Modisarkar2

Modisarkar2

मोदी सरकार में मंत्री बने राजस्थान के कद्दावर नेता गजेंद्र सिंह शेखावत

30.5.2019

ModiSarkar2 दोबारा कैबिनेट में शामिल हुए गजेंद्र सिंह शेखावत

राजस्थान के जोधपुर से चुनाव लड़े केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत छात्र जीवन से ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़ गए थे. 2014 में उन्होंने जोधपुर से ही चुनाव लड़ते हुए कांग्रेस उम्मीदवार को भारी मतों से हराया था लेकिन इस बार लड़ाई दमदार हो गई क्योंकि गजेंद्र सिंह शेखावत के सामने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत थे. उन्होंने गहलोत के बेटे को करारी शिकस्त दी. ऐसे में राठौरों की रियासत रही जोधपुर सीट राजस्थान की सबसे हॉट सीट बन गई.

सूबे में शेखावत को वसुंधरा राजे सिंधिया का विकल्प माना जाता है. सिंधिया इनकी धुर विरोधी मानी जाती हैं. अमित शाह और पीएम नरेंद्र मोदी के चाहने के बावजूद सिंधिया ने गजेंद्र को राजस्थान भाजपा का अध्यक्ष नहीं बनने दिया था. गजेंद्र सिंह शेखावत का जन्म 3 अक्टूबर 1967 को सीकर के महरौली गांव में हुआ था. उनके पिता अधिकारी थे उनकी पोस्टिंग विभिन्न शहरों में होती रही और गजेंद्र की शिक्षा भी उनके साथ ही कई शहरों में चलती रही. कॉलेज में पहुंचते ही गजेंद्र ने राजनीति में कदम रख दिया. वह वाद विवाद प्रतियोगिताओं में पहले से ही बढ़ चढ़कर भाग लेते रहे थे. छात्र राजनीति से ही उनकी पहचान प्रखर वक्ता के रूप में होने लगी थी.

शेखावत ने जोधपुर के जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन किया है. 1992 में उन्होंने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के टिकट पर चुनाव लड़ा और भारी मतों से अध्यक्ष चुने गए. शेखावत ने दर्शनशास्त्र में एमए किया है. संघ से उनका खास जुड़ाव माना जाता है. उन्होंने स्वदेशी जागरण मंच और और सीमा जन कल्याण समिति में काम किया.

और पढो: आज तक
ताज़ा खबर
अभी नवीनतम समाचार

मंत्री नहीं शेर हे राजस्थान का 🦁 कृषि मंत्री। अमित शाह रक्षा मंत्री।

अमेठी में स्मृति ईरानी की जीत के बाद करीबी कार्यकर्ता पर हमला, गोली मारकर की हत्याबदमाशों ने उस वक्त इस घटना को अंजाम दिया जब पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह अपने घर के बाहर सो रहे थे. घटना की खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और मामला दर्ज कर इसकी पड़ताल शुरू कर दी है. राजनीती में मन भेद और मत भेद कभी नही रखना चाहिए ए मोमोता दीदी तूम बोला था मोदी दुबारा पी एम बना तो तुम मोर जायेगा, मोर गया क्या? 😢 अच्छा, तो यही सीक्रेट है रायबरेली जीत का!

चरण सिंह: अंग्रेजी शासन में भी किसानों की कर्जमाफी कराई, आज संकट में परिवार की सियासतवो नेता जो अंग्रेजों की गुलामी में भी भारत के किसानों का कर्ज माफ कराने का दम रखता था, उनके खेतों की नीलामी रुकवाता था और जमीन उपयोग का बिल तैयार करवाता था जिसे आज भी किसानों का मसीहा कहा जाता है, उनका नाम है चौधरी चरण सिंह. javedakhtar90 तमाम उपलभदियों के बावजूद पद की चाह से मोहित उन्होंने जनता पार्टी की सरकार तोड़ दी एकमेव ऐसे प्रधानमंत्री रहे जिन्होंने कभी लोकसभा का सामना नहीं किया और उनके जो गुण थे वह पुत्र और पौत्र में ना होने की वजह से आज दोनो ही संसद में नहीं javedakhtar90 He was a villian in destroying Janata in order to become PM with the support of Congress .

कहानियों
दिन की शीर्ष समाचार कहानियां

अब लंदन में घिरा विजय माल्या, डियाजियो मामले में ब्रिटेन की कोर्ट में सुनवाईभगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या के खिलाफ ब्रिटेन की शराब कंपनी डियाजियो के 17.5 करोड़ डालर के वसूली के दावे पर ब्रिटेन के उच्च न्यायालय में शुक्रवार को सुनवाई की गई. कट पेस्ट न्यूज क्यों पिछली बार शिकंजा कसा था तो फिर ढीला कर दिया था क्या?😂 इतनी जल्दी क्या है अब तो पांच साल और मौज करो जब चुनाव आयेगा तो फिर कोशिश करेंगे मौजे ही मौजें

रॉबर्ट वाड्रा को इन्टेस्टाइन ट्यूमर, कोर्ट में बोले- लंदन जाने दीजिएवाड्रा, लंदन के 12 ब्रायंस्टन स्क्वायर में 19 लाख पाउंड कीमत की एक संपत्ति खरीद मामले में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों का सामना कर रहे हैं।

