Coronainworld, Coronainındia, Un, India, United Nations, İndia İn Unsc, Corona Vaccine, Coronavirus, Covid 19, World News İn Hindi, World News İn Hindi, World Hindi News

Coronainworld, Coronainındia

यूएन में भारत: कोरोना संकट पर बोला- गंभीर बाधाओं के बावजूद दुनिया तक पहुंचाया टीका

यूएन में भारत: कोरोना संकट पर बोला- गंभीर बाधाओं के बावजूद दुनिया तक पहुंचाया टीका #coronainworld #coronainIndia #UN

29-04-2021 23:37:00

यूएन में भारत: कोरोना संकट पर बोला- गंभीर बाधाओं के बावजूद दुनिया तक पहुंचाया टीका coronainworld coronainIndia UN

भारत ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में कहा कि उसने गंभीर बाधाओं और अपने सीमित संसाधनों के बावजूद दुनियाभर में वैक्सीन समता

यूएन में भारत के स्थायी मिशन के काउंसलर ए अमरनाथ ने महासभा के सूचना समिति पर 43वें सत्र में कहा, संयुक्त राष्ट्र वैश्विक संचार विभाग (डीजीसी) ने सक्रियतापूर्वक सभी देशों तक टीके पहुंचाने को प्रोत्साहित किया है।भारत वैक्सीन मैत्री पहल के तहत दुनियाभर में टीके उपलब्ध करा रहा है और कोवैक्स सुविधा की आपूर्ति का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। अब तक हमने 80 से ज्यादा देशों तक टीका पहुंचाया है तो 150 देशों को जीवन रक्षक दवाएं और सुरक्षात्मक उपकरण प्रदान किए हैं।

यूएन महासभा में ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी का वार और चीन की अहम घोषणा - BBC News हिंदी आनंद गिरि महिलाओं से अभद्रता के आरोप में ऑस्ट्रेलिया में भी हुए थे गिरफ़्तार- पूरा मामला - BBC News हिंदी नरेंद्र गिरि: अखाड़ों का संघर्षों और विवादों का पुराना नाता - BBC News हिंदी

अमरनाथ के मुताबिक, कोरोना के खिलाफ भारत के प्रयास इस बात को रेखांकित करते हैं कि दुनिया इस महामारी को तब तक नहीं हरा पाएगी, जब तक हम सब इससे सुरक्षित रूप से बाहर न निकल आएं। सत्र में अमरनाथ ने डीजीसी से यूएन सदस्य देशों, अंतरराष्ट्रीय संगठनों और टीका उत्पादकों के प्रयासों पर उचित प्रकाश डालने का आग्रह भी किया।

टीके की विश्वसनीयता बढ़ानी होगीअमरनाथ ने कहा, सभी देशों में टीकाकरण शुरू होने के बाद वैक्सीन की विश्वसनीयता और साइड इफेक्ट को लेकर भी बातें हो रही हैं। ऐसे में लोगों को टीके के बारे में वैज्ञानिक और तथ्य आधारित जवाब मिलने से ही इसकी विश्वसनीयता बढ़ेगी। यह महामारी पिछले कुछ दशकों की सबसे बड़ी चुनौती के रूप में सामने आई है। यही वजह है कि सटीक और भरोसेमंद जानकारी की इतनी जरूरत पहले कभी नहीं रही। headtopics.com

विस्तार का ‘वादा’ निभाने की कोशिश की है। इसके तहत उसने 80 से ज्यादा देशों को टीके मुहैया कराए हैं।विज्ञापनयूएन में भारत के स्थायी मिशन के काउंसलर ए अमरनाथ ने महासभा के सूचना समिति पर 43वें सत्र में कहा, संयुक्त राष्ट्र वैश्विक संचार विभाग (डीजीसी) ने सक्रियतापूर्वक सभी देशों तक टीके पहुंचाने को प्रोत्साहित किया है।

भारत वैक्सीन मैत्री पहल के तहत दुनियाभर में टीके उपलब्ध करा रहा है और कोवैक्स सुविधा की आपूर्ति का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। अब तक हमने 80 से ज्यादा देशों तक टीका पहुंचाया है तो 150 देशों को जीवन रक्षक दवाएं और सुरक्षात्मक उपकरण प्रदान किए हैं।अमरनाथ के मुताबिक, कोरोना के खिलाफ भारत के प्रयास इस बात को रेखांकित करते हैं कि दुनिया इस महामारी को तब तक नहीं हरा पाएगी, जब तक हम सब इससे सुरक्षित रूप से बाहर न निकल आएं। सत्र में अमरनाथ ने डीजीसी से यूएन सदस्य देशों, अंतरराष्ट्रीय संगठनों और टीका उत्पादकों के प्रयासों पर उचित प्रकाश डालने का आग्रह भी किया।

टीके की विश्वसनीयता बढ़ानी होगीअमरनाथ ने कहा, सभी देशों में टीकाकरण शुरू होने के बाद वैक्सीन की विश्वसनीयता और साइड इफेक्ट को लेकर भी बातें हो रही हैं। ऐसे में लोगों को टीके के बारे में वैज्ञानिक और तथ्य आधारित जवाब मिलने से ही इसकी विश्वसनीयता बढ़ेगी। यह महामारी पिछले कुछ दशकों की सबसे बड़ी चुनौती के रूप में सामने आई है। यही वजह है कि सटीक और भरोसेमंद जानकारी की इतनी जरूरत पहले कभी नहीं रही।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

