Milkhasingh, Chandigarh-Jagran-Special, Milkha Singh, Udansikh, Milkha Singh Passed Away, Achievements Of Milkha Singh, Punjab News, Punjab Top, मिल्खा सिंह, उडनसिख, मिल्खा सिंह का निधन, मिल्खा सिंह की उपलब्धियां, पंजाब समाचार, Hpcommonmanıssue, Punjab News

Milkhasingh, Chandigarh-Jagran-Special

मिल्खा सिंह का एक अधूरा सपना..., हमेशा कहते थे- मैं चूक गया, काश कोई इंडियन वो कारनामा दिखाए

मिल्खा सिंह का एक अधूरा सपना..., हमेशा कहते थे- मैं चूक गया, काश कोई इंडियन वो कारनामा दिखाए #MilkhaSingh

19-06-2021 07:31:00

मिल्खा सिंह का एक अधूरा सपना..., हमेशा कहते थे- मैं चूक गया, काश कोई इंडियन वो कारनामा दिखाए MilkhaSingh

Milkha Singh passed away मिल्खा सिंह एक अधूरे सपने के साथ जीवन को अलविदा कह गए। उनको हमेशा इस बात का मलाल रहा कि वह रोम ओलंपिक में 400 मीटर की दौड़ नहीं जीत पाए। वह चाहते थे कि काश भविष्य में कोई इंडियन यह कारनामा कर दिखाए।

मिल्खा सिंह कहते थे, ''सारी दुनिया ये उम्मीदें लगा रही थी कि रोम ओलंपिक में 400 मीटर की दौड़ मिल्खा ही जीतेगा। मैं अपनी गलती की वजह से मेडल नहीं जीत सका। मैं इतने सालों से इंतजार कर रहा हूं कि कोई दूसरा इंडियन वो कारनामा कर दिखाए, जिसे करते-करते मैं चूक गया था, लेकिन कोई एथलीट ओलंपिक में मेडल नहीं जीत पाया।''

ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वालीं मीराबाई चनू ने ट्रक ड्राइवरों को दिए गिफ्ट्स, ट्रेनिंग के समय कराते थे फ्री में यात्रा मध्यप्रदेश में बाढ़ ने खोली शिवराज सरकार की पोल- 3 दिन में ही बह गए करोड़ों की लागत से बने 6 पुल देसी घी के चूरमे से होगा रवि दहिया का वेलकम: ओलिंपिक में सिल्वर जीतने के बाद मां बोली-अगली बार जरूर सोना ही लेकर आएगा मेरा लाल

एथलीट्स को चाहिए कोई एक रोल मॉडलमिल्खा सिंह कहते थे कि अगर रोम ओलंपिक में वह मेडल जीत जाते तो आज देश में जमैका की तरह हर घर से एथलीट्स निकलते। वह रोम में मेडल जीतने से नहीं चूके, बल्कि इस देश को रोल मॉडल और सपने देने से चूक गए थे। पीटी ऊषा और श्रीराम सिंह जैसे एथलीट भी मेडल जीतने से चूक गए, जिनसे देश को खासी उम्मीदें थी। अगर हम मेडल जीत गए होते तो एथलेटिक्स गेम्स के प्रति भी युवाओं में वही आकर्षण होता जो ध्यानचंद के समय हॉकी का और वर्ष 1983 में क्रिकेट वर्ल्ड कप जीतने के बाद क्रिकेट का था। मिल्खा सिंह कहते थे,  मैं इतने सालों से इंतजार कर रहा, लेकिन मेरा इंतजार खत्म नहीं हुआ।

यह भी पढ़ेंएथलेटिक्स गेम्स को भी मिले क्रिकेट की तरह तवज्जो और पढो: Dainik jagran »

आज की पॉजिटिव खबर: गुजरात के किसान ने बंजर जमीन पर 10 साल पहले ऑर्गेनिक खजूर लगाए, अब हर साल 35 लाख रुपए की कमाई

जहां तापमान ज्यादा हो, पानी की कमी हो, दूसरी फसलों की खेती न के बराबर होती हो, उन जगहों पर ऑर्गेनिक खजूर की खेती की जा सकती है। इसमें लागत भी कम होगी और बढ़िया आमदनी भी होगी। गुजरात के पाटन जिले के रहने वाले एक किसान निर्मल सिंह वाघेला ने इसकी पहल की है। करीब 10 साल पहले उन्होंने अपनी जमीन के बड़े हिस्से में ऑर्गेनिक खजूर के प्लांट लगाए थे। अब वे प्लांट तैयार हो गए हैं और उनसे फल निकलने लगे हैं। इ... | Farmer of Gujarat started farming of organic dates on barren land, earning Rs 35 lakh in first year itself

●हाई स्कूल को 100% के साथ प्रमोट किया गया, ●इंटरमीडिएट को भी 100% के साथ प्रमोट किया गया। ●यू पी में 41 लाख विश्वविद्यालय के बच्चों को प्रमोट किया गया। *फिर टेक्निकल के साथ अन्याय क्यों* दोहरा व्यवहार क्यों?

