Mehboobamufti, Satyapalmalik, Roshniact, Jammukashmir, महबूबामुफ्ती, रोशनीएक्ट, जम्मूकश्मीर, सत्यपालमलिक

Mehboobamufti, Satyapalmalik

महबूबा ने अपमानजनक टिप्पणी को लेकर राज्यपाल सत्यपाल मलिक को क़ानूनी नोटिस भेजा

महबूबा ने अपमानजनक टिप्पणी को लेकर राज्यपाल सत्यपाल मलिक को क़ानूनी नोटिस भेजा #MehboobaMufti #SatyapalMalik #RoshniAct #JammuKashmir #महबूबामुफ्ती #रोशनीएक्ट #जम्मूकश्मीर #सत्यपालमलिक

24-10-2021 01:30:00

महबूबा ने अपमानजनक टिप्पणी को लेकर राज्यपाल सत्यपाल मलिक को क़ानूनी नोटिस भेजा MehboobaMufti SatyapalMalik RoshniAct JammuKashmir महबूबामुफ्ती रोशनीएक्ट जम्मूकश्मीर सत्यपालमलिक

जम्मू कश्मीर के पूर्व और वर्तमान में मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कथित तौर पर कहा था कि पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ़्ती को रोशनी योजना का लाभ मिला था. मुफ़्ती ने एक क़ानूनी नोटिस भेजकर 10 करोड़ रुपये के मुआवजे़ की मांग की हैं. साल 2001 में लागू रोशनी योजना का उद्देश्य राज्य की ज़मीन पर क़ब्ज़ा रखने वाले लोगों को शुल्क के एवज में उसका मालिकाना हक़ देना था. हालांकि हाईकोर्ट ने इसे असंवैधानिक बताते हुए रद्द कर दिया था.

पीडीपी प्रमुख ने दो दिन पहले ट्वीट किया था, ‘मेरे बारे में रोशनी अधिनियम का लाभार्थी होने के बारे में सत्यपाल मलिक का झूठा और बेहूदा बयान बेहद शरारतीपूर्ण है. उनके पास अपनी टिप्पणी वापस लेने का विकल्प है, जिसमें नाकाम रहने पर मैं कानून का सहारा लूंगी.’

बिहार: 16 लोगों की आंखें क्यों निकाली गईं, अब क्या है उनका हाल - BBC News हिंदी दुर्दशा: 1123 किलो प्याज बेचने वाले किसान के हाथ में आए सिर्फ 13 रुपये, जानिए पूरा मामला ये ओमिक्रॉन सबको मार डालेगा: डॉक्टर ने दस पन्नों का सुसाइड नोट लिख पत्नी और दो बच्चों को दी दर्दनाक मौत

उल्लेखनीय है कि महबूबा ने एक वीडियो साझा किया, जिसमें मलिक यह दावा करते देखे जा सकते हैं कि नेशनल कांफ्रेंस नेता फारूक अब्दुल्ला, उनके बेटे उमर अब्दुल्ला और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती को रोशनी योजना के तहत भूखंड मिला था.साल 2001 में रोशनी योजना फारूक अब्दुल्ला सरकार लेकर आई थी, जिसका उद्देश्य राज्य की जमीन पर कब्जा रखने वाले लोगों को शुल्क के एवज में उसका मालिकाना हक देना था. इससे मिली राशि का उपयोग राज्य में जल विद्युत परियोजनाओं की स्थापना के लिए किया जाना था. इसीलिए इसका नाम रोशनी कानून रखा गया था.

अब्दुल्ला सरकार ने इसके लिए साल 1990 को आधार वर्ष माना था. इसका मतलब था कि 1990 से पहले जो लोग सरकारी जमीन पर काबिज थे, वे ही इसका लाभ उठा सकेंगे.इसके साथ ही भूमि का मालिकाना हक उसके अनधिकृत कब्जेदारों को इस शर्त पर दिया जाना था कि वे बाजार भाव पर सरकार को भूमि की कीमत का भुगतान करेंगे. headtopics.com

रोशनी कानूनवर्ष 2001 में लागू किया गया था, जिसके तहत राज्य में करीब 20.55 लाख कनाल (करीब 1,02,750 हेक्टेयर) सरकारी जमीन पर रहने वाले लोगों को इसका मालिकाना हक देने की योजना थी और यह मालिकाना हक देने के लिए सिर्फ 15.85 प्रतिशत भूमि ही मंजूर की गई थी.साल 2014 में कैग ने इसे 25 हज़ार करोड़ का घोटाला करार दिया था. उसके बाद अक्टूबर, 2020 में जम्मू कश्मीर हाईकोर्ट ने

रोशनी कानून को असंवैधानिक बताते हुए रद्दकर दिया था और सीबीआई जांच के आदेश दे दिए हैं.हाईकोर्ट के आदेश के बाद केंद्र शासित प्रशासन ने इस कानून को पूरी तरह से खत्म कर दिया और एक नवंबर 2020 को रोशनी कानून के तहत सभी जमीन हस्तांतरण को रद्द कर दिया.इससे पहले नवंबर 2018 में हाईकोर्ट ने रोशनी कानून के लाभार्थियों को उन्हें हस्तांतरित जमीन को बेचने या कोई अन्य ट्रांजेक्शन करने से रोक दिया था. इसके बाद

.(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ) और पढो: द वायर हिंदी »

शंखनाद: Samajwadi Party की साइकिल पर बैठेंगी कितनी सवारी?