क्या 2022 की तैयारी में हुई विजय रुपाणी की विदाई? देखें शंखनाद

गुजरात में विजय रूपाणी का हटाने का दांव बीजेपी ने खेला है. इसकी एक बड़ी वजह जातीय समीकरण भी है. गुजरात में पाटीदार नेताओं का बोलबाला रहा है और रूपाणी इस समाज से नहीं आते, जिसका असर पिछले चुनाव में भी दिखा था. 2012 के चुनाव में जहां बीजेपी ने 115 सीटे मोदी के नेतृत्व में हासिल की थी. वहीं 2017 में आंकड़ा 100 के नीचे पहुंच गया था. जिसके बाद रूपाणी के सीएम ना बनने की अटकलें तेज हो गई थीं. क्या विजय रूपाणी को पद से हटाना एंटी इंकम्बेंसी कम करने की कोशिश है या ये गुजरात की वही सियासी परंपरा है, जिसके तहत अब तक नरेंद्र मोदी को छोड़कर बीजेपी का कोई भी सीएम पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर पाया है. देखें शंखनाद.

पीएम मोदी जी के अगुवाई में भारत का यह कदम गौरवान्वित करने वाला है और इसी का परिणाम है कि विश्व आज तेज कदमों से भारत को मदद करने के लिए अपना कदम बढ़ा रहा है🙏🚩 modi ji ko p.m nahi he, world p.m. he vishvguru.....apani chabi chamkane ke liye, jid ke karan 300 khedut ka balidan liya.... vacsination program slow chala rahe he, political banifit liya....

ये तो वही बात हुई गेरो को बांटे अपनो को डांटे। Apne hi logon ko nahin de paye...bus यह उत्तर प्रदेश का कोरोनावायरस का चुनाव आयोग का गाइड लाइन है जो फॉलो किया जा रहा है आखिर लोगों की जिंदगी के साथ हमारी सरकार क्यों खेल रही है सरकार को वोंट जरुरी है या लोगों जिंदगी शर्म करो नेताओ शर्म करो देश की न्यायपालिकाओं आपके होते भी नेताओ की मनमानी हो रही है

कोरोना संकट: भारत ने यूएन की मदद लेने से किया इनकार - BBC Hindiभारत ने यूएन की मदद लेने से इनकार कर दिया है. संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंटोनियो गुटेरस के उपप्रवक्ता फ़रहान हक़ ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा कि भारत ने मदद के प्रस्ताव को ख़ारिज कर दिया है. ये जरूरी भी है क्यों कि अगर मदद आ गई तो बहुत से गरीब लोग जिंदा बच जायेंगे और मोदी का सपना अधूरा रह जायेगा ।।। वाह 👽 जी वाह ।। सब साहिनबाग, किसान आंदोलन,व तब्लीगी जमात की कृपा है..

कोरोना कहर: भारत में कल चार लाख से ज़्यादा लोग आए चपेट में - BBC Hindi30 अप्रैल को रात 11 बजे तक भारत में 4,08,323 लोग कोरोना से संक्रमित हुए है. एक दिन में इतने लोग संक्रमित आज तक किसी देश में नहीं हुए थे. 3,464 लोगों की मौत हुई है. केवल महाराष्ट्र और कर्नाटक में सवा लाख नए मामले दर्ज किए गए हैं. देश मूखया ताली और थाली बजा के कोरोना भाग आएंगे तो का होगा प्रधानमंत्री देश की जनता की आवाज़ नहीं सुन रहा, कृपया करके प्रधानमंत्री को कहो लॉकडाउन लगा दो, नहीं तो कोविड स्प्रेड होता जाएगा। 4 Lakhs or 40 lakhs. Maths didn't help Einstein discover gravity, Piyush Goyal

चीन की चालाकी: कोरोना में फंसे भारत से धोखा, पूर्वी लद्दाख में फिर बढ़ाईं सैन्य गतिविधियांचीन की चालाकी: कोरोना में फंसे भारत से धोखा, पूर्वी लद्दाख में फिर बढ़ाईं सैन्य गतिविधियां India China Ladakh Coronavirus Pandemic कहावत भी है कि कुत्ते की दुम कभी सीधी नहीं होती है ? Indian army be like-: 'If you cross the Line your ass will be Mine' Jai hind.. क्या बोलु यार ,,,,,एक तरफ देश की हालत इस महामारी से ओर दूसरी तरफ ये सब।

भारत में अगले तीन महीने में कोरोना से बड़ी तबाही की आशंका: साइंस मैगजीन Lancetब्रिटेन से एक चौंकाने वाली खबर सामने आई जिसमें यह बताया गया है कि एक अगस्त तक भारत में कोरोना से कुल 10 लाख मौतें हो सकती हैं. रिपोर्ट में इन मौतों के लिए सीधे सरकार को जिम्मेदार माना गया है. ReleaseAsharamBapu Ye media kahna kya chahti h sida sida bolo 142 coror logo ki jansankhya h jise kam krna h tum logo h na

भारत में कोरोना चरम पर, लेकिन मोदी सरकार आलोचनाओं का दमन करने में व्यस्त: लांसेट जर्नलअंतरराष्ट्रीय मेडिकल जर्नल लांसेट ने अपने संपादकीय में मोदी सरकार की आलोचना करते हुए लिखा है कि बार-बार चेतावनी देने के बाद भी सरकार लापरवाह बनी रही और भारत को कोरोना विजयी घोषित कर दिया. जर्नल ने आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि आगामी अगस्त तक भारत में करीब 10 लाख कोरोना मौतें हो सकती हैं.