Amitabh Bachchan, Sonia Gandhi, Rajiv Gandhi, İndira Gandhi, Bachchan Family, अमिताभ बच्चन, राजीव गांधी, सोनिया गांधी, बच्चन परिवार, कांग्रेस, इंदिरा गांधी

Amitabh Bachchan, Sonia Gandhi

मेरे राजनीति में आने से उनका दर्द कैसे कम होगा? सोनिया गांधी के लिए बोल पड़े थे अमिताभ

मेरे राजनीति में आने से उनका दर्द कैसे कम होगा? सोनिया गांधी के लिए बोले थे अमिताभ बच्चन, जानें क्या था मामला

21-04-2021 11:57:00

मेरे राजनीति में आने से उनका दर्द कैसे कम होगा? सोनिया गांधी के लिए बोले थे अमिताभ बच्चन , जानें क्या था मामला

अमिताभ ने कहा था- राजीव मेरे अच्छे दोस्त थे...यह भी सच है कि मैं सोनिया जी का शुभचिंतक हूं और उनके परिवार के करीब हूं। लेकिन मेरे राजनीति में आने से उनका दर्द आखिर कैसे कम होगा? और उन्हें मेरी या मेरे मदद की जरूरत ही क्यों हैं?

और पढो: Jansatta »

Population Control Policy: विकासवादी सोच या ध्रुवीकरण की राजनीति, देखें 10 तक

आबादी ज्यादा तो जनता के लिए जरूरी संसाधनों का बंटवारा सभी को बराबरी और जरूरत मुताबिक मिल पाना कठिन होता है. 130 करोड़ से ज्यादा आबादा वाला देश भारत. जहां की जनसंख्या चुनावी भाषणों में देश की ताकत के रूप में प्रदर्शित की जाती है. उसी देश में आबादी को नियंत्रित करने की पॉलिसी का ड्राफ्ट जब चुनावी राज्य उत्तर प्रदेश में आता है तो विकास के लिए आवश्यक जनसंख्या नियंत्रण नीति राजनीति में फंस जाती है. विकासवादी सोच के मुकाबले ध्रुवीकरण और अपना अपना धर्म, अपनी आबादी आबादी की चिंता के विवाद में ज्यादा उलझी नजर आती है. देखें वीडियो.

आजकल पेट्रोल से कार चलाता है की दलाली के पैसों से

एक्ट्रेस का दर्द: बॉलीवुड में 14 साल पूरे कर चुकीं कंगना रनोट ने कहा- शुरुआत में मेरे साथ बहुत बुरा बर्ताव हुआ, आज भी एक्ट्रेसेस को कमतर आंका जाता हैकंगना रनोट ने हाल ही में बॉलीवुड में अपने 15 साल पूरे किए हैं। उन्होंने 2006 में रिलीज हुई 'गैंगस्टर' से फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखा था। तब से लेकर अब तक वे 30 से ज्यादा फिल्मों में नजर आ चुकी हैं और चार नेशनल फिल्म अवॉर्ड अपने नाम कर चुकी हैं। हालांकि, फिल्म इंडस्ट्री में उनकी शुरुआत अच्छी नहीं रही । 34 साल की कंगना ने एक अंग्रेजी न्यूज वेबसाइट से बातचीत में अपने संघर्ष के बारे में बताया और फिल्म... | Kangana Ranaut Slams Bollywood, Says- actresses are given very bad treatment; कंगना रनोट ने हाल ही में बॉलीवुड में अपने 15 साल पूरे किए हैं। उन्होंने 2006 में रिलीज हुई फिल्म 'गैंगस्टर' से फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखा था। तब से लेकर अब तक वे 30 से ज्यादा फिल्मों में नजर आ चुकी हैं और चार नेशनल फिल्म अवॉर्ड अपने नाम कर चुकी हैं। सरकार से हमारा निवेदन है अगर सरकार के पास वैक्सीन की कमी है तो 18+ जवान लड़कों तो लगाने से पहले सरकार 30+ के ऊपर के जवानों को लगाएं जो शादीशुदा है, और मार्केट में बैठे सभी व्यापारियों को कोरोना वैक्सीन लगाएंl ताकि उनके संपर्क में आया लोगों को कोरोना ना होl फर्जी है ये। Burnol...

हाई कोर्ट में सुनवाई के दौरान वकील ने अदालत से कहा मेरे मरीज को बेड चाहिए, थोड़ी देर में मिली मौत की खबर, जानें पूरा वाक्यासुनवाई के दौरान अधिवक्ता अमित शर्मा ने पीठ को बताया कि उनके रिश्तेदार की तबियत खराब है और उन्हे बेड उपलब्ध कराया जाए। पीठ ने इस पर दिल्ली सरकार को कुछ करने को कहा लेकिन कुछ मिनट में मौत की खबर मिली। Saddened to hear this. A citizen of India had to pray in court for his wife's treatment in the country and could not even save her life? It will be said unfortunate not only of the victim's family but also of all the people of the system! narendramodi ji, PMOIndia

'मेरे दोस्त को एम्बुलेंस की जरूरत है' कार्तिक आर्यन ने किया ट्वीटदरअसल, कार्तिक ने अपने ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट करते हुए अपने दोस्त के लिए एम्बुलेंस की गुहार लगाई है. एक्टर ने ट्वीट में लिखा, 'प्रयागराज में मेरे एक दोस्त को तत्काल एक एम्बुलेंस की जरूरत है ... कृपया संपर्क करें' भगवान करे किसीको एम्बुलेंस की जरूरत ना पड़े, एक celebrity के ये हाल है तो आम आदमी के बारे मे कल्पना करना भी मुश्किल है...our system is in coma... देश कितना बदल रहा है अगर कोई आम आदमी कोई जरूरत मांगे तो तुम लोग उसको नही दिखा सकते और कोई हीरो आ जाये तो उसको बढ़ा चढ़ा कर दिखाया करते है शर्म आनी चाहिए आप सभी को क्या यही रह गया है आम आदमी जीरो ओर पैसे वाले हीरो 🙏🙏🙏 Ohh my God such a breaking news...I think this question comes in upsc exam.🤣🤣🤣🤣s

‘मेरे पापा एडमिट हैं, क्या होगा’, लखनऊ-अहमदाबाद हर जगह बेड की मारामारी, आक्सीजन की किल्लतकोरोना के प्रकोप की वजह से हर ओर त्राहिमाम मचा है, देश के हर हिस्से में इस वक्त अस्पतालों के बाहर लोगों की भीड़ है. दिल्ली हो या लखनऊ या फिर अहमदाबाद और मुंबई हर जगह एक ही हाल है, कहीं अस्पताल में बेड नहीं हैं तो किसी अस्पताल में ऑक्सीजन नहीं है. सिस्टम की इस लाचारी के आगे हर कोई बेबस है. देश का सिस्टम मर गया है । मोदी जी मस्त हैं So sad

मंटो, जिसने कहा मेरे अफ़साने नहीं, ज़माना नाक़ाबिले बर्दाश्त है - BBC News हिंदीकिस्सा मंटो की कहानी 'ठंडा गोश्त' का, जिसे अश्लील बता कर मुकदमा चलाया गया और मंटो को तीन महीने क़ैद की सज़ा सुनाई गई. मंटो की 119वीं जयंती पर विशेष लेख. BanBBC its creating panic and confusion ये घोंचू से हमें क्या लेना देना BBC mostly gives fake and provocative news. Not a true media as we used to see years before.