China Detains British Consulate Employee İn Hong Kong, British Consulate Employee Detained, China, Hong Kong Protests, World News

China Detains British Consulate Employee İn Hong Kong, British Consulate Employee Detained

राजनीतिः चीन का संकट बना हांगकांग

राजनीतिः चीन का संकट बना हांगकांग

21.8.2019

राजनीतिः चीन का संकट बना हांगकांग

चीन से यह जरूर पूछा जाना चाहिए कि वह हांगकांग में ‘एक देश दो व्यवस्था’ को खत्म करने पर क्यों तुला है? हांगकांग के लोगों को मिली स्वायत्तता और लोकतांत्रिक अधिकारों को क्यों छीना जा रहा है? हांगकांग के लोगों को उस न्यायिक व्यवस्था में लाने की कोशिश क्यों हो रही है जो एक पार्टी के नियंत्रण में है? चीन ने हांगकांग के लोगों से लोकतांत्रिक प्रणाली को लेकर वादे किए थे, उसे पूरी तरह से लागू क्यों नहीं किया गया?

हांगकांग के आंदोलन ने व्यापक रूप ले लिया है। पहले आंदोलन में छात्र ही शामिल थे। लेकिन बाद में छात्र संघ, सामाजिक कार्यकर्ता, यूनियन कार्यकर्ता, अलग-अलग क्षेत्रों के कर्मचारी और शिक्षक भी आंदोलन में शामिल हो गए। आंदोलन को पश्चिमी देशों का समर्थन हासिल है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियों ने हांगकांग सरकार के प्रस्तावित प्रत्यर्पण संधि विधेयक की आलोचना की है। ब्रिटेन ने भी हांगकांग के आंदोलनकारियों के प्रति समर्थन जताया है। ब्रिटेन का समर्थन महत्त्वपूर्ण इसलिए है क्योंकि हांगकांग उसका उपनिवेश रहा है। पश्चिमी देशों का भी तर्क है कि प्रस्तावित प्रत्यर्पण कानून लागू होने के बाद चीन की न्यायिक व्यवस्था में हांगकांग के लोगों को न्याय नहीं मिलेगा। हांगकांग एशिया का एक बड़ा व्यावसायिक केंद्र है। यही कारण है कि इस आंदोलन को हवा दे पश्चिमी देश चीन को दबाव में लाना चाहते हैं ताकि अपने व्यापारिक हितों को सुरक्षित रख सकें। हांगकांग का आंदोलन ऐसे वक्त में तेज हुआ है जब अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक युद्ध चरम पर है। चीन पर इस व्यापार युद्ध का असर दिखने भी लगा है। इस साल अप्रैल-जून तिमाही में चीन की विकास दर पिछले सत्ताईस साल में सबसे कम रही है।

इसमें कोई शक नहीं कि हांगकांग के आंदोलन में शामिल लोग परेशान हैं। हांगकांग की अर्थव्यवस्था उन्हें एक बेहतर जिंदगी नहीं दे रही है। पढ़े-लिखे युवाओं को उनकी योग्यता के हिसाब से पर्याप्त वेतन वाली नौकरी नहीं मिल रही है। रोजगार के अवसर तो उपलब्ध हैं लेकिन उम्मीद के मुताबिक वेतन नहीं है। जो वेतन इस समय हांगकांग में लोगों को मिल रहा है उससे युवा अपने लिए एक घर नहीं खरीद सकता है। चीन के मीडिया ने भी इस तथ्य को स्वीकार किया है। ग्लोबल टाइम्स के अनुसार आंदोलन में शामिल युवाओं के सामने बेहतर वेतन और रोजगार एक समस्या है। आंदोलन तेज होने के बाद हांगकांग की अर्थव्यवस्था पर भी चोट पहुंची है। व्यापार ठप पड़ा है। पर्यटन से लेकर खुदरा कारोबार को नुकसान पहुंचा है। यही नहीं, हांगकांग शेयर बाजार को भारी नुकसान हुआ है। अभी तक हांगकांग के शेयर बाजार को पांच सौ अरब डालर का नुकसान हो चुका है। संपतियों की बिक्री में पैंतीस फीसद तक की गिरावट आई है।

