Uttarpradesh, Kushinagar, Airport, Kushinagar Airport, Kushinagar News, Kushinagar İnternational Airport, İnauguration Ceremony, Yogi Adityanath, Anandiben Patel, Exclusive, कुशीनगर समाचार, Kushinagar News İn Hindi, Latest Kushinagar News İn Hindi, Kushinagar Hindi Samachar

Uttarpradesh, Kushinagar

यूपी : पीएम मोदी आज करेंगे कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन, पर्यटन उद्योग की उम्मीदें बढ़ीं

आजादी की पहली किरण की गवाह कसया की हवाई पट्टी (एयरोड्रम) 75 वें साल में अंतरराष्ट्रीय पहचान पाने जा रही है।

20-10-2021 01:05:00

यूपी : पीएम मोदी आज करेंगे कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन, पर्यटन उद्योग की उम्मीदें बढ़ीं UttarPradesh Kushinagar Airport PMOIndia UPGovt myogioffice

आजादी की पहली किरण की गवाह कसया की हवाई पट्टी (एयरोड्रम) 75 वें साल में अंतरराष्ट्रीय पहचान पाने जा रही है।

ब्रिटिश हुकूमत में देवरिया-कुशीनगर का यह इलाका गन्ने की खेती के लिए जाना जाता था। तब यहां 13 चीनी मिलें स्थापित थीं। वर्ष 1946 में अंग्रेज अफसरों के आवागमन के लिए कसया के भलुही मदारीपट्टी गांव में एयरोड्रम का निर्माण हुआ था। हालांकि अंग्रेज इसका उपयोग नहीं कर पाए। वर्ष 1954 में कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय बौद्ध सम्मेलन का आयोजन हुआ। जिसमें चीन, ताइवान, तिब्बत, थाईलैंड समेत बौद्ध अनुयायी देशों के प्रतिनिधियों और राष्ट्राध्यक्षों ने भी प्रतिभाग किया।

नरेंद्र मोदी ने अखिलेश यादव की 'लाल टोपी' को क्यों बताया रेड अलर्ट - BBC News हिंदी Anil Menon बनेंगे नासा एस्ट्रोनॉट, हो सकते हैं चांद पर जाने वाले पहले भारतवंशी! केंद्र के प्रस्ताव पर किसानों की और स्पष्टीकरण की मांग, आंदोलन के भविष्य पर बैठक जारी - BBC News हिंदी

इस कार्यक्रम के लिए कसया की इस हवाई पट्टी का पहली बार प्रयोग किया गया। उसके बाद से इसे बिसरा दिया गया। धीरे-धीरे अगल-बगल के गांव के लोगों ने हवाई पट्टी का उपयोग वाहन चलाना सीखने व फसलों की मड़ाई के लिए करना शुरू कर दिया। हवाई पट्टी के बीच से ही सड़क बन गई। वर्ष 1995 में प्रदेश में जब बसपा की सरकार बनी तो मुख्यमंत्री मायावती ने कुशीनगर की इस हवाई पट्टी के जीर्णोद्धार के लिए प्रयास शुरू किया। उस वक्त हवाई पट्टी के रनवे की मरम्मत के अलावा बाउंड्रीवाल, प्रतीक्षालय, एटीसी बिल्डिंग, गेस्ट हाऊस आदि का निर्माण कराया गया। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री रहे गुलाम नबी आजाद ने इसका उद्घाटन भी किया। दुर्भाग्य की बात यह रही कि इस एयरपोर्ट से उड़ान शुरू नहीं हो सकी।

बसपा शासनकाल में आया चर्चा में हवाई अड्डावर्ष 2008 में मुख्यमंत्री के तौर पर मायावती कुशीनगर आई थीं। अपने आध्यात्मिक गुरु एबी ज्ञानेश्वर से मिलकर लौटीं मायावती ने कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बनवाने की घोषणा की। इसके लिए प्रस्ताव भी केंद्र सरकार को भेजा गया। मंजूरी भी मिल गई, लेकिन निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया। वर्ष 2012 में प्रदेश की सत्ता संभालते ही सपा सरकार ने मैत्रेय प्रोजेक्ट को लेकर तत्परता दिखाई। एयरपोर्ट के लिए जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो गई। मैत्रेय प्रोजेक्ट के विरोध को देखते हुए एयरपोर्ट के लिए जमीन मिलना मुश्किल था, लेकिन तत्कालीन डीएम के प्रयासों से जमीन अधिग्रहण का काम जल्दी ही पूरा हो गया। headtopics.com

