यूपी के 22 जिलों से ग्राउंड रिपोर्ट: 129 विधानसभा क्षेत्रों के लोगों ने तीन मुद्दे उठाए, सभी राजनीतिक दलों ने कसी कमर

अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं। इसको लेकर पहले चरण में 'अमर उजाला' का चुनावी रथ 'सत्ता का संग्राम'

Upelections, Up Assembly Election 2022

02-12-2021 15:06:00

यूपी के 22 जिलों से ग्राउंड रिपोर्ट : 129 विधानसभा क्षेत्रों के लोगों ने तीन मुद्दे उठाए, भाजपा सरकार के लिए हो सकती है मुश्किलें UPelections

अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं। इसको लेकर पहले चरण में 'अमर उजाला' का चुनावी रथ 'सत्ता का संग्राम'

अमर उजाला सत्ता का संग्राम- फोटो : अमर उजालाविज्ञापनख़बर सुनेंख़बर सुनेंउत्तर प्रदेश का सियासी बाजार इन दिनों गर्म है। कारण सभी जानते हैं। यहां अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। सभी राजनीतिक दल अपने-अपने स्तर से कई तरह के दावे करने में जुटी हुई हैं। योगी सरकार का दावा है कि पूरे प्रदेश में विकास की नई बयार बही है, तो विपक्ष इसे झूठ का पुलिंदा बताता है।

मुस्लिम व्यक्ति एक हिन्दू महिला के साथ जा रहा था, ट्रेन से उतारा गया - BBC News हिंदी

'अमर उजाला' ने इन दावों की ग्राउंड पर जाकर पड़ताल की। पहले चरण में पश्चिमी उत्तर प्रदेश और ब्रज के 22 जिलों की 129 विधानसभा सीटों का मुआयना किया। यहां के आम लोगों से उनके मुद्दों के बारे में जानने की कोशिश की गई। युवाओं, महिलाओं, व्यापारियों, मजदूरों समेत हर वर्ग के लोगों से बात की गई। हर किसी ने खुलकर चुनावी मुद्दों पर बात की। इस बीच दोनों तरह के पक्ष सामने आए। लोग कई मामलों में सरकार के काम से खुश हैं, तो कुछ मामलों में नाराज भी हैं।

पढ़िए पूरी रिपोर्ट...11 नवंबर को 'सत्ता का संग्राम' कार्यक्रम की शुरुआत गाजियाबाद से हुई। यहां से अमरोहा/मुरादाबाद, रामपुर, बरेली, बदायूं, पीलीभीत, शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी, सीतापुर,हरदोई, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा, मैनपुरी, एटा, फिरोजाबाद, आगरा, मथुरा, हाथरस, अलीगढ़ होते हुए बुलंदशहर पहुंची। इन सभी 22 जिलों में अलग-अलग वर्ग के लोगों से बात हुई। शुरुआत चाय पर चर्चा से की गई। इसमें हर वर्ग, हर क्षेत्र, हर धर्म और हर जाति के लोगों ने शिरकत की। headtopics.com

कौन सा दल यहां कितना मजबूत है?इन 22 जिलों में कुल 129 विधानसभा क्षेत्र हैं। गाजियाबाद में 5, अमरोहा में 4, रामपुर में 5, बरेली में 9, बदायूं में 7, पीलीभीत में 7, शाहजहांपुर में 6, लखीमपुर खीरी में 8, सीतापुर में 9, हरदोई में 8, फर्रुखाबाद में 4, कन्नौज में 3, इटावा में 3, मैनपुरी में 4, एटा में 4, फिरोजाबाद में 5, आगरा में 9, मथुरा में 5, हाथरस में 3, अलीगढ़ में 7 और बुलंदशहर में 7 सीटें हैं। अब राजनीतिक पकड़ की बात करें तो इन 122 सीटों में सबसे ज्यादा 109 पर भारतीय जनता पार्टी का कब्जा है। 18 सीटों पर सपा और दो पर बसपा के विधायक हैं।

