Yogiadityanath, Yogicabinet, Jitinprasada, Arvindkumarsharma, Rss, Yogi Adityanath, Yogi Adityanath Cabinet, Jitin Prasad, Arvind Kumar Sharma, Rss, Mohan Bhagwat, Narendra Modi, Amit Shah, Up Cabinet Expansion, योगी आदित्यनाथ, योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल, जितिन प्रसाद, अरविंद कुमार शर्मा उत्तर प्रदेश

Yogiadityanath, Yogicabinet

योगी मंत्रिमंडल विस्तार पर Exclusive: संघ की सलाह से निकला बीच का रास्ता, अरविंद और जितिन बन सकते हैं मंत्री

भारतीय जनता पार्टी के मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुशासन की लाठी एक बार फिर भारी पड़ी।

11-06-2021 05:30:00

योगी मंत्रिमंडल विस्तार पर Exclusive: संघ की सलाह से निकला बीच का रास्ता, अरविंद और जितिन बन सकते हैं मंत्री YogiAdityanath YogiCabinet JitinPrasada ArvindKumarSharma RSS myogioffice BJP4India JitinPrasada VinodAgnihotri7

भारतीय जनता पार्टी के मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुशासन की लाठी एक बार फिर भारी पड़ी।

सारसूत्रों ने बताया कि संघ के आशीर्वाद से योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने रहेंगे और जल्दी ही राज्य मंत्रिमंडल का विस्तार और फेरबदल होगा। जिसके तहत पूर्व आईएएस अरविंद कुमार शर्मा और भाजपा में नए नवेले गए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को मंत्री बनाया जा सकता है। लेकिन इनमें से कोई भी उप मुख्यमंत्री नहीं बनेगा।

एक फ़र्ज़ी शादी और करीब दो करोड़ रुपये की धोखाधड़ी - BBC News हिंदी झूठ निकली दस बच्चों को साथ जन्म देने वाली ख़बर - BBC News हिंदी दिल्लीः अब से एक ही सेंटर पर 18+ और 45+ को लगेगी कोरोना वैक्सीन, अपॉइंटमेंट की भी जरूरत नहीं

विज्ञापनसीएम योगी आदित्यनाथ, जितिन प्रसाद और अरविंद कुमार शर्मा- फोटो : AMAR UJALAपढ़ें अमर उजाला ई-पेपरकहीं भी, कभी भी।ख़बर सुनेंख़बर सुनेंभारतीय जनता पार्टी के मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुशासन की लाठी एक बार फिर भारी पड़ी और उत्तर प्रदेश को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने दिल्ली में तीन दिन के विचार मंथन के बाद अपनी जो राय भाजपा नेतृत्व को दी थी, पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने उस पर अमल शुरु कर दिया है।

गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ जो विस्तृत चर्चा हुई उसकी जानकारी देते हुए सूत्रों ने बताया कि संघ के आशीर्वाद से योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने रहेंगे और जल्दी ही राज्य मंत्रिमंडल का विस्तार और फेरबदल होगा। जिसके तहत पूर्व आईएएस अरविंद कुमार शर्मा और भाजपा में नए नवेले गए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को मंत्री बनाया जा सकता है। लेकिन इनमें से कोई भी उप मुख्यमंत्री नहीं बनेगा। संभावना है कि मौजूदा उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य अपने-अपने पदों पर बने रहेंगे औऱ उनके विभाग भी उनके पास रहेंगे। लेकिन मंत्रिमंडल में पिछड़ों और दलितों का प्रतिनिधित्व बढ़ाया जाएगा ताकि हिंदुत्व के संरक्षण में सामाजिक संतुलन बना रहे। इसलिए मुमकिन है कि अपना दल से अनुप्रिया पटेल को केंद्र में या उनके पति डा.आशीष पटेल को राज्य मंत्रिमंडल में जगह मिल जाए। अनुप्रिया पटेल ने भी गृह मंत्री अमित शाह से गुरुवार भाजपा नेताओं से मुलाकात भी की थी। headtopics.com

गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली आकर गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात में उन सारे जटिल मुद्दों पर बात की जिन्हें लेकर पिछले कई दिनों से उत्तर प्रदेश को लेकर भाजपा में घमासान मचा हुआ था। यह जानकारी देने वाले सूत्रों के मुताबिक इसके पहले योगी सर संघचालक संघ के अपने करीबी शीर्ष पदाधिकारियों से बात करके अपनी स्थिति स्पष्ट कर चुके थे और इसीलिए उन्होंने संघ के सर कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले की लखनऊ यात्रा के दौरान उनसे भेंट नहीं की जबकि होसबोले तीन दिन तक लखनऊ में रहे और उन्होंने मुख्यमंत्री को मिलने का संदेश भिजवाया लेकिन योगी तब मिर्जापुर और गोरखपुर की यात्रा पर थे।

सूत्रों के अनुसार योगी पर अरविंद शर्मा को विधान परिषद सदस्य बनाने के बाद केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से उप मुख्यमंत्री बनाकर गृह नियुक्ति एवं गोपन जैसे अति महत्वपूर्ण एवं संवेदनशील विभाग देने का दबाव बढ़ रहा था और योगी उसे टालते जा रहे थे। लेकिन जब भाजपा के संगठन महासचिव बीएल संतोष और प्रभारी राधा मोहन सिंह लखनऊ गए और उन्होंने विधायकों मंत्रियों से बात करके दबाव बढ़ाया और योगी को बदलने तक की चर्चाएं चल पड़ीं जिनको राधामोहन सिंह की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित से की गई मुलाकातों से और बल मिला तब योगी ने सीधे सर संघचालक से संपर्क किया और उनसे अपनी स्थिति स्पष्ट की।

योगी के एक बेहद करीबी सूत्र के मुताबिक मुख्यमंत्री ने उनसे कहा कि पिछले साढ़े चार साल से मेरी सरकार ने केंद्र के हर निर्देश का पालन किया। यहां तक कि राज्यसभा, विधान परिषद चुनावों के लिए पार्टी के उम्मीदवारों की सूची केंद्रीय नेतृत्व बिना उनकी सलाह के तैयार करके भेजता रहा है और वह उसे मानते रहे हैं। राज्य के अधिकारियों को भी सीधे केंद्र से निर्देश मिलते रहे और उन्होंने उसे भी चलने दिया। संगठन के नाम पर सरकारी कामकाज और नियुक्तियों में दखल दिया जाता रहा। और अब असफलता का ठीकरा उनके सिर फोड़ा जा रहा है। योगी ने भागवत से यह भी कहा कि अगर किसी मुख्यमंत्री से गृह गोपन और नियुक्ति विभाग भी ले लिए जाएं तो फिर उस मुख्यमंत्री का रहना न रहना बराबर है। इससे तो अच्छा है संघ प्रमुख अगर उन्हें निर्देश देते हैं तो वो अपना इस्तीफा ही दे देंगे। उन्होंने यह भी कहा कि संघ प्रमुख के आशीर्वाद से ही वह मुख्यमंत्री बनकर अपने दायित्व का पूरी निष्ठा से पालन कर रहे हैं।

सूत्र के अनुसार योगी आदित्यनाथ की इस बात को संघ प्रमुख ने बेहद गंभीरता से लिया। वैसे भी उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री पद योगी आदित्यनाथ को भाजपा नेतृत्व की इच्छा से नहीं संघ नेतृत्व की इच्छा से मिला था। क्योंकि संघ योगी को मोदी के बाद भाजपा के भावी नेता के रूप में विकसित करने की दूरगामी योजना पर काम कर रहा है। बताया जाता है कि इसके बाद दिल्ली में संघ के सभी प्रकल्पों और अनुषांगिक संगठनों के प्रभारी और अन्य शीर्ष पदाधिकारियों की तीन दिवसीय बैठक में एक दिन उत्तरप्रदेश पर चर्चा हुई जिसमें सर कार्यवाहर दत्तात्रेय होसबोले और भाजपा के संगठन महासचिव बीएल संतोष की रिपोर्ट पर विचार हुआ। उसके बाद संघ की सर्वसम्मति से राय बनी कि योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने रहेंगे। लेकिन उन्हें अपनी इस जिद से पीछे हटना होगा कि वह अरविंद शर्मा को ज्यादा से ज्यादा राज्य मंत्री बनाएंगे। उन्हें अरविंद शर्मा को कैबिनेट मंत्री बनाना चाहिए और जहां तक मंत्रिमंडल में फेरबदल और विस्तार की बात है तो भाजपा नेतृत्व को मुख्यमंत्री को विश्वास में लेकर आपस में बातचीत करके उस पर निर्णय लेना चाहिए और मंत्रियों के विभागों के मामले में भी मुख्यमंत्री को अनदेखा नहीं किया जाना चाहिए। इस तरह संघ ने एक तरह से बीच का रास्ता निकाला और केंद्रीय नेतृत्व तथा योगी दोनों को ही अपने अपने रुख से कुछ पीछे हटने की सलाह दी। headtopics.com

