Rajasthanpolitics, Rajasthan, Confidence Motion, Ashok Gehlot, Floor Test, Congress, Sachin Pilot

Rajasthanpolitics, Rajasthan

राजस्थान विधानसभा में बीजेपी का अविश्वास प्रस्ताव क्यों है गहलोत के 'मन की बात'!

बीजेपी ने विधानसभा सत्र में अविश्वास प्रस्ताव लाने की पहल कर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के मन की मुराद पूरी कर दी है (@sharatjpr ) #RajasthanPolitics

14-08-2020 08:27:00

बीजेपी ने विधानसभा सत्र में अविश्वास प्रस्ताव लाने की पहल कर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के मन की मुराद पूरी कर दी है (sharatjpr ) RajasthanPolitics

कांग्रेस हाईकमान के दखल के बाद अशोक गहलोत और सचिन पायलट खेमा एक हो चुका है. कांग्रेस के पास बहुमत के आंकड़े से ज्यादा विधायकों का समर्थन हासिल है और एक बार विश्वास मत हासिल करने के बाद गहलोत सरकार के लिए 6 महीने तक संकट दूर हो जाएगा. ऐसे में बीजेपी ने विधानसभा सत्र में अविश्वास प्रस्ताव लाने की बात कह कर गहलोत के मन की मुराद पूरी कर दी है.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विधानसभा सदन के अंदर अपनी ताकत दिखाना चाहते हैं. कांग्रेस विधायक दल की बैठक में गुरुवार को गहलोत ने कहा कि हम खुद विश्वास मत लेकर आएंगे. बीजेपी वाले अविश्वास प्रस्ताव लेकर आ रहे हैं, विधानसभा अध्यक्ष देखेंगे कि कैसे क्या किया जाएगा? साथ ही गहलोत ने कहा कि 19 विधायकों के बिना भी वह विधानसभा में बहुमत साबित कर देते, लेकिन वह खुशी नहीं मिलती. गहलोत ने सीधे तौर पायलट खेमे को संदेश देने की कोशिश की है कि हम आपके समर्थन के बिना भी बहुमत पास करने की ताकत रखते हैं.

हाथरस मामले में योगी सरकार पर सच दबाने और अभियुक्तों का समर्थन करने का आरोप - फ़ैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट - BBC News हिंदी लोगों को पसंद नहीं आया राष्ट्र के नाम संदेश, यूट्यूब पर डिसलाइक बढ़े तो भाजपा ने नंबर छुपाए IPL 2020: धवन की पारी पर भारी पंजाब पावर, दिल्ली की हार - BBC News हिंदी

ये भी पढ़ें: गहलोत की असली जीत 101 नहीं, 125 विधायकों के वोट हासिल करने से होगीदरअसल, पायलट खेमे के बगावत के बाद से ही मुख्यमंत्री गहलोत सदन में बहुमत साबित कर ताकत दिखाना चाहते थे. इसी मद्देनजर गहलोत तीन-तीन बार कैबिनेट से प्रस्ताव पास कर राज्यपाल कलराज मिश्र को भेजकर विधानसभा सत्र बुलाने की डिमांड रखी थी, लेकिन बहुमत परीक्षण का जिक्र एक बार भी नहीं किया था. इसी के चलते राजभवन और गहलोत सरकार के बीच टकराव की स्थिति भी देखने को मिली थी, जब गहलोत ने अपने समर्थक विधायकों के साथ राजभवन में धरना दे दिया था. इसके बाद कहीं जाकर राज्यपाल ने 14 अगस्त से विधानसभा सत्र शुरू करने की अनुमित दी थी.

राजस्थान में विधानसभा सत्र अब शुक्रवार को शुरू हो रहा है तो बीजेपी ने गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का ऐलान किया है. वहीं, सीएम गहलोत ने खुद विश्वास प्रस्ताव लाने की बात कही है. विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी अगर विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव को स्वीकार करते हैं तो बीजेपी को सदन में बोलने का पहले मौका मिलेगा और अगर सत्ता पक्ष के विश्वास प्रस्ताव को मंजूरी देते हैं तो कांग्रेस को बोलने का पहले मौका मिलेगा.