सऊदी अधिकारियों की चेतावनी- सोशल मीडिया पर अफ़वाह फैलाई तो होगी जेल - BBC Hindi

स्थानीय लोगों से चाय पर चर्चा के दौरान इन सभी 22 में महंगाई और बेरोजगारी का मुद्दा हावी रहा। इसके अलावा 18 जिलों में खराब सड़कों को लेकर लोगों की नाराजगी दिखी। ज्यादातर लोगों ने सरकार के ओवरऑल कामकाज से तो खुशी जाहिर की, लेकिन इन मुद्दों पर सरकार को जल्द से जल्द सुधार लाने के लिए कहा।

खराब सड़कों को लेकर लोगों का ये भी मानना है कि पहले के मुकाबले सड़कें भी बेहतर हुई हैं, लेकिन उतनी नहीं जितनी उम्मीद थी। लोगों का ये भी कहना है कि हाईवे और पुलों का निर्माण भी अच्छा हुआ है। हाईवे की सड़कें काफी बेहतर हैं, लेकिन शहर या नगर के अंदर की सड़कें काफी तकलीफ देती हैं। कुछ जिलों में सीवर, पानी की पाइप लाइन डालने के लिए सड़कों की खुदाई हुई है।

इन जिलों में लोगों ने कहा- सड़कें खराब हैं, लेकिन पहले के मुकाबले ठीक हैंगाजियाबाद, बदायूं, पीलीभीत, लखीमपुर खीरी, हरदोई, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा, मैनपुरी, फिरोजाबाद, आगरा, मथुरा और हाथरस में 237 लोगों से तमाम मुद्दों पर बात की गई। इनमें से ज्यादातर ने अपने-अपने जिलों में सड़कों की स्थिति के बारे में बताया। कहा कि अभी भी जगह-जगह गड्डे हैं। आम लोगों को काफी परेशानी होती है। हालांकि, लोगों ने ये भी बताया कि अगर पहले के मुकाबले सड़कों की तुलना की जाए तो थोड़ा सुधार जरूर हुआ है। लोगों का कहना है कि सड़कें बनती तो हैं, लेकिन इसमें प्रयोग में लाए जाने वाले मटेरियल की क्वालिटी खराब होती है। इसके चलते एक ही बारिश में फिर से सड़कें टूट जाती हैं और जगह-जगह गड्डे हो जाते हैं। सरकार को इस ओर ध्यान देना चाहिए। headtopics.com

Gujrat: सूरत में तैयारी हो रहीं मोदी योगी की 3D प्रिंट साड़ियां, भेजी जाएंगी यूपी

इन जिलों में विकास कार्यों के लिए खुदी सड़केंएटा, बरेली और अलीगढ़ के लोग भी सड़कों को लेकर काफी परेशान दिखे। लोगों ने कहा कि जगह-जगह सड़कें खुदी पड़ी हैं। वह भी लंबे समय से। कहीं सीवर का तो कहीं पानी की पाइप लाइन पड़ रही है। लोगों का कहना है कि पिछले दो से तीन साल से ये सड़कें इसी तरह खुदी पड़ी हैं। तय समय में विकास कार्य नहीं होते हैं। इसकी वजह से आम लोगों को तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। बारिश में इन गड्डों में पानी भर जाता है। कई एक्सीडेंट हो चुके हैं।

इन जिलों में लोगों ने कहा- सड़कें ठीक हुई हैंअमरोहा, रामपुर, शाहजहांपुर, सीतापुर और बुलंदशहर के लोगों ने सड़कों को लेकर कुछ खास नाराजगी नहीं जाहिर की। कहा कि पहले के मुकाबले सड़कें अब काफी बेहतर हुई हैं। जहां, ट्रैफिक की समस्या होती थी, आज वहां ओवर ब्रिज बन चुका है।

लोगों ने युवाओं, महिलाओं के रोजगार का मुद्दा उठाया। कहा कि सरकार को स्थानीय स्तर पर प्रत्येक जिलों में कोई न कोई इंडस्ट्री सेट करनी चाहिए, जिससे यहां के लोगों को रोजगार मिल सके। इसके अलावा सरकारी भर्तियों को भी नियमित करने की मांग उठी। ज्यादातर युवाओं का कहना है कि सरकारी भर्तियां दो से तीन साल बाद निकलती हैं। ऐसे में कई युवाओं की उम्र निकल जाती है। सरकार को इसपर ध्यान देने की जरूरत है। हालांकि, कुछ लोगों ने स्वरोजगार को लेकर चलाई जा रही योजनाओं के बारे में भी कहा। बताया कि बड़ी संख्या में महिलाएं और युवा स्वरोजगार की तरफ भी बढ़ रहे हैं।

