Coronaupdate, Coronavirus, Covid 19, Coronavaccine, Muzaffarnagar News, Muzaffarnagar News Today, Muzaffarnagar News İn Hindi, मुजफ्फरनगर समाचार, मुजफ्फरनगर न्यूज़

Coronaupdate, Coronavirus

यूपी: तेजी से बढ़ रहा मौतों का आंकड़ा, श्मशान घाटों पर अव्यवस्था का आलम, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

कोरोना महामारी के बीच मुजफ्फरनगर शहर में मौत का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। शहर के श्मशान घाटों और कब्रिस्तान में जहां

20-04-2021 21:55:00

यूपी: तेजी से बढ़ रहा मौतों का आंकड़ा, श्मशान घाटों पर अव्यवस्था का आलम, पढ़िए पूरी रिपोर्ट CoronaUpdate Coronavirus Covid19 Coronavaccine drharshvardhan MoHFW_INDIA CMOfficeUP

कोरोना महामारी के बीच मुजफ्फरनगर शहर में मौत का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। शहर के श्मशान घाटों और कब्रिस्तान में जहां

एक सप्ताह से शहर में कोरोना संक्रमितों की होने वाली मौत का आंकड़ा लोगों को डरा रहा है। शहर में सभी श्मशान घाट और कब्रिस्तान में एक दिन में पांच से दस तक शव ही पहुंचते थे, लेकिन यह संख्या अचानक कई गुना हो गई है। 19 अप्रैल को शहर में 27 लोगों के शवों का क्रियाकर्म हुआ। इनमें नईमंडी श्मशान घाट में 11, शहर में नदी घाट पर पांच और चारों कब्रिस्तानों में 11 की अंतिम क्रिया हुई। 20 अप्रैल मंगलवार को अकेले नदी घाट श्मशान घाट में दस का अंतिम संस्कार हुआ। इसी दिन चार कोरोना संक्रमित की भी अंतिम क्रिया हुई। इनमें दो नदी घाट, एक नईमंडी और एक शव सरवट कब्रिस्तान में पहुंचा। नईमंडी शमशान घाट समिति के अध्यक्ष संजय मित्तल का कहना है कि वह कोरोना संक्रमित के अंतिम संस्कार परिजनों के द्वारा बिना पीपीई किट पहने नहीं होने दे रहे हैं।

रूस में पुतिन की पार्टी चुनावी धांधली के आरोपों के बीच जीत की ओर - BBC Hindi तमिलनाडुः महिलाओं को नौकरियों में 40% आरक्षण, पुरुषों पर क्या होगा असर - BBC News हिंदी चरणजीत सिंह चन्नी: पंजाब के पहले दलित मुख्यमंत्री को कितना जानते हैं आप - BBC News हिंदी

मृतकों में 50 प्रतिशत 60 से 65 वर्ष केश्मशान घाट और कब्रिस्तान में जो शव पहुंच रहे हैं उनमें टोटल के 50 प्रतिशत 60 से 65 वर्ष के हैं। ये वो लोग हैं, जो अचानक बीमारी के चपेट में आए, इनकी मौत हो गई और अंतिम संस्कार हो गया। इन लोगों में 90 प्रतिशत की कोरोना की जांच ही नहीं हुई है। 25 प्रतिशत मृतक 60 साल से कम आयु के हैं और 25 प्रतिशत 65 से ऊपर की आयु के हैं।

नई मंडी श्मशान घाट में 20 दिन में सौ अंतिम संस्कारभोपा रोड पर नईमंडी में स्थित श्मशान घाट में एक अप्रैल से 20 अप्रैल तक 100 अंतिम संस्कार हुए हैं। मार्च के पूरे माह में 69 और फरवरी माह में 82 लोगों का अंतिम संस्कार यहां हुआ है। यहां की देखरेख करने वाले कल्लू यादव का कहना है कि वह वर्ष 2006 से यहां पर हैं। अप्रैल माह में एक दिन में इतने शव कभी नहीं आए। 14 अप्रैल से शवों की संख्या बढ़ी है। 14 अप्रैल को यहां आठ शव आए, 15 को छह, 16 को 11, 17 को चार, 18 को सात और 19 अप्रैल के 11 शव आए। सामान्य रूप से एक से तीन शव ही इस माह में आते रहे हैं। headtopics.com

