Maatujhepranam, माँतुझेप्रणाम, Digitalkavyacafe, Onkinekavyacafe, Maa Tujhe Pranam Amar Ujala, Maa Tujhe Pranam, मां तुझे प्रणाम, मां तुझे प्रणाम अमर उजाला, Maa Tujhe Pranam Competitions, Amar Ujala, İndependence Day, İndependence Day 2020, स्वतंत्रता दिवस, आजादी का जश्न

Maatujhepranam, माँतुझेप्रणाम

मां तुझे प्रणाम : अमर उजाला के साथ मनाएं आजादी का जश्न, डिजिटल प्रतियोगिताओं में लें भाग

देश में आजादी के जश्न का सुरूर अगस्त महीना आने के साथ ही शुरू हो चुका है। अमर उजाला भी अपने पाठकों के लिए देशप्रेम का

10-08-2020 20:49:00

मां तुझे प्रणाम : अमर उजाला के साथ मनाएं आजादी का जश्न , डिजिटल प्रतियोगिताओं में लें भाग MaaTujhePranam माँतुझेप्रणाम DigitalKavyaCafe OnkineKavyaCafe

देश में आजादी के जश्न का सुरूर अगस्त महीना आने के साथ ही शुरू हो चुका है। अमर उजाला भी अपने पाठकों के लिए देशप्रेम का

कोरोना वायरस वैश्विक महामारी की वजह से उपजे हालात को लेकर अपनी सामाजिक जिम्मेदारी समझते हुए अमर उजाला के इस अभियान में ऑनलाइन प्रतियोगिताएं और डिजिटल कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, जिससे सोशल डिस्टेंसिंग जैसे मानक बरकरार रहें और आजादी के जश्न के साथ हम कोरोना वायरस से भी जंग जीत सकें। तैयार हो जाइए हमारे साथ भारत माता को एक अनूठे अंदाज में प्रणाम करने के लिए...

PM Modi Speech : जब तक वैक्‍सीन नहीं आती, तब तक कोरोना से जंग जारी रहेगी : पीएम मोदी मोदी ने कहा लॉकडाउन से घटा कोरोना, क्या सहमत हैं जानकार? - BBC News हिंदी पीएम मोदी का संबोधन: जब तक दवाई नहीं, ढिलाई नहीं - BBC News हिंदी

फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता : वीरों को नन्हों का सलामदेश के भविष्य नन्हे-मुन्नों के लिए होने वाली इस प्रतियोगिता में दो से आठ साल तक के बच्चे प्रतिभाग कर सकते हैं। इसमें भाग लेने के लिए माताएं अपने बच्चों को अपने पसंदीदा नेशनल हीरो की तरह से कपड़े पहना कर उनकी तस्वीर mtp.amarujala.com पर अपलोड कर सकती हैं। 10 बेहतरीन तस्वीरों को पुरस्कृत किया जाएगा।

चित्रकला प्रतियोगिता : तस्वीर आजादी कीइस प्रतियोगिता में कक्षा तीन से कक्षा 10 तक के छात्र-छात्राएं प्रतिभाग कर सकते हैं। छात्रों को 'तस्वीर आजादी की' विषय पर अपनी कल्पनाओं को रंग देने हैं और एक चित्र बनाना है। सभी छात्र विषय के अनुरूप चित्र बना कर वेबसाइट पर अपलोड कर सकते हैं। चित्र पर नाम, नंबर, कक्षा, शहर और ईमेल पता लिखा हो। प्रतियोगिता में हर कक्षा से तीन विजेता चुने जाएंगे।

लेखन प्रतियोगिता : देश के नाम पैगामइस प्रतियोगिता में दो वर्ग होंगे। पहले वर्ग में 17 से 22 वर्ष आयु वर्ग के लोग भाग ले सकते हैं और दूसरे वर्ग में 23 और इससे अधिक आयु के लोग भाग ले सकते हैं।प्रतिभागी विषय के अनुरूप स्लोगन या कविता लिख कर अपलोड कर सकते हैं। स्लोगन अधिकतम 24 शब्दों का होना चाहिए। दोनों वर्गों से पांच सबसे अच्छी रचनाओं को पुरस्कृत किया जाएगा।