इसी तरह महंगाई का भी मुद्दा उठा। इसको लेकर दो-चार लोगों को छोड़कर सबकी राय एकमत दिखी। लोगों ने कहा कि पेट्रोल-डीजल, सब्जियां, गैस सिलेंडर सबकुछ महंगा हो गया है। ऐसे में घर चलाना मुश्किल होने लगा है। हालांकि, लोगों का ये भी मानना है कि सरकार ने गरीबों के लिए काफी कुछ किया है। मुफ्त राशन व अन्य कई सुविधाएं मुहैया कराई हैं, लेकिन मध्यमवर्गीय लोग परेशान हैं। headtopics.com

विस्तारउत्तर प्रदेश का सियासी बाजार इन दिनों गर्म है। कारण सभी जानते हैं। यहां अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। सभी राजनीतिक दल अपने-अपने स्तर से कई तरह के दावे करने में जुटी हुई हैं। योगी सरकार का दावा है कि पूरे प्रदेश में विकास की नई बयार बही है, तो विपक्ष इसे झूठ का पुलिंदा बताता है।

विज्ञापन'अमर उजाला' ने इन दावों की ग्राउंड पर जाकर पड़ताल की। पहले चरण में पश्चिमी उत्तर प्रदेश और ब्रज के 22 जिलों की 129 विधानसभा सीटों का मुआयना किया। यहां के आम लोगों से उनके मुद्दों के बारे में जानने की कोशिश की गई। युवाओं, महिलाओं, व्यापारियों, मजदूरों समेत हर वर्ग के लोगों से बात की गई। हर किसी ने खुलकर चुनावी मुद्दों पर बात की। इस बीच दोनों तरह के पक्ष सामने आए। लोग कई मामलों में सरकार के काम से खुश हैं, तो कुछ मामलों में नाराज भी हैं।

पढ़िए पूरी रिपोर्ट...इन जिलों में हुई पड़तालबुलंदशहर में चाय पर चर्चा करते लोग।- फोटो : अमर उजाला11 नवंबर को 'सत्ता का संग्राम' कार्यक्रम की शुरुआत गाजियाबाद से हुई। यहां से अमरोहा/मुरादाबाद, रामपुर, बरेली, बदायूं, पीलीभीत, शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी, सीतापुर,हरदोई, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा, मैनपुरी, एटा, फिरोजाबाद, आगरा, मथुरा, हाथरस, अलीगढ़ होते हुए बुलंदशहर पहुंची। इन सभी 22 जिलों में अलग-अलग वर्ग के लोगों से बात हुई। शुरुआत चाय पर चर्चा से की गई। इसमें हर वर्ग, हर क्षेत्र, हर धर्म और हर जाति के लोगों ने शिरकत की।

कौन सा दल यहां कितना मजबूत है?इन 22 जिलों में कुल 129 विधानसभा क्षेत्र हैं। गाजियाबाद में 5, अमरोहा में 4, रामपुर में 5, बरेली में 9, बदायूं में 7, पीलीभीत में 7, शाहजहांपुर में 6, लखीमपुर खीरी में 8, सीतापुर में 9, हरदोई में 8, फर्रुखाबाद में 4, कन्नौज में 3, इटावा में 3, मैनपुरी में 4, एटा में 4, फिरोजाबाद में 5, आगरा में 9, मथुरा में 5, हाथरस में 3, अलीगढ़ में 7 और बुलंदशहर में 7 सीटें हैं। अब राजनीतिक पकड़ की बात करें तो इन 122 सीटों में सबसे ज्यादा 109 पर भारतीय जनता पार्टी का कब्जा है। 18 सीटों पर सपा और दो पर बसपा के विधायक हैं।

कौन से मुद्दे सबसे ज्यादा हावी रहे?बरेली की खराब सड़कें।- फोटो : सोशल मीडियास्थानीय लोगों से चाय पर चर्चा के दौरान इन सभी 22 में महंगाई और बेरोजगारी का मुद्दा हावी रहा। इसके अलावा 18 जिलों में खराब सड़कों को लेकर लोगों की नाराजगी दिखी। ज्यादातर लोगों ने सरकार के ओवरऑल कामकाज से तो खुशी जाहिर की, लेकिन इन मुद्दों पर सरकार को जल्द से जल्द सुधार लाने के लिए कहा।