आज का कार्टून: एक दिन में वैक्सीनेशन का रिकॉर्ड बनाया, पर सरकारी आंकड़ों जैसा असर जमीन पर नजर नहीं आया PM मोदी के साथ 14 दलों की मीटिंग आज: जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद क्या बदला; इंफ्रास्ट्रक्चर, शिक्षा और रोजगार के साथ इस बार बर्फबारी में भी मिली पूरी बिजली बीजे वाटलिंग का संन्यास: न्यूजीलैंड को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियन बनाकर क्रिकेट को अलविदा कहा, सबसे ज्यादा टेस्ट खेलने वाले कीवी विकेटकीपर की बराबरी भी की

संघ से योगी को अभयदान मिलने के बाद ही केंद्रीय नेतृत्व ने ऑपरेशन जितिन प्रसाद को अंजाम दिया। इसके जरिए भाजपा नेतृत्व ने एक तरफ कांग्रेस को झटका देकर यह संदेश दिया कि भाजपा उत्तर प्रदेश में अपने मूल जनाधार वर्ग ब्राह्णणों की नाराजगी दूर करने की हर मुमकिन कोशिश करेगी तो दूसरी तरफ जितिन के भाजपा प्रवेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह को भी विश्वास में नहीं लिया गया क्योंकि आशंका थी जितिन प्रसाद जो पिछले दो तीन सालों से ब्राह्रणों की उपेक्षा उत्पीड़न और हत्याओं को लेकर लगातार योगी सरकार पर हमले कर रहे थे, कि भाजपा प्रवेश में कहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अडंगा न लगा दें। इसीलिए जितिन के प्रवेश कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा को कोई नेता मंच पर नहीं था। सूत्रों के मुताबिक योगी इससे असहज तो थे, लेकिन वक्त की नजाकत देखकर उन्होंने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी बल्कि ट्वीट करके जितिन का भाजपा में स्वागत किया। गृह मंत्री और भाजपा अध्यक्ष से बातचीत के बाद उन्हें जितिन को अपने मंत्रिमंडल में लेने में कोई परहेज भी नहीं रह गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से योगी आदित्यनाथ की मुलाकात के बाद भाजपा में 'सब कुछ ठीक है' का संदेश देकर चुनाव की अगली तैयारियों में जुट जाएगी।

विस्तारभारतीय जनता पार्टी के मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुशासन की लाठी एक बार फिर भारी पड़ी और उत्तर प्रदेश को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने दिल्ली में तीन दिन के विचार मंथन के बाद अपनी जो राय भाजपा नेतृत्व को दी थी, पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने उस पर अमल शुरु कर दिया है।

विज्ञापनगुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ जो विस्तृत चर्चा हुई उसकी जानकारी देते हुए सूत्रों ने बताया कि संघ के आशीर्वाद से योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने रहेंगे और जल्दी ही राज्य मंत्रिमंडल का विस्तार और फेरबदल होगा। जिसके तहत पूर्व आईएएस अरविंद कुमार शर्मा और भाजपा में नए नवेले गए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को मंत्री बनाया जा सकता है। लेकिन इनमें से कोई भी उप मुख्यमंत्री नहीं बनेगा। संभावना है कि मौजूदा उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य अपने-अपने पदों पर बने रहेंगे औऱ उनके विभाग भी उनके पास रहेंगे। लेकिन मंत्रिमंडल में पिछड़ों और दलितों का प्रतिनिधित्व बढ़ाया जाएगा ताकि हिंदुत्व के संरक्षण में सामाजिक संतुलन बना रहे। इसलिए मुमकिन है कि अपना दल से अनुप्रिया पटेल को केंद्र में या उनके पति डा.आशीष पटेल को राज्य मंत्रिमंडल में जगह मिल जाए। अनुप्रिया पटेल ने भी गृह मंत्री अमित शाह से गुरुवार भाजपा नेताओं से मुलाकात भी की थी।