ये भी पढ़ें: कांग्रेस के घमासान में BJP की फजीहत, अब डैमेज कंट्रोल मोड में पार्टीवहीं, सदन में चर्चा के बाद फ्लोर टेस्ट होगा और कांग्रेस आसानी से बहुमत परीक्षा पास कर लेगी. सुप्रीम कोर्ट ने बीएसपी विधायकों के कांग्रेस में विलय को रद्द करने वाली याचिका के मामले में दखल देने से इनकार कर दिया है. अब सदन में बहुमत परीक्षण के दौरान बसपा से कांग्रेस में शामिल होने वाले विधायक गहलोत सरकार के पक्ष में वोट कर सकते हैं.

गहलोत सरकार को फ्लोर टेस्ट के दौरान कोई भी दिक्कत नहीं है और उसके पास 125 विधायकों का समर्थन है जबकि बहुमत का जादुई आंकड़ा 101 है. इस तरह से गहलोत सरकार के सदन में विश्वास मत हासिल करने पर 6 महीने तक के लिए संकट दूर हो जाएगा. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इसीलिए बहुमत परीक्षा के लिए सत्र बुलाने की मांग पर अड़े थे, क्योंकि उन्होंने बहुमत भर का आंकड़ा जुटा रखा था और अब पायलट खेमा भी पार्टी में वापस आ चुका है.

राजस्थान में कुल विधायकों की संख्या 200 है. 2018 के चुनाव में कांग्रेस ने 100 सीटें जीतीं. इसके बाद एक सीट उपचुनाव में जीती और फिर बसपा के छह विधायक भी कांग्रेस में शामिल हो गए. इस लिहाज से कांग्रेस की मौजूदा संख्या 107 हो गई है. वहीं, बीजेपी के 72 और तीन उसके सहयोगी आरएलपी के विधायक हैं. इसके अलावा 13 निर्दलीय, दो बीटीपी, 2 सीपीएम और एक विधायक आरएलडी का है.

और पढो: आज तक »

Bihar opinion Poll: बिहार का विचार, इस बार भी नीतीश कुमार! देखें खबरदार

आजतक ने बिहार का सबसे सॉलिड ओपिनियन पोल किया है. इस ओपिनियन पोल से जो बातें और जो संकेत निकलकर आए हैं, उनकी मदद से बिहार के मौजूदा मूड को डिकोड करेंगे, ये विश्लेषण एकदम सुपरफास्ट स्पीड से होगा. पूरे ओपिनियन पोल का सार आपको बहुत कम समय में समझ में आ जाएगा.इसके साथ ही आपको बताएंगे बिहार की चुनावी रणभूमि में किस तरह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने \\'जय श्री राम\\' के उद्घोष के साथ बीजेपी का चुनावी वोट जेनरेटर स्टार्ट कर दिया है. बिहार का एजेंडा सेट करने के लिए बीजेपी आक्रामक हो गई है. योगी ने राम मंदिर का मुद्दा उठाकर विपक्ष पर बड़े वार किए हैं. बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बंगाल में सीएए लागू करने पर जो बयान दिया उस पर भी चुनावी चिंगारियां निकल रही हैं. बिहार से बंगाल तक सियासत के ये दाव पेंच आपको ध्यान से देखने और समझने होंगे. आज आपको कोरोना पर विजय के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का माइंड मैप दिखाएंगे. देखिए खबरदार, श्वेता सिंह.

sharatjpr Yes,he wants either he or she , no sachin sharatjpr काश महाराष्ट्र यहां दोहरा दिया जाए, मजा आजाएगा .... रिंग मास्टर का क्या हाल हो गा sharatjpr देश और राजस्थान के लोगो का ध्यान न भटकाए काग्रेस, BJP को दोष न दे। sharatjpr

