China Detains British Consulate Employee İn Hong Kong, British Consulate Employee Detained, China, Hong Kong Protests, World News

China Detains British Consulate Employee İn Hong Kong, British Consulate Employee Detained

राजनीतिः चीन का संकट बना हांगकांग

राजनीतिः चीन का संकट बना हांगकांग

21.8.2019

राजनीतिः चीन का संकट बना हांगकांग

चीन से यह जरूर पूछा जाना चाहिए कि वह हांगकांग में ‘एक देश दो व्यवस्था’ को खत्म करने पर क्यों तुला है? हांगकांग के लोगों को मिली स्वायत्तता और लोकतांत्रिक अधिकारों को क्यों छीना जा रहा है? हांगकांग के लोगों को उस न्यायिक व्यवस्था में लाने की कोशिश क्यों हो रही है जो एक पार्टी के नियंत्रण में है? चीन ने हांगकांग के लोगों से लोकतांत्रिक प्रणाली को लेकर वादे किए थे, उसे पूरी तरह से लागू क्यों नहीं किया गया?

संजीव पांडेय August 22, 2019 2:05 AM हांगकांग के आंदोलन में शामिल लोग परेशान हैं। हांगकांग की अर्थव्यवस्था उन्हें एक बेहतर जिंदगी नहीं दे रही है। पढ़े-लिखे युवाओं को उनकी योग्यता के हिसाब से पर्याप्त वेतन वाली नौकरी नहीं मिल रही है। रोजगार के अवसर तो उपलब्ध हैं लेकिन उम्मीद के मुताबिक वेतन नहीं है। चीन को इस वक्त फिर एक बड़े आंदोलन का सामना करना पड़ रहा है। पिछले दो महीनों से हांगकांग की सड़कों पर जिस तरह से जनसमूह उमड़ रहा है उससे चीन के हाथ-पैर फूलने लगे हैं। चीनी सरकार के खिलाफ इस विद्रोह का मूल कारण कई अपराधों में संलिप्त अपराधियों को प्रत्यर्पित करने की अनुमति देने वाला विधेयक है जिसका हांगकांग में जोरदार विरोध हो रहा है। हांगकांग सरकार के इस प्रत्यर्पण विधेयक के पीछे चीन है। दरअसल, चीन और ताइवान के साथ हांगकांग की अभी तक कोई प्रत्यर्पण संधि नहीं है। प्रस्तावित प्रत्यर्पण विधेयक के पारित होने के बाद हांगकांग, ताइवान और चीन के बीच अपराधियों को प्रत्यर्पित करने की अनुमति मिल जाएगी। हांगकांग के लोग इसे अपने देश की स्वायत्तता खत्म करने के कदम के रूप में देख रहे हैं। इसीलिए दो महीने से इसका जोरदार विरोध हो रहा है। स्थानीय लोगों का मानना है कि यह विधेयक उस चीनी न्यायिक व्यवस्था में स्थानीय लोगों को भेजने का रास्ता है जो एक राजनीतिक पार्टी के नियंत्रण में है। हालांकि विधेयक के समर्थकों का तर्क है कि प्रत्यर्पण बिल से बड़े वित्तीय और मादक पदार्थों से जुड़े अपराधों को रोकने में मदद मिलेगी। हालांकि भारी विरोध के बाद हांगकांग की मुख्य कार्यकारी कैरी लैम ने फिलहाल इस विधेयक को निलंबित कर दिया है, लेकिन इसे वापस नहीं लिया है। दूसरी तरफ आंदोलनकारियों पर चीनी सैन्य कार्रवाई की आशंका जताई जा रही है। लेकिन अमेरिकी के साथ व्यापार युद्ध के मोर्चे पर फंसी चीन अगर हांगकांग में सैन्य कार्रवाई जैसा कदम उठाती है तो इससे उसकी