Up Vidhansabha Upadhakshya Election, Samajwadi Party, Akhilesh Yadav

Up Vidhansabha Upadhakshya Election, Samajwadi Party

यूपी के डिप्टी स्पीकर चुनाव में सपा बागी बनाम सपा विधायक के बीच मुकाबला

यूपी के डिप्टी स्पीकर चुनाव में सपा बागी बनाम सपा विधायक, अखिलेश यादव ने मुजफ्फरनगर दंगों के मुख्य आरोपी कादिर राणा का पार्टी में किया स्वागत

18-10-2021 05:44:00

यूपी के डिप्टी स्पीकर चुनाव में सपा बागी बनाम सपा विधायक, अखिलेश यादव ने मुजफ्फरनगर दंगों के मुख्य आरोपी कादिर राणा का पार्टी में किया स्वागत

काफी दिनों से पार्टी से दूरी बनाए हुए नितिन अग्रवाल को इस चुनाव में भाजपा का समर्थन मिला हुआ है तो वहीं नरेंद्र सिंह वर्मा को सपा समर्थन दे रही है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा उपाध्यक्ष चुनाव में सपा के बागी विधायक को भाजपा ने अपना समर्थन दिया है(फोटो सोर्स: PTI)।उत्तर प्रदेश विधानसभा उपाध्यक्ष पद के लिए होने वाले मतदान में स्थिति काफी दिलचस्प बन गई है। बता दें यह चुनाव हरदोई से समाजवादी पार्टी के बागी विधायक नितिन अग्रवाल और सीतापुर के महमूदाबाद से सपा विधायक नरेन्द्र सिंह वर्मा के बीच होगा। नितिन अग्रवाल काफी दिनों से पार्टी से दूरी बनाए हुए और उनपर आरोप लगते रहे हैं कि वो पार्टी के खिलाफ काम कर रहे हैं। बता दें कि इस चुनाव में उन्हें भाजपा का समर्थन प्राप्त है, तो वहीं नरेंद्र सिंह वर्मा को सपा समर्थन दे रही है।

कैटरीना कैफ और विक्की कौशल की 'शाही शादी' की तैयारी में जुटा राजस्थान - BBC News हिंदी पाकिस्तान में श्रीलंकाई नागरिक को भीड़ ने जलाया, इस्लाम की कथित तौहीन का मामला - BBC News हिंदी पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हुए कांग्रेस में शामिल, लड़ सकते हैं विधानसभा चुनाव

उल्लेखनीय है कि यूपी विधानसभा उपाध्यक्ष परंपरागत तौर पर मुख्य विपक्षी दल के विधायक को ही बनाया जाता रहा है। ऐसे में कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने उपाध्यक्ष को लेकर चली आ रही परम्परा को तोड़ा है। भाजपा ने अपनी तरफ से विपक्षी दल सपा के ही विधायक को उम्मीदवार बनाया और समर्थन दिया है। वहीं सपा ने रविवार को इसे “अलोकतांत्रिक” करार दिया। पार्टी ने तर्क दिया कि आमतौर पर, इस पद के लिए सबसे बड़े विपक्ष के एक विधायक निर्विरोध चुना जाता है।

वहीं नितिन अग्रवाल की बगावत को लेकर सपा प्रत्याशी नरेन्द्र सिंह वर्मा ने कहा कि, नितिन सपा के टिकट पर विधानसभा चुनाव जीते और जीतने के बाद वो पार्टी के खिलाफ काम करना शुरू कर दिये, वोभाजपामें हैं। वहीं नितिन अग्रवाल का कहना है कि, औपचारिक रूप से उनका भाजपा में शामिल होना अभी बाकी है। ऐसे में वह सपा विधायक ही हैं। headtopics.com

इस पद पर चुनाव के लिए रविवार को सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनके मंत्रियों के साथ नितिन अग्रवाल ने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। माना जा रहा है कि सपा से उनकी दूरी को देखते हुए भाजपा उन्हें विधानसभा उपाध्यक्ष बनाकर राज्य चुनाव 2022 से पहले बड़ा संदेश देना चाहती है।

