Up Polls, Up Elections, Up, Aımım, Asaduddin Owaisi, Muslim Leadership, India News, National News, Jansatta News

Up Polls, Up Elections

मुस्लिम नेतृत्‍व तैयार करने का मुद्दा: AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी के लिए कैसी है यूपी की डगर

यूपी चुनावः

26-09-2021 18:46:00

यूपी चुनावः

एआईएमआईएम के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता सैयद आसिम वकार ने रविवार को 'भाषा' से कहा कि उनकी पार्टी का मुख्‍य लक्ष्‍य मुसलमानों को अपनी कौम की तरक्‍की और बेहतर भविष्‍य के लिये एक राजनीतिक चिंतन करने और नेतृत्व चुनने के लिए जागरुक करना है।

AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)मुसलमानों को नेतृत्‍व मुहैया कराने के मुख्‍य मुद्दे के साथ उत्‍तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव के मैदान में उतरने जा रहीअसदुद्दीन ओवैसी की ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्‍तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम)ने परम्‍परागत रूप से मुस्लिम वोट हासिल करने वाली पार्टियों में बेचैनी पैदा कर दी है। ओवैसी ने आरोप लगाया है कि चाहे मुसलमानों के सबसे ज्‍यादा वोट हासिल करने वाली समाजवादी पार्टी (सपा) हो या फिर सामाजिक न्‍याय के लिये दलित-मुस्लिम एकता की बात करने वाली बहुजन समाज पार्टी (बसपा), किसी ने भी मुसलमानों को नेतृत्‍व नहीं दिया। वह इसी आरोप को उत्‍तर प्रदेश में अपने चुनावी अभियान का आधार बना रहे हैं।

Petrol, Diesel Price Today : दिल्ली में 108 के पार पेट्रोल, आज भी 35 पैसे महंगा हुआ तेल, देखें ताजा रेट तेजस्वी करेंगे सबसे बड़ा 'बेरोजगार रैला', लालू यादव ने 26 साल पहले की थी पहली 'गरीब रैली'; दिए थे ऐसे-ऐसे नारे पेगासस का प्रेत और लोकतंत्र की आत्मा

उत्‍तर प्रदेश की आबादी में अपेक्षाकृत कम हिस्‍सेदारी रखने वाली जाटव, यादव, राजभर और निषाद समेत विभिन्‍न जातियों का कमोबेश अपना-अपना नेतृत्‍व है, मगर जनसंख्‍या में 19 प्रतिशत से ज्‍यादा भागीदारी रखने वाले मुसलमानों का कोई सर्वमान्‍य नेतृत्‍व नजर नहीं आता। राज्‍य में 82 ऐसी विधानसभा सीटें हैं, जहां पर मुसलमान मतदाता जीत-हार तय करने की स्थिति में हैं, मगर राजनीतिक हिस्‍सेदारी के नाम पर उनकी झोली में कुछ खास नहीं है।

एआईएमआईएमके राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता सैयद आसिम वकार ने रविवार को ‘भाषा’ से कहा कि उनकी पार्टी का मुख्‍य लक्ष्‍य मुसलमानों को अपनी कौम की तरक्‍की और बेहतर भविष्‍य के लिये एक राजनीतिक चिंतन करने और नेतृत्व चुनने के लिए जागरुक करना है। उन्होंने कहा कि मुसलमानों का वोट हासिल करती आयीं ‘‘तथाकथित धर्मनिरपेक्ष पार्टियों’’ ने भी कभी मुस्लिम नेतृत्‍व को उभरने नहीं दिया और सच्‍चर कमेटी की रिपोर्ट से जाहिर हो गया है कि मुसलमानों की हितैषी बनने वाली पार्टियों ने उन्‍हें किस हाल में धकेल दिया है। headtopics.com

उन्होंने कहा कि अब जब ओवैसी मुसलमानों को नेतृत्‍व देने की बात कर रहे हैं तो इस कौम को अपना सियासी गुलाम समझने वाली पार्टियों में खलबली मच गयी है। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता अबू आसिम आजमी ने ओवैसी पर निशाना साधते हुए उन्हें ‘वोट कटवा’ करार दिया। आजमी का आरोप है कि चूंकि मुसलमान हमेशा से चुनाव में सपा का साथ देता आया है, इसलिए भाजपा ने आगामी विधानसभा चुनाव में मुस्लिम वोट का बंटवारा कर सपा को नुकसान पहुंचाने के लिए ओवैसी की पार्टी को मैदान में उतारा है।