नदी घाट पर एक दिन में दस दाह संस्कारनदी घाट स्थित शहर श्मशान घाट में मंगलवार को दो कोरोना संक्रमितों सहित दस लोगों का अंतिम संस्कार हुआ। परोपकारी सेवा समिति के अजय अग्रवाल ने बताया कि 14 अप्रैल से शवों की संख्या बढ़ी है। जहां प्रतिदिन एक या दो शव आते थे, 14 अप्रैल को यहां चार शव आए। 15 को चार, 16 को तीन, 17 को चार, 18 को आठ, 19 को पांच और 20 अप्रैल को दस शव यहां पहुंचे।

यह भी पढ़ें:यूपी: जिले में वैक्सीन की कमी, टीकाकरण अभियान हो सकता है प्रभावित, जानें क्या है पूरी स्थितिसमिति सजग और लापरवाह प्रशासनकाली नदी स्थित शहर श्मशान घाट की परोपकारी सेवा समिति के अध्यक्ष अजय अग्रवाल का कहना है कि चार-पांच दिन से शवों की संख्या में वृद्धि के चलते शहर कोतवाल को एक प्रार्थना पत्र दिया गया था, श्मशान घाट में दो होमगार्ड की व्यवस्था करें, जिससे घाट के अंदर लोगों की संख्या को सीमित किया जा सके। कोरोना संक्रमण से मृतक के साथ भी बड़ी संख्या में लोग आ रहे हैं, इससे खतरा बढ़ने की संभावना है। कुछ मृतक संक्रमितों के शव को एंबुलेंस से हमारे कर्मचारियों को उताराना पड़ता है, उनके लिए प्रशासन से पीपीई किट मांगी गई वह भी उपलब्ध नहीं कराई गई। सिटी मजिस्ट्रेट और शहर कोतवाल ने एप्लीकेशन ली ही नहीं है।

प्रदूषण मुक्त शवदाह गृह में हो अंतिम संस्कारनदी घाट के श्मशान घाट में पूर्व मंत्री चितरंजन स्वरूप के प्रयास से आधुनिक प्रदूषण मुक्त शवदाह गृह भी बना है। सामान्य रूप से जहां चार क्विंटल लकड़ी लगती है, आधुनिक शवदाह गृह में एक क्विंटल लकड़ी लगती है। कोरोना संक्रमितों का इसमें अंतिम संस्कार किया जाए तो हर तरह खतरा समाप्त हो सकता है। प्रशासन ने कोई गाइड लाइन नहीं बनाई है।

कब्रिस्तानों में भी बढ़ी शवों की संख्याशहर में चार मुख्य कब्रिस्तान हैं। इनमें गोरे गरीबां खालापार, ईदगाह, सरवट और लद्दावाला का कब्रिस्तान शामिल है। लद्दावाला कब्रिस्तान की देखरेख करने वाले अखलाख ने बताया कि 16 अप्रैल को हमारे यहां दो, 17 को चार, 18 को दो, 19 को तीन शव आए। सामान्य रूप से एक या दो आते थे, किसी दिन नहीं भी आता था, अब प्रतिदिन आ रहे हैं और संख्या बढ़ी है। सरवट में कब्र की खोदाई करने वाले वकील ने बताया कि अब तो डेली शव आ रहे हैं। 16 में यहां दो, 17 में दो, 18 में तीन, 19 में तीन, बीस में दो शव आए। ईदगाह के कब्रिस्तान में 16 में दो, 17 में दो, 18 में एक, 19 में दो शव सुपुर्द खाक हुए। खालापार में अप्रैल माह में अब तक 28 शव सुपुर्द ए खाक हुए। इनमें 19 को तीन शव यहां पहुंचे, जिनमें एक कोरोना संक्रमित का था। headtopics.com

सऊदी अरब ने तालिबान, पाकिस्तान और कश्मीर पर भारत में क्या कहा? - BBC News हिंदी पंजाब को आज मिलेगा पहला दलित CM, चरणजीत सिंह चन्नी लेंगे शपथ, दो डिप्टी CM बनाए जाने की चर्चा सीतापुर में आज किसान महापंचायत, राकेश टिकैत भी होंगे शामिल

बढ़ती मौत चिंता का विषयडीएम सेल्वा कुमारी जे का कहना है कि बढ़ती मौत चिंता का विषय है। श्मशान घाट और कब्रिस्तानों में कोरोना संक्रमितों की अंतिम क्रिया को लेकर पीपीई किट उपलब्ध कराई जाएगी। अंतिम संस्कार में अधिक लोग शामिल न हो इसके लिए पुलिस की व्यवस्था भी कराई जा रही है।