अमित शाह से दिल्ली में मिले योगी आदित्यनाथ- फोटो : Agencyगुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली आकर गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात में उन सारे जटिल मुद्दों पर बात की जिन्हें लेकर पिछले कई दिनों से उत्तर प्रदेश को लेकर भाजपा में घमासान मचा हुआ था। यह जानकारी देने वाले सूत्रों के मुताबिक इसके पहले योगी सर संघचालक संघ के अपने करीबी शीर्ष पदाधिकारियों से बात करके अपनी स्थिति स्पष्ट कर चुके थे और इसीलिए उन्होंने संघ के सर कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले की लखनऊ यात्रा के दौरान उनसे भेंट नहीं की जबकि होसबोले तीन दिन तक लखनऊ में रहे और उन्होंने मुख्यमंत्री को मिलने का संदेश भिजवाया लेकिन योगी तब मिर्जापुर और गोरखपुर की यात्रा पर थे। headtopics.com

सूत्रों के अनुसार योगी पर अरविंद शर्मा को विधान परिषद सदस्य बनाने के बाद केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से उप मुख्यमंत्री बनाकर गृह नियुक्ति एवं गोपन जैसे अति महत्वपूर्ण एवं संवेदनशील विभाग देने का दबाव बढ़ रहा था और योगी उसे टालते जा रहे थे। लेकिन जब भाजपा के संगठन महासचिव बीएल संतोष और प्रभारी राधा मोहन सिंह लखनऊ गए और उन्होंने विधायकों मंत्रियों से बात करके दबाव बढ़ाया और योगी को बदलने तक की चर्चाएं चल पड़ीं जिनको राधामोहन सिंह की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित से की गई मुलाकातों से और बल मिला तब योगी ने सीधे सर संघचालक से संपर्क किया और उनसे अपनी स्थिति स्पष्ट की।

योगी के एक बेहद करीबी सूत्र के मुताबिक मुख्यमंत्री ने उनसे कहा कि पिछले साढ़े चार साल से मेरी सरकार ने केंद्र के हर निर्देश का पालन किया। यहां तक कि राज्यसभा, विधान परिषद चुनावों के लिए पार्टी के उम्मीदवारों की सूची केंद्रीय नेतृत्व बिना उनकी सलाह के तैयार करके भेजता रहा है और वह उसे मानते रहे हैं। राज्य के अधिकारियों को भी सीधे केंद्र से निर्देश मिलते रहे और उन्होंने उसे भी चलने दिया। संगठन के नाम पर सरकारी कामकाज और नियुक्तियों में दखल दिया जाता रहा। और अब असफलता का ठीकरा उनके सिर फोड़ा जा रहा है। योगी ने भागवत से यह भी कहा कि अगर किसी मुख्यमंत्री से गृह गोपन और नियुक्ति विभाग भी ले लिए जाएं तो फिर उस मुख्यमंत्री का रहना न रहना बराबर है। इससे तो अच्छा है संघ प्रमुख अगर उन्हें निर्देश देते हैं तो वो अपना इस्तीफा ही दे देंगे। उन्होंने यह भी कहा कि संघ प्रमुख के आशीर्वाद से ही वह मुख्यमंत्री बनकर अपने दायित्व का पूरी निष्ठा से पालन कर रहे हैं।

वीडियो: सोनू ने खोला नया सुपरमार्केट, साइकिल पर अंडा और ब्रेड की होम डिलीवरी करते आए नजर CM Amarinder Vs Sidhu: विवाद खत्म करने का फाइनल समाधान निकला कश्मीरी नेताओं के संग पीएम मोदी की मीटिंग, BJP से ऐसे रहे हैं J-K की पार्टियों के रिश्ते

