Road Accident, Rajasthan, Ahsok Gehlot, Delhi, Chief Minister Life Secure Scheme

Road Accident, Rajasthan

राजस्थान: घायलों को अस्पताल पहुंचाने पर सरकार देगी पुरस्कार, पुलिस भी नहीं करेगी कोई पूछताछ

राजस्थान: घायलों को अस्पताल पहुंचाने पर सरकार देगी पुरस्कार, पुलिस भी नहीं करेगी कोई पूछताछ

16-09-2021 21:05:00

राजस्थान: घायलों को अस्पताल पहुंचाने पर सरकार देगी पुरस्कार, पुलिस भी नहीं करेगी कोई पूछताछ

राजस्थान सरकार ने मुख्यमंत्री चिरंजीवी जीवन रक्षा योजना की शुरुआत की है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति को बचाना है।

इस योजना के तहत पुरस्कार पाने के लिए सबसे पहले घायल व्यक्ति को अस्पताल पहुंचाने वाले व्यक्ति को अस्पताल में तैनात मेडिकल ऑफिसर के पास सारी जानकारी दर्ज करवानी होगी। बाद में मेडिकल ऑफिसर उस रिपोर्ट को तैयार करेंगे जिसमें यह तय होगा कि घायल व्यक्ति को किस अवस्था में अस्पताल लेकर आया गया। मेडिकल ऑफिसर की रिपोर्ट तय होने के बाद 2 दिन के अंदर उक्त व्यक्ति के खाते में पुरस्कार का पैसा भेजा जाएगा।

बचाव: आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा के लिए शिवसेना पहुंची सुप्रीम कोर्ट नए तेवर: राज ठाकरे दिसंबर में जाएंगे अयोध्या, हिंदुत्व के एजेंडे को धार देने की तैयारी राम की वापसी: अक्षय कुमार की फिल्म 'ओह माय गॉड 2' में फिर से भगवान राम का रोल निभाते नजर आएंगे अरुण गोविल

हालांकि इस योजना के अनुसार सरकारी एंबुलेंस, निजी एंबुलेंस के कर्मचारी, ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों, पीसीआर वैन और घायल व्यक्ति के निकट संबंधियों को पुरस्कार नहीं दिया जाएगा। इस योजना के तहत पुरस्कार का आवंटन सड़क सुरक्षा कोष से किया जाएगा। बीते 10 सितंबर को ही

राजस्थानसरकार की तरफ से इस योजना से संबंधित नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है।हालांकि दिल्ली में पहले से ही इस तरह की योजना लागू है। दिल्ली सरकार ने साल 2018 में ही सड़क दुर्घटना के घायलों को अस्पताल पहुंचाने वाले व्यक्तियों को 2000 रुपये का कैश अवार्ड देने की शुरुआत की थी। साल 2017 में दिल्ली सरकार की कैबिनेट ने इस योजना को पास किया था और 2018 के मई महीने से इसकी शुरुआत की गई थी। headtopics.com

और पढो: Jansatta »

रोटी, कपड़ा और 'काम तमाम'! गरीबी जीने नहीं देती... आतंकवाद रहने नहीं देता

बिहार के मजदूरों को रोटी की चिंता में कश्मीर तक जाना पड़ता है और कश्मीर में आतंकवाद का डर उन्हें रहने नहीं देता है. ये कहानी है उस रोटी, कपड़ा और आतंकवाद के कारण जिंदगी खत्म होने की, जहां कश्मीर में गोलगप्पे बेचकर, आइस्क्रीम बेचकर, रेहड़ी लगाकर, ईंट भट्टे पर काम करके घर चलाने के लिए बिहार के मजदूर पहुंचते हैं. लेकिन कश्मीर में गैर कश्मीरी और गरीब मजदूरों को चुनकर आतंकवादी मारने लगते हैं. 16 दिन के भीतर ग्यारह लोग कश्मीर में आतंकियों के हाथों मारे गए. इनमें बिहार के चार मजदूर हैं, जिनकी मौत के बाद यूपी, बिहार, छत्तीसगढ़ समेत कई राज्यों के गरीब कश्मीर से अपना बोरिया बिस्तर बांधकर जान बचाने के लिए घर लौटने लगे. देखिए 10 तक का ये एपिसोड.