मुश्किलें और बढे़गी। हांगकांग के आंदोलन ने व्यापक रूप ले लिया है। पहले आंदोलन में छात्र ही शामिल थे। लेकिन बाद में छात्र संघ, सामाजिक कार्यकर्ता, यूनियन कार्यकर्ता, अलग-अलग क्षेत्रों के कर्मचारी और शिक्षक भी आंदोलन में शामिल हो गए। आंदोलन को पश्चिमी देशों का समर्थन हासिल है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियों ने हांगकांग सरकार के प्रस्तावित प्रत्यर्पण संधि विधेयक की आलोचना की है। ब्रिटेन ने भी हांगकांग के आंदोलनकारियों के प्रति समर्थन जताया है। ब्रिटेन का समर्थन महत्त्वपूर्ण इसलिए है क्योंकि हांगकांग उसका उपनिवेश रहा है। पश्चिमी देशों का भी तर्क है कि प्रस्तावित प्रत्यर्पण कानून लागू होने के बाद चीन की न्यायिक व्यवस्था में हांगकांग के लोगों को न्याय नहीं मिलेगा। हांगकांग एशिया का एक बड़ा व्यावसायिक केंद्र है। यही कारण है कि इस आंदोलन को हवा दे पश्चिमी देश चीन को दबाव में लाना चाहते हैं ताकि अपने व्यापारिक हितों को सुरक्षित रख सकें। हांगकांग का आंदोलन ऐसे वक्त में तेज हुआ है जब अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक युद्ध चरम पर है। चीन पर इस व्यापार युद्ध का असर दिखने भी लगा है। इस साल अप्रैल-जून तिमाही में चीन की विकास दर पिछले सत्ताईस साल में सबसे कम रही है। हांगकांग के आंदोलन का असर चीन द्वारा विकसित किए जा रहे ग्वांगडोंग-हांगकांग-मकाऊ बृहतर खाड़ी क्षेत्र पर भी पड़ेगा। इस प्रस्तावित बृहतर खाड़ी क्षेत्र से चीन, हांगकांग और मकाऊ की अर्थव्यवस्था को भारी लाभ मिलेगा। चीन की योजना के मुताबिक बृहतर खाड़ी क्षेत्र के विकास के तहत हांगकांग, मकाऊ और ग्वांगडोंग प्रांत को एकीकृत करने की योजना है। इससे पूरे क्षेत्र में और विकास होगा। चीन को शक है कि इस योजना को नुकसान पहुंचाने का खेल भी पश्चिमी ताकतें कर रही हैं। इसमें कोई शक नहीं कि हांगकांग के आंदोलन में शामिल लोग परेशान हैं। हांगकांग की अर्थव्यवस्था उन्हें एक बेहतर जिंदगी नहीं दे रही है। पढ़े-लिखे युवाओं को उनकी योग्यता के हिसाब से पर्याप्त वेतन वाली नौकरी नहीं मिल रही है। रोजगार के अवसर तो उपलब्ध हैं लेकिन उम्मीद के मुताबिक वेतन नहीं है। जो वेतन इस समय हांगकांग में लोगों को मिल रहा है उससे युवा अपने लिए एक घर नहीं खरीद सकता है। चीन के मीडिया ने भी इस तथ्य को स्वीकार किया है। ग्लोबल टाइम्स के अनुसार आंदोलन में शामिल युवाओं के सामने बेहतर वेतन और रोजगार एक समस्या है। आंदोलन तेज होने के बाद हांगकांग की अर्थव्यवस्था पर भी चोट पहुंची है। व्यापार ठप पड़ा है। पर्यटन से लेकर खुदरा कारोबार को नुकसान पहुंचा है। यही नहीं, हांगकांग शेयर बाजार को भारी नुकसान हुआ है। अभी तक हांगकांग के शेयर बाजार को पांच सौ अरब डालर का नुकसान हो चुका है। संपतियों की बिक्री में पैंतीस फीसद तक