महाराष्ट्रः कोरोना से मरे लोगों के परिजनों को 50 हजार देने का ऐलान

गंगा में उतराती लाशों का जिक्र कर लोगों ने योगी सरकार से किया ये सवाल

Maharashtra Government, Maharashtra Corona Compensation

26-11-2021 21:23:00

गंगा में उतराती लाशों का जिक्र कर लोगों ने योगी सरकार से किया ये सवाल

कांग्रेस इसी तरह की मांग केंद्र सरकार के साथ-साथ अन्य राज्यों में भी कर रही है। महाराष्ट्र सरकार की इस घोषणा के बाद से सोशल मीडिया पर योगी सरकार निशाने पर आ गई है।

कोरोना मृतकों के परिवारों को महाराष्ट्र सरकार देगी मुआवजा (एक्सप्रेस फाइल फोटो)महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने कोरोना महामारी में मारे गए लोगों के परिजनों को 50-50 हजार रुपये देने की घोषणा की है। राज्य के राजस्व विभाग ने सरकार की ओर से ये जानकारी दी है।उद्धव सरकार

अभी और बढ़ेगा कोरोना का खतरा! एक्सपर्ट का दावा- Omicron के बाद आएंगे और भी नए Variants

की ये घोषणा कांग्रेस विधायक दल के उस पत्र के बाद आई है, जिसमें कोरोना से मरने वालों के परिवारों को एक-एक लाख रुपये देने का आग्रह किया गया था। कांग्रेस इसी तरह की मांग केंद्र सरकार के साथ -साथ अन्य राज्यों में भी कर रही है। महाराष्ट्र सरकार की इस घोषणा के बाद से सोशल मीडिया पर योगी सरकार निशाने पर आ गई है।

लोग यूपी में भी इस तरह का मुआवजा देने की मांग कर रहे हैं। लोग योगी सरकार से गंगा में उतराती लाशों का जिक्र करते हुए सवाल पूछ रहे हैं। ट्वीटर यूजर दुष्यंत द्विवेदी (@DushyantDiwvedi) ने लिखा- “अच्छा निर्णय। अब मदद देने के लिए यूपी ही बचा, जहां गंगा में लाशें तैर रही थीं”। headtopics.com

इसी के साथ कुछ यूजर ने इस मुआवजे को नकाफी भी बताया। विपिन जैन (@vj17061985) ने लिखा- इतना कम कैसे, जो मर गए उसके लिए सिर्फ 50 हजार, कम से कम अपने सत्तारूढ़ साथी को सुनें जिसने कहा कि राज्य सरकार द्वारा 1 लाख दिया जाना चाहिए। वास्तव में यह राज्य सरकार द्वारा न्यूनतम 5 लाख होना चाहिए।

किसी की मर्जी के बिना कोविड टीकाकरण नहीं कराया जा सकता: सुप्रीम कोर्ट में बोली केंद्र सरकार

Also Readनई दिल्लीः लालू यादव की तबियत फिर से बिगड़ी, बुखार व थकान होने पर एम्स के इमरजेंसी वार्ड में दाखिलराज्य सरकार की ओर से कहा गया कि इस मुआवजे के वितरण के लिए एक स्वतंत्र पोर्टल बनाया जाएगा। जहां पीड़ित परिवारों को आवेदन करना होगा। उसके बाद जरूरी प्रकिया पूरी करके मुआवजे की राशि दे दी जाएगी। कुछ अन्य राज्यों में इसी तरह से मुआवजे दिए जा रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र सरकार की उस योजना को मंजूरी दे दी है, जिसके अनुसार कोरोना से मृत नागरिकों के परिवारों को 50 -50 हजार रुपये दिए जाएंगे।

बता दें कि कोरोना से ज्यादा प्रभावित राज्यों में महाराष्ट्र भी शामिल है। राज्य में अभी तक एक लाख 40 हजार मौतें हुईं है। वहीं कांग्रेस ने कोरोना मृतकों के परिवारों के लिए कम से कम चार लाख के मुआवजे की मांग की है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कांग्रेस शासित राज्यों में भी मुआवजे की राशि को बढ़ाने के लिए कहा है।

और पढो: Jansatta »

UP Chunav 2022: Akhilesh Yadav के दांव से BJP को बड़ा झटका? देखें स्पेशल रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश से आज दो तस्वीरें सामने आईं. एक तस्वीर गोरखपुर में दलित के घर योगी आदित्यनाथ के खिचड़ी भोज की आई और दूसरी तस्वीर लखनऊ में बीजेपी के बागियों के समाजवादी पार्टी में शामिल होने की. आज स्पेशल रिपोर्ट में हम आपको तस्वीरों के सियासी मतलब बताएंगे, यानी चुनाव से पहले इन तस्वीरों के मयाने क्या हैं? चुनाव से पहले टीम योगी के कई खिलाड़ी पाला बदल चुके हैं. अब ये मैच किसके लिए टफ होगा, किसके लिए आसान, ये देखना दिलचस्प होगा.

