Bombayhighcourt, Essentialservices, Medicalsupplies, बॉम्बेहाईकोर्ट, आवश्यकवस्तुएं, मेडिकलसामान

Bombayhighcourt, Essentialservices

मेडिकल, ज़रूरी सेवाओं से वंचित लोग सीधे अदालत से संपर्क कर सकते हैंः बॉम्बे हाईकोर्ट

मेडिकल, ज़रूरी सेवाओं से वंचित लोग सीधे अदालत से संपर्क कर सकते हैंः बॉम्बे हाईकोर्ट #BombayHighCourt #EssentialServices #MedicalSupplies #बॉम्बेहाईकोर्ट #आवश्यकवस्तुएं #मेडिकलसामान

03-08-2020 23:30:00

मेडिकल, ज़रूरी सेवाओं से वंचित लोग सीधे अदालत से संपर्क कर सकते हैंः बॉम्बे हाईकोर्ट BombayHighCourt EssentialServices MedicalSupplies बॉम्बेहाईकोर्ट आवश्यकवस्तुएं मेडिकलसामान

बॉम्बे हाईकोर्ट की पीठ ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान मराठवाड़ा और उत्तरी महाराष्ट्र में कोरोना को काबू करने के प्रशासन के फ़ैसलों पर चिंता जताते हुए कहा कि ग्रामीण इलाकों में महामारी के प्रसार को रोकने के लिए सख़्त क़दम नहीं उठाए गए हैं.

मुंबईःबॉम्बे हाईकोर्ट का कहना है कि महाराष्ट्र के ग्रामीण और दूरदराज के इलाकों में रह रहे और मेडिकल एवं अन्य जरूरी सुविधाओं से वंचित लोग सीधे अदालत से संपर्क कर सकते हैं.इंडियन एक्सप्रेसकी रिपोर्ट के मुताबिक, बॉम्बे हाईकोर्ट की औरंगाबाद पीठ ने कहा कि मेडिकल सुविधाओं से वंचित लोग सीधे अदालत से संपर्क कर संबंधित सरकारी कर्मचारियों और निजी अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग कर सकते हैं.

आंदोलन पर केंद्रीय मंत्री वीके सिंह बोले- तस्वीरों में कई लोग किसान नहीं लग रहे कृषि कानून पर बवाल, केंद्रीय मंत्री वीके सिंह बोले- जो प्रदर्शन कर रहे हैं वे किसान तो नहीं दिखते... फिल्म निर्माताओं से मुलाकात करने मुंबई पहुंचे योगी आदित्यनाथ, यूपी फिल्म सिटी पर होगी बात

जस्टिस तानाजी वी. नलवाडे और मुकुंद जी सेवलिकर की पीठ ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई के दौरान मराठवाड़ा और उत्तरी महाराष्ट्र में कोरोना को काबू करने को लेकर प्रशासन के फैसलों पर चिंता जताई.अधिकारियों के बीच समन्वय की कमी और जिलों में खतरनाक स्थिति को लेकर चिंता जताते हुए तीन जुलाई को हाईकोर्ट ने चेताते हुए कहा था कि वह क्वांरटीन सेंटर्स और अस्पतालों में अनुशासन का जायजा करने के लिए वहां का दौरा कर सकता है.

हाईकोर्ट ने कोरोना के दौरान लापरवाही और जिम्मेदारियों से बचने के लिए आठ जुलाई को भी प्रशासन को फटकार लगाई थी.अदालत ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना प्रसार की श्रृंखला को तोड़ने के लिए औरंगाबाद में 10 जुलाई से नौ दिन का लॉकडाउन एक अच्छी पहल थी और जागरूकता और टेस्ट की वजह से महामारी के प्रसार को कम करने में मदद मिली.

हालांकि अदालत ने यह भी कहा कि जलगांव, जालना और नांदेड़ जैसे ग्रामीण इलाकों में इस तरह के सख्त कदम नहीं उठाए गए जबकि मुंबई मेट्रोपॉलिटन क्षेत्र (एमएमआर) और पुणे जैसे शहरी इलाकों से कई लोग अपने मूल स्थानों की ओर लौट गए थे.अदालत ने कहा, ’31 अगस्त तक जब जिलों में यात्रा पर प्रतिबंध था, तब भी लोग प्रशासन द्वारा जारी किए गए पास के बिना भी उन स्थानों पर जाने में सक्षम थे और इसकी वजह से ग्रामीण इलाकों में कोरोना का प्रसार हुआ.’

अदालत ने प्रशासन से गांवों में कोरोना के प्रसार से संबंधित रिकॉर्ड पेश करने के निर्देश दिए.पीठ ने कहा कि गांवों में सभी लोगों की एकजुट होकर रहने की संस्कृति होती है जबकि शहरों में फ्लैट संस्कृति है और ग्रामीण इलाकों में लोगों की एक-दूसरे को बचाने का रुझान होता था और वे प्रशासन से जानकारी छिपाने की कोशिश करते हैं.

पीठ ने कहा, ‘इस तरह इस मोर्चे पर स्पष्ट असफलता है. मौजूदा समय में शहरों की तुलना में ग्रामीण इलाकों में अधिक कोरोना हॉटस्पॉट हैं.’जलना जिले में अदालती निरीक्षण कर चुके जस्टिस नलवाडे ने कहा कि पुलिस जिले में प्रवेश कर रहे लोगों का आवश्यक पास नहीं देख रही है बल्कि सिर्फ उनसे पूछताछ कर रही है.