हालांकि उन्होंने यह भी दावा किया कि मुसलमान भाजपा के इस दांव को अच्छी तरह से समझ चुके हैं और वे किसी बहकावे में नहीं आएंगे।उत्तर प्रदेश कांग्रेस के मीडिया संयोजक ललन कुमार ने कहा कि उनकी पार्टी समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर चल रही है। जहां तक ओवैसी का सवाल है तो वह सिर्फ चुनाव के वक्त मुसलमानों को याद कर रहे हैं। कांग्रेस को मुसलमानों का भी साथ मिल रहा है और ओवैसी के आने से चुनाव में पार्टी की संभावनाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

मुसलमानों को नेतृत्‍व देने की कोशिश पहले भी हो चुकी हैं, लेकिन सवाल यह है कि मुखर हिंदुत्‍ववादी राजनीति के उभार के बाद क्‍या मुसलमान इतने जागरुक हो चुके हैं कि वे अपना सर्वमान्‍य नेतृत्‍व तैयार कर सकें। इस बारे में विशेषज्ञों की राय अलग-अलग है। राजनीतिक विश्‍लेषक परवेज अहमद ने कहा, ‘‘ओवैसी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नहीं, बल्कि उन पार्टियों के निशाने पर हैं जो अभी तक मुसलमानों को भाजपा का डर दिखाकर उनका वोट हासिल करती रही हैं। उन्होंने कहा कि ये पार्टियां प्रचार कर रही हैं कि ओवैसी उत्तर प्रदेश में मुस्लिम वोट काटकर भाजपा को फायदा पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं।’’

जनगणना 2011 के आंकड़ों के मुताबिक उत्‍तर प्रदेश की आबादी में मुसलमानों की हिस्‍सेदारी 19.26 प्रतिशत है। ऐसा माना जाता है कि राज्‍य की 403 में से 82 विधानसभा क्षेत्रों में मुसलमान मतदाता निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं। राजनीतिक विश्‍लेषक रशीद किदवाई का मानना था कि ओवैसी को बिहार में कामयाबी इसलिये मिली क्‍योंकि उनके पास कुछ अच्‍छे प्रत्‍याशी आ गये थे, जिनका अपना जनाधार था। headtopics.com

बांग्लादेश से सटे त्रिपुरा में क्यों हो रहे हैं मुसलमानों पर हमले? - BBC News हिंदी राहुल गांधी को PK की खरी-खरी: 'भ्रम में मत रहिए कि मोदी सत्ता से बाहर हो जाएंगे, भाजपा दशकों तक रहेगी मजबूत' चीन अगले साल जनवरी से भारत की टेंशन और बढ़ाने जा रहा - BBC News हिंदी

उन्होंने कहा, ‘‘उत्‍तर प्रदेश में ऐसा नहीं लगता कि ओवैसी को कुछ खास कामयाबी मिलेगी, क्‍योंकि उत्‍तर प्रदेश में ज्‍यादातर मुसलमान उसी पार्टी को वोट देते रहे हैं जो भाजपा को हराने में सक्षम हो।’’ गौरतलब है कि एआईएमआईएम ने उत्‍तर प्रदेश की 100 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। ओवैसी की पार्टी ने 2017 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में 38 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे, लेकिन उसे एक भी सीट नहीं मिली थी। हालांकि बिहार में हुए पिछले विधानसभा चुनाव में उसे सीमांचल की पांच सीटों पर जीत हासिल हुई थी। इससे उनकी पार्टी उत्साहित है और उत्तर प्रदेश में भी कामयाबी के प्रति आश्वस्त नजर आ रही है।

और पढो: Jansatta »

10 तक: हत्यारों ने दी महिला को दर्दनाक मौत, जमवारामगढ़ हत्याकांड को लेकर गेहलोत सरकार घिरी

राजस्थान के जयुपर में 55-वर्षीय महिल गीता देवी की निर्मम हत्या से सनसनी मच गई है. हत्यारों ने महिला को कुल्हाड़ी से हमला भी किया. साथ में महिला के पैर कांट दिए. जांच के लिए पुलिस ने 30 टीमें लगा दी हैं. यानि 300 पुलिसवाले लगा दिए हैं. लेकिन तीन दिन बाद भी अब तक ना पैर काटकर जयपुर में महिला की पायल लूटने वाले अपराधियों की पता चला ना ही इस परिवार के पास किसी सक्षम मंत्री-अधिकारी के पहुंचने का पता चला. बीजेपी के नेता राज्यवर्धन सिंह राठौड़ परिवार से मिलने के बाद गेहलोत सरकार को घेरा है. देखें वीडियो.

