योनी झिल्ली की सर्जरी के लिए सस्ते उपाय कर रही हैं मिस्र की महिलाएं | DW | 07.12.2021

वह महिलाओं की डॉक्टर हैं और अपने काम का विज्ञापन बहुत चोरी-छिपे करती हैं. उसे ‘हेल्थ ऐंड ब्यूटी’ सर्विस बताती हैं. लेकिन वह योनी-झिल्ली की सर्जरी करके महिलाओं की जानें बचा रही हैं.

Hymenoplasty, वर्जिनिटी

07-12-2021 08:13:00

26 साल की नूर मोहम्मद का डर बढ़ता जा रहा था. सालों पहले अपने प्रेमी से अलग हो चुकीं नूर की शादी करीब आ रही थी और उन्हें डर सता रहा था कि अपनी शादी की पहली ही रात उनके पति को पता चल जाएगा कि वह पहले सेक्स कर चुकी हैं. Hymenoplasty

वह महिलाओं की डॉक्टर हैं और अपने काम का विज्ञापन बहुत चोरी-छिपे करती हैं. उसे ‘हेल्थ ऐंड ब्यूटी’ सर्विस बताती हैं. लेकिन वह योनी-झिल्ली की सर्जरी करके महिलाओं की जानें बचा रही हैं.

नूर मोहम्मद को एक वैद का पता चला. वैद ने उन्हें एक बूटी दी और कहा कि इससे सेक्स के बाद उनकी योनी से रक्त स्राव होगा, जिससे उनके पति को लगेगा कि उनकी योनी झिल्ली अक्षत थी.तस्वीरेंः वर्जिनिटी टेस्ट की वजहवर्जिनिटी टेस्ट करने की क्या वजह हैसाबित करने के लिए

किसी पर बलात्कार का आरोप लगा देना, उसे सजा दिलाने के लिए काफी नहीं है. बलात्कार हुआ है, यह सिद्ध करना पड़ता है और इसके लिए डॉक्टर टू फिंगर टेस्ट करते हैं.वर्जिनिटी टेस्ट करने की क्या वजह हैसंभोग की आदी?यह एक बेहद विवादास्पद परीक्षण है, जिसके तहत महिला की योनी में उंगलियां डालकर अंदरूनी चोटों की जांच की जाती है. यह भी जांचा जाता है कि दुष्कर्म की शिकार महिला संभोग की आदी है या नहीं.

वर्जिनिटी टेस्ट करने की क्या वजह हैकौमार्य का सर्टिफिकेट?कई देशों में इसे वर्जिनिटी टेस्ट भी कहा जाता है. इसके जरिए महिला के कौमार्य की जांच की जाती है. डॉक्टर उंगलियों के ही जरिए यह पता लगाते हैं कि हायमन यानि यौन झिल्ली मौजूद है या नहीं.वर्जिनिटी टेस्ट करने की क्या वजह है headtopics.com

BJP युवा मोर्चा के कार्यक्रम में नड्डा बोले- PM मोदी ने साकार किया नेताजी के न्यू इंडिया का सपना

कोई आधार नहींइसके अलावा योनि के लचीलेपन से यह पता लगाया जाता है कि संभोग जबरन हुआ या फिर महिला की मर्जी से. विश्व स्वास्थ्य संगठन इस परीक्षण को बेबुनियाद घोषित कर इसे रोकने की मांग कर चुका है.वर्जिनिटी टेस्ट करने की क्या वजह हैसुप्रीम कोर्ट की फटकारभारत में 2013 में सर्वोच्च न्यायालय ने टू फिंगर टेस्ट को बलात्कार पीड़िता के अधिकारों का हनन और मानसिक पीड़ा देने वाला बताते हुए खारिज कर दिया. अदालत का कहना था कि सरकार को इस तरह के परीक्षण को खत्म कर कोई दूसरा तरीका अपनाना चाहिए.