खराब सड़कों को लेकर लोगों का ये भी मानना है कि पहले के मुकाबले सड़कें भी बेहतर हुई हैं, लेकिन उतनी नहीं जितनी उम्मीद थी। लोगों का ये भी कहना है कि हाईवे और पुलों का निर्माण भी अच्छा हुआ है। हाईवे की सड़कें काफी बेहतर हैं, लेकिन शहर या नगर के अंदर की सड़कें काफी तकलीफ देती हैं। कुछ जिलों में सीवर, पानी की पाइप लाइन डालने के लिए सड़कों की खुदाई हुई है।

इन जिलों में लोगों ने कहा- सड़कें खराब हैं, लेकिन पहले के मुकाबले ठीक हैंगाजियाबाद, बदायूं, पीलीभीत, लखीमपुर खीरी, हरदोई, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा, मैनपुरी, फिरोजाबाद, आगरा, मथुरा और हाथरस में 237 लोगों से तमाम मुद्दों पर बात की गई। इनमें से ज्यादातर ने अपने-अपने जिलों में सड़कों की स्थिति के बारे में बताया। कहा कि अभी भी जगह-जगह गड्डे हैं। आम लोगों को काफी परेशानी होती है। हालांकि, लोगों ने ये भी बताया कि अगर पहले के मुकाबले सड़कों की तुलना की जाए तो थोड़ा सुधार जरूर हुआ है। लोगों का कहना है कि सड़कें बनती तो हैं, लेकिन इसमें प्रयोग में लाए जाने वाले मटेरियल की क्वालिटी खराब होती है। इसके चलते एक ही बारिश में फिर से सड़कें टूट जाती हैं और जगह-जगह गड्डे हो जाते हैं। सरकार को इस ओर ध्यान देना चाहिए।

इन जिलों में विकास कार्यों के लिए खुदी सड़केंएटा, बरेली और अलीगढ़ के लोग भी सड़कों को लेकर काफी परेशान दिखे। लोगों ने कहा कि जगह-जगह सड़कें खुदी पड़ी हैं। वह भी लंबे समय से। कहीं सीवर का तो कहीं पानी की पाइप लाइन पड़ रही है। लोगों का कहना है कि पिछले दो से तीन साल से ये सड़कें इसी तरह खुदी पड़ी हैं। तय समय में विकास कार्य नहीं होते हैं। इसकी वजह से आम लोगों को तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। बारिश में इन गड्डों में पानी भर जाता है। कई एक्सीडेंट हो चुके हैं।

इन जिलों में लोगों ने कहा- सड़कें ठीक हुई हैंअमरोहा, रामपुर, शाहजहांपुर, सीतापुर और बुलंदशहर के लोगों ने सड़कों को लेकर कुछ खास नाराजगी नहीं जाहिर की। कहा कि पहले के मुकाबले सड़कें अब काफी बेहतर हुई हैं। जहां, ट्रैफिक की समस्या होती थी, आज वहां ओवर ब्रिज बन चुका है।

महंगाई और रोजगार के मुद्दे पर क्या बोले लोग?हाथरस में चाय पर चर्चा करते लोग।- फोटो : अमर उजालालोगों ने युवाओं, महिलाओं के रोजगार का मुद्दा उठाया। कहा कि सरकार को स्थानीय स्तर पर प्रत्येक जिलों में कोई न कोई इंडस्ट्री सेट करनी चाहिए, जिससे यहां के लोगों को रोजगार मिल सके। इसके अलावा सरकारी भर्तियों को भी नियमित करने की मांग उठी। ज्यादातर युवाओं का कहना है कि सरकारी भर्तियां दो से तीन साल बाद निकलती हैं। ऐसे में कई युवाओं की उम्र निकल जाती है। सरकार को इसपर ध्यान देने की जरूरत है। हालांकि, कुछ लोगों ने स्वरोजगार को लेकर चलाई जा रही योजनाओं के बारे में भी कहा। बताया कि बड़ी संख्या में महिलाएं और युवा स्वरोजगार की तरफ भी बढ़ रहे हैं।

इसी तरह महंगाई का भी मुद्दा उठा। इसको लेकर दो-चार लोगों को छोड़कर सबकी राय एकमत दिखी। लोगों ने कहा कि पेट्रोल-डीजल, सब्जियां, गैस सिलेंडर सबकुछ महंगा हो गया है। ऐसे में घर चलाना मुश्किल होने लगा है। हालांकि, लोगों का ये भी मानना है कि सरकार ने गरीबों के लिए काफी कुछ किया है। मुफ्त राशन व अन्य कई सुविधाएं मुहैया कराई हैं, लेकिन मध्यमवर्गीय लोग परेशान हैं।

विज्ञापनआपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है?

