Opinion

Opinion

राजदीप सरदेसाई का कॉलम: निगरानी के लिए होता रहा है इंटेलिजेंस का प्रयोग, क्या आम लोगों के लिए जासूसी अब सामान्य बात हो गई है?

राजदीप सरदेसाई का कॉलम: निगरानी के लिए होता रहा है इंटेलिजेंस का प्रयोग, क्या आम लोगों के लिए जासूसी अब सामान्य बात हो गई है? @sardesairajdeep #opinion

30-07-2021 07:41:00

राजदीप सरदेसाई का कॉलम: निगरानी के लिए होता रहा है इंटेलिजेंस का प्रयोग, क्या आम लोगों के लिए जासूसी अब सामान्य बात हो गई है? sardesairajdeep opinion

नरेंद्र मोदी के प्रभाव से बहुत पहले था नेहरू-गांधी का दबदबा। अपनी किताब ‘ओपन सीक्रेट्स, इंडिया इंटेलिजेंस अनवील्ड’ में इंटेलिजेंस के पूर्व जॉइंट डायरेक्टर एमके धर लिखते हैं कि कैसे इंदिरा गांधी ने अपनी बहू मेनका गांधी की जासूसी के आदेश दिए, कैसे राजीव गांधी सरकार ने राष्ट्रपति ज्ञानी जै़ल सिंह की इस हद तक जासूसी की कि वे ऑफिस की बजाय राष्ट्रपति भवन के मुगल गार्डन में निजी बैठकें करने लगे। फिर भाजप... | Intelligence has been used for surveillance, has espionage become common for common people now?

राजदीप सरदेसाई का कॉलम:निगरानी के लिए होता रहा है इंटेलिजेंस का प्रयोग, क्या आम लोगों के लिए जासूसी अब सामान्य बात हो गई है?5 घंटे पहलेकॉपी लिंकराजदीप सरदेसाई, वरिष्ठ पत्रकारनरेंद्र मोदी के प्रभाव से बहुत पहले था नेहरू-गांधी का दबदबा। अपनी किताब ‘ओपन सीक्रेट्स, इंडिया इंटेलिजेंस अनवील्ड’ में इंटेलिजेंस के पूर्व जॉइंट डायरेक्टर एमके धर लिखते हैं कि कैसे इंदिरा गांधी ने अपनी बहू मेनका गांधी की जासूसी के आदेश दिए, कैसे राजीव गांधी सरकार ने राष्ट्रपति ज्ञानी जै़ल सिंह की इस हद तक जासूसी की कि वे ऑफिस की बजाय राष्ट्रपति भवन के मुगल गार्डन में निजी बैठकें करने लगे। फिर भाजपा समर्थक मोदी सरकार पर मोबाइल फोन हैक करवाने के अपुष्ट आरोपों पर हंगामा क्यों कर रहे हैं? क्योंकि इस मामले में तब की जासूसी और अब की हैकिंग के बीच जरूरी अंतर को ही नहीं समझा जा रहा है।

मौलाना कलीम सिद्दीक़ी कौन हैं जिन्हें यूपी एटीएस ने गिरफ़्तार किया है - BBC News हिंदी योगी सरकार का विस्तार: जितिन प्रसाद और छह राज्य मंत्रियों को मिली जगह - BBC Hindi पंजाब में चरणजीत सिंह चन्नी की सरकार का पहला कैबिनेट विस्तार - BBC Hindi

इसमें शक नहीं कि भारतीय राज्य हमेशा ‘जासूसी-राज्य’ रहा है। इंटेलीजेंस एजेंसियों के बड़े नेटवर्क का इस्तेमाल राजनीतिक निगरानी के लिए होता रहा है। ज्यादातर भारतीय प्रधानमंत्रियों की सोच रही है कि दुश्मन सिर्फ सीमाओं से बाहर नहीं, बल्कि आस-पास भी है। सत्ता के साथ यह वहम भी आता है कि आसपास मौजूद लोगों पर भरोसा नहीं कर सकते।

