Haryana, Internationalwomensday, Womensday, Womens Day, Para Athlete, Shooting Championship, National Championship, Faridabad News, Haryana News

Haryana, Internationalwomensday

महिला शक्ति को सलाम: 10 माह की सिमरन को हादसे ने बनाया था दिव्यांग, लेकिन नहीं छोड़ी हिम्मत, पैरा नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में रचा इतिहास

महिला शक्ति को सलाम: 10 माह की सिमरन को हादसे ने बनाया था दिव्यांग, लेकिन नहीं छोड़ी हिम्मत, पैरा नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में रचा इतिहास #Haryana #InternationalWomensDay #WomensDay

08-03-2021 17:41:00

महिला शक्ति को सलाम: 10 माह की सिमरन को हादसे ने बनाया था दिव्यांग, लेकिन नहीं छोड़ी हिम्मत, पैरा नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में रचा इतिहास Haryana InternationalWomensDay WomensDay

मानव रचना शूटिंग एकेडमी में संपन्न हुई पैरालंपिक नैशनल शूटिंग चैंपियनशिप में जीता पदक | महज 10 माह की उम्र में सिमरन पर कुदरत का ऐसा कहर बनकर उस पर टूटा कि उसे जीवनभर के लिए दिव्यांग बना दिया। समय के साथ संघर्ष करतेे हुए सिमरन जीवन जीने का प्रयास करती रही, लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी।

Womens Day Special: Para Athlete Simran Wins Bronze Medal In Para National Shooting ChampionshipAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐपमहिला शक्ति को सलाम:10 माह की सिमरन को हादसे ने बनाया था दिव्यांग, लेकिन नहीं छोड़ी हिम्मत, पैरा नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में रचा इतिहास

कोरोना: लखनऊ में हालात कैसे हो गए बेक़ाबू, कहाँ हुई चूक - BBC News हिंदी 'जो कहा सो किया...' कोरोना से बिगड़ते हालातों पर मोदी सरकार पर प्रियंका गांधी और राहुल गांधी ने कसा तंज 'असल तस्वीर छिपाई तो जनता का भरोसा खो देंगे', कोरोना पर HC की गुजरात सरकार को नसीहत

फरीदाबाद5 घंटे पहलेकॉपी लिंकपैरालंपिक नैशनल शूटिंग चैंपियनशिप में 7वीं कक्षा की छात्रा सिमरन ने कांस्य पदक पर निशाना लगाया।मानव रचना शूटिंग एकेडमी में संपन्न हुई पैरालंपिक नैशनल शूटिंग चैंपियनशिप में जीता पदकमहज 10 माह की उम्र में सिमरन पर कुदरत का ऐसा कहर बनकर उस पर टूटा कि उसे जीवनभर के लिए दिव्यांग बना दिया। समय के साथ संघर्ष करतेे हुए सिमरन जीवन जीने का प्रयास करती रही, लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी। उसने अपने सपने के हौंसलों को उड़ान दी और 12 साल की उम्र में पैरालंपिक नेशनल शूटिंग चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने में कामयाब हुई। हाल ही में मानव रचना शूटिंग एकेडमी में संपन्न हुई पैरालंपिक नैशनल शूटिंग चैंपियनशिप में 7वीं कक्षा की छात्रा सिमरन ने कांस्य पदक पर निशाना लगाया। उसने ये पदक 10 मीटर राइफल स्टैंडिंग महिला सीनियर वर्ग में जीता है।

गुजरात में हुए रोड हादसे ने बनाया था दिव्यांगसूरजकुंड रोड स्थित चामुवुड विलेज सोसाइटी में रहने वाली सिमरन के पिता बृजेश शर्मा ने बताया कि जब सिमरन 10 माह की थी, तब वे और उनकी पत्नी प्रियंका उसे लेकर माउंट आबू से अहमदाबाद जा रहे थे। पालनपुर के पास ट्रक ने उनकी कार को टक्कर मार दी थी, जिसमें तीनों घायल हो गए थे। लंबे उपचार के बाद पति पत्नी तो ठीक हो गई थी, लेकिन सिमरन को मेजर स्पाइनल इंजरी हुई और ऑपरेशन के बाद उसकी गर्दन से नीचे के हिस्से ने काम करना बंद कर दिया था। इसके बाद लगातार फिजियोथैरेपी व अन्य मेडिकल गतिविधियों से अब सिमरन का कमर तक का हिस्सा काम करने लगा है, लेकिन टांगें अभी भी काम नहीं कर पाती। headtopics.com