की गिरावट आई है। चीन एक तरह से कई मोर्चों पर फंसा हुआ है। हाल में भारत द्वारा जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म कर देने के बाद चीन भी भड़का हुआ है। चीन की नाराजगी लद्दाख को केंद्र शासित राज्य बनाने को लेकर है। अभी तक लद्दाख को भी जम्मू-कश्मीर का हिस्सा होने के कारण विशेष दर्जा मिला हुआ था। चीन की नजरों में लद्दाख विवादास्पद क्षेत्र है। इसकी सीमा अक्साइ चीन से मिलती है जिस पर भारत का दावा है। दूसरी तरफ पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में चीन ने भारी निवेश कर रखा है। यहां पर चीन बिजली परियोजनाएं लगा रहा है। सड़कों का नेटवर्क खड़ा कर रहा है। जाहिर है चीन कश्मीर मसले पर पाकिस्तान के साथ खड़ा होगा। लेकिन जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म किए जाने को लेकर चीन की नाराजगी और नीतियों का भारी विरोधाभास हांगकांग में नजर आता है। जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को लेकर चिंता जता रहा चीन हांगकांग के विशेष दर्जे को समाप्त करने की योजना बना रहा है। हांगकांग को लेकर चीन ने जो वादा वहां के लोगों से किया था, उसे आज तक पूरा नहीं किया। और तो और लोकतांत्रिक तरीके से हांगकांग की स्वायत्तता को बचाए रखने के लिए आंदोलन कर रहे युवाओं को चीन अब आतंकी घोषित करने की योजना बना रहा है। हांगकांग के आंदोलन का सैन्य दमन की धमकी भी दे रहा है। हांगकांग के लोग पश्चिमी देशों की तर्ज पर लोकतंत्र की मांग कर रहे हैं। लेकिन चीन ने इसे मंजूर नहीं किया। हांगकांग के मुख्य कार्यकारी को सीधे हांगकांग की जनता द्वारा चुना जाना चीन को मंजूर नहीं है। हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र का सबसे बड़ा मुखिया या मुख्य कायर्कारी का चुनाव एक चुनाव समिति करती है जिसमें सिर्फ बारह सौ सदस्य हैं। सच्चाई तो यही है कि भारतीय कूटनीति चीन के दबाव में है। ओसाका में हाल ही में हुए जी-20 की बैठक में हांगकांग के आंदोलनकारी नेताओं ने जी-20 के नेताओं को ज्ञापन देकर हांगकांग के आंदोलन के लिए समर्थन मांगा था। आंदोलनकारियों ने ओसाका की बैठक में पहुंचे राष्ट्राध्यक्षों को ज्ञापन देकर चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के सामने आंदोलनकारियों का पक्ष रखने की अपील की थी। दिलचस्प बात यह थी कि भारत और इंडोनेशिया ने आंदोलनकारी नेताओं का ज्ञापन स्वीकार नहीं किया। जबकि बाकी देशों के नेताओं ने आंदोलनकारी नेताओं का ज्ञापन भी स्वीकार किया और चीन के सामने हांगकांग के आंदोलनकारियों का मुद्दा भी उठाया। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से हांगकांग के आंदोलनकारियों की मांगों को लेकर चिंता जताई। Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App ये खबरें पढ़ीं क्‍या? और पढो: Jansatta