यह भी पढ़ें:पंचायत चुनाव: वोट न देने पर बुजुर्ग की हत्या, फिर बेटे को बुरी तरह पीटा, इलाके में फैली सनसनीविस्तार प्रतिदिन पांच से दस तक शव पहुंचते थे, वहां अब एक दिन में 25 का आंकड़ा पार हो रहा है। कोरोना संक्रमितों का शव सीधे श्मशान घाट पहुंच रहा है, लेकिन प्रशासन की तरफ से कोई व्यवस्था नहीं है। श्मशान घाटों पर अव्यवस्था का आलम होने से अंतिम संस्कार के दौरान लोगों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। श्मशान घाट के कर्मचारियों को पीपीई किट तक उपलब्ध नहीं कराई गई है।

विज्ञापनएक सप्ताह से शहर में कोरोना संक्रमितों की होने वाली मौत का आंकड़ा लोगों को डरा रहा है। शहर में सभी श्मशान घाट और कब्रिस्तान में एक दिन में पांच से दस तक शव ही पहुंचते थे, लेकिन यह संख्या अचानक कई गुना हो गई है। 19 अप्रैल को शहर में 27 लोगों के शवों का क्रियाकर्म हुआ। इनमें नईमंडी श्मशान घाट में 11, शहर में नदी घाट पर पांच और चारों कब्रिस्तानों में 11 की अंतिम क्रिया हुई। 20 अप्रैल मंगलवार को अकेले नदी घाट श्मशान घाट में दस का अंतिम संस्कार हुआ। इसी दिन चार कोरोना संक्रमित की भी अंतिम क्रिया हुई। इनमें दो नदी घाट, एक नईमंडी और एक शव सरवट कब्रिस्तान में पहुंचा। नईमंडी शमशान घाट समिति के अध्यक्ष संजय मित्तल का कहना है कि वह कोरोना संक्रमित के अंतिम संस्कार परिजनों के द्वारा बिना पीपीई किट पहने नहीं होने दे रहे हैं।

मृतकों में 50 प्रतिशत 60 से 65 वर्ष केश्मशान घाट और कब्रिस्तान में जो शव पहुंच रहे हैं उनमें टोटल के 50 प्रतिशत 60 से 65 वर्ष के हैं। ये वो लोग हैं, जो अचानक बीमारी के चपेट में आए, इनकी मौत हो गई और अंतिम संस्कार हो गया। इन लोगों में 90 प्रतिशत की कोरोना की जांच ही नहीं हुई है। 25 प्रतिशत मृतक 60 साल से कम आयु के हैं और 25 प्रतिशत 65 से ऊपर की आयु के हैं। headtopics.com

नई मंडी श्मशान घाट में 20 दिन में सौ अंतिम संस्कारभोपा रोड पर नईमंडी में स्थित श्मशान घाट में एक अप्रैल से 20 अप्रैल तक 100 अंतिम संस्कार हुए हैं। मार्च के पूरे माह में 69 और फरवरी माह में 82 लोगों का अंतिम संस्कार यहां हुआ है। यहां की देखरेख करने वाले कल्लू यादव का कहना है कि वह वर्ष 2006 से यहां पर हैं। अप्रैल माह में एक दिन में इतने शव कभी नहीं आए। 14 अप्रैल से शवों की संख्या बढ़ी है। 14 अप्रैल को यहां आठ शव आए, 15 को छह, 16 को 11, 17 को चार, 18 को सात और 19 अप्रैल के 11 शव आए। सामान्य रूप से एक से तीन शव ही इस माह में आते रहे हैं।

नदी घाट पर एक दिन में दस दाह संस्कारनदी घाट स्थित शहर श्मशान घाट में मंगलवार को दो कोरोना संक्रमितों सहित दस लोगों का अंतिम संस्कार हुआ। परोपकारी सेवा समिति के अजय अग्रवाल ने बताया कि 14 अप्रैल से शवों की संख्या बढ़ी है। जहां प्रतिदिन एक या दो शव आते थे, 14 अप्रैल को यहां चार शव आए। 15 को चार, 16 को तीन, 17 को चार, 18 को आठ, 19 को पांच और 20 अप्रैल को दस शव यहां पहुंचे।

चरणजीत सिंह चन्नी को CM बनाने के क्या हैं मायने? क्या है पंजाब का जातीय समीकरण? सिद्धू को एंटी नेशनल कहने पर भड़के सलाहकार, कहा- उनके पास अमरिंदर के 'गुनाहों' के सबूत राजनीति में आपके कट्टर विरोधी दुश्मन नहीं होते, ममता ने मुझे बड़ा मौका दिया: बाबुल सुप्रियो

