Europeanunion, Climatechange, Globalwarming, जलवायु परिवर्तन, यूरोपीय संघ, ग्लोबल वॉर्मिंग, कार्बन उत्सर्जन

Europeanunion, Climatechange

यूरोप में 2030 तक कड़े जलवायु लक्ष्यों पर सहमति | DW | 11.12.2020

यूरोपीय संघ के 27 देश 2030 तक ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को 55 फीसदी घटाने पर राजी हुए. गुरुवार को शुरू हुआ सम्मेलन शुक्रवार तड़के थकान और ऊंघते ऊंघते संधि पर पहुंचा.

13-12-2020 10:00:00

यूरोपीय संघ के 27 देश 2030 तक ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को 55 फीसदी घटाने पर राजी हुए. गुरुवार को शुरू हुआ सम्मेलन शुक्रवार तड़के थकान और ऊंघते ऊंघते संधि पर पहुंचा. EuropeanUnion climatechange GlobalWarming

यूरोपीय संघ के 27 देश 2030 तक ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को 55 फीसदी घटाने पर राजी हुए. गुरुवार को शुरू हुआ सम्मेलन शुक्रवार तड़के थकान और ऊंघते ऊंघते संधि पर पहुंचा.

कितनी मुश्किल से हुई संधिपश्चिमी यूरोप और उत्तरी यूरोप के देश ज्यादा कड़े जलवायु लक्ष्यों की वकालत कर रहे थे. वहीं पूर्वी यूरोप के देश कुछ खास शर्तों की मांग कर रहे थे. पूर्वी यूरोप में पोलैंड और हंगरी जैसे देश अपनी ऊर्जा और आर्थिक जरूरतों के लिए बहुत हद तक कोयले पर निर्भर हैं. पोलैंड के रुख के कारण डील पर शुक्रवार सुबह तक बातचीत होती रही. पोलैंड ने ईयू से कहा कि वह गरीब देशों की फंडिंग की गारंटी तय करे.

आनंद गिरि कौन हैं और महंत नरेंद्र गिरि के साथ उनके कैसे रिश्ते थे? - BBC News हिंदी पीएम मोदी और बाइडेन की मुलाकात पर टिकी निगाहें, तालिबान-चीन पर बनेगी रणनीति : विशेषज्ञ भास्कर LIVE अपडेट्स: PM मोदी आज सुबह 11 बजे अमेरिका रवाना होंगे, 24 सितंबर को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से मुलाकात होगी

पोलैंड ने कुछ क्षेत्रों में उत्सर्जन में कटौती के लक्ष्यों को जीडीपी के अनुपात में तय करने की भी मांग की. इसका मतलब है कि छोटी अर्थव्यवस्था वाले देश कम कटौती करेंगे. ज्यादातर देशों ने पोलैंड की इन मांगों का विरोध किया. ऐसी तकरार से गुजरते हुए संधि हो गई.

डील अब यूरोपीय संसद में जाएगी. यूरोपीय संसद की मंजूरी के बाद ही यह लागू होगी. इस डील को लागू करने के लिए अगले दस सालों में ऊर्जा क्षेत्र में 350 अरब यूरो का निवेश करना होगा.ओएसजे/एके (रॉयटर्स, एएफपी)जलवायु परिवर्तन सूचकांक: किस देश का है कैसा प्रदर्शन headtopics.com

भारत एक स्थान फिसला2019 के मुकाबले भारत 2020 में एक स्थान फिसल गया. पिछले साल भारत नौवें स्थान पर था, लेकिन इस साल फिसल कर 10वें स्थान पर आ गया है. लेकिन भारत का प्रदर्शन अच्छा है और उसकी"हाई" रेटिंग बरकरार है.जलवायु परिवर्तन सूचकांक: किस देश का है कैसा प्रदर्शन

ऊपर के तीनों स्थान फिर खाली2019 की ही तरह एक बार फिर इस साल भी ऊपर के तीनों स्थान खाली रखे गए हैं, क्योंकि सूचकांक के मुताबिक दुनिया के किसी भी देश के जलवायु को बचाने के प्रयास पर्याप्त नहीं हैं. ऐसा कहना है 100 से भी ज्यादा विशेषज्ञों का जो 90 प्रतिशत वैश्विक सीओटू उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार 58 देशों के प्रदर्शन का आकलन करते हैं.