'नमस्ते ट्रंप': मोटेरा स्टेडियम के भव्य कार्यक्रम का ख़र्चा किसका?



अब डोनाल्ड ट्रंप बोले- PM मोदी ने मुझसे कहा था कि '1 करोड़' लोग करेंगे मेरा स्वागत

News18 Hindi News: पढ़ें हिंदी न्यूज़, Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी - News18 इंडिया



INDVsNZ : पहले दिन भारत के 122 रन पर पांच विकेट गिरे

'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे लगाने वाली अमूल्या के पिता ने कहा- 'उसके खिलाफ कार्रवाई करें'



50 लाख..70 लाख और अब 1 करोड़! अहमदाबाद में भीड़ को लेकर डोनाल्ड ट्रंप का नया दावा

अमूल्या के घर में तोड़फोड़, CM येदियुरप्पा बोले- नक्सलियों से हैं संबंध



हल्ला बोल: आरक्षण के मुद्दे को बार- बार क्यों छेड़ रहा है संघ?संघ प्रमुख मोहन भागवत ने आरक्षण पर चर्चा का बयान क्या दिया विपक्ष में जान आ गई और एक बार फिर मोदी सरकार पर चौतरफा हमले शुरु हो गए. प्रियंका गांधी से लेकर मायावती और तेजस्वी तक ने संघ प्रमुख के बयान के बाद बीजेपी और मोदी सरकार को घेरा और आरक्षण विरोधी बताया. anjanaomkashyap चूतिया है वो आरक्षण खत्म होना चाहिए जल्दी से जल्दी anjanaomkashyap बढ़िया गुमराह करते हो तुम लोग, वर्तमान की स्थिति पर कभी कवरेज मत करना, जय श्री राम anjanaomkashyap Bikau media

हांगकांग में प्रदर्शन के बीच चीन ने UK दूतावास के अधिकारी को हिरासत में लियाहांगकांग में मौजूद यूनाइटेड किंगडम के दूतावास में काम करने वाले एक अधिकारी को चीनी अधिकारियों ने हिरासत में ले लिया. अरे, बेचारे का सारा मूड खराब हो गया।

हांगकांग को लेकर अब दुष्प्रचार पर उतरा China, चीनी मीडिया के ट्वीट पर लगेगी रोकहांगकांग को लेकर अब दुष्प्रचार पर उतरा China , चीनी मीडिया के ट्वीट पर लगेगी रोक Hongkongprotest TwitterOnHongKong FacebookonHongKong China OccupiedHongKong Kiski rah pe chal raha he आग इसके घर में लगी है और माचिस गैरों को बांट रहा है.

ओवैसी का PM मोदी पर निशाना- कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा तो ट्रंप को क्यों किया फोनओवैसी ने मंगलवार को कहा कि अगर कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा है तो प्रधानमंत्री मोदी को ट्रंप से बातचीत करने की क्या जरूरत थी और क्यों वह इस बारे में अमेरिका से शिकायत कर रहे हैं. राजनाथ सिंह जी ने दो टूक शब्दों में कहा है कि अगर भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत होती है तो वह केवल 'पाक अधिकृत कश्मीर' (POK) पर होगी क्या 'पाक अधिकृत कश्मीर' (POK) से पाकिस्तान का कब्जा हटाने के लिए भारत को सैन्य कार्रवाई शुरू कर देनी चाहिए? तेरा क्यों जल रहा है Chuxtiya ho kya owaise trump ne kiya tha phone

ना चाहते हुए भी पाकिस्तान को क्यों देने होंगे भारत के ये 350 करोड़ रुपयेhow Pakistan denied to return 300 crore rupee loan given by Hyderabad Nizam।News18Hindi।ना चाहते हुए भी पाकिस्तान को क्यों देने होंगे भारत के ये 300 करोड़। 1948 में हैदराबाद के निजाम ने पाकिस्तान को 20 करोड़ रुपए लोन के रूप में दिये थे, ये रकम लंदन के एक बैंक में जमा की गई थी. इस रकम की वापसी को लेकर भारत और निजाम के वंशज पाकिस्तान के खिलाफ अदालती लड़ाई लड़ रहे हैं. इस पर एक-दो हफ्ते में ही अब फैसला आने वाला है | nation News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी

जानिए कारण क्यों कुछ लोगों को ज्यादा काटते हैं मच्छर?क्या आपने सोचा है कि मच्छर इंसानों को क्यों काटते हैं और कैसे वो इंसानों तक पहुंचते हैं? क्या कुछ खास लोगों को मच्छर ज्यादा अपना निशाना बनाते हैं? जानिए इन सबके पीछे के विज्ञान के बारे में खास बातें. | नॉलेज - News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी



नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ चेन्नई में बड़ा प्रदर्शन

वारिस पठान का भड़काऊ बयान, कहा- हम 15 करोड़ 'मुस्लिम' 100 करोड़ लोगों पर भारी

- jnu sedition case probe delhi police writes to delhi government seeking nod for prosecution against kanhaiya kumar - AajTak

चेन्नई में CAA के खिलाफ प्रदर्शन: पुलिस की मंजूरी के बिना हजारों की संख्या में मुस्लिम सड़क पर उतरे

पूर्व PM मनमोहन सिंह का निशाना- 'मंदी' शब्द मान ही नहीं रही मोदी सरकार, अगर समस्याओं की पहचान नहीं हुई तो...

