मद्रास हाईकोर्ट ने चोल वंश की आलोचना करने पर फिल्मकार के ख़िलाफ़ दर्ज केस रद्द किया

मद्रास हाईकोर्ट ने चोल वंश की आलोचना करने पर फिल्मकार के ख़िलाफ़ दर्ज केस रद्द किया #पारंजीत #चोलवंश #मद्रासहाईकोर्ट #जातिवाद #PaRanjith #CholaDynasty #MadrasHighCourt #Casteism

पारंजीत, चोलवंश

02-12-2021 20:30:00

मद्रास हाईकोर्ट ने चोल वंश की आलोचना करने पर फिल्मकार के ख़िलाफ़ दर्ज केस रद्द किया पारंजीत चोलवंश मद्रासहाईकोर्ट जातिवाद PaRanjith CholaDynasty MadrasHighCourt Casteism

2019 में जाति विरोधी नेता टीएम उमर फ़ारुख़ की पुण्यतिथि के मौक़े रंजीत ने राजा राज चोलन की यह कहकर आलोचना की थी कि उनके शासनकाल में जाति व्यवस्था प्रचलन में थी, जिसके दौरान दलितों की ज़मीनें ज़ब्त की गईं और देवदासी प्रथा शुरू हुई. इस पर तंजावुर पुलिस ने स्वतः संज्ञान लेते हुए उनके ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज की थी.

नई दिल्लीःमद्रास हाईकोर्ट की मदुरै पीठ ने फिल्मकार पा. रंजीत के खिलाफ दर्ज की गई एफआईआर रद्द कर दी है. दरअसल पा. रंजीत ने 2019 में यह कहकर चोल वंश की आलोचना की थी कि इस वंश के शासनकाल में दलितों पर अत्याचार किए गए थे.जाति विरोधी नेता टीएम उमर फारुख की पुण्यतिथि के मौके पर पांच जून 2019 को आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रंजीत ने राजा राज चोलन की यह कहकर आलोचना की थी कि उनके शासनकाल में जाति व्यवस्था प्रचलन में थी, जिसके दौरान दलितों की जमीनों को जब्त किया गया और देवदासी प्रणाली शुरू की गई.

यूपी चुनाव: नोएडा में छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल के ख़िलाफ़ एफ़आईआर - BBC Hindi

इसके बाद तंजावुर पुलिस ने मामले परस्वत: संज्ञान लेते हुएरंजीत के खिलाफ जातिगत दुश्मनी पैदा करने के आरोप में मामला दर्ज किया.शिकायत में कहा गया कि रंजीत ने कहा था कि वह उन मवेशियों का मांस खाते हैं, जिसे समाज के अन्य वर्ग पूजते हैं.रंजीत की याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस जी. इलांगोवन की पीठ ने कहा कि फिल्मकार के विचार केवल जाति व्यवस्था को लेकर चिंता को दिखाते हैं और उससे आगे इसे उनके खिलाफ आपराधिक मुकदमे चलाने के लिए नहीं बढ़ाया जा सकता.

आदेश में कहा गया कि रंजीत के विचार ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित थे.लाइव लॉकी रिपोर्ट के मुताबिक, जज ने अपने आदेश में कहा, ‘उत्पीड़कों की आवाज उत्पीड़न और अपराधीकरण के लिए नहीं है लेकिन सुने जाने, चर्चा और समाधान के लिए है. जाति व्यवस्था, इसकी शुरुआत, इसके प्रभाव और दुष्प्रभाव सबसे ज्यादा चर्चित विषय हैं, जिन्हें इसकी शुरुआत से ही बोला जा रहा है.’ headtopics.com

जज ने कहा कि इतिहास से पता चलता है कि जाति व्यवस्था ने समाज के एक वर्ग के दमन का मार्ग प्रशस्त किया और भूमिहीन गरीबों के एक समाज का निर्माण किया.स्वतंत्रता के बाद भारत ने सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक सुधारों के रूप में कदम उठाए और संविधान ने सभी नागरिकों को सम्मान के साथ जीने का अधिकार दिया.