UP: किसानों को साधने में जुटी योगी सरकार, 18 सितंबर को आयोजित करेगी किसान सम्मेलन'किसान कल्याण सम्मेलन’ नाम से आयोजित सम्मेलन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, यूपी प्रभारी राधा मोहन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह शामिल होंगे. लखनऊ के आशियाना में स्मृति उपवन पार्क में आयोजित सम्मेलन में प्रदेश के सभी विधानसभाओं से किसानों को बुलाया जाएगा. senshilpi भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन ... लोगो दिखाया जाएगा किसान सम्मेलन ... मिडियाने असली किसान सम्मेलन नही दिखाया ... ये सुबह से दिखाया जाएगा ... senshilpi पहले अडानी अमबानी की चाटना तो बंद करो, तब किसानों की बात करना

हाईकोर्ट का निर्देश: कैदियों के टीकाकरण कार्यक्रम को सुनिश्चित करे केरल सरकारहाईकोर्ट का निर्देश: कैदियों के टीकाकरण कार्यक्रम को सुनिश्चित करे केरल सरकार Kerala HighCourt Coronavirus Covid19 CoronaVaccine PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI

मुंबई: परमबीर सिंह को फिर झटका, उद्धव सरकार की जांच के खिलाफ याचिका खारिजमुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह को एक बार फिर झटका लगा है। बंबई उच्च न्यायालय ने परमबीर सिंह द्वारा दायर उस

मोदी सरकार के अहम फैसले, ऑटो सेक्टर के लिए PLI योजना को मंजूरी | Modiनई दिल्ली। केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने काफी समय से परेशान चल रहे ऑटो सेक्टर के लिए बड़ी राहत की घोषणा की है। सरकार ने इलेक्ट्र‍िक वाहनों के उत्पादन, हाइड्रोजन फ्यूल व्हीकल उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए प्रोडक्शन लिंक इंसेंटिव (PLI) के तहत 25 हजार 938 करोड़ रुपए मंजूर किए हैं।

कोरोना वैक्सीन की बूस्टर शाट लगाने की योजना को लेकर केंद्र सरकार ने दिया यह जवाबकेंद्र सरकार ने गुरुवार को कहा कि कोरोना वैक्सीन की बूस्टर शाट उसकी योजना में शामिल नहीं है और फिलहाल लोगों को दो खुराक देना मुख्य प्राथमिकता है। आइसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा कि दोनों खुराक देना आवश्यक है और इसमें कोई कोताही नहीं होनी चाहिए। सरकार ने स्पष्ट किया है कि वैक्सीन की दो डोज के बाद किसी बुस्टर शॉट लगाने की जरूरत नहीं है,मिडिया माडर्ना की वैक्सीन बेचने की एजेंडेबाजी कर रही है,छपने के पहले बिकने का यह अनुपम उदाहरण है,भी अछूता नहीं है इससे,प्रिंट मीडिया-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में पिट कर अब यहाँ आ गए.. शिक्षक_ट्रांसफर_पोर्टल_चालू_करो ChouhanShivraj JM_Scindia Indersinghsjp माननीय घनघोर अंधेरा है हमको इसी में से जाना है कभी एकांत में अपने अंतर्मन से पूछिये कि क्यों आपने ट्रांसफर वंचितों के साथ न्याय नहीं किया? पारदर्शिता से पोर्टल पुनः चालू करके अंधेरा दूर कीजिये सरकार

असदुद्दीन ओवैसी की PM Modi को ‘ललकारा’, बोले- दम है तो तालिबान को आतंकी घोषित करेंOwaisi on Taliban and PM Modi: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि नरेंद्र मोदी की सरकार में दम है, तो तालि...