यह जितना इंदिरा के मामले में सच था, उतना ही मोदी के मामले में है। लेकिन दोनों दौर की जासूसी में गुणात्मक और मात्रात्मक अंतर है। इस दौर में निगरानी ज्यादा व्यापक और तकनीक आधारित हुई है। व्यक्तिगत गोपनीयता पर आक्रमण पहले से कहीं अधिक है। पुराने दौर में जासूसी सिर्फ किसी का पीछा करने या लैंडलाइन में सेंध लगाने तक सीमित थी। लेकिन अब फोन में लगातार घुसपैठ करने वाली पेगासस जैसी तकनीक आने पर जवाबदेही तय करने की प्रक्रिया भी कहां से शुरू होगी। headtopics.com

अभी चल रही जांच के मुताबिक 300 ‘रसूखदार’ भारतीय पेगासस स्पाईवेयर के ‘संभावित’ शिकार हो सकते हैं। अगर एक व्यक्ति का फोन भी राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे के बिना हैक किया जाता है तो यह प्रथमदृष्टया गैरकानूनी है। जब यह हैकिंग इस स्तर पर पहुंच जाए कि इसका शिकार तथाकथित रूप से राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी, केंद्रीय मंत्री, पत्रकार, जज, राजनयिक और यहां तक कि वैज्ञानिक भी हों, तो इसमें शक की गुंजाइश नहीं रह जाती कि न सिर्फ किसी व्यक्ति के निजता के अधिकार का हनन हुआ, बल्कि संवैधानिक लोकतंत्र को इससे चोट पहुंचती है।

फिर भी सरकार इसपर संसद में बहस या जांच का आदेश देने से इनकार कर रही है। क्यों? नागरिक समाज में आक्रोश न होने से लगता है कि भारतीय नागरिकों के एक बड़े वर्ग ने इसके संभावित परिणामों को लगभग नजरअंदाज कर हैकिंग को ‘सामान्य’ मान लिया है। यह डरपोक भारतीय मध्यम वर्ग की सामूहिक अंतरात्मा की जड़ता ही है, जिसपर केंद्र सरकार पेगासस संकट से निपटने के लिए निर्भर है। एक स्तर पर कोरोना और आर्थिक मुश्किलों में उलझी ज्यादातर आबादी को हैकिंग विवाद उतना महत्वपूर्ण नहीं लग रहा।

दूसरे स्तर पर यह प्रतिक्रिया अति-ध्रुवीकृत दौर को दर्शाती है, जिसमें जनता की राय पहले से कहीं ज्यादा बंटी हुई व पक्षपातपूर्ण है। अनवरत प्रोपेगेंडा मशीन से निकला राष्ट्रवादी जोश सभी विरोधी स्वरों को दबा देता है। हैरानी नहीं कि टीम मोदी ने हैकिंग के आरोपों को संसद के मानसून सत्र को प्रभावित करने की वामपंथी संगठनों की ‘विदेशी साजिश’ बताया है। पर एक फ्रांसीसी एनजीओ 45 देशों में स्पाइवेयर हैकिंग का वैश्विक खुलासा भारत के संसदीय चक्र के समय पर ही क्यों करेगा?

सच्चाई यह है कि सरकार जानती है कि अदालत की निगरानी में जांच से सर्विलांस की प्रकृति सामने आने पर उसकी मुश्किलें और बढ़ सकती हैं। इसलिए सरकार यह जवाब नहीं दे रही कि क्या उसकी पेगासस के लिए इजरायली कंपनी सेे कोई डील हुई थी? इस मुद्दे पर कुछ भी स्वीकार करने का मतलब होगा कि सरकारी एजेंसियों ने गैरकानूनी रूप से फोन हैक किए जो सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन होगा। यह सरकार ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों, पिछले साल हुए प्रवासी संकट, अर्थव्यवस्था के बेपटरी होने और चीनी घुसपैठ को नकारने का प्रयास करती रही है। वह अब हैकिंग के आरोपों पर संसद में बहस और न्यायिक जांच पर सहमति क्यों देगी? headtopics.com

