Chhattisgarh, Bananafarming, Chhattisgarh News, Crop Change, छत्तीसगढ़ न्‍यूज, Vilaspur District, Banana Farming, Organic Farming, G9 Breed, Rohan Verma, Jadunandan Verma, केले की खेती

Chhattisgarh, Bananafarming

युवा किसान ने फसल परिवर्तन की दिखाई राह, हर साल 2.70 लाख रुपये तक हो रही कमाई

युवा किसान ने फसल परिवर्तन की दिखाई राह, हर साल 2.70 लाख रुपये तक हो रही कमाई #Chhattisgarh #BananaFarming

24-07-2021 18:03:00

युवा किसान ने फसल परिवर्तन की दिखाई राह, हर साल 2.70 लाख रुपये तक हो रही कमाई Chhattisgarh BananaFarming

छत्तीसगढ़ में बिलासपुर जिले के मल्हार गांव के युवा किसान व कृषि की पढ़ाई कर रहे रोहन वर्मा ने एक एकड़ में केले की उन्नत किस्म जी-9 की ब्रीड लगाकर फसल परिवर्तन की नई राह दिखाई है। रोहन के नवाचार से प्रेरित होकर पिता ने इसे पिछले साल लगाया था।

छत्तीसगढ़ में बिलासपुर जिले के मल्हार गांव के युवा किसान व कृषि की पढ़ाई कर रहे रोहन वर्मा ने एक एकड़ में केले की उन्नत किस्म जी-9 की ब्रीड लगाकर फसल परिवर्तन की नई राह दिखाई है। कृषि के क्षेत्र में रोहन के नवाचार से प्रेरित होकर उनके पिता ने इसे पिछले साल लगाया था। अब वे 10 सालों तक उसी पेड़ से फसल लेंगे। इस किस्म में तने के निचले हिस्से को काट देने से अगले सीजन में फिर नया पेड़ तैयार हो जाता है।

मन की बात LIVE: मोदी बोले- मुझे सत्ता में रहने का आशीर्वाद मत दीजिए, मैं हमेशा सेवा में जुटा रहना चाहता हूं अखिलेश यादव से मिलने पहुंचे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर, गठबंधन पर हो सकती है बात त्रिपुरा नगर निकाय चुनावों में बीजेपी का दबदबा, टीएमसी बना मुख्य विपक्षी दल - BBC Hindi

कृषि के क्षेत्र में युवक ने किया नवाचार, पिता ने एक कदम आगे बढ़कर दिया साथकृषि के क्षेत्र में रोहन के नवाचार को पिता जदुनंदन ने हाथों-हाथ लिया। सबसे पहले एक एकड़ के खेत को इसके लिए तैयार किया। केले की खेती कैश क्राप के रूप में की जाती है। जदुनंदन ने खेत को केले की खेती लायक तैयार किया। एक एकड़ में 950 केले के पेड़ लगाए। आठ महीने की हाड़तोड़ मेहनत अब खेतों में नजर आने लगी है। केले के पेड़ फलों से लद गए हैं। रोहन का नवाचार और जदुनंदन की मेहनत अब रंग ले आई है। एक महीने के बाद केले की तोड़ाई करेंगे और फिर बाजार में बेचेंगे।

यह भी पढ़ेंहर साल 2.70 लाख रुपये तक कमाईजदुनंदन ने बताया कि एक एकड़ में सामान्य धान की फसल लेने पर 12 हजार रुपये खर्च आता है और उत्पादन करीब 50 हजार रुपये तक होता है। केले की इस फसल में उन्हें पहले साल 60 हजार रुपये और इस साल 30 हजार रुपये खर्च करने पड़े। अब केले से पहले साल दो लाख 40 हजार और अगले नौ सालों में दो लाख 70 हजार रुपये प्रति वर्ष आय अर्जित करेंगे। headtopics.com

यह भी पढ़ेंजैविक खेती पर जोरजदुनंदन ने बताया कि फसल परिवर्तन के साथ ही जैविक खेती पर उनका पूरा फोकस रहा। केले के पेड़ों को कीट पतंगों से बचाने के लिए रासायनिक दवाओं के बजाय दसपर्णी रस का निर्माण कर छिड़काव किया था। धान की खेती में भी वे पूरी तरह जैविक खाद का उपयोग करते हैं। उन्होंने बताया कि जैविक खेती आज की जरूरत है।

और पढो: Dainik jagran »

जरूरत की खबर: कब नहीं पीनी चाहिए चाय और कब नहीं पीना चाहिए जूस; सुबह खाली पेट क्या पीना है फायदेमंद

चाय और जूस ये ऐसे दो ड्रिंक्स हैं, जो ज्यादातर लोगों के डेली रूटीन में शामिल होते हैं। कई लोगों के दिन की शुरुआत गर्मागर्म चाय से होती है। बिना चाय पीएं लोग फ्रेश और एक्टिव महसूस नहीं करते हैं। जबकि कई लोग जूस अपने डाइट में शामिल करना पसंद करते हैं। जूस सेहत के लिए फायदेमंद है जो कई तरह के विटामिन और न्यूट्रीएंट्स की पूर्ति करता है। | Best Drink On Empty Stomach | Health Benefits Of Drinking Water On An Empty Stomach जानते हैं चाय, जूस या दूसरे नेचुरल ड्रिंक्स पीने का सही समय और तरीका क्या है? खाली पेट क्या पीना आपके लिए सबसे फायदेमंद हो सकता है