Rajasthan News Update: BJP के 'नो कॉन्फिडेंस मोशन' के जवाब में गहलोत का 'ट्रस्ट वोट'जयपुर न्यूज़: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास पर हुई विधायक दल की बैठक में पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने हिस्सा लिया। बैठक में कांग्रेस ने बीजेपी के अविश्वास प्रस्ताव के जवाब में विश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया।

CM अशोक गहलोत बोले - कांग्रेस की लड़ाई सोनिया-राहुल के नेतृत्व में लोकतंत्र बचाने की हैमुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट्स में लिखा, कांग्रेस की लड़ाई तो सोनिया गांधी जी और राहुल गांधी जी के नेतृत्व में डेमोक्रेसी को बचाने की है. पिछले एक माह में कांग्रेस पार्टी में आपस में जो भी नाइत्तेफ़ाकी हुई है, उसे देश के हित में, प्रदेश के हित में, प्रदेशवासियों के हित में और लोकतंत्र के हित में हमें फॉरगेट एन्ड फॉरगिव, आपस में भूलो और माफ करो और आगे बढ़ो की भावना के साथ डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई में लगना है. उठा पटक करो तुम विधानसभा से सड़क तक फजीहत करवाओ तुम अपने उप मुख्यमंत्री को निकम्मा कहो तुम और दोष भाजपा का 😂😂 Ye sandesh diya ki Papad ka taste Accha nhi h😀 वाह वाह क्या जोक्स है। खुद का बेटा गलती करे उसका भी जिममेदारी मोदी की ही होगी।

iPhone 12 के लॉन्च में होगी देरी, अक्टूबर में हो सकता है पेशटिप्सटर ने जानकारी देते हुए बताया कि iPhone 12 Pro की प्री-बुकिंग और शिपमेंट दोनों नवंबर से पहले शुरू नहीं होगी।

राजस्थान के सियासी संकट के बीच 6 प्वाइंट्स में जानिए- क्या है विश्वास और अविश्वास प्रस्ताव?राजस्थान कांग्रेस में चली महीने भर की खींचतान के बाद अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत शुक्रवार से शुरू हो रही विधानसभा के विशेष सत्र में भारतीय जनता पार्टी की चुनौती का सामना कर रहे हैं. बीजेपी ने गुरुवार को घोषणा की थी कि पार्टी गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लेकर आएंगी. यानी अब गहलोत को सदन में अपना बहुमत साबित करना होगा. गहलोत शुरू से ही दावा करते रहे हैं कि उनके पास बहुमत का आंकड़ा है. यहां तक कि सचिन पायलट सहित 19 विधायकों के बगावत कर देने के बावजूद भी वो गवर्नर से इस दावे के साथ मिले थे कि उनके पास बहुमत है. लेकिन ये तो तय था कि विधानसभा सत्र शुरू होने के बाद उन्हें अविश्वास प्रस्ताव का सामना करना पड़ सकता है.

बिहार में कोरोना टेस्ट पर बोले तेजस्वी- जांच में झोल है, आंकड़ों में भी हेराफेरीsambitswaraj has no idea what he is speaking ..jst throwing out nonsense,posionus ,abusive , hurting words . Who the hell give him right to criticize and hurting someone for thier religious beliefs? चलता फिरता कचरे का पात्र है , जब देखो गंदगी उगलता है ArrestSambitPatra Sahi bat he hera feri to ho hi raha he Asli gaddar ye h aur iske vansaj aatankwadi h aaj jo satta me h

छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में चार नक्सली ढेर, रिजर्व बल के साझा ऑपरेशन में मारे गएआज छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में पुलिस ने चार नक्सलियों को मार गिराया। बस्तर के पुलिस महानिरीक्षक पी सुंदरराज ने बताया