विस्तारीकरण में 13 गांवों के किसानों ने दी जमीनहवाई अड्डे के लिए भलुही मदारीपट्टी, बेलवा दुर्गा राय, बेलवा रामजस, नीबीडीह, शाहपुर, कुरमौटा, मिश्रौली, नरकटिया, पतया, पतईं, नंदाछपरा, नकहनी व खोराबर के किसानों की जमीनों का अधिग्रहण किया गया। पहली बार किसानों को अपनी जमीन के लिए सरकारी मालियत की दर से चार गुना अधिक मुआवजा मिला। लिहाजा कई किसान खुद ही जमीन देने के लिए आगे आए।

दो साल से था उद्घाटन का इंतजारप्रदेश तीसरे अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को अपने उद्घाटन के लिए भी लंबा इंतजार करना पड़ा। एयरपोर्ट का 3200 मीटर लंबा रनवे सबसे पहले बनकर तैयार हुआ। इसके बाद पुराने टर्मिनल बिल्डिंग का जीर्णोद्धार कर उद्घाटन की तैयारी शुरू हुई। कोरोना संक्रमण के चलते कार्यक्रम टल गया। इस दरम्यान यहां नया एटीसी टॉवर और जर्मन फेब्रिक से नया टर्मिनल बिल्डिंग भी बन गई। एयरपोर्ट को सीधे कुशीनगर तक फोरलेन से जोड़ने के लिए 21 करोड़ की लागत से नई सड़क का भी निर्माण शुरू हो गया। पिछले साल ही इसका उद्घाटन श्रीलंका के राष्ट्रपति की मौजूदगी में कराने की योजना था लेकिन अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध के चलते फिर मामला लटक गया।

नियमित उड़ान शुरू होने से मिलेगा रोजगारपर्यटन सूचना अधिकारी राजेश कुमार भारती बताते हैं कि अभी कुशीनगर में हर साल 50 हजार से अधिक विदेशी पर्यटक आते हैं। इनमें श्रीलंका, म्यांमार, थाईलैंड आदि बौद्धिस्ट देशों के लोग शामिल होते हैं। इसके अतिरिक्त हर साल जर्मनी, फ्रांस, इंग्लैंड आदि देशों के इतिहासकार, शोधार्थी व पुरातत्वविद भी कुशीनगर की प्राचीनता को जानने आते हैं। अब तक कुशीनगर के आवागमन के लिए कोई सीधी सेवा नहीं होने के चलते पर्यटकों को दिक्कत होती थी। कुशीनगर एयरपोर्ट से उड़ान शुरू होने पर ये लोग सीधे कुशीनगर आएंगे, जिससे यहां पर्यटन कारोबार को नई ऊंचाई मिलेगी।

विस्तार आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन करेंगे। यह यूपी का तीसरा व सबसे लंबे रनवे वाला एयरपोर्ट होगा। इतिहास में दर्ज होने वाली इस तारीख का हर व्यक्ति गवाह बनना चाहता है। वर्ष 1995 में हुए जीर्णोद्धार के ढाई दशक बाद अब जाकर इस एयरपोर्ट से नियमित उड़ान शुरू होगी। रोजगार के क्षेत्र में पिछड़े इस जिले के लोगों को पर्यटन से कारोबार की बड़ी उम्मीद है। headtopics.com

UAE में अब सरकारी कर्मचारियों को पांच दिन से भी कम समय करना होगा काम बाजार में 2000 के नोट की संख्या एक तिहाई घटी, सरकार ने बताया बाजार में कितने नोट बचे राकेश टिकैत की दो टूक- संयुक्त किसान मोर्चा ही लेगा आंदोलन खत्म करने का आखिरी फैसला

विज्ञापनब्रिटिश हुकूमत में देवरिया-कुशीनगर का यह इलाका गन्ने की खेती के लिए जाना जाता था। तब यहां 13 चीनी मिलें स्थापित थीं। वर्ष 1946 में अंग्रेज अफसरों के आवागमन के लिए कसया के भलुही मदारीपट्टी गांव में एयरोड्रम का निर्माण हुआ था। हालांकि अंग्रेज इसका उपयोग नहीं कर पाए। वर्ष 1954 में कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय बौद्ध सम्मेलन का आयोजन हुआ। जिसमें चीन, ताइवान, तिब्बत, थाईलैंड समेत बौद्ध अनुयायी देशों के प्रतिनिधियों और राष्ट्राध्यक्षों ने भी प्रतिभाग किया।