मोहन भागवत- फोटो : ANIसूत्र के अनुसार योगी आदित्यनाथ की इस बात को संघ प्रमुख ने बेहद गंभीरता से लिया। वैसे भी उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री पद योगी आदित्यनाथ को भाजपा नेतृत्व की इच्छा से नहीं संघ नेतृत्व की इच्छा से मिला था। क्योंकि संघ योगी को मोदी के बाद भाजपा के भावी नेता के रूप में विकसित करने की दूरगामी योजना पर काम कर रहा है। बताया जाता है कि इसके बाद दिल्ली में संघ के सभी प्रकल्पों और अनुषांगिक संगठनों के प्रभारी और अन्य शीर्ष पदाधिकारियों की तीन दिवसीय बैठक में एक दिन उत्तरप्रदेश पर चर्चा हुई जिसमें सर कार्यवाहर दत्तात्रेय होसबोले और भाजपा के संगठन महासचिव बीएल संतोष की रिपोर्ट पर विचार हुआ। उसके बाद संघ की सर्वसम्मति से राय बनी कि योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने रहेंगे। लेकिन उन्हें अपनी इस जिद से पीछे हटना होगा कि वह अरविंद शर्मा को ज्यादा से ज्यादा राज्य मंत्री बनाएंगे। उन्हें अरविंद शर्मा को कैबिनेट मंत्री बनाना चाहिए और जहां तक मंत्रिमंडल में फेरबदल और विस्तार की बात है तो भाजपा नेतृत्व को मुख्यमंत्री को विश्वास में लेकर आपस में बातचीत करके उस पर निर्णय लेना चाहिए और मंत्रियों के विभागों के मामले में भी मुख्यमंत्री को अनदेखा नहीं किया जाना चाहिए। इस तरह संघ ने एक तरह से बीच का रास्ता निकाला और केंद्रीय नेतृत्व तथा योगी दोनों को ही अपने अपने रुख से कुछ पीछे हटने की सलाह दी।

संघ से योगी को अभयदान मिलने के बाद ही केंद्रीय नेतृत्व ने ऑपरेशन जितिन प्रसाद को अंजाम दिया। इसके जरिए भाजपा नेतृत्व ने एक तरफ कांग्रेस को झटका देकर यह संदेश दिया कि भाजपा उत्तर प्रदेश में अपने मूल जनाधार वर्ग ब्राह्णणों की नाराजगी दूर करने की हर मुमकिन कोशिश करेगी तो दूसरी तरफ जितिन के भाजपा प्रवेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह को भी विश्वास में नहीं लिया गया क्योंकि आशंका थी जितिन प्रसाद जो पिछले दो तीन सालों से ब्राह्रणों की उपेक्षा उत्पीड़न और हत्याओं को लेकर लगातार योगी सरकार पर हमले कर रहे थे, कि भाजपा प्रवेश में कहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अडंगा न लगा दें। इसीलिए जितिन के प्रवेश कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा को कोई नेता मंच पर नहीं था। सूत्रों के मुताबिक योगी इससे असहज तो थे, लेकिन वक्त की नजाकत देखकर उन्होंने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी बल्कि ट्वीट करके जितिन का भाजपा में स्वागत किया। गृह मंत्री और भाजपा अध्यक्ष से बातचीत के बाद उन्हें जितिन को अपने मंत्रिमंडल में लेने में कोई परहेज भी नहीं रह गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से योगी आदित्यनाथ की मुलाकात के बाद भाजपा में 'सब कुछ ठीक है' का संदेश देकर चुनाव की अगली तैयारियों में जुट जाएगी।

विज्ञापनआगे पढ़ेंविज्ञापनआपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है?