हांगकांग के लोग पश्चिमी देशों की तर्ज पर लोकतंत्र की मांग कर रहे हैं। लेकिन चीन ने इसे मंजूर नहीं किया। हांगकांग के मुख्य कार्यकारी को सीधे हांगकांग की जनता द्वारा चुना जाना चीन को मंजूर नहीं है। हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र का सबसे बड़ा मुखिया या मुख्य कायर्कारी का चुनाव एक चुनाव समिति करती है जिसमें सिर्फ बारह सौ सदस्य हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

और पढो: Jansatta

हल्ला बोल: आरक्षण के मुद्दे को बार- बार क्यों छेड़ रहा है संघ?संघ प्रमुख मोहन भागवत ने आरक्षण पर चर्चा का बयान क्या दिया विपक्ष में जान आ गई और एक बार फिर मोदी सरकार पर चौतरफा हमले शुरु हो गए. प्रियंका गांधी से लेकर मायावती और तेजस्वी तक ने संघ प्रमुख के बयान के बाद बीजेपी और मोदी सरकार को घेरा और आरक्षण विरोधी बताया. anjanaomkashyap चूतिया है वो आरक्षण खत्म होना चाहिए जल्दी से जल्दी anjanaomkashyap बढ़िया गुमराह करते हो तुम लोग, वर्तमान की स्थिति पर कभी कवरेज मत करना, जय श्री राम anjanaomkashyap Bikau media

हांगकांग में प्रदर्शन के बीच चीन ने UK दूतावास के अधिकारी को हिरासत में लियाहांगकांग में मौजूद यूनाइटेड किंगडम के दूतावास में काम करने वाले एक अधिकारी को चीनी अधिकारियों ने हिरासत में ले लिया. अरे, बेचारे का सारा मूड खराब हो गया।

हांगकांग को लेकर अब दुष्प्रचार पर उतरा China, चीनी मीडिया के ट्वीट पर लगेगी रोकहांगकांग को लेकर अब दुष्प्रचार पर उतरा China , चीनी मीडिया के ट्वीट पर लगेगी रोक Hongkongprotest TwitterOnHongKong FacebookonHongKong China OccupiedHongKong Kiski rah pe chal raha he आग इसके घर में लगी है और माचिस गैरों को बांट रहा है.

ओवैसी का PM मोदी पर निशाना- कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा तो ट्रंप को क्यों किया फोनओवैसी ने मंगलवार को कहा कि अगर कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा है तो प्रधानमंत्री मोदी को ट्रंप से बातचीत करने की क्या जरूरत थी और क्यों वह इस बारे में अमेरिका से शिकायत कर रहे हैं. राजनाथ सिंह जी ने दो टूक शब्दों में कहा है कि अगर भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत होती है तो वह केवल 'पाक अधिकृत कश्मीर' (POK) पर होगी क्या 'पाक अधिकृत कश्मीर' (POK) से पाकिस्तान का कब्जा हटाने के लिए भारत को सैन्य कार्रवाई शुरू कर देनी चाहिए? तेरा क्यों जल रहा है Chuxtiya ho kya owaise trump ne kiya tha phone

ना चाहते हुए भी पाकिस्तान को क्यों देने होंगे भारत के ये 350 करोड़ रुपयेhow Pakistan denied to return 300 crore rupee loan given by Hyderabad Nizam।News18Hindi।ना चाहते हुए भी पाकिस्तान को क्यों देने होंगे भारत के ये 300 करोड़। 1948 में हैदराबाद के निजाम ने पाकिस्तान को 20 करोड़ रुपए लोन के रूप में दिये थे, ये रकम लंदन के एक बैंक में जमा की गई थी. इस रकम की वापसी को लेकर भारत और निजाम के वंशज पाकिस्तान के खिलाफ अदालती लड़ाई लड़ रहे हैं. इस पर एक-दो हफ्ते में ही अब फैसला आने वाला है | nation News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी

जानिए कारण क्यों कुछ लोगों को ज्यादा काटते हैं मच्छर?क्या आपने सोचा है कि मच्छर इंसानों को क्यों काटते हैं और कैसे वो इंसानों तक पहुंचते हैं? क्या कुछ खास लोगों को मच्छर ज्यादा अपना निशाना बनाते हैं? जानिए इन सबके पीछे के विज्ञान के बारे में खास बातें. | नॉलेज - News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

22 अगस्त 2019, गुरुवार समाचार

पिछली खबर

दुनिया मेरे आगेः शब्द के अर्थ

अगली खबर

आंकलनः आखिर भारत क्यों बना रहे राष्ट्रमंडल खेलों का हिस्सा?
पिछली खबर अगली खबर