न्यायापालिका में महिलाओं को हक से मांगना चाहिए आरक्षण: सीजेआई रमन्ना - BBC Hindi इसराइल-फलस्तीन संघर्ष: जेनिन शहर के पास भारी लड़ाई, चार फलस्तीनियों की मौत - BBC Hindi असम में जहां हुई हिंसा, वहां के एसपी सुशांत बिस्वा सरमा पर क्यों उठ रहे हैं सवाल - BBC News हिंदी

(ये लेखक के अपने विचार हैं) और पढो: Dainik Bhaskar »

US दौरे पर PM मोदी, अब होगा आतंक पर वार! देखें हल्ला बोल

दो साल बाद अमेरिका के लिए पीएम मोदी की उड़ान तेजी से बदलती दुनिया में भारत की आन-बान और शान को दमदार अंदाज़ में दर्ज कराएगी. ये पहला मौका होगा जब प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर जो बाइडेन आमने सामने मुलाकात करेंगे. माना जा रहा है कि पीएम मोदी और जो बाइडेन की मुलाकात में अफगानिस्तान में तालिबान राज और उसके बाद के बढ़ते खतरे पर भी बात होगी. भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय रिश्तों को मजबूती देने के अलावा प्रधानमंत्री के एजेंडे में आतंकवाद पर दुनिया को कड़ा संदेश देना भी शामिल होगा. SCO की बैठक में पीएम मोदी आतंकवाद को लेकर चीन और पाकिस्तान के सामने खरी-खरी सुना चुके हैं. आज हल्ला बोल में देखें इसी मुद्दे पर चर्चा.

sardesairajdeep सबसे बड़ी बात तो यह है कि सरेआम मार खाने के बाद भी लोगों को शर्म नहीं आती। sardesairajdeep Chor aur chutiya Sardesai aur tax chor Dainik Bhasker !! Wah re kya iodi. sardesairajdeep आक्सीजन से मौतों का आंकड़ा तो राज्य सरकारों ने दिया इसमें केंद्र सरकार कहा से आ गई । पत्रकार भाई कभी सच बोलना भी सीख लो ।

sardesairajdeep Ji. Aam log garib hai, unke masale road par hote hai khulle me. Ye privacy vaigera bade logonki baat hai. Aap jhagada karalo uspe. sardesairajdeep sardesairajdeep ji there is difference between interception and hacking. Before it was internal but this time we sold out to a foreigner and it's a National Security Issue. PegasusSnoopgate

sardesairajdeep All questionable characters r in dock Modi h Cong nhi sardesairajdeep Janta ko Kia farak par Raha hey,patrakaro,RG kg aadi ki jaasusi sey Kia milney wala hey sardesairajdeep Haan. sardesairajdeep wo bhai bus kar puere desh ko teri baatey bakwas lagti hai so stop nonsense new and work for your main profile for what you paid for from mr PURI

sardesairajdeep योगेंद्र यादव जैसे डकैत और सरदेसाई जैसे देशद्रोहियों को अपने अखबार में जगह देते हो,और फिर लोगों के सामने अपनी वफादारी का रोना रोते हो,मैंने खुद तो अपने घर पर भास्कर बंद करायाही साथ में हर प्लेटफार्म से लोगों को भी जागरूक कर रहा हूं के भास्कर का बहिष्कार करो! boycottdainikbhasker sardesairajdeep Barking news: मुंबई में लोकल ट्रेन शुरू हो, महाराष्ट्र की राजनीतिक पार्टियों में इच्छा शक्ति की कमी देश की आर्थिक कैपिटल समाजिक /आर्थिक स्थिति में सबसे निचले स्तर पर केंद्र और राज्य सरकार का आपसी टकराव का जुर्माना मुंबईकर भुगत रहे ,शर्मनाक

Kindle यूजर्स के लिए अलर्ट: दिसंबर के बाद इन लोगों के किंडल में नहीं चलेगा इंटरनेटकंपनी ने ई-मेल के जरिए अपेन पुराने Kindle यूजर्स को इसे लेकर जानकारी दी है। यदि किसी पुराने Kindle में केवल सेलुलर डाटा का सपोर्ट,

sardesairajdeep He is writing in a newspaper which is accused of Tax stealing. sardesairajdeep sardesairajdeep koi dhang k author se likhwatem bus isiliye aajkal value kam hota ja rha hai sardesairajdeep नही राजदीप जैसे भड़वों ओर भास्कर जैसे चोरों की निगरानी जरूरी ह sardesairajdeep He spent all his life just hating Modi and hitting India....

sardesairajdeep शायद अब आम आदमी आतंकवादी हो गया हैं। sardesairajdeep Chu*ya hai.