जैसे जैसे दिन बीत रहे हैं, उत्तर प्रदेश का रण धारदार होता जा रहा है, सत्ता पक्ष और विपक्ष अपने-अपने दल को बढ़ाने में लगे हुए हैं, गठबंधनों का दौर चल रहा है. इसी कड़ी में आज कांग्रेस की बागी नेता अदिति सिंह आज बीजेपी में शामिल हुईं तो दूसरी ओर आम आदमी पार्टी के संजय सिंह ने अखिलेश यादव से मुलाकात की. साथ ही कृष्णा पटेल वाली अपना दल पार्टी ने भी समाजवादी का दामन थाम लिया. यूं समझिए कि गठबंधन वाली राजनीति बहुत तेजी से विस्तारित हो गई है, ताकि पार्टियां अपने विरोधियों को मात दे सकें. देखिए शंखनाद का ये एपिसोड.

सही बोलने की सजा है वह तो मिलेगी भाई यही तो इस देश में हो रहा है जो सच बोल रहा है वह कानून के शिकंजे में

IPL 2022 के ऑक्शन में शामिल होने के लिए मैनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक ने जताई दिलचस्पीबीसीसीआई को आईपीएल के अगले पांच साल के टेंडर में तकरीबन पांच अरब डॉलर की कमाई हो सकती है। वहीं आईपीएल 2022 के ऑक्शन में शामिल होने के लिए फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक ने भी दिलचस्पी जताई है।

10 तक: हत्यारों ने दी महिला को दर्दनाक मौत, जमवारामगढ़ हत्याकांड को लेकर गेहलोत सरकार घिरीराजस्थान के जयुपर में 55-वर्षीय महिल गीता देवी की निर्मम हत्या से सनसनी मच गई है. हत्यारों ने महिला को कुल्हाड़ी से हमला भी किया. साथ में महिला के पैर कांट दिए. जांच के लिए पुलिस ने 30 टीमें लगा दी हैं. यानि 300 पुलिसवाले लगा दिए हैं. लेकिन तीन दिन बाद भी अब तक ना पैर काटकर जयपुर में महिला की पायल लूटने वाले अपराधियों की पता चला ना ही इस परिवार के पास किसी सक्षम मंत्री-अधिकारी के पहुंचने का पता चला. बीजेपी के नेता राज्यवर्धन सिंह राठौड़ परिवार से मिलने के बाद गेहलोत सरकार को घेरा है. देखें वीडियो. AnkurWadhawan Waiting for pappu and papiha to visit Rajasthan and meet family of victim फेकू सरकार पुष्पक विमान कब लॉन्च होगा

WWE Crown Jewel 2021 Results: रोमन रेंस ने लैसनर को हराया, जानिए सभी मैचों के रिजल्टWWECrownJewel2021 Results: रोमन रेंस ने ब्रॉक लैसनर को दी मात, गोल्डबर्ग ने बॉबी लैश्ले को हराया; यहां देखिए सभी मैचों के रिजल्ट RomanReigns BrockLesnar BobbyLashley Goldberg Edge SethRollins WinnersList PaulHeyman

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद महिला अधिकारियों की बड़ी जीत, 39 को मिला परमानेंट कमीशनपरमानेंट कमीशन मिलने के बाद अब ये महिला अधिकारी सेवानिवृत्ति की उम्र तक भारतीय सेना में अपनी सेवाएं दे सकेंगी। जबकि शॉर्ट सर्विस कमीशन के अंतर्गत महिला अधिकारी सिर्फ 10 साल तक ही अपनी सेवाएं दे सकती हैं।

BJP ने हिंदुस्तान को बांटा, Farooq Abdullah ने फिर अलापा धारा 370 का रागअमित शाह के कश्मीर दौरे पर फारुख अब्दुल्ला ने आज तक संवाददाता सुनील जी भट्ट से एक्सक्लूसिव बात की है. फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि जब तक धारा 370 की वापसी नहीं होती, घाटी में शांति नहीं लौटने वाली है. शाह के दौरे पर बोले फारुख- वो आए हैं तो यहां की स्थिति देखें. जो लोग कहते थे 370 हटने के बाद स्थिति ठीक हो गई है, उन्हें अब जवाब देने की जरूरत है. बीजेपी जो कहती थी वो घाटी में कर नहीं सकी. शाह को उन मुस्लमानों के घर जाना चाहिए जिन्हें आतंकियों ने मारा है. बीजेपी ने हिंदुस्तान को बांटा है. आज चुनाव जीतने के लिए बीजेपी हिंदू को अलग और मुस्लमान को अलग कर रहे हैं. देखें वीडियो. फ़ारुक अब्दुल्ला कितने हिंदूओ के घर गये जिनकी हत्या जिहादीओ द्वारा की गई बताओ फ़िर ग्रहमन्त्री को मुस्लिम परिवारो मे जाने की नशीहत देना पैर कब्र में निगाहें तख्त पर Iska matlab kashmir pakistan me Mila diya jaye to tumhe shanti milegi?

दिल्ली के हजारों कर्मचारियों को तोहफा, सैलरी के साथ मिलेगा दीवाली बोनसकहा गया है ‘बोनस का भुगतान न करना एक गंभीर मुद्दा है और सभी प्रमुख नियोक्ताओं से आग्रह किया जाता है कि वे आगामी त्योहारों के सीजन में अपने ठेकेदारों द्वारा आउटसोर्स किए गए श्रमिकों / कर्मचारियों को बोनस का वितरण सुनिश्चित करें।’