पीड़ित परिवार छोड़ेंगे नहीं

ममता बनर्जी से मुलाकात के बाद भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी मोदी सरकार को असफल बतायाबीते कुछ दिनों से भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना करते हुए नज़र आ रहे हैं. उन्होंने कहा है कि मोदी सरकार अर्थव्यवस्था और सीमा सुरक्षा के क्षेत्र में विफल रही है. महंगाई पर स्वामी के एक ट्वीट पर एक उपयोगकर्ता ने कहा था कि यह पूरी तरह से ‘मोदीनॉमिक्स’ है. इसके जवाब में उन्होंने कहा था कि या ये ‘मोदीकॉमिक्स’ है, क्योंकि वह अर्थशास्त्र नहीं जानते हैं. पार्टी बदल लिया....

कृषि कानून वापसी के लिए शीतकालीन सत्र के पहले दिन संसद में बिल लाएगी मोदी सरकारकिसानों को भरोसा देने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी तीनों विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त करने के अपने वादे को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए तैयार हैं. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 24 नवंबर (बुधवार) को इसे वापस लेने की मंजूरी दे दी है. PoulomiMSaha कृषि कानून वापसी का भावुकता मे लिया गया फैसला गलत है।मोदी जी को छोटे किसानों के हित मे लाया गया बिल वापस नही लेना था।

दो सरकारी बैंकों के निजीकरण के लिए क़ानून लाएगी मोदी सरकार: रिपोर्ट - BBC Hindiवित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने साल 2021-22 का बजट पेश करने के दौरान सरकार की विनिवेश अभियान के तहत सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण की घोषणा की थी. पता नही पंक्चर बनाने वालों को बैंकों के निजीकरण से क्या दिकत है...बाकी ये निर्णय बहुत ही अच्छे है चाहे पिछली सरकार ने किए या वर्तमान कर रही है इस से प्रतिभाओं को रोजगार मिलेंगे 👍 जो आरक्षण की भेंट चढ़ जाती थी 👍 और कर्मचारी सरकारी लाभ उठा पाएंगे 😂🤣 क्या वो बैंक SBI और PNB हैं।

CBI के विशेष निदेशक प्रवीण सिन्हा इंटरपोल की समिति के लिए निर्वाचित, चीन से था मुकाबलाप्रवीण सिन्हा इंटरपोल की कार्यकारी समिति में एशिया के प्रतिनिधि चुने गये। चुनाव कठिन था जिसमें भारत का मुकाबला चीन, सिंगापुर, कोरिया गणराज्य और जॉर्डन के चार अन्य उम्मीदवारों से था।

हिमालय के नीचे प्लेटों के खिसकने से उत्तराखंड में ग्लेशियर ने बदला था रास्ताः स्टडीहिमालय की गोद में स्थित उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में करीब 10 से 20 हजार साल पहले टेक्टोनिक हलचल की वजह से एक बड़े ग्लेशियर ने अपना रास्ता बदल लिया. ये कोई एक बार में होने वाली घटना नहीं थी. टेक्टोनिक हलचल और जलवायु परिवर्तन की वजह से धीरे-धीरे एक अनजान ग्लेशियर ने रास्ता बदलकर पहाड़ के दूसरी तरफ मौजूद ग्लेशियर का हाथ थाम लिया. इस समय इस अनजान ग्लेशियर की लंबाई 5 किलोमीटर है.

शुभमन के अर्धशतक से शुरु हुआ दिन जड़ेजा के 50 पर रुका, आज यह होगी रणनीतिशुभमन के अर्द्धशतक से शुरु हुआ दिन जड़ेजा के 50 पर रुका, आज यह होगी रणनीति Cricket INDvNZ KanpurTest