यह भी पढ़ें:यूपी: जिले में वैक्सीन की कमी, टीकाकरण अभियान हो सकता है प्रभावित, जानें क्या है पूरी स्थितिसमिति सजग और लापरवाह प्रशासनकाली नदी स्थित शहर श्मशान घाट की परोपकारी सेवा समिति के अध्यक्ष अजय अग्रवाल का कहना है कि चार-पांच दिन से शवों की संख्या में वृद्धि के चलते शहर कोतवाल को एक प्रार्थना पत्र दिया गया था, श्मशान घाट में दो होमगार्ड की व्यवस्था करें, जिससे घाट के अंदर लोगों की संख्या को सीमित किया जा सके। कोरोना संक्रमण से मृतक के साथ भी बड़ी संख्या में लोग आ रहे हैं, इससे खतरा बढ़ने की संभावना है। कुछ मृतक संक्रमितों के शव को एंबुलेंस से हमारे कर्मचारियों को उताराना पड़ता है, उनके लिए प्रशासन से पीपीई किट मांगी गई वह भी उपलब्ध नहीं कराई गई। सिटी मजिस्ट्रेट और शहर कोतवाल ने एप्लीकेशन ली ही नहीं है।

प्रदूषण मुक्त शवदाह गृह में हो अंतिम संस्कारनदी घाट के श्मशान घाट में पूर्व मंत्री चितरंजन स्वरूप के प्रयास से आधुनिक प्रदूषण मुक्त शवदाह गृह भी बना है। सामान्य रूप से जहां चार क्विंटल लकड़ी लगती है, आधुनिक शवदाह गृह में एक क्विंटल लकड़ी लगती है। कोरोना संक्रमितों का इसमें अंतिम संस्कार किया जाए तो हर तरह खतरा समाप्त हो सकता है। प्रशासन ने कोई गाइड लाइन नहीं बनाई है।

कब्रिस्तानों में भी बढ़ी शवों की संख्याशहर में चार मुख्य कब्रिस्तान हैं। इनमें गोरे गरीबां खालापार, ईदगाह, सरवट और लद्दावाला का कब्रिस्तान शामिल है। लद्दावाला कब्रिस्तान की देखरेख करने वाले अखलाख ने बताया कि 16 अप्रैल को हमारे यहां दो, 17 को चार, 18 को दो, 19 को तीन शव आए। सामान्य रूप से एक या दो आते थे, किसी दिन नहीं भी आता था, अब प्रतिदिन आ रहे हैं और संख्या बढ़ी है। सरवट में कब्र की खोदाई करने वाले वकील ने बताया कि अब तो डेली शव आ रहे हैं। 16 में यहां दो, 17 में दो, 18 में तीन, 19 में तीन, बीस में दो शव आए। ईदगाह के कब्रिस्तान में 16 में दो, 17 में दो, 18 में एक, 19 में दो शव सुपुर्द खाक हुए। खालापार में अप्रैल माह में अब तक 28 शव सुपुर्द ए खाक हुए। इनमें 19 को तीन शव यहां पहुंचे, जिनमें एक कोरोना संक्रमित का था।

बढ़ती मौत चिंता का विषयडीएम सेल्वा कुमारी जे का कहना है कि बढ़ती मौत चिंता का विषय है। श्मशान घाट और कब्रिस्तानों में कोरोना संक्रमितों की अंतिम क्रिया को लेकर पीपीई किट उपलब्ध कराई जाएगी। अंतिम संस्कार में अधिक लोग शामिल न हो इसके लिए पुलिस की व्यवस्था भी कराई जा रही है।

और पढो: Amar Ujala »

Delhi में बड़े Terror Module का पर्दाफाश, जांच एजेंसियों ने 6 को दबोचा, देखें स्पेशल रिपोर्ट

दिल्ली में पाकिस्तान की बड़ी साजिश का खुलासा करते हुए एजेंसी ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. जानकारी के मुताबिक इस पाकिस्तानी आतंकी मॉड्यूल के लिए काम करने वाले 6 लोगों में से दो ने पाकिस्तान में ट्रेनिंग हासिल की थी. जांच एजेंसियों ने पाकिस्तान द्वारा पोषित एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है. इस मामले में जांच एजेंसियों ने 6 लोगों को गिरफ़्तार किया है. पकड़े गए संदिग्ध भारत में इस आतंकी मॉड्यूल को ऑपरेट कर रहे थे. इन सभी से लगातार पूछताछ की जा रही है. एजेंसी का दावा है कि पकड़े गए इन संदिग्ध आतंकियों के पास से बड़ी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद हुए हैं. देखिए स्पेशल रिपोर्ट का ये एपिसोड.

