Jammu, Kashmir, Politics, Political Party, Delimitation, Equation, Change, Assembly, Election, Farooq Abdulla, Mehbooba Mufti

Jammu, Kashmir

राजनीतिक प्रक्रिया की कवायद: कश्मीर में परिसीमन की क्या है तैयारी

राजनीतिक प्रक्रिया की कवायद: कश्मीर में परिसीमन की क्या है तैयारी

21-06-2021 22:54:00

राजनीतिक प्रक्रिया की कवायद: कश्मीर में परिसीमन की क्या है तैयारी

प्रधानमंत्री की 24 जून को बुलाई गई बैठक के कारण कश्मीर का परिसीमन सबसे ज्यादा चर्चा में है। गुपकार के दल इस बैठक में अपनी क्या राय रखेंगे, इस पर मंथन जारी है।

और पढो: Jansatta »

वारदात: अब जेल में ही कटेगी Ram Rahim की सारी जिंदगी, तीसरी बार उम्र कैद

25 अगस्त 2017, दो साध्वियों से यौन शोषण में राम रहीम को पहली उम्र क़ैद. 17 जनवरी 2019, पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के क़त्ल में राम रहीम को दूसरी उम्र क़ैद. और अब 18 अक्टूबर 2021, मैनेजर रंजीत सिंह के मर्डर में राम रहीम को तीसरी उम्र क़ैद. बीस साल वाली पहली उम्र क़ैद को छोड़ दें, तो बाक़ी उम्र क़ैद उम्र भर की है. 60 से ऊपर के हो चुके गुरमीत राम रहीम की बची कुची उम्र क़ायदे से अब जेल की चारदिवारी के अंदर ही गुज़रेगी. राम रहीम की सज़ाओं की फेहरिसत में नई फेहरिस्त सोमवार को जुड़ी, पंचकूला सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा के पूर्व मैनेजर रंजीत सिंह के क़त्ल के इल्ज़ाम में राम रहीम को उम्र कैद की सज़ा दी है. देखिए वारदात का ये एपिसोड.

कश्मीर में चुनावी सुगबुगाहट से तिलमिलाया पाक, कुरैशी ने कहा- कश्मीर में बदलाव का करेंगे विरोधकश्मीर में चुनावी सुगबुगाहट से तिलमिलाया पाक, कुरैशी ने कहा- कश्मीर में बदलाव का करेंगे विरोध Kashmir Election In Kashmir Shahmahmoodqureshi PMOIndia BJP4India

पंजाब की सियासत : गठबंधन की अटकलों पर विराम, भाजपा में प्रत्याशियों की खोज शुरूपंजाब की सियासत : गठबंधन की अटकलों पर विराम, भाजपा में प्रत्याशियों की खोज शुरू Punjab BJP Punjab Election s AkaliDal BSP BJP4Punjab

जाने जम्मू की बेटी माव्या को, जो जम्मू-कश्मीर की पहली एयरफोर्स महिला फाइटर बनीदेश की 12वीं और जम्मू कश्मीर की पहली एयर फोर्स महिला फाइटर पायलट माव्या सूदन ने तेलंगाना की डुंडिगल वायुसेना अकादमी हैदराबाद में पासिंग आउट परेड में भाग लेकर नाम रोशन किया है। पासिंग आउट परेड में माव्या इकलौती ऐसी महिला फाइटर पायलट थीं।

ईरान में राष्ट्रपति पद के चुनाव में कट्टरपंथी न्यायपालिका प्रमुख रईसी की जीतईरान के सर्वोच्च नेता आयतुल्ला अली खामेनेई के कट्टर समर्थक एवं कट्टरपंथी न्यायपालिका प्रमुख इब्राहीम रईसी पहले ऐसे ईरानी राष्ट्रपति होंगे, जिन पर पदभार संभालने से पहले ही अमेरिका प्रतिबंध लगा चुका है. उन पर यह प्रतिबंध 1988 में राजनीतिक क़ैदियों की सामूहिक हत्या के लिए तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आलोचना झेलने वाली ईरानी न्यायपालिका के मुखिया के तौर पर लगाया गया था. Kai deshon me kattarpanthi vichardhara ke logon ko rastrapramukh chuna ja raha.kya ye 21st century hai ya.... सबसे ज्यादा खुशी तो तुम लोगों को हुआ होगा क्योंकि तुम लोग यही तो चाहते हो कि सबसे बड़ा आतंकी राष्ट्रपति बने प्रधानमंत्री बने खुशी आपको ही मुबारक हो

गृहमंत्री से राज्यपाल की डबल मीटिंग, क्या Bengal में किसी बड़ी लड़ाई की हो रही तैयारी?क्या पश्चिम बंगाल में भी आगे किसी बड़ी लड़ाई की तैयारी की जा रही है? इस बात की चर्चा गृहमंत्री अमित शाह और राज्यपाल जगदीप धनखड़ की मुलाकात के बाद से हो रही है. दिल्ली के दौरे पर आए जगदीप धनखड़ ने गृहमंत्री अमित शाह से तीन दिनों में दो बार मुलाकात की. माना जा रहा है कि दोनों के बीच पश्चिम बंगाल के मौजूदा हालात और कानून-व्यवस्था की स्थिति पर चर्चा हुई है. बंगाल में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर जगदीप धनखड़ और ममता बनर्जी पहले ही आमने सामने हैं. तो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जगदीप धनखड़ पर कई बार हमला बोल चुकी हैं. देखें वीडियो. ये तो जाहिर है कि बंगाल में सबकुछ ठीक नहीं है।पूरा प्रशासन एक वर्ग विशेष के प्रभाव में काम कर रहा है। शर्माजी के बालों की सेहत कैसे सुधरी शर्माजी बाल रंगते नही तेलभी लगाते,नही! पिता अस्पताल मे,तो कोरोना काल था शर्माजी घर मे घुसते ही गर्म पानी से Lifebuoy Total 10 - HANDWASH तरल से नहाते! फिर इस से सिर धोना जारी रहा! 6माह मे काफी ज्यादा नऐ बाल आगऐ अब बाल वाले हैं! जनहित जानकारी!!

Gold Price: हालमार्क की हड़बड़ी में फीकी पड़ी चमक, सोने के दाम में आई गिरावटबिना हालमार्क वाली ज्वैलरी बेचने की जल्दबाजी के कारण इस माह सोने का भाव दो हजार रुपये प्रति 10 ग्राम तक गिर चुका है। सराफा कारोबारियों को 31 अगस्त तक ही बिना हालमार्क वाले जेवर बेचने की छूट मिली है। सोने की ज्वेलरी में मिलावट रोकने के लिए हालमार्क बहुत अच्छा नियम है, आजादी के 70 साल बाद जाकर इतनी बड़ी लूट को रोकने के लिए ज्वेलरी के मानकीकरण को अनिवार्य किया गया। पर पिछली लोकतांत्रिक जनता की हितैषी सरकारों ने जनता को इस खुलेआम हो रही लूट से बचाने की कोई सार्थक कोशिश नहीं की।