपये की कोरोनील देने वाला उद्योगपति, और 20 लाख रुपये का बिल थमाने वाले कोरोना वारियर्स? काफी देर हो चुकी अब चिकित्सकों के सन्यास का समय आ गया है ! शीघ्र ही लाला रामदेव को देश के स्वास्थ्य मंत्री के पद पर आरूढ़ किया जाए और सीएए की तर्ज़ पर कानून बना कर शल्य चिकित्सा आदि जोगियों से ही करवाई जाए वैसे भी चरक, सुश्रुत जोगी ही तो थे ! नकलंक अवतार विश्वगुरु मोदी की जय हो !

Its nothing just to divert attention of public from vaccine shortage and deaths... 🤣🤣🤣 This way, we are unnecessarily giving weightage or undue importance to babaj ji...he is doing politics .. आयुर्वेद ज़िंदा बाद तो ठीक है पर एलोपैथिक मुर्दाबाद क्यों और फिर इज़्ज़त ( किसी का बाप गिरफ्तार नही कर सकता ) और मिली सबास aajtak

एक टुलकिट का इस्तेमाल हो रहा है। सरकार अपनी नाकामी का ठिकरा डाॅक्टर्स और एलोपॅथी पर फोडकर बचना चाहती है। ये खुद नही कर सकती इसलिये बाबा रामदेव को मोहरा बनाया गया है। वरना बाबा के राजद्रोह की हरकतों के बाद भी सरकार खामोश है। इसी रणनीति के तहत गृहमंत्री कहीं दिखाई नही दे रहे। उठाके फिट करो,गैर भाजप राज्य मे,जैसे वो रिपब्लिक वाले को महारास्ट्र मे किया था।