और पढो: Amar Ujala »

आज की पॉजिटिव खबर: IIM पासआउट अंकिता ने अमेरिका की नौकरी छोड़ी; पिता के साथ डेयरी फार्मिंग का बिजनेस शुरू किया, आज सालाना 90 लाख रुपए का टर्नओवर

IIM से पढ़ाई और अमेरिका में लाखों के पैकेज वाली नौकरी। फिर ये सब छोड़कर गांव में गाय पालना, खेती करना। थोड़ा अजीब लगता है न, लेकिन यह हकीकत है। राजस्थान में अजमेर की रहने वाली अंकिता कुमावत ने 2009 में IIM कोलकाता से पढ़ाई पूरी करने के बाद जर्मनी और अमेरिका में करीब पांच साल तक जॉब किया। इसके बाद अपने पिता के बुलावे पर इंडिया लौट आईं। अब वे डेयरी फार्मिंग के साथ ही ऑर्गेनिक फार्मिंग और फूड प्रोसेसिंग ... | Leaving America's job, Ankita started dairy farming business with father, today 9 million turnover annually

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda REET2018_JOINING_DO Sos_Sourabh ashokgehlot51 GovindDotasra pantlp DrSatishPoonia lkantbhardwaj RajShikshaNews RajCMO कब होगा न्याय RahulGandhi priyankagandhi myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda Is this showing some real differences between Yogi and BJP leadership? This could cost them seats unfortunately and the new year could bring in lot of unnecessary and avoidable trouble.

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda जितिन जैसे लोगों को मंत्रीमंडल मेंजगहमिलना और सक्रिय कार्यक्रताओ कीअनदेखी , ये तो उन लाखों अंधभक्तों की आत्मा को दुखी करने की बात हैं जो रात दिन मोती मोती बोलते है😀😀 myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda UPSSSC_PET_रद्द_करो मा. myogioffice जी अब पीईटी कराने का कोई औचित्य नहीं है कृपया अधीनस्थ सेवा चयन आयोग में 50 हजार पदों पर सीधे विज्ञापन जारी करने, लंबित भर्तियों को पूरा करने के लिए आदेश दें और चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति की जाये। UPPCL_4102_तकनीशियन_पदों_को_बहाल_करों

myogioffice BJP4India JitinPrasada VinodAgnihotri7 YogiAditynath Gov. Is not providing scholarship to the students in this crisis Students need the most try to help them out for students we are facing alot but no one is going to be oppose gov. For their deeds b.ed scholarship fakeStatus shown by site. CMHelpline1076

myogioffice BJP4India JitinPrasada VinodAgnihotri7 यही BJP का कल्चर है। बाहरी लोगों को दूध मलाई खिलाओ और घर के लोगों को भूखा मारों। क्या ये बाहरी लोग BJP को वोट दिला पाएंगे myogioffice BJP4India JitinPrasada VinodAgnihotri7 ये तो होना ही है दिल्ली का दौरा myogioffice BJP4India JitinPrasada VinodAgnihotri7 जय श्री राम कर दिया बिजली ने जीना हराम अब नहीं बचा dvvnl के पास और कोई काम जनता का काम करने मे पूरी तरह नाकाम श्रीकांत की श्री का कर दिया काम-तमाम BJP का सुपडा साफ करना चाहते ये ऊर्जा मंत्री श्रीमान Party को खतरा इस बार दुसरो से नहीं, आपकी ministery से है योगी जी महान

myogioffice BJP4India JitinPrasada VinodAgnihotri7 योगी जी आप पर विश्वास है रिक्त पदों पर अगली सूची की आस है।उम्मीद है आप निराश नहीं करेंगे कृपया अतिशीघ्र चयन सूची जारी कराने का आदेश देकर आशीर्वाद दें myogioffice drdwivedisatish UPGovt sunilbansalbjp prashant1402_ journoshruti 69000_तृतीय_चयन_सूची 69k_Job_Milne_Tk_Jung

myogioffice BJP4India JitinPrasada VinodAgnihotri7 योगी जी आप पर विश्वास है रिक्त पदों पर अगली सूची की आस है।उम्मीद है आप निराश नहीं करेंगे कृपया अतिशीघ्र चयन सूची जारी कराने का आदेश देकर आशीर्वाद दें myogioffice drdwivedisatish UPGovt sunilbansalbjp prashant1402_ journoshruti 69000_तृतीय_चयन_सूची 69k_Job_Milne_Tk_Jung

myogioffice BJP4India JitinPrasada VinodAgnihotri7 only if & but....no...confirm...news... 👎👎👎