कहानियों
दिन की शीर्ष समाचार कहानियां

सीतापुर में जहरीली शराब से तीन की मौत, 5 गंभीर हालत में अस्पताल में भर्तीउत्तर प्रदेश के सीतापुर में जहरीली शराब पीने से तीन लोगों के मौत की खबर सामने आ रही है। पुलिस द्वारा इस मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। \n बीजेपी की जीत की खुशी में दारू पार्टी

अमेठी में राहुल गांधी की हार, क्या नवजोत सिंह सिद्धू छोड़ देंगे राजनीति?पंजाब सरकार में मंत्री और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू राजनीति छोड़ देंगे? अमेठी का चुनाव परिणाम आने के बाद इस तरह के सवाल सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. दरअसल इस सवाल का जन्म नवजोत सिंह सिद्धू के 28 अप्रैल 2019 को एक बयान से हुआ है. Can he do it...? Or...just like AAP Pehle thuko and fir chaato सायद वो ये बात से पलट जाएगा इस मानवता के दुश्मन का राजनीति नही दुनिया छोड़ने का टाइम आ गया है

मध्य प्रदेश के पूर्व CM शिवराज सिंह चौहान के पिता का मुंबई में निधनमध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पिता प्रेम सिंह चौहान का शनिवार को निधन हो गया. वह कई दिनों से बीमार चल रहे थे, जिसके बाद उन्हें मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वह 85 साल के थे. ReporterRavish Unki atma ko shanti mile. Om Shanti. ReporterRavish भगवान उनकी आत्मा को शांति दे🙏🙏🙏🙏🙏 ReporterRavish very sad God prove speac on soul

शिवराज सिंह चौहान बोले, 'मध्य प्रदेश सरकार गिराने में बीजेपी की रूचि नहीं लेकिन....'मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा,‘बीजेपी किसी प्रकार की तोड़फोड़ और खरीद फरोख्त में विश्वास नहीं रखती है. लेकिन गिराने की कोशिश कर रहे हैं 😀😀 To fir Shanti se baitho.... Kyu shor macha rahe Ho..... Vaise tum logo ka kaam yahi hai..... Bihar me bhi to yahi Kiya tha... Karnataka me bhi yahi krne ki kosis ki thi ...... Bhool Gaye kya ऐसे मौके राजनेता नही छोड़ते मामा लेके हरि का नाम शुरू हो जाइए 😜😂😂😂😂

बिहार: महागठबंधन में नहीं था कोई तालमेल, सवर्ण आरक्षण का विरोध पड़ा महंगा- रघुवंश प्रसाद सिंहआरजेडी के सीनियर नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने माना कि महागठबंधन में कोई तालमेल नहीं था. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव के बीच की लड़ाई का भी असर हुआ. To kyu kara tha jab to sab maze le rahe the Castism ki politics karke UP and Bihar ke politician ne UP and Bihar ke logo ko bahut taklif diya hai... inko janta kabhi maaf nhi karegi. BSP SP RJD sudher jao agar desh ka bhala chahte ho to. Mudda mut chupao, SC ST arkchan pe jhoot pe jhoot jhoot pe jhoot janta ne discard kar diya.

अमेठी में स्मृति इरानी के सहयोगी की हत्याअमेठी की नई सांसद स्मृति इरानी के एक सहयोगी की हत्या के बाद इलाक़े में तनाव की स्थिति. इस दुख की घड़ी में माननीय सांसद महोदय स्मृति ईरानी जी से जितना हो सके दिवंगत नेता के परिवार के साथ खड़ी रहे और हत्यारों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने में सहयोग करें क्योंकि कार्यकर्ता डरता नहीं है निडरता के साथ उनके साथ खड़ा था? इस कायरता को हल्के में नहीं लेना चाहिए इलेक्शन खत्म अब हत्याओं का दौर चालू प्रतिशोध की भावना प्रबल हो रही है अब राजनीति में । और क्या ये लोकतंत्र की हत्या नहीं है ? क्या दुनिया इस पर कुछ नहीं कहेगी ? हज़ार साल की प्रताड़ना का जवाब है ये चुनाव

सुरेंद्र सिंह हत्याकांड में बेटे ने खोला राज, बोला- इस वजह से हुई पिता की हत्याअमेठी से नवनियुक्त सांसद स्मृति ईरानी के लोकसभा चुनाव में प्रचार की जिम्मेदारी निभाने वाले भाजपा नेता व बरौलिया गांव smritiirani खास की आज गोदी मीडिया बेगूसराय में फागों ताँती की हत्या का भी ऐसे प्रचार करती smritiirani राहुल गांधी के ख़िलाफ़ FIR दर्ज होनी चाहिये

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

30 मई 2019, गुरुवार समाचार

पिछली खबर

महिला रेफरी को 14 साल के खिलाड़ी ने किए गंदे इशारे, इटली में मचा बवाल

अगली खबर

शाहरुख खान के बेटे अबराम का बर्थडे बैश, एवेंजर्स थीम पर पार्टी
महिला रेफरी को 14 साल के खिलाड़ी ने किए गंदे इशारे, इटली में मचा बवाल शाहरुख खान के बेटे अबराम का बर्थडे बैश, एवेंजर्स थीम पर पार्टी