म्यांमार नरसंहार: रोहिंग्याओं ने फेसबुक पर किया मुकदमा, मुआवजे मे 11 लाख करोड़ रुपये की मांग

अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में दर्ज शिकायत में आरोप लगाया गया है कि फेसबुक दक्षिण एशिया के एक छोटे से देश के बाजार में

07-12-2021 08:11:00

म्यांमार नरसंहार: रोहिंग्याओं ने फेसबुक पर किया मुकदमा, मुआवजे मे 11 लाख करोड़ रुपये की मांग Facebook Rohingya Myanmar Genocide

अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में दर्ज शिकायत में आरोप लगाया गया है कि फेसबुक दक्षिण एशिया के एक छोटे से देश के बाजार में

शिकायत में आगे कहा गया-"आखिर में म्यांमार में फेसबुक के पास हासिल करने के लिए काफी कम था, लेकिन रोहिंग्याओं पर इसके नतीजे इससे भयानक नहीं हो सकते थे। इसके बावजूद फेसबुक ने जरूरी साधन होने के बावजूद गलत बयानी रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया, बल्कि पहले के ढर्रे पर ही आगे बढ़ता रहा।"

ब्रिटेन में वकीलों की तरफ से फेसबुक को जो चिट्ठी भेजी गई है, उसमें साफ कहा गया है कि उनके मुवक्किल (रोहिंग्या) और उनके (रोहिंग्याओं के) परिवारों को म्यांमार के नागरिक कट्टरपंथी और सत्तापक्ष के अभियान की वजह से गंभीर हिंसा, हत्या और मानवाधिकारों के उल्लंघन का सामना करना पड़ा है।

शिकायत में आगे कहा गया है कि यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जो कि म्यांमार में 2011 में लॉन्च हुआ और बाद में देशव्यापी बन गया, इसने रोहिंग्याओं के खिलाफ चलाए गए अभियान में एक तरह की मदद की। ब्रिटेन के वकील जल्द ही इस मामले में हाईकोर्ट में केस दाखिल करने वाले हैं और वे बांग्लादेश के रिफ्यूजी कैंपों में रह रहे रोहिंग्याओं का पक्ष रखेंगे। headtopics.com

कोरोना महामारी : ओमिक्रॉन संक्रमण सामुदायिक प्रसार के स्तर पर, अस्पताल-आईसीयू में भी बढ़े रोगी

विस्तारफेसबुक के लिए मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। रोहिंग्याओं के संगठनों ने अमेरिका और ब्रिटेन में कंपनी पर कुछ केस डाले हैं। इसमें फेसबुक को म्यांमार में रोहिंग्याओं के नरसंहार के लिए जिम्मेदार बताया गया है। आरोप में कहा गया है कि फेसबुक की लापरवाही की वजह से ही रोहिंग्याओं का नरसंहार मुमकिन हुआ, क्योंकि सोशल मीडिया नेटवर्क की एल्गोरिदम ने घटनाओं के दौरान नफरती भाषणों (हेट स्पीच) को काफी बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया।

विज्ञापनबताया गया है कि फेसबुक पर दोनों देशों में 150 अरब डॉलर यानी करीब 11 लाख 30 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के मुआवजे की मांग के साथ केस दर्ज किए गए हैं। बेहतर तरीके से पकड़ बनाने के लिए जानबूझकर रोहिंग्याओं की जान का सौदा करने के लिए तैयार था।शिकायत में आगे कहा गया-"आखिर में म्यांमार में फेसबुक के पास हासिल करने के लिए काफी कम था, लेकिन रोहिंग्याओं पर इसके नतीजे इससे भयानक नहीं हो सकते थे। इसके बावजूद फेसबुक ने जरूरी साधन होने के बावजूद गलत बयानी रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया, बल्कि पहले के ढर्रे पर ही आगे बढ़ता रहा।"

ब्रिटेन में वकीलों की तरफ से फेसबुक को जो चिट्ठी भेजी गई है, उसमें साफ कहा गया है कि उनके मुवक्किल (रोहिंग्या) और उनके (रोहिंग्याओं के) परिवारों को म्यांमार के नागरिक कट्टरपंथी और सत्तापक्ष के अभियान की वजह से गंभीर हिंसा, हत्या और मानवाधिकारों के उल्लंघन का सामना करना पड़ा है।

कोविड-19 : बचाव में मास्क से बेहतर है रेस्पिरेटर, ऑस्ट्रिया ने महामारी की शुरुआत से ही इसे पहनना कर रखा है अनिवार्य

शिकायत में आगे कहा गया है कि यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जो कि म्यांमार में 2011 में लॉन्च हुआ और बाद में देशव्यापी बन गया, इसने रोहिंग्याओं के खिलाफ चलाए गए अभियान में एक तरह की मदद की। ब्रिटेन के वकील जल्द ही इस मामले में हाईकोर्ट में केस दाखिल करने वाले हैं और वे बांग्लादेश के रिफ्यूजी कैंपों में रह रहे रोहिंग्याओं का पक्ष रखेंगे। headtopics.com

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है?

और पढो: Amar Ujala »

यूट्यूबर तैलंग के साथ Tech Talk: आपके घर को स्मार्ट होम बनाने वाले 3 गैजेट्स, एक स्पीकर आपको हेडफोन्स जैसा एक्सपीरियंस देगा

धीरे-धीरे हमारे घर स्मार्ट होम में तब्दील होते जा रहे है। स्मार्ट होम का ये बदलाव शुरू तो मजबूरी में किया था, लेकिन अब ये जरूरत बन गया है। हमारे घर भी हमारे साथ-साथ और ज्यादा सुधरते जा रहे हैं। इनोवेटिव होते जा रहे हैं। इस स्मार्ट बदलाव की प्रक्रिया को जारी रखने के लिए ऐसे कई इनोवेटिव स्मार्ट होम गैजेट्स आ गए हैं। ये हमारे घर को एक बेहतर स्मार्ट होम में तब्दील कर देंगे। तो चलिए आज ऐसे ही कुछ इनोवे... | Useful Innovative Smart Home Gadgets Features and Specifications; धीरे-धीरे हमारे घर स्मार्ट होम में तब्दील होते जा रहे है। स्मार्ट होम का ये बदलाव शुरू तो मजबूरी में किया था, लेकिन अब ये जरूरत बन गया है। हमारे घर भी हमारे साथ-साथ और ज्यादा सुधरते जा रहे हैं। और पढो >>