होश संभालने के बाद सिमरन ने शूटिंग को चुनाबृजेश शर्मा ने बताया कि सिमरन जब 5 साल की थी, तभी से वह फिल्मों में अभिनेता व अभिनेत्रियांें को गोली चलाते देख रही है। इससे उसे भी शूटिंग करने का शौक हो गया और उसने शूटिंग की प्रैक्टिस करनी शुरू कर दी। सिमरन अब पैरालंपिक खेलों में हिस्सा लेती है। उसका छह साल का छोटा भाई श्लोक शर्मा है। मूलरूप से राजस्थान के जयपुर के रहने वाले बृजेश शर्मा अब हरियाणा के निवासी हो गए हैं। वह एक कार कंपनी में काम करते हैं, जबकि पत्नी प्रिंयका शर्मा कंप्यूटर इंजीनियर हैं।

मां ही निभाती हैं कोच का दायित्वबृजेश शर्मा ने बताया कि सिमरन की मां प्रियंका ही उसकी कोच होने का दायित्व भी निभाती हैं। पैरालंपिक शूटिंग कमेटी के चेयरमैन नोटियाल और नेशनल पैरालंपिक शूटिंग कोच सुभाष राणा, दीपक सैनी की देखरेख में सिमरन लगातार प्रशिक्षण ले रही है। हाल ही में मानव रचना शूटिंग एकेडमी में संपन्न हुई पैरालंपिक नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में सिमरन ने कांस्य पदक पर निशाना लगाया। उसने ये पदक 10 मीटर राइफल स्टैंडिंग महिला सीनियर वर्ग में जीता है। आगे चलकर वह पैरालंपिक खेलों मंे दुिनया में भारत का नाम रोशन करना चाहती है। खास बात ये है कि सिमरन केवल शूटिंग में ही नहीं, बल्कि तैराकी में भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुकी है।

प्रमुख उपलब्धियां- 23 से 27 फरवरी को CRPF कादरपुर गुरुग्राम रेंज में आयोजित ऑल जोनल पैरा शूटिंग चैंपियनशिप में 10 मीटर राइफल स्टैंडिंग महिलाओं की प्रतियोगिता में एक गोल्ड मेडल जीता। - 10 मीटर राइफल प्रोन मिक्स में 1 सिल्वर और 50 मीटर राइफल प्रोन मिक्स इवेंट में भी एक सिल्वर मेडल जीता। - पिछले साल करनाल में आयोजित राज्यस्तरीय तैराकी चैंपियनशिप भी जीती थी। जिसमें उसे 50 मीटर फ्री स्टाइल में गोल्ड और 50 मीटर ब्रेस्ट स्ट्रोक में कांस्य पदक मिला।

और पढो: Dainik Bhaskar »

बढ़ते Corona केस, अस्पताल, वैक्सीन से लेकर नाइट कर्फ्यू तक, देखें राज्य की रणनीति पर क्या बोले CM Khattar

कोरोना संकट देशभर में गहराता जा रहा है. बढ़ते संक्रमण के बीच आज तक ने कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों से उनकी रणनीतियों पर चर्चा की. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कोरोना के खिलाफ अपनी रणनीति पर कहा कि बढ़ते कोरोना केस राज्य के लिए चिंताजनक है. उन्होंने कहा कि सीमा बंद करना हल नहीं है. उन्होंने अस्पतालों के प्रबंधन पर कहा हम पूरी तरह से तैयार हैं. जिन ड्यूटीज पर पहले लोगों को लगाया गया था लोग वापस उस ड्यूटी पर आ गए हैं. अस्पतालों में बेड की संख्या पर्याप्त है. सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि कोरोना कर्फ्यू पर आज फैसला ले सकते हैं. वैक्सीन के संकट पर उन्होंने कहा कि राज्य में पर्याप्त संख्या में वैक्सीन है. देखें खास इंटरव्यू, रोहित सरदाना के साथ.