CAA प्रदर्शनकारियों की मौत पर बोले CM योगी- 'अगर कोई मरने के लिए आ रहा है तो...'

चंद्रशेखर बोले- पीएम मोदी को पाकिस्तान के दलितों की चिंता है, लेकिन देश के नहीं

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

22 अगस्त 2019, गुरुवार समाचार

पिछली खबर

दुनिया मेरे आगेः शब्द के अर्थ

अगली खबर

आंकलनः आखिर भारत क्यों बना रहे राष्ट्रमंडल खेलों का हिस्सा?
'नमस्ते ट्रंप': मोटेरा स्टेडियम के भव्य कार्यक्रम का ख़र्चा किसका? अब डोनाल्ड ट्रंप बोले- PM मोदी ने मुझसे कहा था कि '1 करोड़' लोग करेंगे मेरा स्वागत News18 Hindi News: पढ़ें हिंदी न्यूज़, Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी - News18 इंडिया INDVsNZ : पहले दिन भारत के 122 रन पर पांच विकेट गिरे 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे लगाने वाली अमूल्या के पिता ने कहा- 'उसके खिलाफ कार्रवाई करें' 50 लाख..70 लाख और अब 1 करोड़! अहमदाबाद में भीड़ को लेकर डोनाल्ड ट्रंप का नया दावा अमूल्या के घर में तोड़फोड़, CM येदियुरप्पा बोले- नक्सलियों से हैं संबंध 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' सुनकर जब गुस्सा हुए ओवैसी अब नहीं चलेगी किरायेदारों की दबंगई! मोदी सरकार ला रही नई पॉलिसी - Business AajTak गुपचुप शादी अटेंड करने PAK पहुंचे शत्रुघ्न सिन्हा? वीडियो वायरल - World AajTak PAK का ये शिव मंदिर है खास, प्रियंका और सोनिया गांधी भी यहां कराती हैं पूजा - dharma AajTak MP के सिंघम का 'शिवभक्त' अवतार, सोशल मीडिया पर वायरल हुआ डांस का वीडियो
नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ चेन्नई में बड़ा प्रदर्शन वारिस पठान का भड़काऊ बयान, कहा- हम 15 करोड़ 'मुस्लिम' 100 करोड़ लोगों पर भारी - jnu sedition case probe delhi police writes to delhi government seeking nod for prosecution against kanhaiya kumar - AajTak चेन्नई में CAA के खिलाफ प्रदर्शन: पुलिस की मंजूरी के बिना हजारों की संख्या में मुस्लिम सड़क पर उतरे पूर्व PM मनमोहन सिंह का निशाना- 'मंदी' शब्द मान ही नहीं रही मोदी सरकार, अगर समस्याओं की पहचान नहीं हुई तो... CAA प्रदर्शनकारियों की मौत पर बोले CM योगी- 'अगर कोई मरने के लिए आ रहा है तो...' चंद्रशेखर बोले- पीएम मोदी को पाकिस्तान के दलितों की चिंता है, लेकिन देश के नहीं शरद पवार ने नया शिगूफा छोड़ा, कहा- राम मंदिर के लिए ट्रस्ट बन सकता है तो मस्जिद के लिए क्यों नहीं? Gold in Sonbhadra: सोनभद्र की पहाड़ियों में दबा हो सकता है 3 हजार टन सोना, एक्‍सपर्ट टीम कर रही है सर्वे - three thousand gold estimated in sonbhadra mountains | Navbharat Times हम 15 करोड़ मुस्लिम 100 करोड़ के ऊपर भारी हैं: AIMIM नेता का भड़काऊ बयान NRC का क्या होगा असर? जबेदा बेगम के बाद अब पढ़िए फखरुद्दीन की दर्दभरी दास्तां, नागरिकता साबित करने में जुटे 19 लाख नोटबंदी का फैसला सही था, RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने गिनाए फायदे - Business AajTak