चुनाव आयोग ने पत्रकारों को भी पोस्टल बैलट के जरिए वोट डालने की दी इजाजत - BBC Hindi

जस्टिस इलांगोवन ने कहा, ‘पत्थर के शिलालेखों, ताम्रपत्रों आदि के जरिये चोल युग के इतिहास का अध्ययन करने पर इतिहासकारों को पता चला कि चोल वंश के दौरान जाति व्यवस्था प्रचलित थी. पुलिस इस तरह की टिप्पणी करने वाले इतिहासकारों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर सकती. इतिहास का मुख्य उद्देश्य मौजूदा समय के समाज को सुधारने के लिए अतीत के समाज से सबक लेना है.’

जज ने कहा, ‘लेकिन इस समय याचिकाकर्ता द्वारा पेश किए गए विचारों से पता चलता है कि ये तथ्य सिर्फ इतिहास की किताबों से इकट्ठा किए गए हैं और उन्होंने खुद से इस पर कोई शोध नहीं किया इसलिए मौजूदा समय में चोल युग की आलोचना करना भले ही उचित नहीं हो लेकिन यह संविधान के अनुच्छेद 19 (1) (ए) के तहत प्रदत्त अधिकारों की सीमा से अधिक नहीं है. इन टिप्पणियों का उद्देश्य दो समूहों के लोगों के वीच वैमनस्य पैदा करना नहीं था.’

जज ने कहा कि शिकायत के मुताबिक रंजीत द्वारा इस्तेमाल में लाए जाने वाला अपमानजनक शब्द यह है कि समाज का एक वर्ग मवेशियों को भगवान की तरह पूजता है लेकिन दलित उन्हें खाते हैं. इस पर जज ने कहा, ‘यह भारतीय समाज, विविध संस्कृति, भोजन की आदतें आदि की व्यवस्था है. इससे आगे इन्हें लेकर उन पर आपराधिक मुकदमा नहीं चलाया जा सकता.’ headtopics.com

2 बिजनेसमैन और 2 एक्‍टर के पास ही है भारत में Tesla की इलेक्ट्रिक कार

जज ने सुप्रीम कोर्ट के कुछ आदेशों का हवाला देकर कहा, ‘बिना किसी हिचक के हम इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं कि दो समूहों के लोगों के बीच वैमनस्य पैदा करने की याचिकाकर्ता की ओर से ऐसी कोई मंशा नहीं थी.’जज ने कहा कि रंजीत के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही जारी रहना कानून की प्रक्रिया का उल्लंघ होगा इसलिए याचिकाकर्ता की याचिका स्वीकार कर उनके खिलाफ दायर याचिका को रद्द किया जाता है.

रंजीत ने क्या कहा थाजून 2019 में रंजीत ने कहा था, ‘तंजावुर डेल्टा क्षेत्रों की भूमि जो हमारी थी, इन्हें चोल वंश के शासनकाल में साजिश के तहत हड़प लिया गया था. उनके शासनकाल में जाति व्यवस्था शुरू हुई थी, 400 महिलाओं को मंगला विलास में काम करने के लिए सेक्स वर्कर बना दिया गया था. उनके शासनकाल में देवदासी व्यवस्था शुरू की गई. उनके शासनकाल में लगभग 26 लोगों को कोलार गोल्ड फील्ड में बेच दिया गया था इसलिए तब से जातिगत भेदभाव शुरू हुआ था. यह कोई नई समस्या नहीं है.’

बता दें कि रंजीत के इन बयानों को लेकर कई कलाकार उनके समर्थन में आगे आए और कहा कि उन्हें चोल वंश की आलोचना करने का अधिकार है और उनके तर्क कोई नए नहीं थे.

और पढो: द वायर हिंदी »

रेगिस्तान में फहराया 1000 किलो का तिरंगा: जैसलमेर छावनी में आर्मी डे पर दुनिया का सबसे बड़ा राष्ट्रीय ध्वज डिस्प्ले; पहाड़ी पर बिखरी छटा

जैसलमेर की रेतीली सरजमीं दुनिया का सबसे बड़ा तिरंगा डिस्प्ले कर गौरव से भरे पल की गवाह बन गई। सेना दिवस के मौके पर शनिवार को जैसलमेर के मिलिट्री स्टेशन में यह इतिहास रचा गया। झंड़े का वजन करीब एक हजार किलो है। | Tricolor display made of Khadi at Jaisalmer Army Station on the occasion of Army Day

बरेली: शादी कार्ड पर छपवा दी अखिलेश यादव की फोटो, लोगों से की वोट अपीलशादी कार्ड पर अखिलेश यादव और सपा के पूर्व जिला अध्यक्ष सुभलेश यादव की बड़ी फोटो लगवा दी गई. सोशल मीडिया पर ये शादी कार्ड तेजी से वायरल हो रहा है.