दांव-पेच: आरएसएस की धारा के उलट योगी-मोदी की मुलाकात, इस 'जतन' का क्या मकसद?दांव-पेच: आरएसएस की धारा के उलट योगी-मोदी की मुलाकात, इस 'जतन' का क्या मकसद? YogiAdityanath PMModi RSS JitinPrasad UttarPradesh

myogioffice BJP4India JitinPrasada VinodAgnihotri7 गाँव बिलंद्पूर गद्दीपुर block सिन्धौली तहसील पुआया Distt. SPN UP: प्रधान late Vinod Singh ki maut corona se huee thi unki पत्नी गीता देवी को निर्विरोध प्रधान चुन लिया गया। चुनाव अधिकारी Raghvender Singh ji ने प्रधान का परमाण पत्र दिया। गीता देवी ने गाँव वालो का आभार जताया।

अमेरिका : फ्लोरिडा की सुपरमार्केट में बंदूकधारी ने दो की हत्या कर की खुदकुशीअमेरिका में फ्लोरिडा की एक सुपरमार्केट में बृहस्पतिवार को हुई गोलीबारी में तीन लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में बंदूकधारी

असम: अखिल गोगोई ने प्रधानमंत्री से सरकारी पेपर मिलों की नीलामी रोकने की अपील कीजेल में बंद असम के निर्दलीय विधायक अखिल गोगोई ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों के दौरान भाजपा ने वादा किया था कि राज्य में उसकी सरकार बनने पर वह पेपर मिलों को पुनर्जीवित करेगी. हालांकि नगांव पेपर मिल और कछार पेपर मिल की नीलामी के लिए नवीनतम नोटिस सभी वादों के लिए एक गंभीर झटका है.

उभरते मॉडल-बॉक्सर की हत्या, की थी छेड़छाड़ मामले में बीच-बचाव की कोश‍िशहरियाणा के रोहतक में उभरते मॉडल, एक्टर और बॉक्सर कामेश की निर्मम हत्या कर दी गई. कामेश की हत्या चाकु से गोद कर की गई. कामेश ने नाबालिग से छेड़छाड़ के मामले में दखल दिया था. जिसका खामियाजा बॉक्सर को जान गंवा कर देनी पड़ी. वारदात पास में लगे हुए सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हो गया. पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया है. देखें वीडियो.

सरकार में फेरबदल की अटकलों के बीच योगी पहुंचे दिल्ली, मोदी-नड्डा और शाह से मिलेंगेउत्तर प्रदेश में सियासी सरगर्मियों के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज दिल्ली पहुंच रहे हैं. योगी आदित्यनाथ आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात कर सकते हैं. abhishek6164 ShivendraAajTak प्रदेश को उत्तम न्याय व्यवस्था देना हो,जन विकास को हर गरीब तक पहुँचाना हो,माफियाओं की दबंगई निकालना हो तथा जनता की शिकायत का त्वरित निवारण करना हो,का उत्तम उदाहरण है 'योगी सरकार' | CM हो तो 'योगी' जैसा 🙏🙏 abhishek6164 ShivendraAajTak 12460शिक्षक_भर्ती_पूरी_करो Kindly be sensitive towards unemployed youtha who r desperately waiting for joining in govt school,, f myogioffice CMOfficeUP myogiadityanath drdwivedisatish abhishek6164 ShivendraAajTak उत्तर प्रदेश सिर्फ सिर्फ योगी बिना योगी प्रदेश बन जायेगा रोगी जनता त भोगबे करी भाजपा भी भोगी इसलिए ओनली योगी जय जय सियाराम 🙏🙏

योगी सियासी सरगर्मी के बीच अचानक पहुँचे दिल्ली, कल मोदी से मुलाक़ात की चर्चा - BBC Hindiउत्तर प्रदेश में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी की आंतरिक राजनीति को लेकर अटकलों का बाज़ार गर्म है. ऐसे में योगी आदित्यनाथ के इस दौरे पर सबकी नज़र हैं. SHIVSENA TO BE ON RIGHT TRACK ! हाँ वो प्रधानमंत्री हैं न! अब सुर बदल गए