संयुक्त राष्ट्र : तालिबान का महासभा के मंच से दुनिया को संबोधित करने का सपना टूटासंयुक्त राष्ट्र : तालिबान का महासभा के मंच से दुनिया को संबोधित करने का सपना टूटा Taliban Afghanistan Kabul UNGA ​

गौरी लंकेश हत्या: आरोप तय करने के लिए आरोपियों को बेंगलुरु सेंट्रल जेल भेजने का आदेशबेंगलुरु के सत्र न्यायालय ने कहा कि चूंकि आरोपी अलग-अलग जेलों में बंद हैं और उन्हें सुनवाई के दौरान एक साथ पेश नहीं किया जा सका है, जिसके चलते बार-बार आरोप तय करने की कार्यवाही टाली जाती रही है, इसलिए उन्हें एक जगह ट्रांसफर किया जाए.

कृषि कानूनों को रद करने के लिए भारत बंद के समर्थन में उतरे विपक्षी दलकांग्रेस और माकपा से लेकर राकांपा और तृणमूल कांग्रेस सरीखे विपक्षी दलों ने किसान संगठनों के 27 सितंबर को बुलाए गए भारत बंद के समर्थन का एलान कर इस मुद्दे पर सरकार की राजनीतिक घेरेबंदी पर फोकस बढ़ाने के इरादे स्पष्ट कर दिए हैं। विपछि दल नही दलाल . भारत_बंद_नहीं_रहेगा 👈🏾 . RakeshTikaitBKU INCIndia BJP4India AamAadmiParty देश को होने वाले नुकसान से गद्दारो को क्या मतलब?

मोदी और योगी के ख़िलाफ़ अपशब्दों वाला वीडियो पोस्‍ट करने के आरोप में दो गिरफ़्तारउत्तर प्रदेश के बलिया ज़िले का मामला. आरोप है कि दोनों व्यक्तियों ने बीते ट्विटर, फेसबुक और वॉट्सऐप पर बीते 23 सितंबर को एक वीडियो पोस्ट किया गया, जिसमें वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के विरुद्ध अपशब्दों का प्रयोग करते दिखाई दे रहे हैं. UP:-प्रतापगढ़ से भाजपा सांसद संगमलाल गुप्ता को स्थानीय लोगों ने दौड़ा दौड़ा कर पीटा ! एक कार्यक्रम में भाग लेने आये थे सांसद संगमलाल गुप्ता जी बाद में कार्यक्रम छोड़कर भागे ! पिटाई का कारण अभी तक साफ़ नहीं ! 😂😂😂

वारदात: दिल्ली में अब तक का सबसे भयंकर गैंगवॉर, जज के सामने गैंगस्टर का कत्लदिल्ली का रोहिणी कोर्ट का कोर्टरूम पूरी तरह से तैयार था. जज गगनदीप सिंह अपने सीट पर मौजूद थे. मुकादमे की कार्रवाई शुरू हो चुकी थी. इसके बाद अगले केस की बारी थी. और उसी केस के सिलसिल में एक आरोपी को कोर्टरूम में लाया जाता है. कोर्टरूम में आने के बाद वो अपने सीट पर बैठने के लिए आगे बढ़ रहा था. मगर इससे पहले वो बैठ पाता. उसी कोर्टरूम में पहले से मौजूद दो लोग अचानक खड़े होते हैं और पिस्टल निकालकर उस आरोपी पर अंधाधुंध गोलियां चलाना शुरू कर देते हैं. वो दोनों वकील के पोशाक में थे. इसके बाद पुलिस अंदर आती है. और फिर मुठभेड़ होता है. दोनों हमलावरों को पुलिस मार गिराती है. ये सबकुछ कोर्ट परिसर के अंदर होता है. और जज साहब बकायदा इसके गवाह होते हैं. ये कोई फिल्मी कहानी नहीं है. बल्कि दिल्ली की रोहिणी कोर्ट का लाइव शूटआउट का सच है. देखें वारदात. ShamsTahirKhan sir i am the victim of 2 FIR in rohini court . but now i think there is no justice and protection.

राहुल गांधी से चर्चा के बाद पंजाब कैबिनेट के मंत्रियों के नाम तय : सूत्रपंजाब में मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने अपने मंत्रिमंडल के लिए नामों को अंतिम रूप दे दिया है. सूत्रों के मुताबिक, चन्‍नी ने राहुल गांधी के साथ मिलकर के पंजाब कैबिनेट के मंत्रियों  के नाम तय किए हैं. कैबिनेट में बदलाव को  लेकरबातचीत के लिए चन्‍नी तीन बार दिल्‍ली आए थे. कितना भी सीएम बना लो गुलामी नहीं जाएगी क्या राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष हैं या पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष आखिर क्यों उनसे पूछ कर कैबिनेट का विस्तार किया जाएगा यह एक गुलामी वाली सोच है