काव्य कैफे (कवि सम्मलेन) : जरा याद करो कुर्बानी14 अगस्त शाम सात बजे से अमर उजाला की ओर से डिजिटल काव्य कैफे का आयोजन कराया जाएगा। इस कवि सम्मेलन में देश के जाने-माने कवियों के साथ कुछ चुनिंदा नए कवियों को भी मौका दिया जाएगा। कार्यक्रम का लाइव प्रसारण अमर उजाला के फेसबुक पेज व यूट्यूब चैनल पर किया जाएगा।

कार्यक्रम : राष्ट्र के नाम15 अगस्त को सुबह 10 बजे 'राष्ट्र के नाम' कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। पाठकों से अपील है इस कार्यक्रम का हिस्सा बनने के लिए वे अपने-अपने घरों में सपरिवार 52 सेकंड के लिए खड़े होकर राष्ट्रगान गाएं। इस कार्यक्रम के समर्थन में mtp.amarujala.com पर जाकर शपथ भी लें।

यह अपनी तरह का एक अनूठा प्रयास होगा। कोरोना कोरोना वायरस महामारी के कारण घरों से बाहर निकल कर आजादी का पर्व मनाना कठिन भी है और असुरक्षित भी। ऐसे में इस कार्यक्रम से जुड़कर अपने घरों में रहकर एक ही समय पर लाखों परिवार कार्यक्रम का हिस्सा बन सकते हैं।सार

लोगों को पसंद नहीं आया राष्ट्र के नाम संदेश, यूट्यूब पर डिसलाइक बढ़े तो भाजपा ने नंबर छुपाए आज तक @aajtak बिहार ओपिनियन पोल: पसंदीदा सीएम की दौड़ में नीतीश से जरा ही पीछे तेजस्वी! देखें आंकड़े

बच्चों से लेकर बड़ों तक के लिए होंगी प्रतियोगिताएं, डिजिटल कवि सम्मेलन में उठाइए कविताओं का लुत्फरजिस्ट्रेशन तथा अपनी प्रविष्टि mtp.amarujala.com पर अपलोड करने की आखिरी तिथि 14 अगस्त हैविजेताओं के नाम 20 अगस्त तक समाचार पत्र और mtp.amarujala.com वेबसाइट पर घोषित होंगे

प्रतियोगिताओं के विजेताओं को अमर उजाला दफ्तर में आमंत्रित कर प्रमाण पत्र और उपहार प्रदान किए जाएंगेविस्तार यह त्योहार मनाने के लिए 'मां तुझे प्रणाम' अभियान लेकर आया है। इस अभियान के तहत देश को आजाद कराने वाले वीरों के प्रति अपने सम्मान को प्रदर्शित करने के लिए कई कार्यक्रमों के साथ कई तरह की प्रतियोगिताओं का आयोजन भी होगा। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर अमर उजाला ऑनलाइन काव्य कैफे का भी आयोजन होगा, जिनमें जानेमाने कवि अशोक चक्रधर और हरिओम पवार भी प्रस्तुति देंगे।

विज्ञापनकोरोना वायरस वैश्विक महामारी की वजह से उपजे हालात को लेकर अपनी सामाजिक जिम्मेदारी समझते हुए अमर उजाला के इस अभियान में ऑनलाइन प्रतियोगिताएं और डिजिटल कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, जिससे सोशल डिस्टेंसिंग जैसे मानक बरकरार रहें और आजादी के जश्न के साथ हम कोरोना वायरस से भी जंग जीत सकें। तैयार हो जाइए हमारे साथ भारत माता को एक अनूठे अंदाज में प्रणाम करने के लिए...

इन प्रतियोगिताओं का होगा आयोजन, ऐसे ले सकेंगे हिस्साफैंसी ड्रेस प्रतियोगिता : वीरों को नन्हों का सलामदेश के भविष्य नन्हे-मुन्नों के लिए होने वाली इस प्रतियोगिता में दो से आठ साल तक के बच्चे प्रतिभाग कर सकते हैं। इसमें भाग लेने के लिए माताएं अपने बच्चों को अपने पसंदीदा नेशनल हीरो की तरह से कपड़े पहना कर उनकी तस्वीर mtp.amarujala.com पर अपलोड कर सकती हैं। 10 बेहतरीन तस्वीरों को पुरस्कृत किया जाएगा।