और पढो: Amar Ujala »

गणतंत्र दिवस पर मतभेदों की झांकी: देखिए #DNA LIVE Sudhir Chaudhary के साथ

लखनऊ में बेरोजगारी के मुद्दे पर छात्र संगठनों ने निकाला मार्च, पुलिस ने NDTV के कैमरे को बंद करने के लिए कहामुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दावा है कि उनकी सरकार ने साढ़े चार लाख लोगों को नौकरियां दी हैं, लेकिन मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव सरकार के इस दावे को झूठा बता रहे हैं.

सरकारी दावों के बावजूद यूपी के गन्‍ना मंत्री के क्षेत्र में ही किसानों का 300 करोड़ रुपए अभी तक बकाया14 दिन में भुगतान और भुगतान न होने पर ब्याज देने की बात कही गई थी, लेकिन मूलधन के साथ किसानों का करीब 6 हजार करोड़ रुपए ब्याज का भी बकाया है. जानकार भी मानते हैं कि मिलें चीनी बेचने के बाद आए पैसे को दूसरे मद में लगाती है. True आज तो ये देखकर तुम्हारी जल रही होगी। बरनोल का ट्रक मंगा लो 🤣🤣 गोबर भुंड भक्तो को झूठ लग रहा है.

Corona: सीरम इंस्टीट्यूट ने बूस्टर डोज बनाने के लिए मोदी सरकार से मांगी अनुमतिपुणे। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने औषधि नियामक से कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव के लिए कोविशील्ड को बूस्टर डोज के तौर पर मंजूरी देने का अनुरोध किया है। संस्थान ने कहा है कि देश में टीके का पर्याप्त भंडार है और संक्रमण के नए स्वरूप को देखते हुए बूस्टर खुराक की जरूरत है।

हरियाणा: विदाई के बाद ससुराल जा रही थी दुल्हन, पूर्व प्रेमी ने रास्ते में मारी गोलीविदाई के बाद दुल्हन अपने ससुराल जा रही थी. उसी दौरान रास्ते में उसे गोली मार दी गई. बताया जा रहा है कि बदमाशों ने दुल्हन की कार को ओवरटेक कर रोका दूल्हे को नीचे उतारा फिर दुल्हन की गर्दन पर दो गोली मार दी. इस घटना के पीछे पूर्व प्रेमी का हाथ बताया जा रहा है. Ise kahte hai prem Wah Kurbani isi ko kahte hai Jai shri Radhe bolna Pdega 💐💐💐💐💐😱 छोड़ कर जा रही किसी और का उठाने.. रोज रात ख़ुद की कस्ती के पतवार थी बताते.. मुंह फेर लिया जब अंग को ऐश से जोड़ लिया .. खड़ा कर के कैसे बीच में ही विक्षोभ दिया✨ भा ज पा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जे पी नड्डा जी को जन्म दिन की हार्दिक बधाई आशुतोष भगवान महाकाल स्वस्थ एवं दीर्घायु रखे JP. NaddaJi

Indian Railways: चक्रवाती तूफान के चलते भारतीय रेलवे ने रद की 95 ट्रेनें, देखें पूरी लिस्टभारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि दोपहर 12.43 बजे तक अंडमान सागर के मध्य भागों पर कम दबाव का क्षेत्र पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ गया है और दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी और उससे सटे अंडमान सागर पर एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है।

अर्थव्यवस्था के सामने अब भी हैं तीन बड़ी चुनौतियां, एक्सपर्ट ने बताई मार्केट की कठिनाईकोरोना महामारी के दौरान साल 2020 में अप्रैल से जून के दौरान देश की अर्थव्यवस्था 24.4% की दर से गिरी थी। हालांकि इस साल अप्रैल से जून 2021 के दौरान 20.1% की दर से बढ़त देखी गई थी।