वर्जिनिटी टेस्ट करने की क्या वजह हैपुलिसऔर सेना में भर्ती के लिएइंडोनेशिया में दशकों से पुलिस और सेना में भर्ती के लिए महिलाओं का"कौमार्य परीक्षण" किया जाता है. मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच के अनुसार इस पुराने मानदंड यानी"कौमार्य परीक्षण" का अंत होने वाला है. इस बारे में सेना के चीफ ऑफ स्टाफ जनरल एंडिका पेरकासा ने कुछ दिन पहले एक बयान दिया है. जनरल पेरकासा का कहना है कि महिला कैडेटों के लिए स्वास्थ्य परीक्षण अब पुरुषों के जैसे ही होंगे.

रिपोर्ट: ईशा भाटिया सानननूर बताती हैं,"वो बहुत बुरा सपना था. या तो मुझे मार दिया जाता या फिर मेरे पति मुझे सबके सामने बेइज्जत करते. हाइमनोप्लास्टी का खर्च भी मैं नहीं उठा सकती थी. इसलिए यह बूटी मेरी एकमात्र उम्मीद थी.” बूटी काम कर गई.हजारों की उम्मीद

लीडरशिप की मिसाल: न्यूजीलैंड की PM जेसिंडा अर्डर्न ने शादी कैंसिल की, कहा- महामारी का वक्त मुश्किल, मैं अपने देश के लोगों के साथ

नूर को बूटी देने वाले वैद नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि वह मिस्र में चार हजार से ज्यादा लड़िकयों का ‘इलाज' कर चुके हैं. इसके अलावा वह अल्जीरिया और मोरक्को में भी ऐसी महिलाओं को दवा दे चुके हैं. इसके लिए वह दो हजार मिस्री पाउंड यानी लगभग दस हजार रुपये लेते हैं. कई बार गरीब या जरूरतमंद महिलाओं का इलाज वह मुफ्त में भी कर देते हैं. headtopics.com

यह बूटी उन हजारों महिलाओं की उम्मीद है जो महंगी हाइमनोप्लास्टी का खर्च नहीं उठा सकतीं. मिस्र जैसे रूढ़िवादी समाजों में योनी की झिल्ली का ना टूटा होना आज भी वर्जिन होने की निशानी माना जाता है. ऐसे में नई दुल्हनों के लिए विक्षत योनी झिल्ली ससुराल पक्ष या रिश्तेदारों द्वारा शर्मिंदा किए जाने का कारण बन सकता है. कई बार तो मामला इज्जत के लिए कत्ल तक भी पहुंच सकता है.

महिला रोग विशेषज्ञ लाएला अपना पूरा असली नाम नहीं बताना चाहती हैं ताकि वह अपने काम के बारे में खुलकर बात कर सकें. वह कहती हैं,"डॉक्टर होने के नाते यह हमारा फर्ज है कि लड़कियों को कत्ल होने से बचाएं और उस सामाजिक शर्मिंदगी से बचाएं जो उन्हें विक्षत झिल्ली के कारण झेलनी पड़ सकती है.”

ओडिशा: दो सरकारी अफ़सरों की आपबीती- 'केंद्रीय मंत्री हमें कुर्सी से पीटने लगे' - BBC News हिंदी

वीडियो देखें04:53हाइमन का वर्जिनिटी से कोई लेना देना नहींइसके लिए लाएला झिल्ली को रिपेयर करने वाली सर्जरी करती हैं. इसे हाइमनोप्लास्टी कहते हैं, जिसकी मिस्र में कानूनन इजाजत है. लेकिन यह बहुत महंगी सर्जरी है. इसके लिए 20 हजार मिस्री पाउंड यानी लगभग एक लाख रुपये तक का खर्च आ जाता है.

