Maharashtraassemblypolls, Election, Assembly Election, Maharashtra Assembly Election, Maharashtra Vidhan Sabha Chunav, Shivsena, Ncp, Congress, Sonia Gandhi, Sharad Pawar, Devendra Fadnavis, Uddhav Thackeray, Sanjay Raut, Bala Saheb Thakrey, Aditya Thakre

Maharashtraassemblypolls, Election

महाराष्ट्र: सोनिया, पवार और गठबंधन की पहेली

महाराष्ट्र: सोनिया, पवार और गठबंधन की पहेली #MaharashtraAssemblyPolls

19.11.2019

महाराष्ट्र: सोनिया, पवार और गठबंधन की पहेली MaharashtraAssemblyPolls

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर सोनिया गांधी के इस समय तीन अहम सलाहकार हैं, अहमद पटेल, एके एंटनी और सुशील कुमार शिंदे।

लेकिन साथ ही साथ सोनिया गांधी के अंदर का राजनेता ये भी नहीं चाहता कि कांग्रेस के प्रमुख प्रतिद्वंद्वी बीजेपी को महाराष्ट्र में सरकार बनाने से रोकने का मौका हाथ से जाने दिया जाए। कांग्रेस की मुखिया होने के नाते वो जानती हैं कि महाराष्ट्र का करीब-करीब हर एक कांग्रेसी एमएलए चाहता है कि प्रदेश में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन सरकार बने।

राजनीतिक पिच पर 'दूसरा' फेंकने की पवार की इसी कला के कारण ही तो उन्हें राजनीति में दिग्गज कहा जाता है। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो पूरी तरह विश्वास करने योग्य न होना पवार के लंबे राजनीतिक करियर का एक प्रमुख हिस्सा रहा है।

पवार ने खामोशी से राव कैबिनेट में रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाल ली, लेकिन इस उम्मीद के साथ कि राव की खराब सेहत या राजनीतिक मजबूरी के कारण जल्द ही वो कांग्रेस के अध्यक्ष बन सकते हैं या फिर प्रधानमंत्री की कुर्सी उन्हें मिल सकती है।

15 मई 1999 को दिल्ली में रकाबगंज स्थित अपने सरकारी आवास पर पवार ने एक दावत दी। सबने यही सोचा था कि सोनिया गांधी के जरिए उन्हें जयललिता और दूसरे सहयोगी से बातचीत की जिम्मेदारी दिए जाने की खुशी में पवार ने दावत दी है।

ठीक दो दिनों के बाद जब कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में हर कोई गोवा विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों को फाइनल करने में लगा था ताकि क्रिकेट विश्वकप में भारत और इंग्लैंड का मैच देखा जा सके तभी शरद पवार मुस्कराए और पीए संगमा ने कहना शुरू किया कि बीजेपी ने सोनिया गांधी के विदेशी मुद्दे को जिस तरह से उठाया है उसका असर दूर-दराज के गांव-देहात में देखा जा रहा है।

सुनने में ये बात भले ही विरोधाभासी लगे, लेकिन मौजूदा कांग्रेस नेतृत्व महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर ऐसे ही चिंतित नहीं है। ऊपर से तो ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी चाहती हैं कि महाराष्ट्र में कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना गठबंधन की सरकार बने लेकिन अगर इस तरह की गठबंधन सरकार नहीं भी बन पाती है तो वो ज्यादा परेशान नहीं होंगी।

अगर शिवसेना के प्रस्ताव को कांग्रेस ने एक सिरे से खारिज कर दिया होता तो इस बात की पूरी आशंका है कि पार्टी के महाराष्ट्र यूनिट में बगावत हो जाती। इसीलिए सोनिया की सबसे बड़ी चुनौती इस समय यही है कि वो गठबंधन की राजनीति से अपनी स्वाभाविक असहजता और महाराष्ट्र में पार्टी को एकजुटता दोनों में कैसे तालमेल बिठा कर रखें।

महाराष्ट्र में एक वैकल्पिक सरकार के लिए गठबंधन तैयार करने में पवार एक मुख्य प्लेयर की तरह देखे जा रहे थे, लेकिन तभी उन्होंने इस बारे में दोबारा सोचना शुरू किया। अब तक पवार ने अपने सारे पत्ते नहीं खोले हैं लेकिन शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन सरकार के बनने में देरी इस बात की तरफ इशारा कर रहा है कि कुछ तो गड़बड़ है और सोनिया और पवार मिलकर चाहते हैं कि बीजेपी कम से कम एक बार और सरकार बनाने की कोशिश करे।

पवार ने खामोशी से राव कैबिनेट में रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाल ली, लेकिन इस उम्मीद के साथ कि राव की खराब सेहत या राजनीतिक मजबूरी के कारण जल्द ही वो कांग्रेस के अध्यक्ष बन सकते हैं या फिर प्रधानमंत्री की कुर्सी उन्हें मिल सकती है।

जब जैन हवाला कांड सामने आया तो उस समय किसी ने तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री शंकरराव चाव्हाण से पूछा कि जैन हवाला कांड में पवार का नाम क्यों नहीं आया तो गृहमंत्री का जवाब था, ''क्या आप नहीं जानते हैं कि हवाला का सारा कारोबार विश्वास पर होता है?''