चित्रकला प्रतियोगिता : तस्वीर आजादी कीइस प्रतियोगिता में कक्षा तीन से कक्षा 10 तक के छात्र-छात्राएं प्रतिभाग कर सकते हैं। छात्रों को 'तस्वीर आजादी की' विषय पर अपनी कल्पनाओं को रंग देने हैं और एक चित्र बनाना है। सभी छात्र विषय के अनुरूप चित्र बना कर वेबसाइट पर अपलोड कर सकते हैं। चित्र पर नाम, नंबर, कक्षा, शहर और ईमेल पता लिखा हो। प्रतियोगिता में हर कक्षा से तीन विजेता चुने जाएंगे।

लेखन प्रतियोगिता : देश के नाम पैगामइस प्रतियोगिता में दो वर्ग होंगे। पहले वर्ग में 17 से 22 वर्ष आयु वर्ग के लोग भाग ले सकते हैं और दूसरे वर्ग में 23 और इससे अधिक आयु के लोग भाग ले सकते हैं।प्रतिभागी विषय के अनुरूप स्लोगन या कविता लिख कर अपलोड कर सकते हैं। स्लोगन अधिकतम 24 शब्दों का होना चाहिए। दोनों वर्गों से पांच सबसे अच्छी रचनाओं को पुरस्कृत किया जाएगा।

PM Narendra Modi Speech Live: पीएम मोदी का कोरोना पर राष्ट्र के नाम संदेश- जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं बिहार ओपिनियन पोल: NDA को 38% तो महागठबंधन के पास 32% वोट! देखें पूरे आंकड़े Gwalior: डबरा में कमलनाथ पर भड़के सिंधिया- ‘आइटम कहने की हिम्मत कैसे हुई’, मंच पर ही रो पड़ीं मंत्री इमरती देवी

ये डिजिटल कार्यक्रम होंगे, ऐसे हों शामिलकाव्य कैफे (कवि सम्मलेन) : जरा याद करो कुर्बानी14 अगस्त शाम सात बजे से अमर उजाला की ओर से डिजिटल काव्य कैफे का आयोजन कराया जाएगा। इस कवि सम्मेलन में देश के जाने-माने कवियों के साथ कुछ चुनिंदा नए कवियों को भी मौका दिया जाएगा। कार्यक्रम का लाइव प्रसारण अमर उजाला के फेसबुक पेज व यूट्यूब चैनल पर किया जाएगा।

कार्यक्रम : राष्ट्र के नाम15 अगस्त को सुबह 10 बजे 'राष्ट्र के नाम' कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। पाठकों से अपील है इस कार्यक्रम का हिस्सा बनने के लिए वे अपने-अपने घरों में सपरिवार 52 सेकंड के लिए खड़े होकर राष्ट्रगान गाएं। इस कार्यक्रम के समर्थन में mtp.amarujala.com पर जाकर शपथ भी लें।

यह अपनी तरह का एक अनूठा प्रयास होगा। कोरोना कोरोना वायरस महामारी के कारण घरों से बाहर निकल कर आजादी का पर्व मनाना कठिन भी है और असुरक्षित भी। ऐसे में इस कार्यक्रम से जुड़कर अपने घरों में रहकर एक ही समय पर लाखों परिवार कार्यक्रम का हिस्सा बन सकते हैं।विज्ञापन

इन प्रतियोगिताओं का होगा आयोजन, ऐसे ले सकेंगे हिस्सा और पढो: Amar Ujala »

गुजरात सीएम से ग्लोबल लीडर तक, ऐसे बढ़ती रही पीएम नरेंद्र मोदी की साख

वो जो सामने मुश्किलों का अंबार है, उसी से तो मेरे हौसलों की मीनार है. चुनौतियों को देखकर घबराना कैसा, इन्हीं में तो छिपी संभावनाएं अपार हैं. कई मौकों पर कविता की इन पंक्तियों को पीएम मोदी ने बोला है. बारीकी से देखें तो लगता है कि यही पंक्तियां उनके जीवन का संविधान हैं. जिसे उन्होंने खुद लिखा है. वे लगातार बीस साल बिना ब्रेक के काम करने का दावा करते हैं तो जनता ने भी उन्हें बीस साल से लगातार सत्ता में बिठाए रखा है. पीएम मोदी ने देश को बीस साल दिए तो जनता ने भी उन्हें अमूल्य बीस साल सौंप दिए. ये बीस साल मील के पत्थर से कम नहीं, ऐसे में ये देखना लाजमी हो जाता है कि बीस साल में क्या खोया, क्या पाया. देखिए खास कार्यक्रम, श्वेता सिंह के साथ.