ग्रामीण महिलाओं की परेशानीअपर इजिप्ट जैसे ग्रामीण इलाकों में महिलाओं के लिए सर्जरी कराने के वास्ते इतना धन जमा कर पाना संभव नहीं हो पाता. यूं भी ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य सेवाएं सीमित हैं और हाइमनोप्लास्टी करने वाली डॉक्टरों की भी कमी है. इसलिए लाएला नियमित रूप से मिस्र के दूर-दराज प्रांतों की यात्रा करती हैं. वह इन इलाकों में शहरों के मुकाबले सिर्फ एक तिहाई रकम में ही हाइमनोप्लास्टी कर देती हैं. headtopics.com

वह बताती हैं,"मैं अपने (फेसबुक) पेज पर ऐलान करती हूं कि फलां-फलां दिन मैं उस जगह रहूंगी. लोग समय तय कर लेते हैं और मैं उनके घर पर ही ऑपरेशन कर देती हूं. ऐसी लड़कियां हैं जो अपर इजिप्ट में डॉक्टर नहीं खोज सकतीं. समाज इतना रूढ़िवादी है कि इस विषय पर बात करना भी मुश्किल है.”

पिछले नौ साल में लाएला ने 1,500 से ज्यादा ऑपरेशन किए हैं. वह बताती हैं कि इनमें से एक तिहाई तो उन्होंने मुफ्त में ही किए क्योंकि वे महिलाएं जरूरतमंद थींमिस्र के स्वास्थ्य मंत्रालय और नेशनल काउंसिल फॉर विमिन के पास हाइमनोप्लास्टी और इससे जुड़ी हत्याओं पर कोई आंकड़ा नहीं है. इस बारे में जब उनसे टिप्पणी मांगी गई तो उन्होंने इनकार कर दिया. लेकिन मानवाधिकार संस्थाएं कहती हैं कि मध्य पूर्व और दक्षिण एशिया में इज्जत के नाम पर हर साल हजारों महिलाओं का कत्ल किया जाता है.

तस्वीरेंः कमाल का कंडोमकमाल का कंडोमखुल कर बात जरूरीसेक्स के बारे में आज भी खुलकर बात नहीं होती. सेक्स से संबंधित साहित्य, फिल्में या पॉर्नोग्राफिक वीडियो की बढ़ती बिक्री इस बात का प्रमाण हैं कि लोगों की इस विषय में बहुत अधिक दिलचस्पी तो है, लेकिन सुरक्षित सेक्स, यौन संक्रमणों या गर्भापात जैसे विषय अब भी टैबू समझे जाते हैं.

कमाल का कंडोमएचआईवी का खतरादुनिया में सबसे अधिक एचआईवी संक्रमित लोग दक्षिण अफ्रीका में है. लगभग हर 10 में से एक व्यक्ति एड्स के साथ जी रहा है. स्थिति की गंभीरता को देखते हुए सरकारी स्वास्थ्य विभाग वहां कई रंगों और सुगंध वाले मुफ्त कंडोम बंटवाते हैं.कमाल का कंडोम

एड्स को मिटाएगी जानकारीदुनिया भर के मेडिकल विशेषज्ञ इस बात को मानते हैं कि 50 साल के अंदर एड्स को पूरी तरह मिटाना संभव है. लेकिन सबसे बड़ी मुश्किल है कि इसके खतरे वाले हाई-रिस्क ग्रुप को सुरक्षित और शिक्षित किए बिना ऐसा मुमकिन नहीं होगा.कमाल का कंडोमफीमेल कंडोम

आसानी से उपलब्ध होने के बावजूद पश्चिमी देशों तक में अभी महिलाओं के लिए बने खास कंडोम को ज्यादा लोकप्रियता नहीं मिली है. एड्स के गंभीर खतरे का सामना करने वाले अफ्रीकी देश मोजांबिक में कुछ एनजीओ फीमेल कंडोम को बढ़ावा देने पर जोर लगा रहे हैं.कमाल का कंडोम

खतने से बचावअफ्रीकी देश यूगांडा में 1980 के दशक में कुल जनसंख्या के करीब 30 फीसदी लोग एचआईवी से संक्रमित पाए गए. 2005 तक संक्रमण की दर गिर कर 6.5 प्रतिशत पर आ गई. लेकिन फिर से बढ़ते इंफेक्शनों का सामना करने के लिए डॉक्टर वयस्क पुरुषों में खतने की सलाह दे रहे हैं.