कौन हैं नितिन अग्रवाल:बता दें कि नितिन अग्रवाल पूर्व सांसद नरेश अग्रवाल के बेटे हैं। जोकि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी को छोड़कर भाजपा में शामिल हो गये थे। तब से ही नितिन अग्रवाल पर भी भाजपा के साथ होने का आरोप लगता रहता है।गौरतलब है कि, इस चुनाव में सपा के पास संख्या बल कम होने के बावजूद वो भाजपा को वॉकओवर देने के मूड में नहीं है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की मंजूरी के बाद पार्टी ने शनिवार को नरेंद्र सिंह वर्मा को उपाध्यक्ष पद का उम्मीदवार घोषित किया था।

विधानसभा की मौजूदा स्थिति:वर्तमान समय में विधानसभा में बीजेपी के पास 304 विधायक हैं, तो वहीं समाजवादी पार्टी के 49, बसपा के पास 16, अपना दल के 9, कांग्रेस के 7, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के 4, निर्दलीय तीन, असंबद्ध सदस्य दो और राष्ट्रीय लोकदल तथा निषाद पार्टी के एक-एक विधायक हैं।

मुजफ्फरनगर दंगों के आरोपी कादिर राणा सपा में शामिल:उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले दल बदलने का सिलसिला शुरू हो गया है। गौरतलब है कि बहुजन समाज पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाहा ने पार्टी छोड़कर रविवार को सपा का दामन थाम लिया है। वहीं पूर्व सांसद और 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों के आरोपी कादिर राणा भी सपा में शामिल हो गए हैं। headtopics.com

यूपी में बीजेपी के विधायक ही मान रहे हैं गन्ना किसानों को नहीं मिला भुगतान UP: दूल्‍हे की दबंगई, कार से दारोगा की गाड़ी टकराई तो कर दी पिटाई, गिरफ्तार ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर WHO ने दी ये चेतावनी - BBC Hindi

2009 में बसपा के टिकट से मुजफ्फरनगर से सांसद चुने गए राणा पर आपत्तिजनक बयान देने के चलते दंगा मामले में नामजद किया गया था और उनके खिलाफ आरोप पत्र दायर किया गया था।गौरतलब है कि इससे पहले राणा सपा में ही थे लेकिन 2007 में राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) में शामिल होने के लिए उन्होंने पार्टी छोड़ दी थी। 2007 के विधानसभा चुनावों में वह रालोद उम्मीदवार के रूप में मोरना निर्वाचन क्षेत्र से विधायक चुने गए। हालांकि 2009 लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने बसपा का दामन थाम लिया और जीत हासिल की।

वहीं 2014 में बसपा ने उन्हें फिर से मैदान में उतारा लेकिन वह हार गए थे। राणा की सपा में वापसी पर अखिलेश यादव ने रविवार को कहा कि, राणा एक वरिष्ठ नेता हैं, और अब पार्टी के साथ वापस आ गए हैं। और पढो: Jansatta »

पिता की अंतिम इच्छा पूरी की: भाई ने बग्घी में निकाली बहन की बरात, दुल्हन ने किया डांस; पिता कहते थे- मेरे बेटा-बेटी बराबर हैं

मध्यप्रदेश के बुरहानपुर में पिता की आखिरी इच्छा पूरी करने के लिए दूल्हे की तर्ज पर घर से दुल्हन की बरात निकासी हुई। भाई ने बग्घी बुलाई। उस पर सवार होकर दुल्हन ने पालकी मैं होके सवार चली रे...मैं तो अपने साजन के द्वार चली रे....गाने पर जमकर डांस किया। ये देखकर हर कोई हैरान था। बुरहानपुर में ही एक दिन पहले भी एक दूल्हा इसी तरह डीजे पर चढ़कर डांस करता नजर आया था। | पालकी में होके सवार चली रे....मैं तो अपने साजन के द्वार चली रे...गीत पर दुल्हन ने किया डांस

