Freedumfighter, Chandrashekharazad, Allahabad-City-Politics, Chandrashekhar Azad, Freedum Fighter Chandrashekhar Azad, Political Rhetoric On Azad Statue, Prayagraj Circuit House, Bhartiya Janta Party, Up Politics, Allahabad News, Prayagraj News, क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजार, आजाद प्रतिमा पर राजनीति, प्रयागराज सर्किट हाउस, Uttar Pradesh News

Freedumfighter, Chandrashekharazad

महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर भी राजनीतिक बयानबाजी शुरू, जानें पूरा मामला

महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर भी राजनीतिक बयानबाजी शुरू, जानें पूरा मामला #FreedumFighter #ChandrashekharAzad

24-07-2021 09:00:00

महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर भी राजनीतिक बयानबाजी शुरू, जानें पूरा मामला FreedumFighter ChandrashekharAzad

भाजपा के महानगर अध्यक्ष गणेश केसरवानी ने कहा कि भाजपा की सरकार बनी तब अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा को सम्मान दिलाया गया। उसके बाद ही यह प्रतिमा सर्किट हाउस में लगी। सर्किट हाउस को अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद सर्किट हाउस के नाम से भी जाना जाने लगा।

प्रयागराज के सर्किट हाउस में लगी चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर भी राजनीतिक बयानबाजी शुरू हो गई है। भाजपा के महानगर अध्यक्ष गणेश केसरवानी ने कहा कि सपा और बसपा के शासनकाल में इस प्रतिमा का अपमान हो रहा था। भाजपा ने आगे आकर अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा को उसका सम्मान दिलाया। अतीत में जाते हुए भाजपा नेता ने कहा कि भाजपा पार्षद किरन जायसवाल के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की ओर से लगातार छह साल आंदोलन हुआ। इसके बाद भी सपा और बसपा की सरकार ने वीर सपूत आजाद की प्रतिमा को राजनैतिक द्वेष के कारण सम्मान नहीं दिया। इस तरह की नकारात्मक राजनीति कभी भी देश और समाज के हित में नहीं होती। इस बात को विपक्षी दल समझने को तैयार नहीं है।

जब संसद गूंगी-बहरी हो जाती है तो सड़क की आवाज सुनाई देती है : NDTV से किसान नेता राकेश टिकैत आरोपी ओसामा का पिता मास्टरमाइंड, चाचा भी ISI Terror Module का हिस्सा! Taliban में आपसी सिर-फुटौव्वल, भुखमरी की कगार पर आम अफगान! देखें ताजा हालात

भाजपा के शासन काल में मिला सम्मान : महानगर अध्‍यक्ष और पढो: Dainik jagran »

हल्ला बोल: Mumbai में रह रहे आतंकी की गिरफ्तारी पर क्यों सुलग उठी सियासत?

मुंबई में रह रहे आतंकवादी जान मोहम्मद की गिरफ्तारी को लेकर सियासत सुलगने लगी है. महाराष्ट्र बीजेपी ने उद्धव सरकार पर निशाना साध लिया और पूछा कि क्या राज्य की एजेंसियां सो रही थीं और क्या आतंकी के एक खास मजहब के होने का उसे फायदा मिला? उद्धव सरकार ने बीजेपी के आरोपों को खारिज किया है. आतंक के इन छह सौदागरों ने नापाक साजिश का पूरा ब्लूप्रिंट तैयार कर रखा था, डी कंपनी से फंडिंग हो चुकी थी. छह में से दो ने पाकिस्तान के उस फार्म हाउस मेंजाकर ट्रेनिंग भी पूरी कर ली थी जहां अजमल कसाब को ट्रेनिंग दी गई थी. पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI इन सबका रिमोट अपने हाथ में ले चुकी थी. साजिशों को अंजाम देने के लिए बस नवरात्रों का इंतजार था, लेकिन दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने नापाक मंसूबों पर पानी फेर दिया. देखिए हल्ला बोल का ये एपिसोड.

अंग्रेज अफसर को गिफ्ट कर दी गई थी चंद्रशेखर आजाद की पिस्तौलपुलिस अधीक्षक सर जॉन नॉट बावर के रिटायर होने के बाद सरकार ने चंद्रशेखर आजाद की पिस्तौल उन्हें उपहार में दे दी और वो उसे अपने साथ लेकर इंग्लैंड चले गए।

जब चंद्रशेखर आजाद के अस्थिकलश से चुटकी भर राख लेने को उमड़ पड़े थे लोगChandra Shekhar Azad Birth Anniversary चंद्रशेखर आजाद की जन्मतिथि (23 जुलाई) है और देश उन्हें याद कर रहा है। आजाद का कथन था‘बलं वाव भूयोअपि ह शतं विज्ञानवतामेको बलवानाकम्प्यते’ अर्थात बलशाली बनो एक बलशाली सौ विद्वानों को कंपा देता है। महान देशभक्त को शत शत नमन। DivyaSoti 'भारत की फ़िज़ाओं को सदा याद रहूँगा आज़ाद था,आज़ाद हूँ,आज़ाद रहूँगा' महान क्रांतिकारी शहीद चन्द्रशेखर आजाद जी की जयंती पर कोटि कोटि नमन्। जियो_तिवारी_जनेऊधारी coolfunnytshirt

इमरान का राग: कहा- कश्मीर के लोग पाक के साथ आना चाहते हैं या आजाद राष्ट्र, उनका फैसला होगाप्रधानमंत्री इमरान खान ने शुक्रवार को कहा कि इस्लामाबाद कश्मीर की जनता को यह फैसला लेने देगा कि वे पाकिस्तान के साथ Abe ab to sudhar jao... बलूचिस्तान और सिंध के लोग क्या चाहते है ये भी तो बताए

अंग्रेज अफसर को गिफ्ट कर दी गई थी चंद्रशेखर आजाद की पिस्तौलपुलिस अधीक्षक सर जॉन नॉट बावर के रिटायर होने के बाद सरकार ने चंद्रशेखर आजाद की पिस्तौल उन्हें उपहार में दे दी और वो उसे अपने साथ लेकर इंग्लैंड चले गए।

चीन ने कोरोना कैसे शुरू हुआ, इसकी नई जाँच की योजना पर जताई हैरानी - BBC Hindiचीन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन की कोरोना महामारी के जन्म के बारे में जाँच की नई योजना को ठुकरा दिया है.

गाजियाबाद: मोबाइल लूट की FIR लिखने खुद थाने पहुंच गए SSP, जानिए क्या है पूरा मामलागाजियाबाद के थाना मसूरी क्षेत्र में छात्रा खुशी गहलोत के मोबाइल की लूट की रिपोर्ट लिखने और केस दर्ज करने के लिए खुद गाजियाबाद के एसएसपी अमित पाठक मसूरी थाने पहुंच गए और उन्होंने अपने हाथों से पीड़िता की रिपोर्ट लिखी.