यूरोपीय संघ ने पत्रकारों पर रूस की कार्रवाई की आलोचना की | DW | 23.07.2021यूरोपीय संघ के विदेश मामलों के प्रतिनिधि योसेप बोरेल की प्रवक्ता नबीला मसराली के मुताबिक, 'यूरोपीय संघ रूसी नागरिक समाज, मानवाधिकार रक्षकों और स्वतंत्र पत्रकारों के साथ खड़ा है और उनके महत्वपूर्ण कार्यों में उनका समर्थन करना जारी रखेगा.'

राकेश टिकैत की हुंकार: 35 महीने चलेगा किसान आंदोलन, हरियाणा सरकार की सख्ती का भी इंतजारदिल्ली जयपुर हाईवे स्थित खेड़ा बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन में शनिवार को भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत मतलब कि किसान के मुद्दे पर नहीं मोदी विरोध मे और 2024 की लोकसभा के चुनाव के लिए चल रहा है आंदोलन...!!? लगता है किसी राजनीतिक पार्टी की रणनीति के आधार पर काम कर रहे हैं RakeshTikaitBKU किसी पार्टी का एजेंडा चला रहे हैं किसानो से कोई वास्ता नहीं दिख रहा... अगर किसान हार गया, समझना देश गर्क | अन्धभक्तों के सहारे वतन न छोडो़ ? जागो देश के नौनिहाल जागो | RakeshTikait

झारखंड: निजी स्कूल एसोसिएशन ने CM सोरेन से की राज्य के 45000 स्कूल खोलने की अपीलएसोसिएशन की ओर से आलोक दुबे ने कहा, बिहार समेत कई राज्य सरकारें स्कूल खोलने की दिशा में कदम उठा रही हैं. ऐसे में एसओपी तैयार कर स्कूल खोले जाएं. उन्होंने कहा, सरकार तय करे कि 30% बच्चे बुलाने हैं या फिर 50% या उससे कम.

शबनम की फांसी पर विचार की मांग: क्षमा याचना की चिट्ठी राज्यपाल ने योगी सरकार के पास भेजी, वकील की दलील- सूली पर लटकाया तो दुनिया में खराब होगी भारत की छविदेश की पहली महिला को फांसी देने के मामले में एक नया मोड़ आ गया है। इलाहाबाद हाईकोर्ट की वकील सहर नक़वी ने इस मामले में एक पत्र प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को लिखा था। राज्यपाल ने पत्र का संज्ञान लेते हुए पूरे मामले पर निर्णय लेने के लिए कारागार विभाग को निर्देश दिए हैं। | Governor sent a letter of apology to the UP government, may consider reducing the death sentence; Vakin's argument - If hanged on the cross, the image of Indian women in the world will be spoiled;क्षमा याचना की चिट्ठी राज्यपाल ने यूपी सरकार को भेजी, फांसी की सजा कम करने पर हो सकता है विचार; वकीन की दलील- सूली पर लटकाया तो दुनिया में भारतीय महिलाओं की छवि होगी खराब CMOfficeUP fasi honi chaiye CMOfficeUP But she is women CMOfficeUP और अगर भविष्य में फिर किसी महिला ने ऐसी घिनौनी हरकत को दोहरा दिया तो इसका जिम्मेदार किसको ठहराया जाएगा इस हत्यारन ने अपने पुरे परिवार को बेरहमी से मार डाला,,उस वक्त क्या भारत की छवि को इसने चार चांद लगा दिएथे एक हत्यारन को बचाने के लिए भारत की छवि बिगड़ने की बात करना ठीक नहीं

LIVE: किसान पहुंचे जंतर-मंतर, आज दूसरे दिन लगेगी किसानों की संसदजंतर-मंतर पर किसान संसद के पहले दिन मवाली कहे जाने पर विवाद बढ़ने पर मीनाक्षी लेखी (Meenakshi lekhi) ने कहा कि उनके बयान को गलत समझा गया. उन्होंने कहा कि मेरे शब्दों को तोड़ा मरोड़ा गया है, अगर इससे किसी को ठेस पहुंची है तो मैं अपने शब्द वापस लेती हूं.

जंतर-मंतर पर 'किसान संसद' का दूसरा दिन, कृषि मंत्री पर सवालों की बौछारअर्शी खान ने कहा कि किसान संसद की कार्यवाही अल्प समय के लिए स्थगित की गई और शुक्रवार की कार्यवाही भी 'उसी प्रकार से हुई जैसे असल संसद में चलती है।' मानसून सत्र के साथ तीन कृषि कानूनों के खिलाफ 200 किसान गुरुवार को जंतर-मंतर पहुंचे हैं।