इस कार्यक्रम के लिए कसया की इस हवाई पट्टी का पहली बार प्रयोग किया गया। उसके बाद से इसे बिसरा दिया गया। धीरे-धीरे अगल-बगल के गांव के लोगों ने हवाई पट्टी का उपयोग वाहन चलाना सीखने व फसलों की मड़ाई के लिए करना शुरू कर दिया। हवाई पट्टी के बीच से ही सड़क बन गई। वर्ष 1995 में प्रदेश में जब बसपा की सरकार बनी तो मुख्यमंत्री मायावती ने कुशीनगर की इस हवाई पट्टी के जीर्णोद्धार के लिए प्रयास शुरू किया। उस वक्त हवाई पट्टी के रनवे की मरम्मत के अलावा बाउंड्रीवाल, प्रतीक्षालय, एटीसी बिल्डिंग, गेस्ट हाऊस आदि का निर्माण कराया गया। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री रहे गुलाम नबी आजाद ने इसका उद्घाटन भी किया। दुर्भाग्य की बात यह रही कि इस एयरपोर्ट से उड़ान शुरू नहीं हो सकी।

बसपा शासनकाल में आया चर्चा में हवाई अड्डावर्ष 2008 में मुख्यमंत्री के तौर पर मायावती कुशीनगर आई थीं। अपने आध्यात्मिक गुरु एबी ज्ञानेश्वर से मिलकर लौटीं मायावती ने कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बनवाने की घोषणा की। इसके लिए प्रस्ताव भी केंद्र सरकार को भेजा गया। मंजूरी भी मिल गई, लेकिन निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया। वर्ष 2012 में प्रदेश की सत्ता संभालते ही सपा सरकार ने मैत्रेय प्रोजेक्ट को लेकर तत्परता दिखाई। एयरपोर्ट के लिए जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो गई। मैत्रेय प्रोजेक्ट के विरोध को देखते हुए एयरपोर्ट के लिए जमीन मिलना मुश्किल था, लेकिन तत्कालीन डीएम के प्रयासों से जमीन अधिग्रहण का काम जल्दी ही पूरा हो गया।

विस्तारीकरण में 13 गांवों के किसानों ने दी जमीनहवाई अड्डे के लिए भलुही मदारीपट्टी, बेलवा दुर्गा राय, बेलवा रामजस, नीबीडीह, शाहपुर, कुरमौटा, मिश्रौली, नरकटिया, पतया, पतईं, नंदाछपरा, नकहनी व खोराबर के किसानों की जमीनों का अधिग्रहण किया गया। पहली बार किसानों को अपनी जमीन के लिए सरकारी मालियत की दर से चार गुना अधिक मुआवजा मिला। लिहाजा कई किसान खुद ही जमीन देने के लिए आगे आए। headtopics.com

दो साल से था उद्घाटन का इंतजारप्रदेश तीसरे अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को अपने उद्घाटन के लिए भी लंबा इंतजार करना पड़ा। एयरपोर्ट का 3200 मीटर लंबा रनवे सबसे पहले बनकर तैयार हुआ। इसके बाद पुराने टर्मिनल बिल्डिंग का जीर्णोद्धार कर उद्घाटन की तैयारी शुरू हुई। कोरोना संक्रमण के चलते कार्यक्रम टल गया। इस दरम्यान यहां नया एटीसी टॉवर और जर्मन फेब्रिक से नया टर्मिनल बिल्डिंग भी बन गई। एयरपोर्ट को सीधे कुशीनगर तक फोरलेन से जोड़ने के लिए 21 करोड़ की लागत से नई सड़क का भी निर्माण शुरू हो गया। पिछले साल ही इसका उद्घाटन श्रीलंका के राष्ट्रपति की मौजूदगी में कराने की योजना था लेकिन अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध के चलते फिर मामला लटक गया।

नियमित उड़ान शुरू होने से मिलेगा रोजगारपर्यटन सूचना अधिकारी राजेश कुमार भारती बताते हैं कि अभी कुशीनगर में हर साल 50 हजार से अधिक विदेशी पर्यटक आते हैं। इनमें श्रीलंका, म्यांमार, थाईलैंड आदि बौद्धिस्ट देशों के लोग शामिल होते हैं। इसके अतिरिक्त हर साल जर्मनी, फ्रांस, इंग्लैंड आदि देशों के इतिहासकार, शोधार्थी व पुरातत्वविद भी कुशीनगर की प्राचीनता को जानने आते हैं। अब तक कुशीनगर के आवागमन के लिए कोई सीधी सेवा नहीं होने के चलते पर्यटकों को दिक्कत होती थी। कुशीनगर एयरपोर्ट से उड़ान शुरू होने पर ये लोग सीधे कुशीनगर आएंगे, जिससे यहां पर्यटन कारोबार को नई ऊंचाई मिलेगी।