पीठ ने कहा, ‘इस दृष्टिकोण की वजह से इलाके के कई हिस्सों में वायरस के प्रसार में मदद मिली. सख्त निगरानी किए जाने की जरूरत है और जब तक ऐसा नहीं होगा, तब तक प्रशासन चीजों को नियंत्रित करने में सक्षम नहीं होंगे.’पीठ ने कहा, ‘इसके लिए शायद स्टिंग ऑपरेशन की जररूत नहीं हो बल्कि प्रशासन कुछ लोगों को इस बात की पुष्टि करने के लिए भेज सकती है कि अधिकारी अपने कर्तव्य का पालन कर रहे हैं. जब तक ऐसा नहीं किया जाएगा, स्थिति नहीं सुधरेगी.’

किसान आंदोलन: दिल्ली के विज्ञान भवन में सरकार को किसानों की 'दो टूक' - BBC News हिंदी किसानों ने कहा- सरकार पूरी तैयारी के साथ नहीं आई थी इसलिए बेनतीजा रही बैठक आज तक @aajtak

हाईकोर्ट ने कोरोना बेड की उपलब्धता, आइसोलेशन वॉर्ड में सीसीटीवी कैमरे लगाना, ऑक्सीजन सुविधाओं की कमी और लापरवाही कर रहे कर्मचारियों और निजी अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए.इस मामले की अगली सुनवाई चार अगस्त को होगी. और पढो: द वायर हिंदी »

किसानों को बातचीत का न्योता, क्या निकलेगा कोई हल? देखें रिपोर्ट

किसानों को आज सरकार ने बुलाया है. जी हां, दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डरों पर धरने पर बैठे किसानों के आंदोलन का आज छठा दिन है. कोरोना और ठंड को देखते हुए कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने 32 किसान नेताओं को आज दोपहर तीन बजे दिल्ली के विज्ञान भवन में बातचीत के लिए बुलाया है. बातचीत में उन्हीं नेताओं को बुलाया गया है जो पहले दौर की बातचीत में शामिल थे. देखें वीडियो.

नेपाल से छोड़े गए पानी से बहराइच में तबाही, 5 दर्जन से ज्यादा गांवों में बाढ़नेपाल से छोड़े गए लाखों क्यूसेक पानी के कारण बहराइच के अनेक गांव बाढ़ की चपेट में nepal

भूमि पूजन से पहले रामलला के एक और पुजारी को कोरोना, बढ़ते मामलों से बढ़ी हलचलभूमि पूजन से पहले रामलला के एक और पुजारी को कोरोना, बढ़ते मामलों से बढ़ी हलचल COVID19 coronavirus AyodhyaBhumiPujan RamMandir AyodhyaRamTemple CMOfficeUP ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA CMOfficeUP ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA Where's our tax money going?! CMOfficeUP ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA पुजारी क्या है, सरकार जनता की बलि कर चुकी है पहले ही.. सरकार को अपना मकसद पूरा करना है जिसके दम पर वो चुनाव में उतरे उसके लिए बाकी मुद्दे गौड़ है चाहे कोई भी हो, एक एक लाश एक एक दिन भारी है इस महामारी में CMOfficeUP ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA

बांधों से छूटा लाखों क्यूसेक पानी, उफनायी नदियों के पानी से घिरे सैकड़ों गांवउपजिलाधिकारी जय चंद्र पांडे ने बताया कि जिले की कैसरगंज, महसी तथा मिहींपुरवा तहसीलों के 61 गांवों की डेढ़ लाख से ज्यादा आबादी तथा 15500 हेक्टेयर क्षेत्रफल बाढ़ प्रभावित है। सात गांवों में हालात ज्यादा खराब हैं। बाढ़ तथा कटान से अभी तक 131 कच्चे पक्के मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं। Bhai 5 tarikh se pahle kuchh Nahin hoga pahle ram Mandir nirman jaruri hai क्युसेक का चलन अभी भी है क्या ? क्युमेक अब प्रयुक्त होता है। योगी जी यहाँ कहाँ जायेंगे एजेंडा २०२२ सेट करना है जहाँ वही जायेगे

प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आए कोरोना से ठीक होने वाले असम के 67 पुलिसकर्मीअसम में कोरोनावायरस (COVID 19) संक्रमण के कारण स्वास्थ्य विभाग को मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा की बेहद जरूरत है. ऐसे में असम पुलिस के 67 पुलिसकर्मियों ने मिसाल पेश की है. कोरोनावायरस संक्रमित होने के बाद ठीक होने वाले सभी 67 पुलिसकर्मी प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आए. J ha mupt. Me elaj hota ho vahi pr donet k re Nai to choro ki kami nai h Please raise the issue of exams during COVID THANK YOU!!AND THE NATION IS PROUD OF YOU! AND EACH ONE SHOULD COME FORWARD TO DONATE PLASMA!!

अयोध्या में जन्मभूमि शिलान्यास के मायने भविष्य के भारत के लिए- नज़रियाये समारोह 'एक नये भारत' का भी शिलान्यास है जिसमें नागरिकों की पहचान में उनके धर्म की अहम भूमिका होगी. BJP RSS should be banned. They are terrorists organisation 🤣🤣🤣🤣🤣 Pahli fursat me nikal......✌ Only a stupid can advise to not participate on historical Mandir's foundation or inauguration. Its right from born to Hindu person.

डीसीजीआई ने कोविड-19 के टीके के दूसरे-तीसरे चरण के मानव परीक्षण की इजाजत दीदेश के ड्रग कंट्रोलर ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ओर से बनाई जा रही कोविड-19 वैक्सीन के दूसरे और तीसरे चरण के परीक्षण It's good news