पलटवार: राहुल गांधी पर पात्रा का आरोप, विपक्ष के एकजुट होने का नाटक समझती है जनतापलटवार: राहुल गांधी पर पात्रा का आरोप, विपक्ष के एकजुट होने का नाटक समझती है जनता pagasus sambitswaraj BJP4India RahulGandhi sambitswaraj BJP4India RahulGandhi देशवाशी एकजुट होनेमे क्या गैर है? बीजेपीको जासुसी करनेका मौका नही प्राप्त होगा बाकी तो कुछ नही होगा। sambitswaraj BJP4India RahulGandhi sambitswaraj BJP4India RahulGandhi Or Apki Nautanki ko bhe janta Janti hai.

चीन बना रहा है परमाणु मिसाइलों के लिए नए ठिकाने, अमेरिकी वैज्ञानिकों का दावा - BBC Hindiअमेरिकी वैज्ञानिकों का कहना है कि चीन अपने पश्चिमी हिस्से में न्यूक्लियर मिसाइल साइलो फील्ड बना रहा है. China is china BBC journalist china shopping. BBC Now CBC. भारत मे तो अंधभक्त बनाये जाते हैं

झारखंड हिट एंड रन केसः ज़िला जज की मौत की जांच के लिए एसआईटी का गठनझारखंड के धनबाद शहर में बुधवार को सुबह की सैर पर निकले झारखंड के एक जिला जज उत्तम आनंद को एक ऑटोवाले ने टक्कर मार दी, जिससे उनकी मौत हो गई. सीसीटीवी फुटेज में देखा जा सकता है कि ऑटोवाले ने उन्हें जान-बूझकर टक्कर मारी है. मृतक जज धनबाद में माफ़ियाओं से जुड़े कई मामलों की सुनवाई कर रहे थे और हाल ही में दो गैंगस्टरों की ज़मानत याचिका ख़ारिज कर दी थी. जजो को भी सुरक्षा मिलनी चाहिए। JUDGE LOYA DEATH PAR SIT KA GHATAN Q NAHI HUA THA उतनी सरल नहीं है जितनी सरलता से न्यायालय ले रही है धनबाद में कोल_माफिया के खूनी संघर्ष से जिला, उच्च और सुप्रीम कोर्ट तक मामले पटे हुए हैं। काले कोयले का खेल है,कितने मिट चुके हैं इतिहास साक्षी है।टस से मस नहीं होगा। निरसा थाने का प्रत्येक रात इस काले कोयले के काले खेल का गवाह

देश के भविष्य के लिए अहम भूमिका निभाएगी नई श‍िक्षा नीति : पीएम मोदीपीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा, बीते एक वर्ष में सभी महानुभावों, शिक्षकों, नीतिकारों ने इसे धरातल पर उतारने में बहुत मेहनत की है.ये महत्वपूर्ण अवसर ऐसे समय में आया है, जब देश आजादी के 75 साल का अमृत महोत्सव मना रहा है. New education policy 🤣🤣🤣🤣 Modi you are speaking 200℅ jhooth.. Jo khudd dikshit nahi ho kya bat karega shiksha ke sambandh me. Ha blufbaji Jumlebaji jarur kar sakta hai.

एस्ट्राजेनेका: अमेरिका में अपने कोविड टीके की अनुमति के लिए साल के अंत में करेगी आवेदनएस्ट्राजेनेका: अमेरिका में अपने कोविड टीके की अनुमति के लिए साल के अंत में करेगी आवेदन LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI