Myanmar, Refugee, India, Mizoram, म्यांमार, रिफ्यूजी, मिजोरम

Myanmar, Refugee

म्यांमार के चिन प्रांत के मुख्यमंत्री समेत 9,000 से अधिक नागरिकों ने मिज़ोरम में शरण ली

म्यांमार के चिन प्रांत के मुख्यमंत्री समेत 9,000 से अधिक नागरिकों ने मिज़ोरम में शरण ली #Myanmar #Refugee #India #Mizoram #म्यांमार #रिफ्यूजी #भारत #मिजोरम

17-06-2021 01:30:00

म्यांमार के चिन प्रांत के मुख्यमंत्री समेत 9,000 से अधिक नागरिकों ने मिज़ोरम में शरण ली Myanmar Refugee India Mizoram म्यांमार रिफ्यूजी भारत मिजोरम

मिज़ोरम पुलिस के अपराध जांच शाखा के आंकड़े के अनुसार राज्य के दस ज़िलों में म्यांमार के करीब 9,247 लोग ठहरे हुए हैं और उनमें से सबसे अधिक 4,156 चंफाई में हैं. एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि म्यांमार के इन नागरिकों को स्थानीय लोगों ने आश्रय दिया है और कई नागरिक एवं छात्र संगठन भी उनके रहने एवं खाने-पीने का प्रबंध कर रहे हैं.

आइजोल:म्यामांर में फरवरी के सैन्य तख्तापलट के बाद वहां के चिन प्रांत के मुख्यमंत्री सलाई लियान लुआई समेत 9,247 लोगों ने मिजोरम में शरण ली है. लुआई ने 2016 में इस पद का संभाला था.एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘चिन प्रांत के मुख्यमंत्री अंतरराष्ट्रीय सीमा पार करके सोमवार रात को चंफाई शहर में पहुंचे.’

हमें गंगा में तैरती लाशों से माफ़ी मांगनी चाहिए: मनोज झा पीएम मोदी ने टोक्यो ओलंपिक गए भारतीय दल का बढ़ाया हौसला चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का पहला तिब्बत दौरा भारत के लिए क्या संदेश है? - BBC News हिंदी

चंफाई राज्य की राजधानी आइजोल से 185 किलोमीटर दूर है. चिन राज्य पश्चिमी म्यांमार में स्थित है, जो 510 किलोमीटर सीमा साझा करता है. म्यांमार सीमा पर मिजोरम के छह जिले चंफाई, सियाहा, लवंगतलाई, सेरछिप, हनहथियाल और सैतुअल हैं. म्यांमार अपने उत्तरी भाग को मणिपुर के साथ और दक्षिण-पश्चिम को बांग्लादेश के साथ साझा करता है.

पुलिस अधिकारी ने कहा कि लुआई समेत आंग सान सू ची की पार्टी नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी (एनएलडी) के 24 निर्वाचित प्रतिनिधियों ने मिजोरम के अलग-अलग हिस्सों में शरण ली है.पश्चिमी म्यांमार का प्रांत चिन मिजोरम की पश्चिमी सीमा से सटा है. अधिकारी ने बताया कि म्यांमार के इन नागरिकों को स्थानीय लोगों ने आश्रय दिया है और कई नागरिक संगठन एवं छात्र संगठन भी उनके रहने एवं खाने-पीने का प्रबंध कर रहे हैं. headtopics.com

राज्य में जिन लोगों ने शरण ली है वे चिन समुदाय से हैं. चिन समुदाय ‘जो’ के नाम से भी जाना जाता है. उनका मिजोरम के मिजो समुदाय के साथ पूर्वजों का रिश्ता है.मिजोरम पुलिस के अपराध जांच शाखा के आंकड़े के अनुसार राज्य के दस जिलों में म्यांमार के कम से कम 9,247 लोग ठहरे हुए हैं और उनमें से सबसे अधिक 4,156 चंफाई में हैं.

एनडीटीवीने अपनी रिपोर्ट में आंकड़ों के अनुसार बताया है कि आइजोल में 1,633 लोगों ने, लवंगतलाई जिले में 1,297, सियाहा जिले में 633, हनहथियाल जिले में 478, लुंगलेई जिले में 167, सेरछिप जिले में 143, सैतुअल जिले में 112, कोलासिब जिले में 36 और ख्वाजावल जिले में 28 लोगों ने शरण ली है.

नॉर्थईस्ट नाउके मुताबिक, मिजोरम के मुख्यमंत्री जोरमथांगा ने मंगलवार को कहा कि उनकी सरकार ने राज्य में शरण लिए हुए म्यांमार के लोगों को राहत मुहैया कराने के उद्देश्य से धन की मंजूरी दी है.बयान में कहा गया है कि म्यांमार के नागरिकों को राहत के प्रावधान पर सेंट्रल यंग मिजो एसोसिएशन (सीवाईएमए) के नेताओं के साथ बातचीत के दौरान जोरमथांगा ने कहा कि राज्य सरकार ने पहले ही इस उद्देश्य के लिए फंड आवंटित कर दिया है.

मुख्यमंत्री ने सीवाईएमए नेताओं से यह भी कहा कि उनकी सरकार मानवीय आधार पर म्यांमार के लोगों को राहत देने के प्रयास जारी रखेगी, जो राज्य में शरण चाहते हैं.इसी बीच, असम राइफल्स के सूत्रों ने बताया कि कई मौकों पर म्यांमार के नागरिकों द्वारा अंतरराष्ट्रीय सीमा पार करने का प्रयास किया जा रहा है. headtopics.com

'संसद नहीं चलने देने का Rahul Gandhi का पुराना रिकॉर्ड', BJP का Congress पर पलटवार पेगासस बनाने वाली इसराइली कंपनी ने कहा- दुर्घटना की दोषी कार कंपनी नहीं, नशा करने वाला ड्राइवर होगा - BBC News हिंदी कोरोना: 12 से 17 साल के बच्चों को दी जाएगी मॉडर्ना! चार सप्ताह में लगेंगी दो डोज

सूत्रों के अनुसार, उनमें कई को वापस भेज दिया जाता है और कई अन्य मार्गों से घुस जाते हैं.बता दें कि बीते अप्रैल महीने में मिज़ोरम के मुख्यमंत्री जोरमथांगा ने केंद्र से म्यांमार शरणार्थियों के लिएविदेश नीति में बदलावकरने के लिए कहा था.यह कहते हुए कि केंद्र को म्यांमार के लोगों को लेकर उदार होना चाहिए, जोरमथांगा ने कहा था कि एक बार जब सैन्यशासित म्यांमार से शरणर्थी मिजोरम आ जाएंगे तो उन्हें मानवीय आधार पर आश्रय और भोजन आदि उपलब्ध कराया जाएगा.

इससे पहले जोरमथांगा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोपत्र लिखकरउनसे शरणार्थियों को पनाह देते का अनुरोध किया था और कहा था कि म्यांमार में ‘बड़े पैमाने पर मानवीय तबाही’ हो रही है और सेना निर्दोष नागरिकों की हत्या कर रही है.इससे पहले 13 मार्च को केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से चार पूर्वोत्तर राज्यों को भेजे गए एक पत्र में म्यांमार से अवैध तौर पर आ रहे लोगों को कानून के अनुसार नियंत्रित करने की बात कही गई थी.

गौरतलब है कि म्यांमार में सेना ने बीते एक फरवरी कोतख्तापलटकर नोबेल विजेता आंग सान सू ची की निर्वाचित सरकार को बेदखल करते हुए और उन्हें तथा उनकी पार्टी के अन्य नेताओं को नजरबंद करते हुए देश की बागडोर अपने हाथ में ले ली थी.इसके खिलाफ हो रहे प्रदर्शनों में 800 से अधिक लोगों की

हो चुकी है.(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ) और पढो: द वायर हिंदी »

मुंबई मेट्रो: 80 फीसदी पानी में डूबा चिपलून शहर, महाबलेश्वर में 480 एमएम बारिश रिकॉर्ड

महाराष्ट्र में कई जगहों पर बारिश ने आम जनजीवन को पटरी से उतार दिया है. रत्नागिरी के चिपलून, कोल्हापुर, सातारा, अकोला, यवतमाल, हिंगोली में भयंकर बारिश हुई है. मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले 48 घंटे भी बारिश हो सकती है. महाराष्ट्र के चिपलून में जैसे प्रलय आ गया है. 80 फीसदी चिपलून शहर पानी में डूबा है. महाबलेश्वर में 480 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गयी है. यहां कई टूरिस्ट भी फंसे हुए हैं. महाबलेश्वर को सातारा से जोड़ने वाला रास्ता बह गया है. देखें मुंबई मेट्रो.

जैसी करनी वैसी भरनी

सुप्रीम कोर्ट ने 2012 के शूटिंग मामले में इतालवी नौसैनिकों के खिलाफ केस बंद कियासुप्रीम कोर्ट ने केरल के दो मछुआरों को 2012 में मार डालने के मामले में दोनों इतावली नौसैनिकों के खिलाफ दर्ज FIR रद्द की और कहा कि मामले की आगे की जांच इटली गणराज्य में की जाएगी.सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इटली गणराज्य की ओर से दस करोड़ रुपये की क्षतिपूर्ति की राशि को केरल हाईकोर्ट को ट्रांसफर किया जाना चाहिए. अब भी सोनिया गांधी ही सत्ता में है क्या अंड भग्तो Difference between CM Modi and PM Modi No one will say that It is a murder of our constitution/democracy ❗

हरियाणा: युवक की हिरासत में मौत के आरोप में 12 पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ केस दर्जपरिजनों का आरोप है कि 24 वर्षीय जुनैद को ग़लत तरीके से बीते 31 मई को फ़रीदाबाद की साइबर पुलिस ने हिरासत में लिया गया था और इस दौरान उन्हें बुरी तरह से प्रताड़ित किया गया, जिससे उनकी मौत हो गई. हालांकि पुलिस ने आरोप से इनकार करते हुए कहा है कि जुनैद की मौत किडनी संबंधी दिक्कत की वजह से हुई. मगर अफसोस सब के सब छूट जायेंगें ,गवाही नही मिलेगी .

कहीं कोरोना के थर्ड वेव की दस्तक तो नहीं: बिहार में 8 साल के बच्चे में दिखे लक्षण, राज्य में MISC से मिलता पहला संक्रमित मिला, IGIMS के डॉक्टरों ने बचाई जानबिहार में एक 8 साल के मासूम में कोरोना की तीसरी लहर के लक्षण मिले हैं। राज्य का यह पहला MISC पीड़ित है, जिसे डॉक्टरों ने मौत के मुंह से वापस लाया है। किडनी, लीवर और फेफड़ा सब खराब हो रहा था। ऑक्सीजन लेवल भी 70 से कम हो गया था। हालत लगातार गंभीर हो रही थी, लेकिन डॉक्टरों की विशेष टीम ने बच्चे की जान बचा ली। | Signs of third wave of corona in 8 year old child in Bihar, first infected with MISC found Take care, god recover him speedy. अभी दूसरी खत्म किधर हुई है जो तीसरी आयी Sir Delhi private office management kule aam unlock 3 ko ignore Kar rahe hai 50 %staff ki jagah 100%staff ke sath Co operate office wale kaam Kara rahe hai ye sab Delhi cm ke naak ke neeche ho raha place Jasola near Apollo hospital in multiple building

PSL: सरफराज के गेंदबाजों ने बरपाया कहर, मुश्किल में राशिद खान की टीमPakistan Super League 2021: सरफराज अहमद की कप्तानी वाली क्वेटा ग्लैडिएटर्स की पीएसएल 6 में यह दूसरी जीत है। उसके अब सिर्फ दो मैच और बचे हैं और उसके सिर्फ 4 अंक ही हैं। ऐसे में क्वेटा ग्लैडिएटर्स खिताबी दौड़ से बाहर हो चुकी है।

UP: सरकार के बाद संगठन की समीक्षा में जुटा BJP हाईकमान, अमित शाह ने संभाली कमानउत्तर प्रदेश में चुनाव से पहले बीजेपी में लखनऊ से लेकर दिल्ली तक मंथनों का दौर जारी है, लेकिन अब चुनाव की कमान गृह मंत्री अमित शाह ने अपने हाथों में ले ली है. अमित शाह हर जिले के कार्यकर्ताओं से बात करके फीडबैक लेंगे. ShivendraAajTak हम कार्य करता बनने को तैयार हैं ShivendraAajTak Sp jindabad 🙏🙏🙏 ShivendraAajTak Kon hai iyah kutta

गौ तस्करी के संदेह में गौरक्षकों ने ले ली एक और जान | DW | 15.06.2021राजस्थान से मवेशी खरीद कर ले जा रहे एक आदिवासी युवक को तथाकथित गौरक्षकों ने पीट पीट कर मार डाला. सवाल उठ रहे हैं कि कानून गौरक्षा के नाम पर हो रही हत्याओं के खिलाफ कुछ कर क्यों नहीं पा रहा है? भांड मीडिया तेरी कोई नही सुनने वाला मानवता को शर्मसार करने वाले दरिंदें गौरक्षा के नाम पर आक्रामकता का प्रदर्शन करना और लोगों को मारना ना तो धर्म सिखाता है और न ही समाज, इस प्रकार के आपराधिक प्रवृत्ति वाले लोगों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। अगर वास्तव में गौरक्षा करनी है तो आसपास गंदगी फैलाना बंद करें ताकि गायों को प्लास्टिक ना खाना पड़े।