कमाल का कंडोमसेक्स पर धारावाहिकलेखक और निदेशक बियी बन्डैले नाइजीरिया में अमेरिकी टीवी सीरियल सेक्स-एड की तर्ज पर एक धारावाहिक बनाते हैं. शुगा नाम का ये सीरियल मनोरंजक तरीके से यौन स्वास्थ्य के प्रति रवैया बदलने पर आधारित है.कमाल का कंडोमसुपर कंडक्टिव - ग्रैफीन कंडोम

कंडोम के क्षेत्र में नई नई खोजें हो रही हैं. 2004 में जिस अति प्रवाहकीय, अति मजबूत पदार्थ ग्रैफीन की खोज के लिए नोबेल पुरस्कार मिला था, अब उसका एक महत्वपूर्ण इस्तेमाल सामने आया है. इससे बेहतर कंडोम बनाने की कोशिश हो रही है.कमाल का कंडोमलेटेक्स का स्रोत

दुनिया भर के करीब 40 फीसदी कंडोम लेटेक्स से बनते हैं. लेटेक्स रबड़ के पेड़ों से निकाला जाता है. ब्राजील के अमेजन के जंगल और चीन में इनका बहुत बड़ा भंडार है.रिपोर्ट: ऋतिका पाण्डेययूं तो मिस्र में हाइमनोप्लास्टी वैध है और यदि एक प्रशिक्षित महिला रोग विशेषज्ञ द्वारा की जाती है तो कमोबेश सुरक्षित भी है लेकिन मिस्र में यह विवाद का विषय है. यूनियन ऑन हार्मफुल प्रैक्टिसेज अगेंस्ट विमिन ऐंड चिल्ड्रन नामक संस्था की कार्यकारी निदेशक रांदा फख्र अल-दीन इस विषय पर वर्कशॉप करती हैं. वह वर्कशॉप में शामिल होने वाली महिलाओं को बताती हैं कि योनी झिल्ली फटने की वजह सिर्फ सेक्स नहीं होता है बल्कि ऐसा किसी कार हादसे या खेल कूद में भी हो सकता है.

फिर भी, सर्जरी को बहुत से लोग इस समस्या का एक व्यवहारिक हल मानते हैं जो महिलाओं को शर्मिंदगी और हिंसा से बचा सकता है. महिलाओं के लिए काम करने वाली एक गैर सरकारी संस्था विमिंस सेंटर फॉर गाइडेंस ऐंड लीगल अवेयरनेस की रेदा एल्दानबोकी कहती हैं,"जब तक समाज इस मुद्दे पर अपना नजरिया नहीं बदलता, महिलाओं को सर्जरी करवाने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए.”

वीके/एए (रॉयटर्स)वीडियो देखें15:37फिल्मों में अंतरंग सीनों की कोरियोग्राफी करती हैं आस्था खन्ना

और पढो: DW Hindi »

Webdunia News - Apps on Google Play

100% Bharat app for daily updates on news, astrology, religion, cinema, health! और पढो >>

कार में रखी पानी की बोतल बनी मौत की वजह, इंजीनियर की हादसे में गई जानदरअसल दिल्ली के रहने वाले इंजीनियर अभिषेक झा दोस्त के साथ कार से ग्रेटर नोएडा की तरफ जा रहे थे. इसी दौरान अभिषेक की गाड़ी सड़क किनारे खड़ी ट्रक से जा टकरायी जिस वजह से उनकी जान चली गई जबकि उनका दोस्त बुरी तरह घायल है. पुलिस ने हादसे का कारण कार में मौजूद पानी की एक बोतल को बताया है. TanseemHaider Ye kaise hua pani ki botal se jaan kaise chali gai koi mujhe bhi samjhayega TanseemHaider Lekin jo bhi hua bahut bura huaa kash Asia nhi hota to uski jaan nhi jati सात्विक सत्य शिखर पार्टी के सक्षम श्री शिव मिश्र ही इस बार उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी कांग्रेस के बिना गठबंधन पर विचार कर रही हैं: संजय राउतराउत ने शिवसेना के मुखपत्र सामना में अपने साप्ताहिक स्तंभ रोखठोक में यह भी दावा किया कि बनर्जी ने कहा है कि उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) महाराष्ट्र में सियासी आजमाइश नहीं करेगी. Without congress she will not succeed बंगाल में ममता बनर्जी का अस्तित्व खतरे में पड़ रहा था अगर कांग्रेस विधान सभा अपना जोर तोड़ प्रचार करती तो ममता को कांग्रेस को धन्यवाद करना चाहिए जो आपको जीतने के मदद की मुझे तो हंसी आ रही है एक स्टेट जीतने के लिए उनको अगली पिछली याद आ गई थी रो रही थी टांग me भी चोट लग गई थी और चक्कर आ रहे थे प्रधानमंत्री बनने के लिए क्या-क्या करना पड़ेगा नदी में ही डूब जाएंगी कोई फायदा नहीं