उन्होंने कहा कि वो पिछले कई वर्षों में अपने क्षेत्र बारामती में शरद सीडलेस के नाम से एक खास तरह का अंगूर उगा रहे हैं जिससे वो शराब बनाते हैं।

और पढो: Amar Ujala

साफ हो सकती है महाराष्ट्र में सरकार की तस्वीर, सोनिया और पवार की बैठक आज!एनसीपी ( NCP ) प्रमुख और कांग्रेस ( Congress ) की अंतरिम अध्यक्ष के बीच रविवार को होनी थी बैठक लेकिन बाद में टाल दी गई. अब सोमवार को बैठक होने की संभावना है. | maharashtra News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी घड़ी चल रही है समय साथी बदल रहे है विचार धाराएं बदल रही है सत्ता के लिए नये समझौते हो रहे हैं मलाईदार मंत्रालयों की बंदरबांट हो रही है ये तीनो 20 दिनों से ऐसा व्यवहार कर रहे हैं जैसे ये 1975 का कालखंड हो, और आपातकाल के कारण ये लोग मिल नहीं पा रहे हैं

महाराष्ट्र: सोनिया, पवार और गठबंधन की पहेलीमहाराष्ट्र में सरकार गठन की मुश्किलों पर पढ़ें रशीद क़िदवाई का नज़रिया.

सोनिया गांधी के साथ शरद पवार की बैठक आज, महाराष्ट्र में सरकार गठन पर होगी चर्चामाना जा रहा है कि इस मुलाकात के बाद महाराष्ट्र में बनने जा रही शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी सरकार को लेकर तस्वीर साफ हो जाएगी. INCIndia BJP4India थूक कर चात ने वाले है कोभाड और भष्टाचार करने का मौका मिल रहा है छोड़ने वाले नही है शिवसेना ने जनादेश का अपमान किया है INCIndia BJP4India NCP congaress mil ke shivSena ko khatm karne ki soche hai aor khatam bhi karenge dekh Lena thode din ke bad shivsena ka Kya hoga INCIndia BJP4India स्वार्थीओ की बैठक ऐसे ही चलते रहती है।चोर डाकू अलग होते है एक दूसरे के दुश्मन बनते है वजह धन का असमान्य वितरण होना।पवार को कोंग्रेस से अलग होना भी कुछ ऐसा ही है।फिर मजबूरी है एक साथ मुंडी जोड़ने की

सोनिया गांधी से आज मिलेंगे शरद पवार, महाराष्ट्र की उठापटक का निकलेगा नतीजा!एनसीपी प्रमुख शरद पवार इसी सिलसिले में आज कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे. इस दौरान शिवसेना को समर्थन देने सहित तमाम मुद्दों पर चर्चा किए जाने की संभावना है. are pappu ko cm banado maharastra ka jhhamela khatam i think, they are getting used only. even if they are able to make govt, it will be a big loss for Cong in entire nation & Shivsena in Mah just falling in trap...which will be start of end game of many parties future

महाराष्ट्र Update: सोनिया गांधी से मुलाकात करने 10 जनपथ पहुंचे एनसीपी प्रमुख शरद पवारमहाराष्ट्र Update: सोनिया गांधी से मुलाकात करने 10 जनपथ पहुंचे एनसीपी प्रमुख शरद पवार INCIndia SharadPawar SoniaGandhi MaharashtraPolitics INCIndia failed attempt by ss

महाराष्ट्र: सोनिया से मिलकर पवार बोले- सरकार बनाने पर किसी से बात नहीं हुईBreaking News:- शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की अभी तक कोई चर्चा नहीं हुई हैं:- शरद_पवार...!!! : हमारा सवाल:- फिर rautsanjay61 170 विधायकों के समर्थन का दावा..क्या पोर्किस्तान से लेकर घूम रहे हैं :. वैसे शिवसेनीक झूठ नहीं बोलते.. 🤔🤔🤔 उद्धव और राऊत को हार्ट अटैक करवा कर ही मानेंगे शरद पवार साहब😊 तो इतने दिनों संजय राउत बिना वजह की शायरी कर रहे है ☺️

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

20 नवम्बर 2019, बुधवार समाचार

पिछली खबर

भूटान घूमना हो सकता है महंगा, सरकार भारतीयों से फीस वसूलने की तैयारी में

अगली खबर

सेना में महिलाओं के लिए कमीशन पर जल्द फैसला ले सरकार, वरना हम आदेश देंगे: सुप्रीम कोर्ट