समुद्र की लहरों से मौसम के पूर्वानुमान का सटीक अंदाजा लगाने का नया तरीकाइंडियन नेशनल सेंटर फॉर ओशन सूचना सेवा केंद्र हैदराबाद-आईएनसीओआईएस के शोधकर्ताओं ने समुद्र की लहरों से मौसम के पूर्वानुमान

आत्मनिर्भर भारत के लिए गडकरी का फॉर्मूला, आयात का विकल्प तलाशें, कम करें लागतनितिन गडकरी ने कहा कि एक अध्ययन के मुताबिक चीन के टॉप 10 सेक्टर का निर्यात ही उसके कुल एक्सपोर्ट का 70 फीसदी हिस्सा है. हमें चीन से भारत आयात की जाने वाली वस्तुओं की पहचान करनी चाहिए. Help plz ap he bol sakta he ab cbse ko ap ko help ker ne ho ge students ke cancel compartment exam पहले इसका जवाब दो? पंद्रह लाख🔔 काला धन🔔 2करोड रोजगार🔔 चीन थर थर🔔 मेक इन इंडिया🔔 पेट्रोल सस्ता🔔 फसल का डेढ गुना🔔 रूपया मजबूत🔔 महिलाओं की सुरक्षा🔔 महंगाई में कमी🔔 100 स्मार्ट सिटी🔔 लोकपाल बिल🔔 1केबदले10🔔 विकास हुआ🔔 करप्शन कम🔔 बस BanEVM किर्पा है? This is unfair to take exam in this pandemic situation. Really exam is more important than our health. Is true so why you postponed when only 500 cases in all india. Now 20 lacs that is good situation for exam ,wow that's great. postponegujcet HRDPostponeJEE_NEET DrRPNishank

सिंगापुर में कोरोना वायरस के टीके का प्रारंभिक स्तर का परीक्षण शुरूसिंगापुर में कोविड-19 के टीके के लिए प्रारंभिक स्तर का क्लीनिकल परीक्षण शुरू हो गया है और अगले सप्ताह ट्रायल में शामिल

मुख्तार गैंग के बदमाश का एनकाउंटर, सुप्रीम कोर्ट में जांच कराने के लिए याचिकाLucknow Administration News: लखनऊ में बदमाश राकेश पांडेय के एनकाउंटर के बाद सुप्रीम कोर्ट में जांच के लिए याचिका दायर की गई है। याचिका में एनकाउंटर की जांच के लिए कमीशन बनाने की मांग की है। SC sud have few judges that only & only look into PILs..............no other work. क्यों कोर्ट का समय बर्बाद कर रहे हो।गैंंगेस्टर था उसके साथ जो होना चाहिए था वो हो गया।हमारे सुरक्षा बलों को कमजोर करने की कोशिश नहीं होनी चाहिए बल्कि हमें इन्हें ओर प्रोत्साहन देना चाहिए।यह अपराधियों पर काबू पाने का रामबाण इलाज है। SupremeCourtOfIndia सुप्रीम कोर्ट को जांच कराने की फीस ₹10लाख प्रति केस अग्रिम जमा करानी चाहिए।

राजस्थान के दंगल में वसुंधरा का दम देखेगी बीजेपी, विधायकों को मिले जयपुर पहुंचने के निर्देशबीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस उनके विधायकों को तोड़ने की कोशिश कर रही थी जिसकी वजह से उन्हें गुजरात भेजा गया था. Corona time Janta ke sudh nhi , naa janta ke prvaah , Kursi ke liye sab kuch . Desh me kuch Politicians kis hdd tak aa gye . Chullu bhr pani . वसुंधरा को बीजेपी से हटाओ Madam maiden me aagai hai

कोरोना वायरस के समय बिछड़े प्रेमी जोड़ों को मिलाने के लिए जर्मनी का स्वीट हार्ट वीजाअब गैर शादीशुदा पार्टनर भी ईयू के बाहर के देशों से जर्मनी आ सकते हैं और जर्मनी में रहने वाले अपने पार्टनर से मिल सकते हैं।