Farmers Protest, Farmers Protest 2020, Farmers Agitation, Farm Bill 2020, Farmers Leader, Kamal Preet Singh Pannu, किसान आंदोलन, दिल्ली जयपुर हाईवे, दिल्ली-जयपुर हाइवे, दिल्ली-जयपुर राजमार्ग, किसान विरोध प्रदर्शन, कृषि बिल, कृषि बिल 2020, कृषि अध्यादेश

Farmers Protest, Farmers Protest 2020

रविवार को राजस्थान बॉर्डर से ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे और दिल्ली-जयपुर हाइवे बन्द करेंगे : किसान नेता

रविवार को राजस्थान बॉर्डर से ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे और दिल्ली-जयपुर हाइवे बन्द करेंगे : किसान नेता

12-12-2020 17:24:00

रविवार को राजस्थान बॉर्डर से ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे और दिल्ली-जयपुर हाइवे बन्द करेंगे : किसान नेता

किसान नेता ने कहा, हम अपनी माताओ बहनों को भी इस आंदोलन को हम बुला रहे हैं,उनके लिए यहां रुकने की सभी व्यवस्था की जा रही है. सरकार चाहती है कि अगर इसे लटका दिया जाए तो ये आंदोलन कमजोर पड़ जायेगा.

नई दिल्ली: Farmers Protest Against Farm Bill : केंद्र सरकार द्वारा आनन-फानन में लाए कृषि बिलों के खिलाफ कई महीनों से आंदोलनरत किसान पिछले 17 दिनों से राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर धरने पर बैठे हैं. किसानों की मांग है कि सरकार इन कानूनों को वापस ले और एमएसपी को लेकर कानून बनाए. केंद्र सरकार के साथ 6 दौर की चर्चा और एक बार गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात के बावजूद अभी तक सरकार और किसानों के बीच सहमति नहीं बनी है. शनिवार को किसानों ने देश के कई हिस्सों में टोल प्लाजा को फ्री करवा दिया.

मोदी सरकार को ऑक्सीजन की कमी से मौतों का आँकड़ा देने के लिए 10 दिन की मोहलत: प्रेस रिव्यू - BBC News हिंदी जंगल की आग, झुलसाती गर्मी और बाढ़ से डूबते शहर- दुनिया में ये क्या हो रहा है? - BBC News हिंदी मीराबाई चनू सीमा पर BSF जवानों से मिलने पहुंचीं, ओलंपिक में जीता है सिल्वर मेडल

यह भी पढ़ेंशनिवार के आंदोलन के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में संयुक्त किसान आंदोलन के नेता कमलप्रीत सिंह पन्नू ने कहा,"हमने इस आंदोलन को और तेज करने का निर्णय लिया है. अभी हमारा धरना दिल्ली के 4 पॉइंट पर चल रहा है. कल (13 दिसंबर) राजस्थान बॉर्डर से हज़ारों किसान ट्रेक्टर मार्च निकालेंगे और दिल्ली जयपुर हाइवे बन्द करेंगे."

यह भी पढ़ें- "अपने जिद्दी रवैये को छिपाने के लिए किसान आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश में लगी है सरकार"संयुक्त किसान आंदोलन के नेता ने बताया,"14 दिसम्बर को सारे देश के डीसी ऑफिस में प्रोटेस्ट करेंगे. हमारे प्रतिनिधि 14 दिसम्बर को सुबह 8 से 5 बजे तक अनशन पर बैठेंगे. हमारी मांगे 3 कानूनों को रद्द कराना चाहते हैं. हम सरकार से बातचीत करने को तैयार हैं. जब तक ये 3 कानून रद्द नहीं होंगे हम चौथी मांग तक नहीं जाएंगे." headtopics.com

किसान नेता ने कहा, "हम अपनी माताओ बहनों को भी इस आंदोलन को हम बुला रहे हैं,उनके लिए यहां रुकने की सभी व्यवस्था की जा रही है. सरकार चाहती है कि अगर इसे लटका दिया जाए तो ये आंदोलन कमजोर पड़ जायेगा."यह भी पढ़ें- कृषि कानूनों के विरोध के बीच आई यूपी के किसानों की आवाज,"हमसे भी बात करे सरकार"

कमलप्रीत सिंह पन्नू ने कहा,"और भी किसान लगातार आ रहे हैं. हमारा आंदोलन शांतिपूर्ण रहेगा. सरकार ने आंदोलन को भड़काने और फूट डालने की पूरी कोशिश की. हम आंदोलन को जीत तक जारी रखेंगे."दिल्ली-जयपुर हाईवे पर भारी सुरक्षा, टोल पर भी तैनात पुलिसListen to the latest songs, only on JioSaavn.com

farmers protestFarmers Protest 2020Farmers Agitationfarm bill 2020farmers leaderkamal preet singh pannuटिप्पणियां भारत में कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus pandemic) के प्रकोप से जुड़ी ताज़ा खबरें तथा Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें

लाइव खबर देखें: और पढो: NDTVIndia »

वारदात: Dhanbad के जज की मौत के पीछे का असली सच! देखें

धनबाद में जज उत्तम आनंद की मौत के पीछे अब भी कई सवाल घूम रहे हैं. ये मौत वाकई एक हादसा था या हत्या? इस वीडियो में तस्वीर दिखा रही है कि एक शख्स सड़क के बिल्कुल बायीं ओर जॉगिंग कर रहा है. तभी अचानक पीछे से एक टेंपो आता है और जॉगिंग कर रहे शख्स को धक्का मार कर आगे बढ़ जाता है. पहली नज़र में यही गुमान होता है कि सड़क हादसे का एक मामला है. मगर इससे पहले कि आप किसी नतीजे पर पहुंचे, इसी सीसीटीवी तस्वीर की हर फ्रेम को अब गौर से देखिएगा. इसलिए कि इसी तस्वीर का जो बारीक पहलू है उसके बाद पूरा केस ही पलट जाएगा. इस केस की फॉरेंसिक जांच भी हो रही है. इस मामले में आज रांची हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान लेते हुए सुनवाई की है. इस मामले को गंभीरता से लेते हुए अदालत ने झारखंड के डीजीपी और धनबाद के एसएसपी से जवाब तलब किया है. इस मामले में चीफ जस्टिस की बेंच ने डीजीपी से कहा कि अगर पुलिस जांच करने में विफल रहती है तो यह मामला सीबीआई को जा सकता है. देखें वारदात का ये एपिसोड.