जलवायु परिवर्तन सूचकांक: किस देश का है कैसा प्रदर्शनस्वीडन है आदर्शस्वीडन को लगातार चौथे साल आदर्श देश माना गया है. वहां अभी भी इतनी तरक्की नहीं हुई है कि उसे ऊपर के तीन स्थानों में से एक में जगह मिल पाती, लेकिन उसने सीओटू उत्सर्जन, अक्षय ऊर्जा और जलवायु नीति में ऊंचे मानक स्थापित किए हैं. देश में अब कोयले से चलने वाला एक भी बिजली संयंत्र नहीं है और वहां लगभग 139 डॉलर प्रति टन का सीओटू टैक्स लागू है. बस वहां प्रति व्यक्ति ऊर्जा खपत अभी भी बहुत ज्यादा है.

जलवायु परिवर्तन सूचकांक: किस देश का है कैसा प्रदर्शनकैसे मिलते हैं अंकसूचकांक में अंक कई बिंदुओं पर दिए जाते हैं, जिनमें प्रति व्यक्ति ऊर्जा खपत, उसे कम करने की रणनीति, देश की ऊर्जा आपूर्ति में अक्षय स्त्रोतों का प्रतिशत और जलवायु संधि को देश-विदेश में लागू करवाने के लिए देश के नीति-निर्धारकों के कदम शामिल हैं. headtopics.com

SAARC बैठक में तालिबान को शामिल करने की मांग पर पाकिस्तान को झटका, विदेश मंत्रियों की मीटिंग रद्द SAARC के विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द, तालिबान को सार्क में शामिल करने की पाकिस्तान की चाल नाकाम भास्कर एक्सप्लेनर: भारत कल करेगा अग्नि-5 का टेस्ट; इस मिसाइल से क्यों घबराया हुआ है चीन? क्या है इसकी खासियत? जानें सब कुछ

जलवायु परिवर्तन सूचकांक: किस देश का है कैसा प्रदर्शनयूके को"हाई" रेटिंगस्वीडन के बाद नंबर है यूके, डेनमार्क, मोरक्को, नॉर्वे, चिली और भारत का. इन सभी देशों को"हाई" रेटिंग मिली है. फिनलैंड, माल्टा, लात्विया, स्विट्जरलैंड और पुर्तगाल को भी यही रेटिंग मिली है.

जलवायु परिवर्तन सूचकांक: किस देश का है कैसा प्रदर्शनयूरोपीय संघ का अच्छा प्रदर्शनईयू छह स्थान ऊपर उछल कर 16वें स्थान पर आ गया है और"गुड" या अच्छी रेटिंग हासिल की है. इस रेटिंग के साथ संघ बाकी दो बड़े उत्सर्जकों अमेरिका और चीन से आगे बढ़ गया है.

जलवायु परिवर्तन सूचकांक: किस देश का है कैसा प्रदर्शनअमेरिका सबसे पीछेपिछले साल की ही तरह अमेरिका इस साल भी सूचकांक में सबसे पीछे 61वें स्थान पर है. चीन 33वें स्थान पर है, यानी सूचकांक के लगभग मध्य में. सऊदी अरब (60) और ईरान (59) भी सबसे पीछे की ही तरफ हैं.

और पढो: DW Hindi »

कौन है Anand Giri, जो कर रहा था Narendra Giri को ब्लैकमेल!