छत्तीसगढ़ के बाद अब भोपाल में दुर्गा विसर्जन समारोह में दौड़ी कार, चपेट में आया बच्चाभोपाल में दुर्गा विसर्जन समारोह में जा रहे लोगों को एक कार ने कुचल दिया. इस हादसे में एक बच्चा घायल हो गया है. घटना भोपाल रेलवे स्टेशन के समीप बजरिया तिराहे के करीब की है. ReporterRavish गजब 🤔 मतलब पहले 'रौंदना / कुचलना' सिर्फ़ शाब्दिक रूप में इस्तेमाल होता था,अब सचमुच में गाड़ियों से रौंदा जाने लगा है🤔 ReporterRavish Ab ye trend bn gya hai ReporterRavish Challo gullo ki team RubikaLiyaquat AMISHDEVGAN mu kholo, Patti utaro mu se jaldi ab 🤬

दिल्ली: सितंबर 2022 में हो सकता है कांग्रेस के नए अध्यक्ष का चुनावकांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के बाद एक बड़ी खबर सामने आ रही है। समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से जानकारी दी Rahul Gandhi hoga president

आधे पंजाब पर बिना चुनाव केंद्र का 'राज': 7 जिले BSF के कंट्रोल में; चुनाव से पहले ड्रग का बड़ा मुद्दा सेंटर की मुट्‌ठी में; चन्नी के कमजोर होने से कैप्टन खुशकेंद्र सरकार बिना चुनाव जीते ही आधे पंजाब पर राज करना चाहती है, यह चर्चा इसलिए है क्योंकि सीमा सुरक्षा बल (BSF) का अधिकार क्षेत्र बॉर्डर से 50 KM तक बढ़ा दिया गया है। पंजाब के लिहाज से ये बात सिर्फ सियासी चर्चा भर नहीं है, क्योंकि भौगोलिक आंकड़े भी इसे सही ठहराते हैं। सीधे तौर पर पाकिस्तान बॉर्डर से सटे 7 जिले केंद्र के कंट्रोल में आ गए। वहीं, पंजाब विधानसभा चुनाव की घोषणा से 3 महीने पहले नशे का सबस... | केंद्र सरकार बिना चुनाव जीते ही आधे पंजाब पर राज करना चाहती है, यह चर्चा इसलिए क्योंकि सीमा सुरक्षा बल (BSF) का अधिकार क्षेत्र बॉर्डर से 50 KM तक बढ़ा दिया गया। पंजाब के लिहाज से यह बात सिर्फ सियासी चर्चा भर नहीं है, क्योंकि भौगोलिक आंकड़े भी इसे सही ठहराते हैं। गजब का राजनीतिक विश्लेषण है । प्रमुख अखबार मे छपा है । burnol movement for gaddar यह अधिकार तो bsf को सभी सीमावर्ती राज्यों में मिलेगा टी चर्चा बस पंजाब की क्यो?

केरल में Corona के 8000 से कम केस, 24 घंटों में 57 लोगों की मौतनई दिल्ली। केरल में कोरोनावायरस (Coronavirus) के शनिवार को 8000 से भी कम के आए हैं, जबकि पिछले 24 घंटों में संक्रमण के चलते 57 लोगों की मौत हो गई।

Modi 2.0: राष्ट्र की सुरक्षा में अनवरत अडिग योद्धा के रूप में उभरे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदीModi 2.0 भारत की जनसंख्या को देखते हुए कोरोना के कारण देश में जो समस्याएं पैदा हुईं उनका मोदी सरकार ने बखूबी सामना किया। सिर्फ अपना ही ख्याल नहीं रखा बल्कि पूरी दुनिया को दवा पीपीई किट से लेकर वैक्सीन तक मुहैया कराई। narendramodi जुमलेबाज प्रधानमंत्री इनसे बड़ा झूठ ना कोई बोला है ना बोल पाएंगा narendramodi narendramodi पेट्रोल डीसल के बाद झूठमें एक और इजाफा

दिल्ली के चिड़ियाघर में 'जटायु' दीदार कर सकेंगे लोग, बबून के साथ बने आकर्षण का केंद्रचिड़ियाघर में मिस्र से आए गिद्ध का नाम अब रामायण के पौराणिक चरित्र जटायु के नाम पर रखा गया है। इसके साथ ही मादा बबून का नाम भूमि रखा गया है। चिड़ियाघर प्रबंधन ने ये दोनों ही नाम आम जनता के सुझाव के बाद रखने तय किए हैं। बहुत सुंदर Delhi ka chidiya ghar open ho gya kya