इलेक्ट्रिक गाड़‍ियों के लिए सरकार की बड़ी तैयारी, ARAI डेवलप कर रही फास्‍ट चार्जरकेंद्रीय मंत्री ने यह भी बताया कि ARAI को अक्टूबर 2022 तक प्रोजेक्ट पूरा करने को कहा गया है, ताकि इसे दिसंबर तक ग्राहकों को उपलब्ध कराया जा सके। RailwayExamCalendarDo

नगालैंड हिंसा : कहां तक फैली हैं उग्रवाद की जड़ेंएक दिसंबर 1963 को नगालैंड भारत का 16वां राज्य बना। ये पूर्व में म्यांमार, पश्चिम में असम, उत्तर में अरुणाचल प्रदेश और दक्षिण में मणिपुर से सटा हुआ है। नगालैंड का विवाद काफी पुराना है।

Parliament Winter Session LIVE : विपक्ष के हमलों की धार कैसे की जाए कुंद? बीजेपी संसदीय दल की बैठक में बन रही रणनीतिसंसद की कार्यवाही शुरू होने से पहले भाजपा के संसदीय दल की बैठक हुई। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत अन्‍य नेताओं ने हिस्‍सा लिया। नगालैंड में सुरक्षा बलों की गोलीबारी में नागरिकों का मुद्दा आज भी संसद में गूंजेगा। गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को संसद में जो बयान दिया, वह विपक्ष को रास नहीं आया। 16 विपक्षी पार्टियों ने एक बैठक के बाद कहा कि सिर्फ खेद व्यक्त करके सरकार इस घटना से पीछा नहीं छुड़ा सकती है। दोनों सदनों में विपक्षी सदस्‍यों ने सोमवार को इस मुद्दे पर जमकर हंगामा किया। लोकसभा में विपक्ष ने शाह के बयान पर जवाब देने का समय मांगा पर स्‍पीकर ने अनुमति नहीं दी। संसद के शीतकाीलन सत्र से जुड़ी सभी अपडेट्स के लिए बनें रहें नवभारत टाइम्‍स ऑनलाइन के साथ। Hii sir help you to My Anil Yadav Greater Nodia Uttar Pradesh India mobile no 9650829787 sir help you 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

जयप्रकाश चौकसे का कॉलम: क्या विवाह गुरिल्ला युद्ध की तरह है; मौका मिलते ही पति या पत्नी अपने साथी की कमजोर नब्ज दबाने की कोशाश में रहते हैंताजा खबर है कि एक पति ने अपनी पत्नी को इसलिए तलाक दे दिया क्योंकि वह बड़ी प्राशासनिक अफसर नहीं बन पाई। वैसे उस महिला ने पढ़ाई तो बहुत की थी परंतु उसे परिणाम आने पर कम अंक मिले इसलिए वह असफल रही। अत: ऐसे प्रकरणों के आधार पर कहा जा सकता है कि संबंध तोड़ना कुछ लोगों के लिए एक मखौल बन गया है। | Is marriage like guerrilla warfare; As soon as the opportunity arises, the husband or wife tries to suppress the weak pulse of his partner.