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की मौत मामला लगातार उलझता ही जा रहा है. महंत नरेंद्र गिरि के अंतिम संस्कार की तैयारियां की जा रही हैं, उधर महंत नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट से हड़कंप मच गया है. 23 सितंबर को महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ में ही भू समाधि दी जाएगी. लेकिन नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट में जो सच बाहर आया है, वो बेहद ही चौंकाने वाला है. सुसाइड नोट में नरेंद्र गिरि ने आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी का तीन बार जिक्र किया और पूरे होश में उन्हें अपनी आत्महत्या के लिए जिम्मेदार ठहराया है. सुसाइड नोट में ये भी लिखा है कि एक महिला से जोड़कर उनका वीडियो वायरल करने की धमकी दी जा रही थी. अब सवाल ये भी खड़ा हो गया है कि आखिर वो महिला कौन है? देखें स्पेशल रिपोर्ट.

थकान और ऊंघते ऊंघते संधि पर पहुंचा....अद्भुत टिप्पणी है भाई ... एकदम सटीक 👍

2030 तक 100% रिन्यूएबल एनर्जी पर चलने वाला भारतीय रेल होगा दुनिया का पहला रेलवेरेल मंत्री पीयूष गोयल ने आज लोकसभा में बड़ी घोषणा की. उन्होंने कहा भारतीय रेल व्यवस्था 2030 तक दुनिया की पहली ऐसी और इतनी बड़ी रेल व्यवस्था बन जाएगी जो शत-प्रतिशत रिन्यूएबल एनर्जी पर चलेगी. जानें क्या है मोदी सरकार का प्लान Another fekooo sala ये जो बैंक वाले हड़ताल कर रहे हैं ये सब खालिस्तानी है और इनको 500 रुपए प्रति दिन के हिसाब से भाड़े पर लाया गया है।

सऊदी अरब ने 2030 तक बड़े बदलाव का रखा लक्ष्य - BBC Hindiसऊदी अरब दुनिया के सबसे बड़े विदेशी हथियार ख़रीदार देशों में से एक है. सऊदी अरब पिछले छह सालों से यमन में एक युद्ध लड़ रहा है और इस दौरान उसका हथियारों का आयात और बढ़ा है. तेरे दीदार की आस मैं आतें हैं तेरी गली में. . . . वरना सारा शहर पड़ा है अवार्गी के लिए . . miyakhalifa RahulGandhi RakeshTaikait बहुत बड़ी ख़बर है, davolkar बहुत प्रसिद्ध और प्रभावी नेताओं में से एक थे modi_rojgar_दो

चीन सीमा पर तैयारी, पुल निर्माण के बाद सड़कों पर फोकस, 10 मीटर तक होगी चौड़ाईचीन और भारत के बीच तनाव बरकरार होने के कारण सीमा पर तैयारियां जारी हैं. हाल ही में सीमा तक पहुंचने वाले पुलों की शुरुआत की गई थी, अब चीनी सीमा तक पहुंचने वाले राजमार्गों के चौड़ीकरण का काम किया जा रहा है.

10तक: कब तक कानून के नाम पर Nitish Kumar फोड़ेंगे 16 साल पुराने जंगलराज पर ठीकरा?16 साल पुराने जंगलराज पर भाषण देकर ही वोट लिया और अब कानून के शासन के नाम पर भी क्या 16 साल पुराने जंगलराज की हांडी ही चढ़ाएंगे नीतीश कुमार? मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बचाव में ये तो ताल ठोंककर कहते हैं कि नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों में अपराध के पैमाने पर बिहार 23वें नंबर पर है लेकिन NCRB का ही डेटा कहता है कि बिहार देश में हत्या के मामले में दूसरे नंबर पर है, अपहरण के अपराध में बिहार अब भी देश में तीसरे नंबर पर है और हिंसक अपराधों के मामले में बिहार देश में दूसरे नंबर पर है. देखें 10तक. sardanarohit बिहार में अपराधियों की बहार है क्योंकि नितीश- भाजपा की सरकार है... sardanarohit GodiMedia sardanarohit RepealFarmActsToday

कांग्रेस के असंतुष्ट नेताओं के निशाने पर सुरजेवाला, इस बयान पर है नाराजगी