जमाल ख़ाशोज्जी की हत्या के मामले में एक संदिग्ध फ़्रांस में गिरफ़्तार - BBC News हिंदी यूपीए के अस्तित्व के सवाल के बीच: राहुल गांधी से मिलने के बाद संजय राउत ने कहा- विपक्ष का केवल एक मोर्चा होना चाहिए Omicron: लखनऊ में धारा 144 लागू, जिम-होटल 50% क्षमता के साथ ही खुलेंगे, घर से बाहर मास्क पहनना अनिवार्य

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

आखिर उसने क्यों दी दुल्हन को 'खूनी विदाई'? देखें वारदात

रोहतक, हरियाणा के ओमप्रकाश के परिवार के लिए 1 दिसंबर एक बड़ी खुशी का दिन था. जिस बेटी को उन्होंने अब तक बेहद नाज़ों से पाला था, आज उसी की डोली उठ रही थी. ओमप्रकाश की बेटी तनिष्का की शादी आनंदपुर के रहनेवाले जगदीश के बेटे मोहन के साथ हो रही थी. सारा दिन शादी की गहमागहमी में गुज़र गया और फिर रात के साढ़े दस बजते-बजते विदाई की घड़ी आ गई. तनिष्का अपने दूल्हे मोहन के साथ एक कार में बैठ कर अपने गांव सांपला से ससुराल आनंदपुर के लिए रवाना हो गई. कार में दूल्हा-दुल्हन के अलावा दोनों के भाई और ड्राइवर समेत कुल पांच लोग बैठे हुए थे. लेकिन अभी करीब चालीस किलोमीटर का फ़ासला तय कर कार आनंदपुर की दहलीज़ पर पहुंची ही थी कि एक तेज़ रफ्तार इनोवा ने दूल्हा-दुल्हन की गाड़ी को ओवरटेक कर रुकवा लिया और फिर जो कुछ हुआ, वो बेहद डरानेवाला था. देखिए वारदात का ये एपिसोड.

पीलीभीतः धान की तौल ना होने पर किसान ने की आत्महत्या की कोशिश, मचा हड़कंपफंदा लगाकर आत्महत्या की कोशिश करने वाले किसान को वहां मौजूद किसानों ने किसी तरह रोका. वहीं, सूचना मिलने के बाद उप जिलाधिकारी मौके पर पहुंचे, जिसके बाद धान की तौल शुरू करा दी गई. ढोंगी है तो मुमकिन है

गढ़वाः दशहरा समारोह में थिरकीं बार बालाएं, JMM नेता ने की हवाई फायरिंग, केस दर्जफायरिंग JMM के गढ़वा जिला अध्यक्ष नितेश सिंह ने की थी. इस बारे में उन्होंने कहा कि उनकी रायफल को किसी ने लोड कर दिया था. कोई घटना-दुर्घटना न हो जाए इसलिए उसे फायर कर रायफल को खाली किया था.

रामायण आधारित प्रतियोगिता का आयोजन करेगी एमपी सरकार, विजेताओं को अयोध्या की हवाई यात्रामध्य प्रदेश के संस्कृति विभाग द्वारा रामायण के अयोध्या कांड पर आधारित सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता में हर ज़िले से आठ लोगों का चयन किया जाएगा. पिछले महीने सरकार ने स्नातक पाठ्यक्रमों के कला संकाय के प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों को दर्शनशास्त्र के तहत एक वैकल्पिक विषय के रूप में रामचरितमानस को पढ़ाए जाने की घोषणा की थी.

T20 WC: वॉर्नर की खराब फॉर्म जारी, गुप्टिल ने पकड़ा ‘हवाई कैच’, Videoऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मार्टिन गुप्टिल ने डेविड वॉर्नर ने शानदार कैच पकड़ा. इस कैच का वीडियो सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल भी हो रहा है.

यूपी चुनाव: अयोध्या में भागवत तो कुशीनगर में PM मोदी, पूर्वांचल को साधने की कोशिश!RSS का पांच दिवसीय अभ्यास वर्ग अयोध्या में चल रहा है, जिसमें मंगलवार को संघ प्रमुख मोहन भागवत भी शिरकत करेंगे. वहीं, PM मोदी बुधवार को पूर्वांचल के कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का शुभारंभ करेंगे.

यूपी के शाहजहांपुर जिले के कोर्ट परिसर में वकील की गोली मारकर हत्याउत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की एक जिला अदालत के परिसर के अंदर एक वकील की गोली मारकर हत्या कर दी गई है. वकील का शव कोर्ट की तीसरी मंजिल पर मिला है. साथ ही शव के पास से देसी पिस्टल भी मिली है. इस तरह यूपी में गुंडाराज खत्म हुआ YogikaJungleRaj Raamraaj ya ravanraaj ....