गाजियाबाद : इंदिरापुरम की सोसायटी की एक बिल्डिंग में 5वें माले पर आग, दिखा भयानक मंजरवहां मौजूद लोगों ने तत्काल इस घटना की जानकारी दमकल विभाग को दी. सूचना पर दमकल की टीम मौके पर पहुंचकर आग बुझाने का प्रयास कर रही है

कांग्रेस के कन्हैया ने हिंदु बनाम हिंदुत्व पर बहस को बताया बेमतलब, एंकर ने टोका...टीवी डिबेट में जब एंकर ने कांग्रेस नेता कन्हैया कुमार से सवाल पूछते हुए कहा कि आपकी पार्टी के नेता का मानना है कि हिंदू और हिंदुत्व अलग अलग है। आखिर हिंदू और हिंदुत्व में क्या फर्क है। इसके जवाब में कन्हैया कुमार ने कहा कि ये बहस ही बिना मतलब का है।

जरूरी सेवाओं की जल्‍द बहाली पर हो जोर : ओडिशा, आंध्र में तूफान की 'आहट' के पहले PM ने की तैयारियों की समीक्षाप्रभावित राज्‍यों आंध्र प्रदेश, ओडिशा, पश्चिम बंगाल और केंद्र शासित क्षेत्र अंडमान-निकोबार द्वीप में नेशनल डिजास्‍टर रिस्‍पांस फोर्स (NDRF) की 62 टीमों की तैनाती की गई है, इसमें से 29 टीमें बोट, पेड़ों को काटने वाले साजोसामान और टेलीकॉम उपकरणों से लैस होंगी. मिट्टी का शेर मसलन इसमें भी थाली,ताली वगैरह वगैरह का तमाशा होगा..? क्या फिर एक बार अंधभक्तो को ताली, थाली, घंटा, घंटी🔔🔔 फिर से बजाने का मौका मिलेगा 😜😂😂🤣🤣

पिता की अंतिम इच्छा पूरी की: भाई ने बग्घी में निकाली बहन की बरात, दुल्हन ने किया डांस; पिता कहते थे- मेरे बेटा-बेटी बराबर हैंमध्यप्रदेश के बुरहानपुर में पिता की आखिरी इच्छा पूरी करने के लिए दूल्हे की तर्ज पर घर से दुल्हन की बरात निकासी हुई। भाई ने बग्घी बुलाई। उस पर सवार होकर दुल्हन ने पालकी मैं होके सवार चली रे...मैं तो अपने साजन के द्वार चली रे....गाने पर जमकर डांस किया। ये देखकर हर कोई हैरान था। बुरहानपुर में ही एक दिन पहले भी एक दूल्हा इसी तरह डीजे पर चढ़कर डांस करता नजर आया था। | पालकी में होके सवार चली रे....मैं तो अपने साजन के द्वार चली रे...गीत पर दुल्हन ने किया डांस देश को बचा लो, तभी शादी ब्याह हो पायेंगे। नया वेरिएंट आ रहा है। अगर विदेशों से एक व्यक्ति भी वायरस के साथ आ गया तो सारा देश ग्रसित हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि सभी विदेशी उड़ानों पर आने-जाने के लिए प्रतिबंध लगा दिया जाए।अनेक देश इस काम में आगे बढ चुके हैं और वही सुरक्षित रहेंगे।

Bigg Boss 15: ज्योतिष ने की करण कुंद्रा की शादी की भविष्यवाणी, रश्मि देसाई ने कहा- तेजस्वी नहीं मानेगीBigg Boss 15: ज्योतिष ने की करण कुंद्रा की शादी की भविष्यवाणी, रश्मि देसाई ने कहा- तेजस्वी नहीं मानेगी TheRashamiDesai kkundrra TejasswiPrakash BiggBoss15