मिल्खा सिंह : आजाद भारत के लिए पहला गोल्ड जीतने से 'फ्लाइंग सिख' बनने तक का सफरउड़न सिख के नाम से मशहूर पद्मश्री पूर्व एथलीट मिल्खा सिंह ने भारत को कई पदक दिलाए लेकिन 1960 रोम ओलंपिक में पदक से चूकने की कहानी आज भी लोगों के जेहन में ताजा है। वह चंडीगढ़ पीजीआइ के कोविड आइसीयू वार्ड में भर्ती हैं। कोयला काला है चट्टानों पे पाला अन्दर काला बाहर काला पर सच्चा है साला RIP Rip

मिल्खा सिंह का कोविड संक्रमण से निधन - BBC News हिंदीभारत के मशहूर एथलीट मिल्खा सिंह का चंडीगढ़ के अस्पताल में निधन हो गया है RIP बहुत ही दुखद विनम्र श्रद्धांजलि भगवान उनकी आत्मा को अपने चरणों में स्थान दे So sad.

दुखद: महान धावक मिल्खा सिंह का कोरोना से निधन, पीजीआई चंडीगढ़ में ली अंतिम सांसदुखद: महान धावन मिल्खा सिंह का कोरोना से निधन, पीजीआई चंडीगढ़ में ली अंतिम सांस MilkhaSingh CoronaVirus MilkhaSinghDies PGIchandigarh drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI Rip 🙏 drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI Rip🙏🙏🙏 drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI ॐ शान्ति

फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह का 91 साल की उम्र में निधनफ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह ( Milkha Singh ) का शुक्रवार देर रात निधन हो गया. 91 वर्ष की उम्र में उन्होंने अंतिम सांस ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने मिल्खा सिंह के निधन पर शोक व्यक्त किया है. कुछ देर पहले उन्होंने ट्वीट किया, श्री मिल्खा सिंह जी के निधन से हमने एक महान खिलाड़ी खो दिया है, जिसने देश की कल्पना पर अपनी छाप छोड़ी थी और अनगिनत भारतीयों के दिलों में एक विशेष स्थान बना लिया था. उनके प्रेरक व्यक्तित्व ने खुद को लाखों लोगों का प्रिय बना दिया था. उनके निधन से आहत हूं. He was the first Indian athlete to win an individual athletics gold medal at the Commonwealth Games, a title. ‘’The FLYING SIKH IS NO MORE ‘’ Great loss 🇮🇳 Om Shanti 🙏 MilkhaSingh नाम का नही कोई सानी ऐसे धुरंधर थे जो झूजते रहे आखिरी सांस तक हार न माने जो मिल के पत्थर ऐसे जिन्हे नाप न पाये कोई कूच कर गये जहाँ से रोता छोङ गये आज वो है मालूम किवदंती है और किवदंती अमर रहती सदा श्रद्धा सुमन अर्पित उन्हे नमन सदा-सदा ॐ_शांति 🙏🙏 R.I.P. 💐😭😭😭😭😭😢 So sad 😭

मिल्खा सिंह: 'फ्लाइंग सिख' के निधन पर भावुक हुए सितारे, नम आंखों से दी श्रद्धांजलि मिल्खा सिंह : 'फ्लाइंग सिख' के निधन पर भावुक हुए सितारे, नम आंखों से दी श्रद्धांजलि MilkhaSingh RIPMilkhaSingh BollywoodCelebsCondole

यादें...यूं ही नहीं फ्लाइंग सिख कहलाते थे मिल्खा सिंहआजाद भारत का पहला गोल्ड मेडल जीतने वाले मिल्खा सिंह के 'फ्लाइंग सिख' कहलाने की कहानी... ॐ शांति ॐ शांति ॐ शांति विनम्र श्रद्धांजलि Bhagwan aapki ki aatma ko shanti de 😭 legends Milkha singh