drharshvardhan MoHFW_INDIA CMOfficeUP drharshvardhan MoHFW_INDIA CMOfficeUP इस्तीफा दे दो ढोकला भाई तुमसे न हो पाएगा drharshvardhan MoHFW_INDIA CMOfficeUP Muzzafarnagar me kal 2 deaths (total 134 deaths in one year) huwee hai.. To kya aisee headline sahee lagtee hai ? ye Headline ees samay Delhi, Kanpur City, Pune Mumbai, Solapur jaise shehron par sahee baithatee hai

drharshvardhan MoHFW_INDIA CMOfficeUP जिसका उद्देश्य देशवासियों को कोराना की मार मारना हो वो कैसे देशवासियों को बचाने के लिए मूलभूत सुविधाओं का विकास करता। गलती तो हमारी है रामराज की जगह रावण राज्य कायम करने के लिए अंधभक्ति के शिकार बने और संता मैं बिठाकर विश्वास किया विकास होगा लेकिन विनाश पर लाकर खड़ा कर दिया।

आज का जीवन मंत्र: प्रकृति का संदेश समझें, प्राकृतिक संसाधनों का दुरुपयोग करने से बचेंकहानी - त्रेतायुग में राक्षसों का आतंक काफी बढ़ गया था। राक्षसों से तंग आकर मुनि विश्वामित्र अयोध्या पहुंचे। अयोध्या में विश्वामित्र ने राजा दशरथ से कहा, 'आप मुझे अपने दो पुत्र राम-लक्ष्मण कुछ दिनों के लिए सौंप दीजिए। मैं इन्हें वन में ले जाऊंगा। वन में राक्षसों का आतंक है। राम-लक्ष्मण उन राक्षसों का वध कर देंगे और सभी ऋषि-मुनियों को सुरक्षित करेंगे। | aaj ka jeevan mantra by pandit vijayshankar mehta, significance of natural resources, story of ramayana, ram and vishwamitra hamare_hanuman Yeh Sarkar Ko smjhao

डायबिटीज के मरीज ऐसे करें जौ का सेवन, तेजी से कंट्रोल होगा शुगरInternational Journal of Innovative Science and Research Technology की एक शोध में जौ के फायदे को बताया गया है। यह शोध इंसानों पर किया गया था। इस शोध में 20 लोगों को शामिल किया गया था जिन्हें दो वर्गों में बांटा गया था।

#LadengeCoronaSe: 18 साल से ज्यादा उम्र वालों का रजिस्ट्रेशन कल से, 1 मई से लगेंगे टीकेLadengeCoronaSe: 18 साल से ज्यादा उम्र वालों का रजिस्ट्रेशन कल से, 1 मई से लगेंगे टीके CowinApp CoWIN Coronavirus India coronavirus coronavaccination

यूपी में कोरोना से हाहाकार, विधायक सुरेश श्रीवास्तव के बाद पत्नी का भी निधनशुक्रवार को भाजपा विधायक सुरेश श्रीवास्तव की भी मौत कोरोना की वजह से हो गई थी। भाजपा विधायक के साथ उनकी पत्नी और बेटे भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।

कोविड-19: यूपी कांग्रेस का आरोप, राजधानी लखनऊ भारत का वुहान बन चुका हैउत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि राजधानी लखनऊ चीन का वुहान बन चुका है. यहां के अधिकांश मोहल्ले मौत के मातम में डूबे हुए हैं. सरकार की अक्षमता ने जनता को घोर संकट में डाल दिया है. विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने सरकार ने उत्तर प्रदेश को गिद्धों के हवाले कर दिया है. india china banchuka h महाराष्ट्र वुहान बन चूका है

यूपी पंचायत चुनावः कोरोना से हो रही मौतों से सहमे कर्मचारी, मतगणना रोकने की लगाई गुहारउत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव की ड्यूटी में लगे कई कर्मचारियों की कोरोना से मौत होने के बाद कर्मचारियों में डर बैठ गया है. पंचायत चुनाव की मतगणना ड्यूटी में लगे हुए कर्मचारी सहमे हुए हैं. उन्होंने मतगणना रोकने की मांग की है. abhishek6164 Yourssatyam27 Count the votes. Count the COVID death. Common man is foolish to have faith in collapsed system.